Submit your post

Follow Us

सेंसर बोर्ड की इस हरकत से जाने कितने लड़कों का नुकसान हुआ है

मैं सातवीं में था. शाम के वक्त एक दिन दोस्त के यहां गया तो देखा कि उसकी मम्मी बाहर के कमरे में बैठी हैं. मेरा उनके यहां आना-जाना था. तो दोस्त को देखने अंदर के कमरों की तरफ बढ़ गया. तब दिखा कि दोस्त, उसका भाई और उसके पापा किचन में खाना बना रहे थे. दोस्त को देखते ही मैंने हाथ से इशारा किया, ”क्या हुआ?” उसने कहा कि मम्मी का ”सर दुख रहा है.” मेरे लिए ये नया था. सर दुखने जितनी ‘माइनर’ प्रॉब्लम के लिए मम्मियां खाना बनाने से छुट्टी कहां लेती हैं? तो बाद में मैंने उससे इस बारे में खोद के पूछा. पर उसने बात यूं उड़ा दी कि अभी दो दिन बाद मम्मी ‘ठीक’ हो जाएगी. मैं और चकरा गया. मैंने बचपन से अपनी मां को महीने में पूरे दिन किचन में खाना बनाते देखा था. पूरे महीने. बिला नागा.

मैं अपने दोस्त के यहां के सिस्टम से कंफ्यूज़ हो गया था और मेरा दोस्त मेरे सवालों से. हम दोनों को उस वक्त ‘फुल्लू’ जैसी कोई फिल्म देखने की ज़रूरत थी जो हमें बताए कि पीरियड्स होते क्या हैं.

लेकिन तब वो बनी नहीं थी. अब बनी है. बावजूद इसके, मैं और मेरा दोस्त अगर आज सातवीं में होते तो ‘फुल्लू’ देख नहीं पाते. क्योंकि सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म को ‘A’ सर्टिफिकेट थमा दिया है. 18 से कम उम्र के दर्शक इसे सिनेमा में नहीं देख सकते. टीवी पर ये फिल्म रात ग्यारह के बाद ही आएगी और वो भी बुरी तरह कट पिट कर.

और ये बात खबर न बनती अगर दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने पूछा न होता कि आखिर इस फिल्म में ऐसा क्या है जो सेंसर को ‘A’ सर्टिफिकेट देना पड़ रहा है.

 

गंदी बात पर गंदी फिल्म

अभिषेक सक्सेना की डायरेक्ट की ‘फुल्लू’ की कहानी कुछ-कुछ अरुणाचलम मुरुगनाथम की कहानी जैसी है. अरुणचलम मुरुगनाथम. वो आदमी जिसने अपना घर-बार, अपनी इज़्जत और अपनी शादी तक को दांव पर लगा कर एक ऐसी मशीन बनाई जिससे से हिंदुस्तान की करोड़ों औरतों के लिए सस्ते और करगर सैनिटरी नैपकिन बन सकते हैं. ये सेंसर बोर्ड को ‘अडल्ट कंटेंट’ लगता है. क्यों, वो नहीं बताता. और इस वाकये में सेंसर बोर्ड का ‘नहीं बताना’ ही वो बात है जो सबसे ज़्यादा कचोटती है.

क्योंकि इसका मतलब यही है कि ‘समाज’ के और लोगों की तरह ही सेंसर बोर्ड को भी पीरियड्स एक ‘गंदी बात’ लगती है. गंदी बात, जिस पर शर्म आनी चाहिए. जो छुपी रहनी चाहिए. इसलिए उसका ज़िक्र चुप्पे-चुप्पे ही होना चाहिए. उसका ज़िक्र या तो भद्दा है या तो हिंसक. उसे परदे पर नहीं होना चाहिए, टीवी पर भी नहीं.

 

रूपी कौर की ये फोटो एक समय खूब वायरल हुई थी
रूपी कौर की ये फोटो एक समय खूब वायरल हुई थी

 ‘साफ’ हिंदुस्तान में औरतों की जगह कहां है ?

