Submit your post

Follow Us

कांग्रेस बुरी तरह हार गई, राहुल गांधी सपोर्टर खुश हैं, ये रहीं वजहें

211
शेयर्स

लोग ना इंडिया के. दिन भर पॉलिटिक्स बतिया सकते हैं. और समझ मिथौरी भर भी नहीं होती. बमचक काटे हैं. कि असम-केरल में हार गए. तमिलनाडु में भी साफ भए. बंगाल में भी लेफ्ट से ईलू-ईलू काम न आया. अब कांग्रेस में जो है, राहुल गांधी की स्थिति कमजोर हो जाएगी.
और असल में क्या है. सबसे पहले तो वो शर्त है. जो सभी बड़े जर्नलिस्ट लगाते हैं. क्योंकि नेताजी लगवाते हैं. फुसफुस संप्रदाय के. कि नाम न छापने की शर्त पर. तो हम पर भी लागू. हां, तो गांधी परिवार के करीबी ने बताया. 4 राज्यों में हार और पांचवे महत्वपूर्ण राज्य पुदुच्चेरी में कांग्रेस की प्रेरणा से गठबंधन के सिरमौर बने डीएके के नेतृ्त्व में प्रेरणादायी जीत का राहुल के प्रमोशन से कोई संबंध नहीं. राहुल जी कांग्रेस के अध्यक्ष बनकर रहेंगे. मम्मी जी ने मन बना लिया है. और कांग्रेसी प्रजा को पता है. ब्लू ब्लड का महत्व. अब कोई चिरौंजी लाल तो आएंगे नहीं. पंचायती और बिलाक लेवल की पालिटिक्स कर. फिर जिला और सूबा निपटा. और बन जाएंगे ग्रैंड ओल्ड पार्टी के प्रमुख. हलुवा है क्या. अरे काबिलियत से ज्यादा रसूख चाहिए. क्या हुआ जो पार्टी सूखे में है. देश में भी तो सूखा है. पार्टी कोई परदेसी तो नहीं. सब संघी लोग झूठ फैलाते हैं. कि मम्मी जी इटली से हैं. ये क्या बात हुई जी. हमारी चच्चू वाली चाची अजीतमल से हैं. दूसरा मुलुक. हमारा जिला जालौन. उनका इटावा. बीच में जमुना जी और बीहड़. तो देस बदल गया तो क्या चाची, चाची नहीं रहेंगी.
हां. तो राहुल भइया हैं गांधी. तो पार्टी प्रमुख तो वही बनेंगे. वैसे हमको एक और असूत्र सूत्र बता रहे हैं कि बीजेपी वाले हवन करवा रहे हैं. कि ये काम जल्दी हो.यहां गंभीर बात हो रही है और बीजेपी को अपनी लुकलुक मची है. मजाक चल रहा हो जैसे.

वो सब तो ठीक है पर राहुल जी जिम्मेदारी कब उठाएंगे

सबसे पहले तो हमको इस सवाल की टोन से दिक्कत है. राहुल जी बचपन से देख रहे हैं. दादी को. चाचा को. पिता जी को. मां को. उनके यहां डिनर पर ये बातें तो न होती होंगी. कि सिलेंडर बुक कर दिया है. या फिर ये कि रिक्शेवाला रोज लेट आता है. स्कूल में मैडम डांटती हैं. कोई ये भी न कहता होगा कि हमको आम का नहीं मिर्ची का अचार दिया करो टिफिन में परांठे के साथ. हम बड़े हो गए हैं.
बातें बुनियादी होती होंगी. ये उड़ीसा के सीएम बहुत फायर हो रहे हैं. इनको फुर्र किया जाए. या फिर ये कि महाराष्ट्र में बहुत दिनों से नानू के नाम पर कोई बिल्डिंग नहीं बनी. ग्रांट जारी की जाए.
आप बातें बना रहे हैं. असली बात नहीं बता रहे.
असली बात. जुलाई में कांग्रेस का संगठन बदलेगा. सोनिया गांधी पार्टी अध्यक्ष के बजाय मार्गदर्शक मंडल टाइप किसी संस्था की प्रभारी हो जाएंगी. तमाम और बुजुर्गों को वहीं एडजस्ट किया जाएगा. जनार्दन द्विवेदी और मोतीलाल वोरा सरीखे पार्टी (पढ़ें परिवार) के वफादारों को. और तौलिया वाली कुर्सी से सीसाधारी मेज के सामने बैठेंगे राहुल गांधी. कहो जिंदाबाद. अरे विरोधी हो तो भी कह दो. मुस्किया तो रहे ही होगे. आश्वस्त भी हो रहे होगे. क्या कहें. समय का फेर है. हमको लगता था कि डिंपल वाले लड़के नामी होते हैं. मगर डिंपल तो लड़की हो गई. फिर उनकी भी लड़कियां हो गईं. डिंपल की मौड़ी ट्विंकल. छोटी रिंकी भी रही. पर ऊ मुसु मुसु हासी हुई गईं.

