Submit your post

Follow Us

जिदान को उस रोज़ स्वर्ग से निष्कासित देवता के आदमी बनने की खुशी थी

साल था 1998. पढ़ते थे कानपुर के जुगल देवी स्कूल में. हिंदी मीडियम वाले थे. तो फुटबॉल की जानकारी क्लब तक नहीं पहुंची थी. चार साल में एक बार वर्ल्ड कप देखकर पेले सा फील कर लेते थे. और जैसे बिझरा तुलवाया हो ब्राजील से. इसलिए पीली जर्सी को ही सपोर्ट करते थे. बड़ी धूम थी उनके प्लेयर की. टकला सा था और दांत भी कुछ बाहर को. रोनाल्डो नाम था.

फाइनल के लिए हॉस्टल की छोटी टीवी के सामने जनता जमा थी. ब्राजील लालालाला करने की लुकलुक मची थी. मगर तभी नीली जर्सी वाले ने मार मूड़ सब कांड कर दिया. एक पर ही नहीं रुका. एक और पेल दिया. लगी चिल्ल पों. हेडर कर दिया, हेडर कर दिया.

भाईजी, ब्राजील की सब लत्ता हो गई. रोनाल्डो रोते रहे. बाद में पता चला. पट्ठा बीमार था. उल्टी टट्टी हो रही थीं. फिर भी खेला. अखबार से पता चला कि ऐड वालों का डंडा था. पर अब क्या करें. हर ओर फ्रांस का झंडा था. लहर लहर लहरा था. अंबे मां की चुनरिया सा.
कहानी का पहला अंक खतम. हारे को हरिनाम. और जीतने वाले का नाम जिदान. जिनेदिन जिदान.

जब जिदान का हेडर पहली हेडलाइन बना

वर्ल्ड कप खतम. अपना शौक हजम. चार साल बाद फिर हूक उठी. पर ये क्या गुरु. फ्रांस वाले तो पहले ही राउंड में निकल लिए. थू था हुई. नजर ब्राजील पर टिकी थी. और वो जीत भी गई. पिछली बार जिसे हीरो होना था, उसके लिए इस बार कैमरे चमके. जिदान को कोई नहीं पूछ रहा था उस बरस. पर टाइम की घौंड़इया रुकी कहां है साधु. चार साल फिर लेओ.

अबकी फ्रांस नीले से सफेद जर्सी पर आ गया. कप से पहले बड़ी छीछालेदार हो रही थी. गिरते पड़ते क्वालिफाई कर पाए थे. तब तक जिदान जूता टांग चुके थे. कोच बोला, आओ पार लगाओ. लड़का लौट आया. सीधा कप्तान. और फारम ऐसा कि जैसे कभी गए ही न हों कलंदर. और फिर कुछ हफ्तों में आ गया फाइनल. एक बार फिर से. सामने थी इटली की टीम. डी के पास उनके प्लेयर ने मारा धक्का. मिल गई पेनल्टी. आए जिदान. और गोल.

और वो भी ऐसा लारा लप्पा कि गोल्डन डरेस पहने गोली की चोक ले गई. कोई सनसनाता शॉट नहीं. धुप्प. घूर्णन करती गेंद गई. और लाइन के पीछे खड़ी गिर गई. और उसके बाद स्टेडियम नर्रा उठा.

पर मैच जारी था. थोड़ी देर बाद इटली वाले गोल मार मैच बराबर कर लिया. हमला दोनों तरफ से जोरों पर था. पर तभी कुछ ऐसा हुआ कि सब सटपट. जिदान ने इटली के प्लेयर मार्को की छाती में भाड़ से मारा मूड़. मार्को डले नीचे. फिर क्या. चलन दो गाड़ी फटन दो टायर वाला हिसाब. पींपीं करते आ गए रेफरी. लाल कार्ड नजर आया. जिदान बाहर. मैच बराबर. मामला पेनल्टी पर अड़ा. जहां इटली 5-3 से जीत गया.

सबने कहा. बड़ा लुल्ल है यार ये आदमी. ऐसा कैसा गुस्सा. मारना था तो कल मार देते, परसों मार देते. ये क्वेश्चन तो न उठता विधानसभा में. कोच कबीर खान के लिए उसी वक्त ये डायलॉग लिखा गया. 11 के 10 करा के चले आए.
पर जिदान का बीपी क्यों बढ़ा. वीडियो देखें पहले.

