Submit your post

Follow Us

कहानी उन अखाड़ों की, जो बाबाओं को सर्टिफिकेट देते हैं

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक के बाद बाबाओं की तीन सूचियां जारी हुई हैं. अलग-अलग जारी इन सूचियों में कुल 19 बाबाओं को फर्जी करार दिया है. लेकिन अखाड़ा परिषद की बैठक ने सबसे बड़ी मुश्किल यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए खड़ी कर दी है. एक तरफ यूपी सरकार 2019 में होने वाले कुंभ की तैयारियों में जुटी है, वहीं महंतों ने प्रदेश सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कुम्भ 2019 का शाही स्नान नहीं करने का ऐलान किया है.

अखाड़ा. इसका सीधा सा मतलब है, एक ऐसी जगह जहां पहलवानी का शौक रखने वाले लोग दांव-पेच सीखते हैं. अखाड़े में बदन पर मिट्टी लपेटकर ताकत आजमाते हैं और दुश्मनों को पटखनी देने की नई-नई तकनीक ईजाद करते हैं. ये अखाड़े पहलवानी के काम आते हैं. बाद में कुछ ऐसे अखाड़े सामने आए, जिनमें पहलवानी के बजाय धर्म के दांव-पेच आजमाए जाने लगे. इनकी शुरुआत आदि गुरु कहे जाने वाले शंकराचार्य ने की थी.

13 अखाड़ों के जिम्मे है हिंदू धर्म

Shaiv Akhada
कुंभ और अर्धकुंभ के दौरान अखाड़ों को विशेष सुविधाएं मिलती हैं.

माना जाता है कि भारत में जो सनातन धर्म है, उसके हालिया स्वरूप को आदि गुरु शंकराचार्य ने स्थापित किया था. देश के चार कोनों उत्तर में बद्रीनाथ, दक्षिण में रामेश्वरम, पूर्व में जगन्नाथ पुरी और पश्चिम में द्वारिका पीठ की स्थापना कर शंकराचार्य ने धर्म को स्थापित करने की कोशिश की. इसी दौरान उन्हें लगा कि जब समाज में धर्म की विरोधी शक्तियां सिर उठा रही हैं, तो सिर्फ आध्यात्मिक शक्ति के जरिए ही इन चुनौतियों का मुकाबला करना काफी नहीं है. शंकराचार्य ने जोर दिया कि युवा साधु कसरत करके शरीर को सुदृढ़ बनाएं और कुछ हथियार चलाने में भी कुशलता हासिल करें. इसके लिए ऐसे मठ स्थापित किए गए, जहां कसरत के साथ ही हथियार चलाने का प्रशिक्षण दिया जाने लगा. ऐसे ही मठों को अखाड़ा कहा जाने लगा. शंकराचार्य ने ये भी सुझाव दिया कि मठ, मंदिरों और श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए जरूरत पड़ने पर शक्ति का इस्तेमाल किया जा सकता है. इस तरह अखाड़ों का जन्म हुआ. फिलहाल देश में कुल 13 अखाड़े हैं.

हिंदू धर्म के अनुष्ठानों में सक्रिय भागीदारी

Akhada 13
सभी अखाड़े बड़े धार्मिक आयोजनों को करवाने में सक्रिय भूमिका निभाते हैं.

