Submit your post

Follow Us

इस वक़्त इस मंदिर में भक्तों को मिलता है 'पीरियड के खून' से सना कपड़ा

129.58 K
शेयर्स

योनि, वेजाइना. एक ऐसा शब्द जिसे बोलने के पहले सौ बार सोचेंगे. उसके लिए दूसरे शब्द तलाशेंगे. और पीरियड्स की बात! वो तो भूल ही जाओ. आज भी देश के आधे पुरुष ये मानते हों कि पीरियड का मतलब पैड पर नीली स्याही गिरना है, तो अचंभा नहीं होगा.

मगर ऐसे ही समाज में एक मंदिर ऐसा है, जहां देवी की योनि की पूजा की जाती है. और साल में एक बार उन्हें होने वाले पीरियड पर बड़ा सा पर्व मनाते हैं.

असम में 22 जून से अंबुबाची पर्व शुरू होने वाला है. और ये अगले चार दिन यानी 25 जून तक चलने वाला है. देश भर से भक्त मंदिर में दर्शन के लिए जायेंगे. उस दौरान सिटी का ट्रैफिक थम जाएगा और सभी लोग इस फेस्टिवल को धार्मिक और पवित्र ज़ज्बे के साथ मनाएंगे. असम की सरकार ने श्रद्धालुओं को आकर्षित करने के लिए इसमें कुछ कल्चरल परफॉर्मेंसेस को भी जोड़ने का फैसला किया है.

अब सुनिए उस पर्व की कहानी, जहां मिलता है ‘पीरियड के खून’ से रंगा हुआ कपड़ा.

कामाख्या – ‘द मिथ’

कामाख्या को ‘सती’ (जो कि भगवान शिव की पत्नी थीं) का एक अवतार माना जाता है. सती की मृत्यु के बाद, शिव ने तांडव नृत्य शुरू कर दिया था. उन्हें रोकने के लिए विष्णु ने अपना चक्र छोड़ा था. जिसने सती के शरीर को 51 हिस्सों में काट दिया था. ये 51 हिस्से धरती पर जहां-जहां गिरे, उन्हें ‘शक्तिपीठ’ का नाम दिया गया. इन्हीं में से एक हिस्सा वहां गिरा, जहां पर इस वक्त कामाख्या मंदिर है.

क्यों पड़ा ये नाम?

सती का गर्भाशय जिस जगह पर गिरा था, उसका पता तब तक नहीं चल पाया था जब तक कामदेव ने उसे ढूंढा नहीं था. कामदेव ने शिव के शाप से मुक्त होने के लिए इसे ढूंढा. कामदेव का शरीर तहस-नहस हो चुका था. लेकिन उन्होंने सती की योनि ढूंढ कर उसकी पूजा की. और अपना शरीर वापस पा लिया. इसलिए इस मंदिर या देवी को कामाख्या के नाम से जाना जाता है. क्योंकि कामदेव इनकी पूजा करते थे.

कामाख्या मंदिर

ये मंदिर 1565 में नर-नारायण ने बनवाया था. अपने बनने के साथ ही ये मंदिर अंबुबाची मेले से जुड़ गया था. मंदिर के गर्भगृह (मेन हिस्सा) में देवी की कोई मूर्ति नहीं है. उनकी पूजा की जाती है एक पत्थर के रूप में. जो एक योनि के आकार का है और जिसमें से नैचुरली पानी निकलता है.

kamakhya

अंबुबाची मेला

अंबुबाची का पर्व ‘अहार’ (जिसे आषाढ़ कहते हैं) के महीने में आता है. आषाढ़ जून-जुलाई में आता है. जबसे कामाख्या मंदिर बना है, हर साल ये पर्व मनाया जाता है. महीने के आखिरी चार दिनों में ये मेला लगता है. ऐसा कहा जाता है कि ये वो चार दिन वो होते हैं, जब कामाख्या देवी को पीरियड आते हैं. मंदिर के दरवाज़े बंद रहते हैं. ऐसा कहा जाता है कि इस दौरान मंदिर के अंदर बने हुए एक छोटे से तालाब का पानी लाल रंग में बदल जाता है. प्रसाद के तौर पर देवी का निकलने वाला पानी या फिर अंगवस्त्र (लाल कपड़ा, जिससे देवी की योनि को ढका जाता है) मिलता है. लोग ऐसा मानते हैं कि इस प्रसाद में औरतों में होने वाली पीरियड से समस्याओं को ठीक करने और उन्हें ‘बांझपन’ से मुक्त करने की ताकत होती है.

