Submit your post

Follow Us

वो धाकड़ राष्ट्रपति, जिसकी दबंगई के किस्से अक्सर सुर्खियों में रहते हैं

व्लादिमीर पुतिन. एक ऐसा नाम, जो रूस का पर्याय बन चुका है. जिसके बारे में अफवाहें चलती हैं कि वो डेढ़ सौ साल से जिंदा है. रूस की रक्षा कर रहा है. दुनिया की सबसे ठंडी जगह साइबेरिया में नंगे बदन खड़े पुतिन की फोटो खूब दिखाई देती है. सोवियत यूनियन के टूटने के बाद पुतिन से बड़ा नेता रूस में नहीं हुआ. दुनिया में जितने लोग अमेरिका से चिढ़ते हैं, पुतिन में उनको अपना हीरो नजर आता है. भारत में भी पुतिन के प्रशंसक बहुत हैं. आज उनका बड्डे है.

और हम आपको बतायेंगे कैसे पुतिन ने अपनी ये इमेज बनाई:

1.


सेंट पीटर्सबर्ग. 18वीं शताब्दी का शहर. पुतिन का शहर. 7 अक्टूबर 1952 को जन्मे पुतिन की दिलचस्पी सिनेमा में हुआ करती थी. खासतौर से फौजियों की फिल्मों में. पढ़ने में ठीक थे. लॉ की पढ़ाई की. कराटे, जूडो की ट्रेनिंग ली. फिर रूस की खुफिया एजेंसी केजीबी में चुन लिये गये. वहां तेजी से आगे बढ़े. लेफ्टिनेंट कर्नल की पोस्ट तक पहुंच गये. उधर 1990 आते-आते सोवियत यूनियन की वाट लग गई थी. 1991 में वह कई देशों में टूट गया. उस वक्त के राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचोव पर बड़े आरोप लगे कि देश बर्बाद कर दिया. रूस में निराशा फैली थी. इन्हीं हालात में पुतिन ने नौकरी से रिजाइन कर दिया. और राजनीति में आ गये.

maxresdefault

2.


इसी राजनैतिक क्राइसिस के दौरान 1994 में रूस में राष्ट्रीयता की भावना बहुत तेजी से बढ़ रही थी. इसी दौरान रूस ने अपने दक्षिण में चेचेन्या पर हमला कर दिया, जिसे डेढ़ सौ साल तक अपने कब्जे में रखने के बाद 1954 में आजाद कर दिया गया था. 1996 से रूस में पुतिन का कद बढ़ने लगा. क्योंकि वह चेचेन्या वाले मामले को बहुत अच्छे से हैंडल कर रहे थे. 1999 में रूस के प्रेसिडेंट बोरिस येल्तसिन को इस्तीफा देना पड़ा. उन पर कई तरह के आरोप थे. अब रूस में समस्या हो गई कि गद्दी कौन संभालेगा. पुतिन ने यहीं अपना अंदाज दिखाया. सबको मैनेज कर लिया. कहा जाता है कि बोरिस के सपोर्टर्स को भी अपनी तरफ कर लिया था. उनसे डील हुई थी कि बोरिस पर कोई जांच कमिटी नहीं बिठाई जायेगी. और फिर पुतिन रूस के प्रेसिडेंट बन गये.

putin-entry_400x350_fit_100

3.


पुतिन ने उसके बाद कई तरह के बदलाव लाना शुरू किया. देश में प्रोविंसेज के गवर्नर चुनने और डिसमिस करने का अधिकार खुद ले लिया. इससे पहले वे चुनकर आते थे. इंटरनेशनल मीडिया ने इस पर बहुत बवाल काटा. कहा कि ये तानाशाही है. पर पुतिन का नसीब अच्छा था. उसी वक्त तेल के दाम बढ़े, फायदा हुआ, खुशहाली आई. इंडिया के लिये भी ये अच्छा रहा. रूस के साथ स्ट्रेटजिक पार्टनरशिप हुई. इसके बारे में 2012 में पुतिन ने कहा था कि ये बेस्ट समझौता था.

Russian President Vladimir Putin waves at the end of a two-day visit in Tripoli, Libya Thursday, April 17, 2008. Russia said Thursday that it will write off US$4.5 billion in Libyan debt in exchange for multibillion dollar deals for its firms, Russian news agencies reported. (AP Photo/Abdel Magid Al Fergany)
(AP Photo)

4.