ये सभी 13 अखाड़े हिंदू धर्म से जुड़े रीति-रिवाजों और त्योहारों का आयोजन करते रहते हैं. कुंभ और अर्धकुंभ के आयोजन में इन अखाड़ों की खास भूमिका होती है. कुंभ देश में चार जगहों पर लगता है, जिनमें इलाहाबाद, नासिक, हरिद्वार और उज्जैन हैं. हर 12 साल में एक जगह पर कुंभ का आयोजन होता है. इलाहाबाद और हरिद्वार में हर छह साल में अर्धकुंभ का आयोजन किया जाता है. कुंभ और अर्धकुंभ में स्नान के दौरान इन सभी अखाड़ों को विशेष सुविधाएं मिलती हैं. नहाने के लिए विशेष प्रबंध होते हैं और इनके नहाने के बाद ही आम श्रद्धालु स्नान कर सकता है. 1954 में इसी तरह इलाहाबाद में कुंभ का आयोजन हुआ था. उसी दौरान भगदड़ मच गई, जिसमें सैकड़ों लोगों की मौत हो गई. इससे पहले भी आयोजित हुए कुंभ और अर्धकुंभ के अलावा दूसरे धार्मिक आयोजनों में अखाड़ों के बीच वर्चस्व की लड़ाई चलती रहती थी. इससे बचने के लिए 1954 में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की स्थापना की गई. इसके तहत कुल 13 अखाड़े शामिल हैं. इसी बैठक में सभी अखाड़ों के कुंभ और अर्धकुंभ में स्नान का वक्त और उनकी जिम्मेदारी तय कर दी गई थी, जिसे सभी अखाड़े अब भी मानते हैं.

तीन मतों में बंटे हुए हैं 13 अखाड़े

हिंदू धर्म के ये सभी 13 अखाड़े तीन मतों में बंटे हुए हैं. इनके अलावा पिछले साल नासिक में हुए महाकुंभ के दौरान परी अखाड़े और किन्नर अखाड़े ने भी मान्यता मांगी थी, लेकिन अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने मान्यता देने से इनकार कर दिया था.

शैव संन्यासी संप्रदाय

Shiv Saint
शैव संप्रदाय वाले अखाड़े शिव को ही भगवान मानते हैं.

इसके पास सात अखाड़े हैं. शिव और उनके अवतारों को मानने वाले शैव कहे जाते हैं. शैव में शाक्त, नाथ, दशनामी, नाग जैसे उप संप्रदाय हैं.

1.श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी, दारागंज, इलाहाबाद, यूपी
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की पूजा का जिम्‍मा इसी अखाड़े के पास है. यह परंपरा पिछले कई साल से चली आ रही है.
2. श्री पंच अटल अखाड़ा, चौक, वाराणसी, यूपी
इस अखाड़े में ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य ही दीक्षा ले सकते हैं.
3. श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी, दारागंज, इलाहाबाद, यूपी
यह अखाड़ा सबसे ज्यादा शिक्षित अखाड़ा है. इस अखाड़े में करीब 50 महामंडलेश्वर हैं.
4. श्री तपोनिधि आनंद अखाड़ा पंचायती, त्रयंबकेश्वर, नासिक
यह शैव अखाड़ा है जिसमें महामंडलेश्वर नहीं होते. आचार्य का पद ही प्रमुख होता है.
5. श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा, बाबा हनुमान घाट, वाराणसी
सबसे बड़ा अखाड़ा है. करीब 5 लाख साधु संत इससे जुड़े हैं.
6. श्री पंचदशनाम आवाहन अखाड़ा, दशाश्वमेध घाट, वाराणसी, यूपी
अन्‍य अखाड़ों में महिला साध्वियों को भी दीक्षा दी जाती है लेकिन इस अखाड़े में ऐसी कोई परंपरा नहीं है.
7.श्री पंचदशनाम पंच अग्नि अखाड़ा, गिरीनगर, भवनाथ, जूनागढ़, गुजरात
इस अखाड़े में केवल ब्रह्मचारी ब्राह्मण ही दीक्षा ले सकते है. कोई अन्य दीक्षा नहीं ले सकता है.

वैरागी संप्रदाय

Vairagi
वैरागी संप्रदाय के संत विष्णु और उनके अवतारों को मान्यता देते हैं.