कहानी पीछे ले चलते हैं. हिंदी फिलिम की तरह. 30 साल. जिदान मार्सेय में रहता था. आसपास घुटी घुटी भीड़. जब स्कूल जाता तब पापा आते. ड्यूटी करके. स्टोर में चौकीदार थे. मम्मी घर पर रहतीं. एक दिन जिदान की बहन स्कूल नहीं गई. जुकाम हो गया था. उस दिन गर्दन खूब घूमी. टिफिन खतम तो मैदान में चला गया. वहां बड़े लड़के गेंद खेल रहे थे. फुटबॉल. जिदान घूरता रहा. इतवार आया. तो कॉलोनी के बीच वाले मैदान में पहुंच गया. गेंद खेलने. बड़े लड़कों के साथ. खेलता क्या. कंधे छीलता. सिर पक्का करता. गेंद आती. पीछे सब आते. जिदान रेला झेलता. और गिर पड़ता.

फिर एक दिन वो रेला आने से पहले गेंद लेकर दौड़ गया. और ऐसा चिंग लगाकर दौड़ा कि 9 साल में क्लब, फिर बड़ी लीग और फिर देश की टीम. सब ठीक हो गया लगता था. मार्सेय के लड़के. नशा. बंदूक. गली के गैंग. गुंडई. पीछे छूट गए. जिदान गेंद लिए बढ़ रहा था. उसके फेंफड़ों में धुंआ नहीं था. धुली घास से ऊपर उठती ऑक्सीजन थी. नशे सी चढ़ती. वो सांस खींचता और गदबद. गेंद कभी पैर, तो कभी सिर को सहलाती.

zidane

उस दिन भी यही खेल चल रहा था. सामने वाली टीम का एक लड़का बार बार उसे चिढ़ा रहा था. कमीज खींच रहा था. जिदान बोला. अच्छी लग रही है क्या. मैच के बाद दे दूंगा. लड़का जिसका नाम मार्को था, बोला. लूंगा. पर तेरी नहीं. तेरी रंडी बहन की. जादू ठिठक गया. हवा गिर गई. और चढ़ा जो वो था पारा. जिदान पलटा. 2 सेकंड में मार्सेय के सब दौर गुजर गए. बहन याद आ गई. और उसने हेडर कर दिया. मैदान पर. गेंद को नहीं. मार्को को. नीचे गिर गया. मार्को. और उम्मीद भी. फ्रांस की. ये वर्ल्ड कप का फाइनल था.

इस एक सेकंड एक मुलुक की नींद टूटी. उसे ध्यान आया. ये जो है. ये देवता सा दिखता है. पर है आदमी ही. सबकी आस थी. एक बार फिर सोने की गूमड़ सी ट्रॉफी आएगी. मगर नायक करिश्मा दोहरा नहीं पाया.

अखबारों में लिखा गया. हम अपने बच्चों को क्या बताएं. ये तुमने कैसा उदाहरण पेश किया. तुम्हारे जैसे इंसान ने ऐसा कैसे कर दिया. लेकिन जब उसके अपनों को पता चला. कि हुआ क्या था. तो कप वप सब भूल गए. और जिदान जिदान चीखते हुए सड़कों पर उतर आए. जिदान रोया. मुस्काया भी होगा. ये स्वर्ग से निष्कासित देवता के आदमी बनने की खुशी थी.

फिर हर अच्छी चीज की तरह जिदान का भी खेल खत्म हो गया. या कि ऐसा लगा. सबको. पर आज सब कह रहे हैं. वो वापस आ गया है.
कहानी का अगला अंक खुल गया है. पर्दा उठा तो दिखा. जिदान को एक बार फिर देवता बनना होगा. हतभाग्य रियल मैड्रिड का हारा हुआ राज्य दिलाने. मगर ये रोनाल्डो और मैसी की दुनिया है. यहां मैदान पर रोज इतिहास गढ़ा जाता है. ऐसे में बाहर बैठा आदमी क्या करेगा. हेड कोच जिदान क्या करेगा. वही जो अब तक करता आया है. सर का कमाल. इसका नमूना 10 जनवरी 2016 को फिर दिखा. जब रियल मैड्रिड ने विरोधी क्लब को 5-0 से हराया. और खाता खुला एक हेडर से.

जिदान 200 मैचों में रियल मैड्रिड की मैनेजरी कर चुके हैं. इस दौरान उन्होंने क्लब को 10 ट्रॉफी जिताई है. हर 20 मैच में एक ट्रॉफी. 23 जून 1972 को पैदा हुए जिदान को हैप्पी वाला बड्डे.

इसलिए हर कहीं फिर यार का जिक्र है.


ये भी पढ़ें 

ये वीडियो आप पहले एक बार देखेंगे, फिर बार-बार देखेंगे

10 बातें उस हीरो की जिसने दो बार भारत को चैंपियन महसूस कराया

मलिक मीर सुल्तान खान, भारत का वो शतरंज खिलाड़ी जिसकी कहानी भुला दी गई

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.