पूरे हिंदुस्तान में एक इंसान ऐसा नहीं मिलेगा जो कह दे कि उसे प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट स्वच्छ भारत अभियान पर आपत्ति है. 2 अक्टूबर को क्या केंद्र क्या राज्य, मंत्री से लेकर संतरी तक झाडू लगाते हैं, दूल्हे के घर में संडास न होने पर बारातें लौटा दी जाती हैं, मानो पूरे ‘सवा-सौ करोड़ मानवी’ सफाई ही सफाई चाहते हैं. लेकिन इस ‘साफ’ भारत में औरतों के लिए कितनी जगह होगी, इस सवाल से हर कोई कतराता है. पैड्स न खरीद सकने वाली वो औरतें जब मजबूरी में कपड़ों की चिंदियों से काम चलाती हैं (कुछ औरतें इन कपड़ों / चिंदियों को धोकर दोबारा इस्तेमाल भी करती हैं.) तो वो अपने आप स्वच्छता के इस कुलीन कॉन्सेप्ट से बाहर हो जाती हैं.

हमारे यहां औरतों से जुड़ी हर चीज़ में एक तरह का पोर्नोग्रैफिक सुख ढूंढने का चलन है. उसके कपड़े, उसका शरीर सब कुछ मर्द को उद्वेलित (प्रोवोक) करने वाला माना जाता है. कोई साधारण सी तस्वीर जिसमें किसी औरत के होठों पर चॉकलेट लगी हो, कामुक होने का टेस्ट पास कर जाती है. ऐसी हमारी कंडिश्निंग है. मेंस्ट्रुएशन एक ऐसी प्रक्रिया है जो किसी लड़की या औरत को असहज भी कर सकती है. उसे तकलीफ दे सकती है. लेकिन मर्द की सोच में वो कामुक आनंद (प्लेज़र) से जुड़ी हुई चीज़ है. औरत के शरीर से जुड़े मुद्दे पर बनी एक फिल्म को ‘अडल्ट’ सर्टिफिकेट देकर इसी तरह की सोच को पक्का किया है.

मर्द सड़क पर खड़े होकर पेशाब कर सकता है, थोड़ा किनारे पर होकर ‘दो नंबर’ भी कर सकता है. ये व्यवहार सभ्याता के हिसाब से अपवाद में आता है लेकिन फिर ये देख कर फिल्म में हंसा जा सकता है. बावजूद इसके, एक औरत का मासिक धर्म हर 28 दिन आने के बाद भी हमारे दिमाग में ‘रुटीन’ का हिस्सा नहीं बन पाया है.

 

स्टेफ गॉनगोरा ने पीरियड्स के दौरान योगा करते हुए अपना एक वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड किया था.
स्टेफ गॉनगोरा ने पीरियड्स के दौरान योगा करते हुए अपना एक वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड किया था. ये बताने के लिए कि पीरियड्स एक सामान्य प्रक्रिया हैं.

इस पूरे वाकये में राहत देने वाली सिर्फ एक बात है. वो ये कि मनीष सिसोदिया ने खुल कर ऐसी किसी बात पर अपनी राय रखी है जिस पर बोलने से लगभग सारे नेता कतराते हैं. पीरियड्स या पीरियड्स से जुड़ी किसी बात को ‘शर्म’ से न जोड़ने वाला नेता एक असल रिस्क उठाता है. हमारे यहां लोगों की सामूहिक चेतना थोड़े से ही में चोटिल हो जाती है और राजनीति इस थोड़े से का ही खेल है. मनीष का इस से ऊपर उठना कलेजे को कुछ ठंडक देता है. बता दें कि मनीष के ही राज्य दिल्ली में सैनिटरी नैपकिन पर सबसे कम ( 5% ) टैक्स है. वन नेशन – वन टैक्स का राग रट कर बनाए GST के तहत ये 13 % रहने वाला है.

सेंसर बोर्ड की इस हरकत का गहरा असर होने वाला है. अभिषेक सक्सेना कह चुके हैं कि ‘A’ की वजह से उन्हें फिल्म के प्रमोशन में काफी दिक्कतें आ रही हैं. सोशल मीडिया के अलावा वो अपनी फिल्म को खुल के प्रोमोट नहीं कर पा रहे. दिल्ली सरकार के कैबिनेट को फिल्म दिखाने के पीछे उनका मकसद यही था कि किसी तरह फिल्म को ‘U/A’ सर्टिफिकेट दिला दिया जाए. ‘A’ सर्टिफिकेट के चलते अगर ये फिल्म पिट जाती है तो आइंदा कोई भी डायरेक्टर-प्रोड्यूसर मेंस्ट्रुएशन या उसकी तरह के ‘टैबू’ पर फिल्म बनाने से कतराएगा. सेंसर बोर्ड एक फिल्म को ही नहीं दबा रहा है. वो एक पूरे डिस्कोर्स के दरवाज़े बंद कर रहा है.