इनके पास तीन अखाड़े हैं. वैष्णव सम्प्रदाय के लोग विष्णु को ईश्वर मानते हैं. वैष्णव के बहुत से उप संप्रदाय हैं. इनमें बैरागी, दास, रामानंद, वल्लभ, निम्बार्क, माधव, राधावल्लभ, सखी और गौड़ीय शामिल हैं.
1. श्री दिगंबर अनी अखाड़ा, शामलाजी खाक चौक मंदिर, सांभर कांथा, गुजरात
इस अखाड़े को वैष्णव संप्रदाय में राजा कहा जाता है.
2. श्री निर्वानी अनी अखाड़ा, हनुमान गढ़, अयोध्या, यूपी
वैष्णव संप्रदाय के तीनों अनी अखाड़ों में से इसी में सबसे ज्यादा अखाड़े शामिल हैं. इनकी संख्या 9 है.
3. श्री पंच निर्मोही अनी अखाड़ा, धीर समीर मंदिर बंसीवट, वृंदावन, मथुरा, यूपी
अखाड़े में कुश्ती प्रमुख होती है जो इनके जीवन का एक हिस्सा है. अखाड़े के कई संत प्रोफेशनल पहलवान रह चुके हैं.

उदासीन संप्रदाय

Udasin
उदासीन संप्रदाय सिख धर्म से निकला है, जो धरती, पानी, आग, आसमान और हवा की पूजा करता है.

उदासीन संप्रदाय में भी तीन अखाड़े हैं. ये सिख-साधुओं का संप्रदाय है जिसकी कुछ शिक्षाएं सिख पंथ से ली गई हैं. ये लोग सनातन धर्म को मानते हैं.
1. श्री पंचायती बड़ा उदासीन अखाड़ा, कृष्णनगर, कीडगंज, इलाहाबाद, यूपी
इस अखाड़े उद्देश्‍य सेवा करना है. इस अखाड़े में केवल 4 महंत होते हैं जो हमेशा सेवा में लगे रहते हैं.
2. श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन, कनखल, हरिद्वार, उत्तराखंड
इस अखाड़े में 8 से 12 साल तक के बच्चों को दीक्षा दी जाती है.
3. श्री निर्मल पंचायती अखाड़ा, कनखल, हरिद्वार, उत्तराखंड
इस अखाड़े में धूम्रपान की इजाजत नहीं है. इस बारे में अखाड़े के सभी केंद्रों के गेट पर इसकी सूचना लिखी होती है.

अखाड़े में महामंडलेश्वर का पद होता है सबसे ऊंचा

Mahamandaleshwar
महामंडलेश्वर शब्द 18वीं शताब्दी में पहली बार सामने आया था. (फोटो: BBC)

किसी भी अखाड़े में महामंडलेश्वर का पद सबसे ऊंचा होता है. महामंडलेश्वर पद शैव संप्रदाय के दशनामी संन्यासियों ने ईजाद किया था. दशनामी शब्द उन संन्यासियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जो शंकराचार्य के अनुयायी हैं. हालांकि ये भी माना जाता है कि दक्षिण भारत के श्रृंगेरी मठ के तीसरे आचार्य सुरेश्वराचार्य ने जिन संन्यासियों का गुट बनाया था, उन्हें दशनामी कहा जाता है. हकीकत जो भी हो, लेकिन अखाड़े में महामंडलेश्वर सबसे ऊंचा ओहदा होता है. दशनामी संन्यासियों ने सनातन धर्म की रक्षा के लिए महामंडलेश्वर का पद बनाया और उसकी कुछ योग्यताएं तय कर दीं. महामंडलेश्वर ऐसे व्यक्ति को बनाया जाता है, जो साधु चरित्र और शास्त्रीय पांडित्य दोनों के देश-दुनिया में जाना जाता हो. पहले ऐसे लोगों को परमहंस कहा जाता था. 18 वीं शताब्दी में उन्हें महामंडलेश्वर की उपाधि दी गई. महामंडलेश्वर की पदवी धारण करने वाले जितने भी लोग होते हैं, उनमें जो सबसे ज्यादा ज्ञानी होता है, उसे आचार्य महामंडलेश्वर कहते हैं. हालांकि कुछ अखाड़ों में महामंडलेश्वर नहीं होते हैं. उनमें आचार्य का पद ही प्रमुख होता है.

अखाड़ों से जुड़े विवाद भी हैं

1. त्रिकाल भवंता और परी अखाड़ा

Trikal Bhawanata
त्रिकाल भवंता ने खुद को महामंडलेश्वर घोषित कर रखा है.