किसी नेता के लिये अपने देश पर हमला होना या किसी तरह का मिलिट्री खतरा होना, सबसे बड़ा मौका होता है अपने आप को स्थापित करने का. पुतिन के पास भी मौका आया. जब दूसरा चेचेन वॉर शुरू हुआ. रूस में फिर से टूटने की बात होने लगी. लेकिन इस बार पुतिन ने चेचेन्या को ठेल दिया. 2004 में चेचेन्या के आतंकवादियों ने बेसलान के एक स्कूल में बच्चों को बंधक बना लिया. पुतिन ने उनसे किसी भी तरह की बात नहीं की. मिलिट्री लगा दी. 126 बच्चे मारे गये. इंटरनेशनल मीडिया ने पुतिन की खूब आलोचना की. लेकिन रूसी जनता में पुतिन का रुतबा बढ़ गया. बाकी दुनिया में भी पुतिन को इज्जत से देखा जाने लगा. इंडिया में भी चर्चा हुई कि आतंकवाद से निपटने के लिये ऐसा ही एटिट्यूड रखना चाहिये.

60a49000e99884074658bf8b95abefc9

5.


अमेरिका की नजर में पुतिन समस्या बन रहे थे क्योंकि रूस अब अमेरिका को टक्कर दे रहा था. इसी बीच पुतिन पर एक आरोप लगा. 2006 में रूस से भागे जासूस अलेक्जेंडर लिटिवेंको को ब्रिटेन में जहर दे दिया गया. वो रूस और पुतिन के खिलाफ बोल रहा था. आरोप लगा रहा था कि विपक्षी नेताओं का कत्ल हो रहा है. इसी जासूस ने सबसे पहले माफिया शब्द बोला था. ब्रिटेन ने उसे शरण दी थी.

524A4B37-7151-4F53-ACFA-5BEA08B73483_mw1024_mh1024_s

6.


पुतिन ने अमेरिका से अपनी अदावत कम करने की कोशिश नहीं की. 2007 में ईरान गये. 1943 के बाद ईरान जाने वाले वह पहले रूसी प्रेसिडेंट थे. उस वक्त ईरान का अमेरिका से पंगा चल रहा था. इराक के बाद ईरान पर अमेरिका आरोप लगा रहा था कि वहां एटम बम बनाये जा रहे हैं. रूस में इस बात से खुशी थी. फिर 2008 में पूरी दुनिया में महामंदी आ गई. उस वक्त पुतिन को गद्दी छोड़नी पड़ी. नियम था कि रूस में कोई इंसान लगातार दो से ज्यादा बार प्रेसिडेंट नहीं बन सकता.

2008 में एक फ्रेंच डिप्लोमेट के मुताबिक, पुतिन ने कहा था कि जार्जिया के प्रेसिडेंट को टट्टों से लटकाकर मार दूंगा.

पुतिन नाम है हमारा. बता दीजियेगासबको. (1)

7.


अब रूस में बड़ा बदलाव हुआ. दिमित्री मेदवेदेव प्रेसिडेंट बने. और पुतिन प्रधानमंत्री. रूस में पहली बार ऐसा हुआ कि प्रधानमंत्री प्रेसिडेंट से ज्यादा ताकतवर था. पुतिन ने इस मोर्चे पर भी जनता को निराश नहीं किया. 2008 में जब पूरी दुनिया इकॉनमिक क्राइसिस से जूझ रही थी, तब रूस आराम से था. इसके अलावा पुतिन ने रूस की एक और बड़ी समस्या को सुलझाया. 1990 से ही वहां पर आबादी घट रही थी. पुतिन ने नये-नये नियम बनाये. 2008 से 2011 के बीच आबादी में काफी बदलाव आया. इसके साथ ही सिक्योरिटी, मिलिट्री, पुलिस रिफॉर्म भी हुये. इन चीजों ने जनता के मन पर बड़ा प्रभाव डाला. पुतिन की इमेज काफी बदल गई. वो अपनी पार्टी यूनाइटेड रशिया के प्रेसिडेंट बन गये.

putin-pro-rally_400x350_fit_100

8.