तो कौन नहीं होगा राहुल का रश्मिरथी

अध्यक्ष के बाद होता है महासचिव. इधर कुछ दिनों से राहुल के चलते उपाध्यक्ष भी था. पर वो एडहॉक भर्ती थी. कि प्रिंसिपल साब छुट्टी पर हैं तो सुरेश सर प्रिंसिपल हो गए. हां, तो बात महासचिव की. संख्या है आठ. पुराने जाएंगे. अम्बिका सोनी, मोहन प्रकाश, मधुसूदन मिस्त्री, सीपी जोशी, बीके हरिप्रसाद, मुकुल वासनिक, गुरुदास कामत वगैरह. दिग्विजय बचे रहेंगे. पुराने गुरु रहे हैं राहुल के. यूपी में बातों बातों में सरकार बनवा दी थी 2012 में. मगर फिर अखिलेश अपनी साइकिल लेकर आ गए. हाथ मोचिया गया.

खैर, शकील अहमद पंजाब प्रभारी हैं. पंजाब में चुनाव हैं. जहां कांग्रेस फिर हार सकती हैं. हालांकि तैयारी जीत की है. पर यहां झाड़ू वाले डटे हैं. तो शकील चच्चा पर गांठ फंसी है. जनार्दन द्विवेदी संगठन महासचिव हैं. मैडम के आदमी हैं. उनका भी एडजस्टमेंट देखा जा रहा है. वोरा जी फंड देखते हैं. जो खाली होता जा रहा है. वहां अशोक गहलोत या सुशील कुमार शिंदे आ सकते हैं.

और ये मिलिए नए नवेलों से

महासचिव में नए चेहरे भी होंगे. और कुछ कद्दावर नेता भी. कुछ जनाधार तो कुछ वफादार वाले. मसलन, कमलनाथ, भूपिंदर सिंह हुड्डा और आनंद शर्मा. शीला आंटी को भी ले सकते हैं. हालांकि उनके लिए यूपी में भी वैकैंसी खोजी जा रही है.
राहुल गांधी युवा हैं. और जो युवा हैं. वो हैं. भंवर जितेंद्र सिंह (राजस्थान), आरपीएन सिंह (यूपी), मीनाक्षी नटराजन (मध्य प्रदेश), सूरज हेगड़े (कर्नाटक), मिलिंद देवड़ा (महाराष्ट्र) और के राजू (आंध्र प्रदेश) वैसे राजू आईएएस रहे हैं. सीनियर हैं. मगर पॉलिटिक्स में उमर सब कुछ कहां होती है. एंट्री भी तो चेक करनी पड़ती है न कि कित्ते बजे की है.

तो कब बंटेगी राहुल जी के नाम की बूंदी

दो तारीखें देख रहे हैं पंडित जी. एक, जून जुलाई में राहुल अध्यक्ष मनोनीत किए जाएं. अक्टूबर में संगठन के चुनाव हों तो औपचारिक मुहर लग जाए. या फिर अभी नाम भर को मम्मी रहें. काम राहुल देखें. टीम नई बना दी जाए. वो नेता जी का मिजाज समझ ले. और फिर अक्टूबर में तख्ती भी बदल जाए.

और प्रियंका दीदी

बस यही हमें तुम लोगों का पसंद नहीं. यूपी में चरचराहट काटे थे. अब दिल्ली में भी यही पूछ रहे हो. अरे बेटी प्रियंका आएगी. तो राहुल भइया के सहयोग के लिए. अब ये न कहना कि उनमें समझ और करिश्मा ज्यादा है. बालकों सी बात करते हो. संस्कार नहीं हैं सवाल पूछने के.
हां तो युवा सोच, नई तरक्की, देश की सोच, हाथ, साथ और बाकी सब भी. राहुल गांधी. भइया. जिंदाबाद. गरीबी हटाओ. फालतू बातें भी हटाओ. जैसे इस आर्टिकल में उलीच दी गई हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Despite congress’ loss, Rahul gandhi supporters are happy, here is why

गंदी बात

हम रेप की कहानियां किस तरह सुनना चाहते हैं?

मसाला छिड़ककर या मलाई मारकर?

मलाइका अरोड़ा की कांख पर कुछ लोगों की आंख क्यों चढ़ गई?

कुछ ने तारीफ़ की. मगर कई लोग मुंह भी बना रहे हैं. लिख रहे हैं, वैक्स क्यों नहीं करवाया.

साइकल, पौरुष और स्त्रीत्व

एक तस्वीर बड़े दिनों से वायरल है. जिसमें साइकल दिख रही है. इस साइकल का इतिहास और भूगोल क्या है?

महिलाओं का सम्मान न करने वाली पार्टियों में आखिर हम किसको चुनें?

बीजेपी हो या कांग्रेस, कैंडिडेट लिस्ट में 15 फीसद महिलाएं भी नहीं दिख रहीं.

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

चुनाव एक युद्ध है. जिसकी कैजुअल्टी औरतें हैं.

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

औरत अपनी उम्र बताए तो शर्म से समाज झेंपता है वो औरत नहीं

किसी औरत से उसकी उम्र पूछना उसका अपमान नहीं होता है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.