2016 में उज्जैन में हुए सिंहस्थ कुंभ के दौरान त्रिकाल भवंता ने परी अखाड़े का गठन किया और खुद को उसका महामंडलेश्वर घोषित कर दिया. हालांकि अखाड़ा परिषद ने परी अखाड़े को मान्यता नहीं दी. इसके लिए त्रिकाल भवंता ने प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को भी पत्र लिख रखा है. हालांकि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने अखाड़े को मान्यता देने से इनकार कर दिया है.

2. लक्ष्मी त्रिपाठी और किन्नर अखाड़ा

Kinnar
लक्ष्मी ने किन्नरों के लिए अखाड़े का गठन किया है. (फोटो : BBC)

2016 में ही सिंहस्थ कुंभ के दौरान एक और नया अखाड़ा सामने आया, जिसका नाम है किन्नर अखाड़ा. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने इस अखाड़े को भी मान्यता नहीं दी है. किन्नर अखाड़े की लक्ष्मी त्रिपाठी ने कहा था कि उज्जैन शिव की नगरी है और शिव की नगरी में अखाड़े के लिए किसी से मान्यता लेने की जरूरत नहीं है.

3. सचिन दत्ता और निरंजनी अखाड़ा

Sachin Datta
सचिन दत्ता से छह दिन के बाद ही महामंडलेश्वर पद छीन लिया गया था.

अगस्त 2015 में नोएडा के एक शराब कारोबारी सचिन दत्ता को निरंजनी अखाड़े का 32वां महामंडलेश्वर घोषित कर दिया गया और नाम रखा गया सच्चिदानंद गिरी. जब सचिन के कारनामे का खुलासा हुआ, तो महामंडलेश्वर का पद छीन लिया गया.

बढ़ती जा रही है महामंडलेश्वर की संख्या

Mahamandaleshwar Increasing
अखाड़ों से जुड़े लोग बताते हैं कि महामंडलेश्वर बनने के लिए करोड़ों रुपए खर्च होते हैं.

सनातन धर्म के रक्षक माने जाने वाले अखाड़ों के लिए महामंडलेश्वर धनकुबेर भी साबित होते हैं. शायद यही वजह है कि लगभग सभी अखाड़ों में महामंडलेश्वरों की संख्या बढ़ती जा रही है. सचिन दत्ता को जब महामंडलेश्वर पद दिया गया था, तो उस दौरान परी अखाड़े की महामंडलेश्वर त्रिकाल भवंता ने भी माना था कि अखाड़ों में पैसे का वर्चस्व बढ़ गया है. अखाड़ों से जुड़े लोगों की मानें तो संन्यासी संप्रदाय से जुड़े अखाड़ों में महामंडलेश्वर पद के लिए 75 लाख से एक करोड़ रुपये तक खर्च किए जाते हैं. वहीं वैष्णव संप्रदाय से जुड़े अखाड़ों में महामंडलेश्वर बनने के लिए 40 से 50 लाख रुपये खर्च करने पड़ते हैं. अखाड़ा जितना बड़ा है, रकम भी उतनी ही बड़ी होती है. सचिन के महामंडलेश्वर बनने में भी दो करोड़ रुपये खर्च करने की बात सामने आई थी. 2001 तक उदासीन और संन्यासी अखाड़ों में लगभग 100 महामंडलेश्वर थे. 2013 के प्रयाग अर्धकुंभ में इनकी संख्या 300 से अधिक हो गई थी. 2001 में वैष्णव संप्रदाय के अखाड़ों में महामंडलेश्वरों की संख्या 400 से अधिक थी, जो 2013 तक बढ़कर 700 से अधिक पहुंच गई थी.

अब जारी किए गए हैं नए नियम

Akhada New Rule
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने संत बनने के लिए कड़ी शर्तें लागू की हैं.

