Submit your post

Follow Us

देह में गोलियां धंसी थीं, फिर भी पाकिस्तानी बंकर तहस-नहस करते रहे ये जांबाज़

14.48 K
शेयर्स

3 मई 1999 को कश्मीर के कारगिल में बकरी चराने वालों ने खबर दी कि पाकिस्तानी सैनिक भारत में घुस आए हैं. इसके बाद भारत ने टोह लेने के लिए अपने सैनिकों को वहां भेजा. पर पाकिस्तानी घुसपैठियों ने टोह लेने आए सैनिकों को मार दिया. फिर द्रास, ककसार और मुश्कोह सेक्टर में घुसपैठ की घटनाएं रिपोर्ट हुईं. साफ था पाकिस्तानी सेना कारगिल में बड़ी घुसपैठ कर चुकी थी.

इसलिए मई महीने के बीच में सेना की और टुकड़ियां कश्मीर घाटी के कारगिल सेक्टर में भेजी गईं. और वो लड़ाई शुरू हो गई, जिसे कारगिल युद्ध कहते हैं. मई के आखिरी हफ्ते में इंडियन एयरफोर्स भी लड़ाई में कूद गई और हवाई हमले शुरू कर दिए. पर अभी तक पाकिस्तान ही युद्ध में हावी था, क्योंकि उनका पहाड़ियों पर कब्जा था और उन्होंने ऊंचाई पर बंकर बना रखे थे. इसलिए नीचे दिख रहे भारतीय सैनिकों को निशाना बनाना आसान था.

अमेरिका मानता था कि युद्ध से जान-माल और विश्व शांति को नुकसान पहुंच रहा था. तो 15 जून को अमेरिकी प्रेसीडेंट बिल क्लिंटन ने पाकिस्तान के उस वक्त प्रधानमंत्री रहे नवाज शरीफ को फोन कर पाकिस्तानी सेना को कश्मीर से निकाल लेने को कहा. वैसे जुलाई आने तक भारत की जीत पक्की हो चुकी थी. 14 जुलाई को उस वक्त भारत के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी ने कारगिल ऑपरेशन में भारत की जीत का ऐलान कर दिया और इसके बाद पाकिस्तान से बात-चीत करने की बात कही गई. 26 जुलाई को युद्ध पूरी तरह से खत्म हुआ और भारत की जीत का ऐलान कर दिया गया. इसलिए हर साल 26 जुलाई को इंडिया में विजय दिवस सेलिब्रेट करते हैं.

पूरे कारगिल युद्ध के दौरान 527 इंडिया के और पाकिस्तान के 400 से ज्यादा लोग मारे गए. भारत के 1363 और 665 से ज्यादा पाकिस्तान के लोग घायल हुए.

भारत ने अपनी ये जीत कई अनमोल जानें खोकर पाई. दरअसल जीत में सबसे बड़ी भूमिका अदा करने में भारत के इन पांच जांबाज़ सपूतों का बहुत बड़ा योगदान था –

सबसे कम उम्र में परमवीर चक्र पाने वाले ग्रेनेडियर योगेंद्र सिंह यादव

Yogendra_Singh_Yadav_PVC
योगेंद्र सिंह यादव

बुलंदशहर जिले के योगेंद्र ने अकेले अपने दम पर पाकिस्तानी आर्मी से दो बंकर छीन लिए थे. दूसरे बंकर पर कब्जा करते वक्त वो अकेले ही 4 सैनिकों से भिड़ गए और चारों को मार गिराया. जितनी देर उन्होंने पाकिस्तानी आर्मी को उलझाए रखा, उतनी देर में इंडियन आर्मी दूसरे बंकर पर कब्जा कर चुकी थी. जिससे टाइगर हिल पर इंडिया का कब्जा हो गया. योगेंद्र सिंह यादव ही सबसे कम उम्र में परमवीर चक्र पाने वाले सैनिक हैं. बस 19 साल की उम्र में उन्हें ये सम्मान मिल गया था.

LOC कारगिल फिल्म में इनका किरदार मनोज बाजपेयी ने निभाया है. साथ ही फिल्म लक्ष्य में जो टाइगर हिल वाला सीन है, वो भी योगेंद्र की टाइगर हिल कैप्चर करने की कहानी जो उनके साथियों ने सुनाई है, उन्हीं से इंस्पायर है.

कंधे और पैर में गोली लगी होने पर भी बंकर पर बंकर जीतते गए मनोज कुमार पांडेय

BOPrNGDCYAASf78
मनोज कुमार पांडेय

1/11 गोरखा रायफल्स के लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडेय. घर- सीतापुर, उत्तर प्रदेश. कारगिल में बाल्टिक सेक्टर के खालुबार हिल्स में ऑपरेशन के दौरान बस जुबार टॉप ही एक मेन चोटी थी, जो जीतने को रह गई थी. पर यहां मौजूद पाकिस्तानी सैनिक गोलियों की बारिश किए जा रहे थे. बहुत कठिन वक्त था, क्योंकि पाकिस्तानी सैनिक ऊपर थे और ये लोग नीचे थे.