कौन जाता है इस पर्व में?

नागा साधुओं से लेकर अघोरी तक. वो लोग भी, जो ये मानते हैं कि अधर्म ही ‘निर्वाण’ को पाने का सही रास्ता है; और सभी तरह के संन्यासी इस फेस्टिवल में जाते हैं. हालांकि ये पर्व सिर्फ साधुओं और संन्यासियों के लिए नहीं है. बल्कि असम राज्य के और हिस्सों से और भारत के हर कोने से लोग देवी के दर्शन करने और उनका आशीर्वाद लेने आते हैं.

इस साल असम के चीफ मिनिस्टर सर्बानंद सोनोवाल ने इस चार दिन के पर्व में एक कल्चरल परफॉर्मेंस भी जोड़ा है. इस इवेंट में कुछ स्थानीय कलाकारों की परफॉर्मेंसेस और लोक संगीत भी प्रस्तुत किया जाएगा. इसमें मंदिर का एक स्पेशल गाइडेड टूर भी होगा और साथ ही ब्रह्मपुत्र नदी में वॉटर स्पोर्ट्स भी.


दी लल्लनटॉप के लिए ये स्टोरी टीना दास ने लिखी है.  

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

सऊदी अरब में हुए 2 ड्रोन हमले आपकी जेब पर बहुत भारी पड़ सकते हैं

जानिए, भारत पर इसका बड़ा असर कैसे हो सकता है...

नरेंद्र मोदी की अनसुनी कहानीः कैसे बीजेपी के हर दिग्गज का तख़्तापलट करके वो पीएम बने

2014 की 'मोदी लहर' के बाद क्या हुआ सब जानते हैं, लेकिन उससे पहले क्या हुआ था क्या ये जानते हैं?

अमित शाह ने हिंदी दिवस पर बयान तो दिया, लेकिन ये जरूरी बात भूल गए

क्या हिंदी को 'राष्ट्रभाषा' का दर्जा मिलना चाहिए?

चीन इन मुसलमानों पर कहर क्यों ढा रहा है?

कहानी उइगर मुसलमानों की, जिनकी मदद इमरान खान भी नहीं कर सकते.

16 साल की उम्र में इंदिरा गांधी ने फिरोज़ का पहला प्रपोज़ल ठुकरा दिया था

इंदिरा से अलग होकर फिरोज़ मुस्लिम परिवार की एक महिला के प्रेम में पड़ गए थे. आज बड्डे है.

मोहन भागवत इस तरह बने आरएसएस के चीफ

मोहन भागवत मार्च 2009 में संघ के छठे सरसंघचालक बने, लेकिन इसकी भूमिका साल 2000 में लिखी जा चुकी थी.

अगर जिन्ना की ऐम्बुलेंस का पेट्रोल खत्म न हुआ होता, तो शायद पाकिस्तान इतना बर्बाद न होता

मरते वक्त इतने लाचार हो गए थे जिन्ना कि मुंह पर मक्खियां भिनभिना रही थीं.

वो संत, जो ज़मीन का छठा हिस्सा मांगता था और लोग खुशी-खुशी दे देते थे

गांधी के चुने पहले सत्याग्रही. ज़िंदगी में सिर्फ एक विवाद हुआ. इनका सपना आज भी अधूरा है.

तेज़ी से बढ़ रहा IIPM कैसे ख़त्म हुआ, जिसमें अब शाहरुख खान भी फंस गए हैं

जानिए उस पत्रकार की कहानी, जिसने IIPM के फर्ज़ीवाड़े का महल गिराया.

क्या है मैकमहोन लाइन, जिसके अंदर चीन के लकड़ी का पुल बनाने का दावा कर रहे BJP सांसद?

चीन और भारत के इस बॉर्डर का लंबा और विवादित इतिहास रहा है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.