2012 में पुतिन ने फिर चुनाव लड़ा. जीत गये. आरोप भी खूब लगे थे कि धांधली हुई है. उसी साल वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन में रूस शामिल हुआ. ऐसा समझा गया कि रूस अब अमेरिका का छोटा भाई बन के रहना चाहता है. क्योंकि कोल्ड वॉर से निकलकर रूस अब अमेरिका की चौधराहट वाले संगठन में शामिल हो गया था. पर ये एक छलावा था.

putin-business_400x350_fit_100

9.


2011 में मिडिल ईस्ट के देशों में डेमोक्रेसी को लेकर बहुत विद्रोह हुआ था. इसे अमेरिका और यूरोप ने बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया. पूरी कोशिश थी कि जहां भी तानाशाही है, डेमोक्रेसी लाई जाय़े. दिक्कत ये थी कि ये लोग पुतिन को भी तानाशाह मानते थे. रूसी शतरंज खिलाड़ी गैरी कॉस्परोव ने भी पुतिन को डिक्टेटर कह दिया था. इससे पहले पुतिन लीबिया भी गये थे, जहां अमेरिका ने बम गिराकर डेमोक्रेसी लाने की बात की थी. फिर पुतिन ने अमेरिका को मौका दे भी दिया.

pinterest

10.


2013-14 में रूस ने यूक्रेन पर हमला कर क्रीमिया पर कब्जा कर लिया. ये हिस्सा रूस ने 1954 में ही यूक्रेन को सौंप दिया था. पर फिर मुकर गया. क्योंकि वहां अमेरिका का प्रभाव बढ़ रहा था. नाटो देश इस क्षेत्र के देशों को अपने में शामिल कर रहे थे. रूस को चारों तरफ से घेरा जा रहा था. पर ये हमला हैरान करने वाला था. क्योंकि जहां एक तरफ मिडिल ईस्ट के देशों पर माहौल खराब करने का आरोप लग रहा था, वहीं रूस जैसे बड़े देश का ऐसा करना माहौल और खराब करने वाला था.

aamanhattan_bridge-large_trans++qVzuuqpFlyLIwiB6NTmJwfSVWeZ_vEN7c6bHu2jJnT8

11.


फिर पुतिन ने 2000 में सीरिया को हथियार बेचना शुरू कर दिया था.  2015 में सीरिया की लड़ाई में बशर अल असद को सपोर्ट किया, जिसे अमेरिका गद्दी से उतारना चाहता था. पुतिन ने इराक वॉर में भी अमेरिका को सपोर्ट नहीं किया था. तब तक एक और घटना हो गई. अमेरिका के एडवर्ड स्नोडेन ने विकीलीक्स कांड कर दिया. ये बात लीक कर दी कि अमेरिकी सरकार दुनिया भर के नेताओं की बातें सुनती है. सबकी जासूसी करती है. इसके बाद अमेरिका की बड़ी थू-थू हुई. स्नोडेन को देश छोड़कर भागना पड़ा. दुनिया में कहीं भी उसे जगह नहीं मिली. पुतिन ने जगह दी.

putin guardian

12.


पुतिन के सपोर्टर्स ने उन्हें ऐतिहासिक इंसान बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. उनके नाम पर कई तरह के गाने बने.  tough guy. सुपरहीरो की इमेज बनाई गई. Be Like Putin मूवमेंट भी चलाया गया. कभी-कभी पुतिन फेन्या बोलते हैं. वहां की बंबईया भाषा. भाई लोगों की भाषा. पुतिन ने भी कोई कसर नहीं छोड़ी. मिलिट्री जेट उड़ाना, मॉर्शल आर्ट, घुड़सवारी, राफ्टिंग, फिशिंग, साइबेरिया में नंगे बदन घूमना, भालू मारना, मोटरबाइक, फायरफाइटिंग, व्हेल पकड़ना सब करते हैं. सबकी फोटो मीडिया में आती है. इनके नाम पर जोक भी खूब बने हैं: Before Putin there was no orgasm.

Russia's President Vladimir Putin lies on the snow during a walk with dogs in Moscow Region

Photo Credit: Reuters


लल्लनटॉप वीडियो देखें –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.