दो पहाड़ियों के बीच की जगह से वो अपनी सैनिक टुकड़ियों को लेकर जुबार टॉप पर पहुंचे और दो सैनिकों से जूझ गए. उस वक्त उनके कंधे और पैर में गोली लगी हुई थी. फिर भी उन्होंने दोनों को मार गिराया. इतनी देर में उनकी टुकड़ी पहले बंकर पर कब्जा कर चुकी थी. इस तरह वो एक के बाद एक बंकर जीतते गए, फिर कुछ देर में एक बंकर पर कब्जा करते समय घावों के चलते वो बेहोश होकर गिर पड़े.

पर जहां वो गिरे, वही आखिरी बंकर था. तब तक उनके सैनिक पूरे जुबार टॉप पर कब्जा कर चुके थे. 24 की उम्र में 3 जुलाई को मनोज शहीद हो गए. उनके आखिरी शब्द थे न छोडूं जिसका नेपाली में मतलब होता है छोड़ना नहीं! वो तब तक 4 लोगों को मार चुके थे, तभी एक बम उनके माथे पर आकर लगा और वो शहीद हो गए. भारत सरकार ने मनोज पांडेय की अद्वितीय बहादुरी के लिए मरने के बाद उन्हें देश के सबसे बड़े सेना सम्मान परमवीर चक्र से नवाजा. LOC कारगिल फिल्म में इनका किरदार अजय देवगन ने निभाया है.

जिसकी कही बातें मुहावरे बन गईं – कैप्टन विक्रम बत्रा

hqdefault (3)
विक्रम बत्रा

कैप्टन विक्रम बत्रा, 13 JAK रायफल्स से थे. वो पालमपुर, हिमाचल प्रदेश के रहने वाले थे.
कैप्टन विक्रम बत्रा की आदत थी कि अपनी बटालियन में जोश लाने को वो मुहावरे बोला करते थे. कई बार वो कुछ भी बोल देते थे, जो मुहावरे मान लिए जाते थे. ऐसे ही उनके कही ये बातें बहुत फेमस हैं –

या तो मैं लहराते तिरंगे के पीछे आऊंगा. या तिरंगे में लिपटा हुआ आऊंगा. पर मैं आऊंगा ज़रूर

ये दिल मांगे मोर

हमारी चिंता मत करो, अपने लिए प्रार्थना करो

बत्रा के शहीद होने से पहले आखिरी शब्द थे- जय माता दी

LOC कारगिल फिल्म में कैप्टन बत्रा का रोल अभिषेक बच्चन ने निभाया है. कारगिल के पांच इंपॉर्टेंट पॉइंट जीतने में इनका मेन रोल था. इन जीतों की वजह से वहां पर इंडिया की स्ट्रेटेजिक पोजीशन धांसू हो गई. उन्होंने एक पॉइंट पर घायलों को बचाने का भी काम किया. ऐसे ही एक ऑपरेशन के दौरान अपने साथी सैनिक को उन्होंने कहा था कि,

तू बच्चेदार है तू पीछे जा

और तभी सामने से आ रही गोली उन्होंने अपने ऊपर ले ली. इस तरह बत्रा शहीद हो गए. बाद में परमवीर चक्र, मरणोपरांत.

तीन पाकिस्तानी सैनिकों को अकेले मार गिराने वाला रायफलमैन संजय कुमार

Sanjay_Kumar_PVC
रायफलमैन संजय कुमार

13 JAK रायफल्स के रायफलमैन संजय कुमार, बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश के रहने वाले. एक बंकर कब्ज़ा करने में ही संजय की छाती और हाथ में कई गोलियां लग गई थीं. फिर भी वो आगे बढ़े और तीन पाकिस्तानी सैनिकों से अकेले जूझ गए. तीनों को उन्होंने अकेले मार दिया. इसके बाद वो दूसरे बंकर की ओर बढ़े. मशीन गन उठाकर अकेले ही दूसरे बंकर पर कब्ज़ा कर लिया. एरिया फ्लैप टॉप पर इस तरह से कब्ज़ा हो गया.

इन्हें भी भारत सरकार ने इन्हें जिंदा रहते ही परमवीर चक्र से नवाजा. फिल्म LOC कारगिल में इनका रोल सुनील शेट्टी ने निभाया है.

पाकिस्तानी सेना को खदेड़ने वाला विक्रम बत्रा के साथी कैप्टन अनुज नायर

hqdefault (4)
कैप्टन अनुज नायर

17 जाट रेजीमेंट के कैप्टन अनुज नायर, दिल्ली का छोरा. इनकी मौत भी टाइगर हिल ऑपरेशन के वक़्त कैप्टन बत्रा के साथ हुई थी. पिम्पल कॉम्प्लेक्स एरिया को बचाने के दौरान. जिसमें ये कामयाब भी हुए और पाकिस्तान को अपने कदम पीछे हटाने पड़े.

मरने के बाद आर्मी का दूसरा सबसे बड़ा गैलेंट्री अवॉर्ड महावीर चक्र इन्हें दिया गया. LOC कारगिल में इनका रोल सैफ अली खान ने निभाया है. 2003 में बनी फिल्म धूप भी इन्हीं पर बेस्ड है. जिसमें ओम पुरी ने इनके पापा का रोल किया है.


ये आर्टिकल अविनाश ने लिखा है.


वीडियो:कश्मीर में शहीद हुए औरंगजेब के पिता ने दो और लड़कों के सैनिक बनने पर क्या कहा?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.