Submit your post

Follow Us

हरियाणा की वो लड़की, जो स्टेज पर वल्गर जोक सुनाती थी

1.81 K
शेयर्स

दो दिन पहले खबर आई. सपना डांसर ने जहर खा लिया. सपना की तरह ही एक और स्टेज स्टार थी हरियाणा की. जिसकी हत्या कर दी गई थी. नाम था बीनू चौधरी .

बीनू चौधरी गले में मंगलसूत्र, लाल लिपस्टिक लगाती थी. जब बूढ़ों की तरफ आंख मार कर ठुमके मारती तो टेंटों में बैठे मर्दों की आंखे फटी की फटी रह जाती थीं. beenu chaudhary

एक रागनी में बीनू ने कहा था “हसणा हसाणा ही जिंदगी हो सै”. और बस फिर वो हंसाती रही लोगों (मर्दों) को. अपने जोक्स और रागनियों से.

आप इन स्टेज पर नाचने-गाने वालियों के चकाचौंध दुनिया  के अलावा इनके जिंदगी के डर-डिप्रेशन को भी जान लो. जब बीनू  को  मारा गया  तब आंख मारने पर फ़िदा भीड़ में बैठने वाले  दीवानों  ने कोई हंगामा नहीं किया. एक दो न्यूज़पेपर  में खबर छाप दी गई.  स्टेज किसी के इंतज़ार में नहीं रुकता. बीनू गई तो सपना आगई. सपना चली जाएगी तो कोई और आएगी. आओ जाने बीनू के बारे में. जो न्यूज़पेपर्स ने नहीं छापा.

कन्वेंशनल रागनी से सेक्सुअल जोक्स पर

जब वो रागनी कम्पटीशन में आई थी तब कन्वेंशनल रागनी ही गाती थी. बाद में उसने देखा कि लोग एक सेक्शुअल जोक पर इतने पैसे लुटा रहें हैं. एक छोटा सा इशारा कर दो और लोगों के बटुए खाली. लख्मीचंद की रागनियों में लोग भी कम इंटरेस्ट लेने लगे थे. फिर उसने “सेक्शुअल जोक्स” का ट्रेंड चालू कर दिया. आदमियों के ग्रुप्स में ऐसे जोक्स मारना हमेशा से रहा है. वो बड़े सहज तरीके से बोल कर निकल लेते हैं. औरतों ने ये बातें खुलकर बोली नहीं. लेकिन बीनू चौधरी बिस्तर की सारी बातें स्टेज पर ले आई. औरत के मुंह से ये सब सुनना आदमियों की फंतासी रही होगी.

बिस्तर की बातें ले आई स्टेज पर

जो बातें शायद एक पत्नी भी पति से शेयर नहीं करती हो. वो बातें बीनू ने ठहाके मार-मार कर बताईं. आदमियों के लिंग से लेकर उनके सेक्स करने के तरीकों तक का मजाक उड़ाया. इतनी आसानी से वो हजारों मर्दों के बीच सेक्स की बात बोलकर हंस देती. बूढ़ों की धोती से निकलती ‘चीज’ पर कमेंट मार देती. फौजी के सारा टाइम फ़ौज में रहने से ‘प्यार की भूखी’ पत्नी की भूख का भी जिक्र कर देती. ‘हॉट एंड सेक्सी बीनू चौधरी रागनी” नाम से वीडियोज यूट्यूब पर हैं. वहां आपको ये जोक्स मिल जाएंगे.

बीनू चौधरी ‘उतरातली’ रागनी गाती थी. ऐसी रागनियों में सिंगर्स जोड़े का रोल करते हैं. सिंगर्स में एक आदमी और एक औरत होती है. दोनों शादीशुदा ‘बातों’ पर गाते हैं.

घटियापना वर्सेज संस्कारीपना

लोगों को लगता है कि बीनू चौधरी लिमिट क्रॉस कर गयी थी. उसी ने इस भद्दे ट्रेंड को शुरू किया था. इस बात पर लोगों की राय अलग हो सकती है. अगर आठ-नौ साल पहले सेक्स के जोक्स मारना भद्दा था तो रोका क्यूं नहीं गया? वो घर-घर जाकर तो सुनाने गयी नहीं होगी. पंडालों में बैठी हजारों की भीड़ के सामने जब बीनू सेक्स के जोक्स सुनाती थी तो 80 साल के बुड्ढे तक ठठाकर हंसते थे. वरना वो समाज जो ऑनर किलिंग्स के लिए बदनाम है वो ऐसे ‘वाहियातपने’ को कैसे पनपने देता?Beenu chaudhary

सिडक्टिव लुक्स से रिझाती थी भीड़ को

बीनू सिडक्टिव लुक देती हुई बोल देती “मौसम देखिये कितना कसुता सै, किम्मे करण का जी नहीं हो रया कै?” वो भीड़ की आंखो में आंखे डाल कर गाती तो भीड़ पागल हो जाती. शायद पति (मर्द) वो सब लाइव देख पाते थे जितना अंग्रेजी फिल्मों में छूट जाता था. वो पतियों (मर्दों) की कल्पना की उड़ान भरवा देती थी.

