Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

ये लड़की शरीर के बाल शेव न करने का कैंपेन चला रही है

बाल हटवाना खूबसूरती की निशानी क्यों है?

10.03 K
शेयर्स

फिटनेस ब्लॉगर मॉर्गन मीकेनस इंस्टाग्राम पर खूब एक्टिव हैं. और पिछले कुछ दिनों से बड़े ही अनोखे तरीके से लोगों को नैचुरल ब्यूटी का मतलब समझा रही हैं. मॉर्गन लोगों को पैर और कांख के बाल न हटाने की के लिए प्रेरित कर रही हैं.

वो चाहती हैं कि इन्होंने जैसे नैचुरल खूबसूरती को अपनाया है. वैसे ही दूसरे लोग भी अपनाएं. मॉर्गन ने पिछले एक साल से अपने शरीर के बालों को शेव नहीं किया है. मॉर्गन के बॉयफ्रेंड का भी मानना है कि वो उन्हें इसी तरह खूबसूरत लगती हैं.

मॉर्गन अपने इंस्टग्राम पर लिखती हैं कि नैचुरल ब्यूटी को मानना अच्छा होता है. आप जैसे हो वैसे ही रहना चाहिए. मेरे लिए खूबसूरती का मतलब ये है कि किसी के कहने से पहले ये मान लूं कि मैं खूबसूरत हूं. आप जैसे भी हो, वैसे ही खूबसूरत होते हो.

अपने यूट्यूब वीडियो में मॉर्गन शेव न करने की वजह भी बताती हैं:

# जब मैं 11-12 साल की थीं तो जिम जाती थी. वहां किसी ने मुझे हेयरी लेग्स के लिए टोका था. हेयर शेव न करने का एक कारण ये भी है.

# हेयर शेव या वैक्स करने में बहुत समय लगता है.

# शेव और वैक्स के बाद जब बॉडी के बाल निकलते हैं तो वो बेहद चुभते हैं.

मॉर्गन बताती हैं कि वो एक चाइल्ड केयर सेंटर में काम करती थीं. जब वो बच्चों को स्वीमिंग के लिए ले जाती थीं तो लोग बेहद क्रूर प्रतिक्रिया देते थे. किसी ने मॉर्गन को कहा कि तुम मर्द की तरह दिखती हो.

मॉर्गन ने अपनी ये तस्वीरें इंस्टाग्राम पर डाली हैं

hairylegs

hairylegs

मॉर्गन

वीडियो भी देखें कि मॉर्गन क्या कहती हैं:


ये भी पढ़ें:

लड़कियां अपना टॉप क्यों ऊपर खींचें, कांख क्यों ढंकें?

पीरियड: ‘शर्म करो, इस शब्द को जोर से मत कहो’

आदमी सेक्स के लिए लड़की बेचने जा रहा था, एयर होस्टेस ने ताड़ लिया

दुनिया देखे, ये होता है ‘औरतों की तरह’ कपड़े पहनना

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

गुजरात चुनाव: देशभक्ति की लड़ाई में राहुल गांधी ने बीजेपी को पछाड़ दिया है

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने देश का सबसे बड़ा झंडा लेने से इनकार कर दिया था.

नरेंद्र मोदी के 6 पर्सनल किस्से और सातवां जो मैं आपको पूरा नहीं बताऊंगा

तब की बात, जब आपके प्रधानमंत्री मोदी को नरेंद्र भाई बुलाया जाता था.

अब तो ‘राम मंदिर’ या ‘राम राज्य’ में से एक ही चीज़ संभव है

वो कौन सा धर्म है जिसको अपनाकर मुझे बिना किसी पूर्वाग्रह के पढ़ा जाएगा?

मेहसाणा ग्राउंड रिपोर्टः जहां सरकार जानवर चराने की ज़मीन लेकर निजी कंपनी को दे देती है

और बड़े-बूढ़े गुजराती में पूछते हैं कि बच्चों को क्या खिलाएं ?

800 रुपये महीना में पेट भरने वाले मजदूर हमारे-आपके खाने में लाते हैं स्वाद

कहानी उस जिले की, जो न हो तो आप एक दिन भी खाना नहीं खा पाएंगे.

नरेंद्र मोदी की अनसुनी कहानीः कैसे बीजेपी के हर दिग्गज का तख़्तापलट करके वो पीएम बने

2014 की 'मोदी लहर' के बाद क्या हुआ सब जानते हैं, लेकिन उससे पहले क्या हुआ था क्या ये जानते हैं?

साबरकांठा में औरतों को गाली के तौर पर क्यों कहा जाता है - ‘वाडिया वाली’

लोकतंत्र के वो मायने, और गुजरात की इन महिलाओं की ऐसी कहानियां जो आंखें खोल देने वाली हैं.

नहीं रहा कांग्रेस का वो नेता, जिसने फैशन टीवी पर बैन लगाया था

इनके बारे में हर नेता यही कहता है कि ये घनघोर वामपंथ-विरोधी नेता थे.

कांग्रेस सत्ता में आई तो राहुल नहीं, ये आदमी बनेगा भारत का प्रधानमंंत्री!

डिजिटल इंडिया बनाने वाले आदमी के बारे में ये दावा कांग्रेस के एक महासचिव ने ही किया है.

सौरभ से सवाल

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.

तुम लोग मुझे मुल्ले लगते हो या अव्वल दर्जे के वामपंथी जो इंडिया को इस्लामिक मुल्क बनाना चाहते हो

हम क्या हैं. ये पूछा आपने. वही जो आप हैं. नाम देखिए आप अपना.

एक राइटर होने की शर्तें?

शर्तें तो रेंट एंग्रीमेंट में होती हैं. जिन्हें तीन बार पढ़ते हैं. या फिर किसी ऐप या सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने में, जिसकी शर्तों को सुरसुराता छोड़कर हम बस आई एग्री वाले खांचे पर क्लिक मार देते हैं.