Submit your post

Follow Us

राजस्थान का लोक कलाकार जिसने रेल इंजन के साथ जैमिंग की

‘सोने री धरती जठे चांदी रो आसमान, रंग-रंगीलो रस भरयो म्हारो प्यारो राजस्थान.’

गांव से ट्रेन गुजर रही थी. सब देखने के लिए दौड़ पड़े. वहीं एक लोक गायक रहते थे साकर खां मांगणियार. जो कमायचा बजाते थे. उनका किस्सा याद हो आया है. बताते हैं कि साकर खां कौन थे, मांगणियार कौन होते हैं और लोग ट्रेन देखने क्यों दौड़ पड़े थे.

जिथे तक नज़र जाती है, रेत ही रेत. बलखाते लहरदार रेतीले धोरे. इन धोरों के कण-कण में संगीत बसा है. यहां हर खुशी के मौके को गा-बजाकर सेलिब्रेट किया जाता है. जन्म, नामकरण, शादी, मिलन, विरह हर मौके के अलग गीत हैं. गीतों में ऐसी गहराई कि उनके आगे भाषाओं के बंधन खत्म हो जाते हैं. सुनते हुए लगता है जैसे आपके हींये (दिल) में कोई चाशनी घोल रहा हो.

मांगणियारों के जजमान बदल रहे हैं

गाने-बजाने के लिए यहां अलग समुदाय है. जिन्हें लंगा, मांगणियार, ढोली, मिरासी आदि नामों से जाना जाता है. वो गाने बजाने का काम पीढ़ियों से करते आ रहे हैं. उनके जन्म से ही संगीत की तालीम शुरू हो जाती है. कहते हैं कि मांगणियारों के बच्चे रोते भी हैं, तो सुर में. मांगणियारों को बचपन में खेलने के लिए भी ढोलक, हारमोनियम, खड़ताल, मोरचंग जैसे इंंस्ट्रुमेंट मिलते हैं. पगड़ी बांधे नन्हे-नन्हे बच्चों को खड़ताल बजाते देखकर हींया हरियल हो जाता है. शुरुआत में ये लोग अपने जजमानों के लिए ही गाते-बजाते थे. जजमान यानी गांव के ताकतवर राजपूत जाति के परिवार.

लेकिन हाल के सालों से इनके जजमान बदल रहे हैं. इनके नए जजमानों में बॉलीवुड, कोक स्टूडियो, म्यूजिक फेस्टिवल और फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रिया जैसे देश हैं.

जैसलमेर से ठीक अगले रेलवे स्टेशन पर एक गांव है, हमीरा.  यहां के मांगणियार गाने-बजाने में माहिर हैं. फ्रांस और ऑस्ट्रिया वाले भी उन्हें सुनने आते हैं और पड़ोस के जैसलमेर वाले भी.

इसी गांव के रहने वाले थे ‘पद्मश्री’ साकर खां मांगणियार. छोटे थे तभी पिता का देहांत हो गया था. और विरासत में छोड़ गये थे ‘कमायचा’. उन्होंने लोक संगीत की सौंधी महक को सात समंदर पार के देशों की हवाओं में घोल दिया था. उन्हें कमायचा वादन के लिए जाना जाता है.

kamaicha
कमायचा वाद्ययंत्र

कमायचा चीज क्या है?

कमायचा राजस्थान का एक तार वाला इंस्ट्रूमेंट है. सारंगी से मिलता जुलता. और यह दुनिया के पुराने इंस्ट्रूमेंट में से एक है. यह आम या शीशम की लकड़ी के एक ही टुकड़े से बनता है. ऊपर का हिस्सा खाल से मढा होता है. मोस्टली चार तार होते हैं इसमें. एक गज होता है घोड़े के बालों का. उससे यह बजाया जाता है. गज जब तारों को छूता है तो हेत (प्यार) बहने लगता है. जैसे रेगिस्तान की तपती लू में किसी ने ठंडक घोल दी हो.

यह किस्सा उन दिनों का है जब जैसलमेर में पहली बार ट्रेन आई थी. तेज आवाज करती धुआं निकालती इतनी लंबी ट्रेन को जो देखे वो भौंचक. ट्रेन जब हमीरा गांव से गुजरी तो सब देखने के लिए दौड़ पड़े. वहीं साकर खां बैठे थे. कमायचा के तार कस रहे थे. उन्होंने इंजन की आवाज़ के साथ जुगलबंदी शुरू कर दी. और इस जुगलबंदी से जो बलखाती धुन निकली उसे नाम दिया ‘ट्रेन’.

साकर खां का जन्म 1938 में हुआ था. 2013 में उनका निधन हो गया. उन्होंने कई फेमस संगीतकारों के साथ काम किया. अमेरिका में स्मिथसोनियन फोकवेज़ नाम की एक संस्था है. वहां के एथनोम्युजिकोलॉजी अर्काइव में उनके बजाए राग भैरवी और राग कल्याणी सहेज कर रखे गए है. दिल्ली के पुराना किला में साकर खां ने आखिरी प्रोग्राम किया था. ‘मांगणियार सेडक्शन’ के साथ. वो कमायचा के जादूगर थे. वो कमायचे से ट्रेन के चलने व घोड़े के दौड़ने की आवाज़ निकालते थे. साकर खां को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया. उनकी अगली पीढ़ी में भी कई हुनरमंद कलाकार हैं. जो उनकी थाती को आगे बढा रहे हैं.


ये आर्टिकल ‘दी लल्लनटॉप’ से जुड़े सुमेर सिंह राठौड़ ने लिखा है. सुमेर जैसलमेर के रहने वाले हैं और साकर खां के घर उनका आना-जाना रहा है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.