हरियाणा का ट्रांसफॉर्मेशन और बीनू के ठुमके

जब बीनू का टाइम चल रहा था तब हरियाणा में भी तगड़े वाला ट्रांसफॉर्म हो रहा था. मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे. उस वक़्त खेतों में कोठियां खड़ी हो रही थीं. जमीनें बिक रही थीं. लोगों के पास उड़ाने को पैसा था. ये पैसा उड़ा बीनू के साथलों पर थपकी मार के उछलने पर. धीरे-धीरे बीनू को पब्लिक रागनियों से ज्यादा प्राइवेट पार्टियों में बुलाया जाने लगा. फॉर्म हाउसों में वो जाती. दस-पन्द्रह लोग पैसे इकठ्ठे करके बीनू को बुला लेते.

बीनू के लिए चल गई थी गोलियां

एक बार बीनू को किसी पार्टी में गाने बुलाया. बीस-पचीस लोगों की कोई पार्टी चल रही थी. अचानक दो गुट बन गए. गोलियां चल गईं. इस इंसिडेंट में एक लड़का मारा गया. बीनू को इससे कोई फर्क नहीं पड़ा. वो गाती रही. ऐसे जोक्स मारती रही और पैसे बटोरती रही.

पैसों के चक्कर में पाली दुश्मनी

2012 में हरिद्वार के एक ढाबे पर किसी ने बीनू पर गोली दाग दी. गोली लगते ही वो मर गई. बाद में दिल्ली पुलिस ने मारने वाले को एक मेट्रो स्टेशन पर पकड़ लिया. उसने बताया कि बीनू को मारने की सुपारी उसके एक्स लवर ने दी थी. फिर संदीप नाम के उस आदमी को पकड़ा गया. उसने बीनू के प्यार से लेकर लड़ाई तक की सारी बातें बक दीं. उसको डर था कि बीनू उसको मरवा सकती है. इससे पहले वो मारा जाये, उसने बीनू का ही खेल खत्म करवा दिया. दो लाख देकर बीनू को गोली मरवा दी. बीनू ने उस पर रेप का केस भी लगाया हुआ था. मगर लोगों का कहना है कि पैसे के चक्कर में दोनों में लड़ाई हुई थी. जिससे वो अलग हो गये थे.

जो औरत भरी भीड़ में ‘नहीं तो के फेर इन बूढों का चूसोगे?’ बोल देती थी, उससे शायद मर्दों की ईगो बूस्ट होती रही होगी. जितने सेक्स जोक्स मारे वो सारे मर्दों को सुपीरियर दिखाते हैं. सेक्स चीज़ ही ऐसे तरीके से बताई जाती है, जिसमें आदमी हावी रहता है और औरत को नीचा दिखाया जाता है. ऐसे जोक्स में मर्दों को अपनी मर्दानगी दिखाने के भी मौके दिए जाते हैं. अगर औरतों की सील (वर्जिनिटी) तोड़ने की बात हो. तो सारे ठेकेदारों (मर्दों) को उतना फर्क नहीं पड़ा होगा.

क्या इन औरतों को स्टेज हिस्ट्री की जानकारी नहीं होती? इनसे पहले स्टेज पर नाचने-गाने वाली औरतों के साथ क्या-क्या हुआ होता है? लोग स्टेज पर चप्पल फैंक देते हैं. गाली दे देते हैं. ‘रंडी’ बोल देते हैं. और फिर भी ये चुनती हैं स्टेज पर गाना-नाचना. और इस ट्रैजिक तरीके से मर जाना. बीनू चौधरी भी मारी गई.

beeenu chaudhary
डांसर झंडू

जितनी जल्दी ये रागनियों का कल्चर कलाकारों को सर पर चढ़ाता है, उतनी ही जल्दी उतार कर फेंक देता है. और उतारता सिर्फ औरतों को ही है. मर्द बुढ़ापे तक गा सकते हैं. नाच सकते हैं. औरत मोटी हो गई तो नहीं चलेगी, बल्कि डांसर झंडू इतनी ‘तोंद’ फुलाए भी नाच रहा है, फिर भी लोगों का फेवरेट है.

इस स्टेज वाली दुनिया में औरतें आती हैं. दो-तीन साल तक खूब तरक्की करती हैं. पैसे आते हैं. फेम मिलता है. फिर अचानक इनकी बदनामी हो जाती है. ये वेश्याएं हो जाती हैं. फिर या तो औरत डिप्रेस होकर मर जाती है या कोई लवर मार देता है. और ऐसे ट्रैजिक एंड हो जाता है. नई जनरेशन के लोग ‘हॉट एंड सेक्सी फीमेल सिंगर ऑफ़ हरियाणा’ में इनको ढूंढते रहते हैं.


 

ये भी पढ़ें:

हरियाणा की वो परफ़ॉर्मर, जिसके ठुमकों पर गोलियां चल जाती थीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.