मैं इस उम्मीद में हूं कि सेंसर बोर्ड अब भी अपने फैसले पर विचार कर ले. क्योंकि मेरे जैसे कई लड़के हैं, जिनके लिए ये फिल्म बहुत ज़रूरी है.


ये भी पढ़ेंः

“जो औरत का दर्द नहीं समझता, भगवान उसे मर्द नहीं समझता”

जो लोग इस लड़की को मोटी बोल हंसते थे, आज चुप हैं

इस वजह से औरतों की मूंछें निकल आती हैं!

ये महिला सांसद औरतों के पैड सस्ता करवाना चाहती है

पीरियड: ‘शर्म करो, इस शब्द को जोर से मत कहो’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

दिनेश कार्तिक के शराबी बनने, आत्महत्या के बारे में सोचने के दावे का पूरा सच ये है!

दिनेश कार्तिक के शराबी बनने, आत्महत्या के बारे में सोचने के दावे का पूरा सच ये है!

DK को ट्रेनर और दीपिका पल्लीकल ने बचाया?

रत्ना पाठक शाह ने मां दीना पाठक को याद कर जो लिखा, उसे पढ़कर आप अमीर हो जाएंगे

रत्ना पाठक शाह ने मां दीना पाठक को याद कर जो लिखा, उसे पढ़कर आप अमीर हो जाएंगे

बेटी का खत, मां के नाम!

56 कलावंत जो नहीं रहे बीते सालः बस इतना याद रहे, इक साथी और भी था

56 कलावंत जो नहीं रहे बीते सालः बस इतना याद रहे, इक साथी और भी था

2022 का स्वागत, गुज़रे हुओं की याद के साथ.

बचपन से जवानी तक सलमान खान की 'पर्सनल हिस्ट्री'

बचपन से जवानी तक सलमान खान की 'पर्सनल हिस्ट्री'

32 बरस पहले एक बच्चा 'मैंने प्यार किया' से बना सलमान का दोस्त. कहानी अभी जारी है.

महामहिमः राजेंद्र प्रसाद और नेहरू का हिंदू कोड बिल पर झगड़ा किस बात को लेकर था?

महामहिमः राजेंद्र प्रसाद और नेहरू का हिंदू कोड बिल पर झगड़ा किस बात को लेकर था?

कहानी नेहरू और प्रसाद के बीच पहले सार्वजनिक टकराव की.

अरूसा आलम: जनरल रानी की बेटी, जिसने हिंदुस्तानी पंजाब की राजनीति के समीकरण बदल दिए

अरूसा आलम: जनरल रानी की बेटी, जिसने हिंदुस्तानी पंजाब की राजनीति के समीकरण बदल दिए

इस कहानी के पात्र हैं- पत्रकार अरूसा आलम, पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पूर्व ISI चीफ जनरल फैज़ हमीद.

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

लता ने पल्लू खोंसा और बोलीं, 'दोबारा दिखा तो गटर में फेंक दूंगी, मराठा हूं'

जानिए लता मंगेशकर के उस रूप के बारे में, जिससे बहुत कम लोग परिचित हैं.

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

यूपी का वो गैंगस्टर, जिसने रन आउट होते ही अंपायर को गोली मार दी

फिल्मी कहानी से कम नहीं खान मुबारक की जिंदगी?

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

देश के 13वें उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू देश को इमरजेंसी की देन हैं

इन्होंने अटल के लिए सड़क बनाई थी और मोदी के लिए किले. अब उपराष्ट्रपति हैं.

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

मुख़्तार अंसारी, सुनहरा चश्मा पहनने वाला वो 'नेता' जो मीडिया के सामने बैठकर पिस्टल नचाता था

गैंग्स्टर से नेता बने मुख़्तार अंसारी के क़िस्से.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.