10 सितंबर 2017 को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने 14 बाबाओं की लिस्ट जारी कर उन्हें फर्जी करार दिया है. इसी बैठक में संत और महामंडलेश्वर बनने की नई प्रक्रिया भी तय की गई है. परिषद ने तय किया है कि किसी को संत की उपाधि देने से पहले उसकी पूरी पड़ताल की जाएगी. उपाधि देने से पहले परिषद यह भी देखेगा कि व्यक्ति की जीवनशैली किस तरह की है. ये भी देखा जाएगा कि संत के पास नकदी या उसके नाम पर कोई संपत्ति तो नहीं है. अगर किसी के पास संपत्ति है, तो पहले उसे न्यास को दान करना होगा और लोगों के कल्याण के लिए इस्तेमाल करना होगा.

विवाद में रहा है अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद का अध्यक्ष पद

ABAP President
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के वर्तमान अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी (बाएं) और पूर्व अध्यक्ष महंत ज्ञान दास (दाएं) के बीच लंबे समय तक विवाद रहा है.

1954 में अखाड़े की स्थापना के वक्त तय किया गया था कि हर अर्धकुंभ से पहले अखाड़े के अध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा. परंपरा 2004 तक चलती रही. 2004 में चुनाव हुए और महंत ज्ञान दास को अध्यक्ष चुन लिया गया. वो अयोध्या स्थित हनुमानगढ़ी के महंत हैं. 2010 में इलाहाबाद के मठ बाघंबरी गद्दी में परिषद का चुनाव हुआ, जिसमें 13 में से सात अखाड़े शामिल हुए. जूना, आह्वान, अग्नि, दिगंबर , निर्वाणी और निर्मोही ने चुनाव का बहिष्कार किया था. चुनाव में निर्मल अखाड़ा के महंत बलवंत सिंह अध्यक्ष और आनंद अखाड़ा के शंकरानंद सरस्वती महामंत्री चुने गए. महंत ज्ञानदास ने अखाड़े के चुनाव को हाई कोर्ट में चुनौती दी. 2013 में कोर्ट ने चुनाव पर स्टे लगा दिया. 2014 में महंत ज्ञान दास की जगह पर नरेंद्र गिरी को अखाड़ा परिषद का अध्यक्ष चुना गया. महंत ज्ञान दास ने नरेंद्र गिरी के अध्यक्ष पद को हाई कोर्ट में चुनौती दी. कोर्ट ने स्टे लगा दिया. हालांकि अखाड़े नरेंद्र गिरी को ही अध्यक्ष मानते हैं. सिंहस्थ कुंभ 2016 में भी अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष के तौर पर महंत नरेंद्र गिरी को ही मंजूरी मिली थी.

बीड़ा उठाया है तो अंजाम तक भी पहुंचाएं

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने 14 बाबाओं की तो लिस्ट जारी कर दी है. लेकिन अब भी ऐसे कई ढोंगी और पाखंडी हैं, जो धर्म के नाम पर लोगों को बरगला रहे हैं, उनका शोषण कर रहे हैं और उनके जीवन से खिलवाड़ कर रहे हैं. अब जब अखाड़ा परिषद ने असली संत और नकली संत बताने का बीड़ा उठा ही लिया है, तो अब इसे अंजाम तक अखाड़ा परिषद को ही पहुंचाना होगा. धर्म के नाम पर हो रही लूट को रोकने के लिए क्या किया जा सकता है, इसे लेकर अखाड़ा परिषद को गंभीर होना ही होगा. ऐसा न होने पर राम रहीम और आसाराम जैसे लोग खुद को संत बताकर पब्लिक को बेवकूफ बनाते ही रहेंगे.


वीडियो में देखें बलात्कारी बाबा राम रहीम की पूरी कहानी

ये भी पढ़ें:

ABAP द्वारा धर्महित में जारी: इन 14 बाबाओं से हिफाज़त के लिए भक्तजन स्वयं जिम्मेदार होंगे

राम रहीम की भौकाली महंगी गाड़ियों का सच जानिये

गुरमीत राम रहीम हज़ारों लोगों का मास सुसाइड करवाने वाला था?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.