Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'मैं हूं शिलॉन्ग की मालकिन, मेरी जमीन खाली करो सरकार'

690
शेयर्स

खूबसूरत मेघालय में इस वक्त कांग्रेस की सरकार है. 64 किलोमीटर स्क्वॉयर में फैला दिलकश शिलॉन्ग इसकी राजधानी है. मुकुल संगमा मुख्यमंत्री हैं. आज का मेघालय 1971 में असम से अलग होकर अलग राज्य बना था. लेकिन यहां हम बात कर रहे हैं उस किस्से की, जब एक अनपढ़ 62 साल की महिला ने ये दावा किया कि शिलॉन्ग शहर की करीब 100 एकड़ में फैली जमीन उसकी है. इस जमीन पर केंद्र सरकार के ज्यादातर दफ्तर बने हुए थे.

खासी कबीले की मुखिया स्मींति नोग्घला ने दिसंबर 1986 में दावा किया कि वो 200 से ज्यादा परिवारों की जमीन की अकेली वारिस हैं. स्मींति नोग्घला ने राज्य सरकार के खिलाफ इस बाबत केस दायर कर कहा कि सरकार 100 साल पुराने उस समझौते का पालन नहीं कर रही है, जिसके तहत ये जमीन सरकार को दी गई थी.

स्मींति के इस केस में जब राज्य सरकार के पास नोटिस गया, तो अधिकारियों ने इस पर ध्यान नहीं दिया. लेकिन जब दूसरा नोटिस पहुंचा तो वे सतर्क हो गए. स्मीति ने अपने पक्ष में तर्क देते हुए कहा कि जमीन हमारे कुनबे की है, हम सदियों तक यहीं रहे. जब अंग्रेज आए तो बंदूक के जोर पर हमें बेदखल करना चाहते थे. तब अंग्रेजों ने कहा कि हम ये जमीन उन्हें किराए पर दे दें, जब वो जाएंगे तो ये जमीन हमें लौटा देंगे. हमारे पास कोई ऑप्शन नहीं था, इसलिए हमें इस फैसले को मानना पड़ा.

क्या था दावा?
उस दौर में एक लेफ्टिनेंट कर्नल हाउटन हुए. उन्हें शिलांग की ये जमीन चाहिए थी. उन्होंने ऊ-बेह नोग्घला रगी, डारे सिंग और बारेजान मित्री नाम के तीन लोगों से बात की. पर इस तीनों ने जमीन बेचने से इंकार कर दिया. लेकिन अंग्रेज कहां मानने वाले थे. दो साल के वक्त में जमीन अंग्रेजों के कब्जे में आ गई. स्मींति नोग्घला  रगी ऊ-बेह की वंशज थीं. हालांकि ऊ-बेह और कर्नल हाउटन के बीच के समझौते में बातें स्पष्ट नहीं थीं.

ऊ-बेह ने जमीन बेची या गिफ्ट में देने के लिए राजी हुए. समझौते में अधिकार दूसरे पक्ष के सौंपने और हर साल पहली जनवरी को रकम दिए जाने की बात थी. स्मींति के वकील ने इसे आधार बनाते हुए केस को भारतीय किराएदारी और पट्टे का करारनामा बताया. खासी कानून ‘खाटदूह’ के मुताबिक, छोटी बेटी के नाम से ही परिवार की संपत्ति रहती है. इसलिए स्मींति नोग्घला ने अपना हक लेने के लिए केस दायर किया.

किराया न मिलने से हुआ विवाद
1976 तक स्मींति की मां जिनसूर को किराया मिलता रहा. लेकिन राज्य सरकार के अफसरों की चूक से किराया देना बंद कर दिया गया. जिसे कानूनी समझौते का एकतरफा उल्लंघन माना गया, जिसके चलते 1863 का समझौता टूट गया. जिसके बाद इसकी वैधानिकता न रह जाने की बात कही गई.

10 साल से किराया अदा न किए जाने को केस का आधार बनाया गया था. सरकार ने उस दौर में ये दलील दी कि शिलांग के ऊपर दो लोग अपना दावा बताते हैं. जब तक असली वारिस का पता नहीं चलता, तब तक भुगतान करना सही नहीं होगा. नोग्घला परिवार ने इसे केस अटकाए रखने के बहाने के तौर पर देखा.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
62 year old lady claimed ownership of Shillong in 1986

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

औरत अपनी उम्र बताए तो शर्म से समाज झेंपता है वो औरत नहीं

किसी औरत से उसकी उम्र पूछना उसका अपमान नहीं होता है.

#MeToo मूवमेंट इतिहास की सबसे बढ़िया चीज है, मगर इसके कानूनी मायने क्या हैं?

अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में समाज की आंखों में आंखें डालकर कहा जा रहा है, ये देखना सुखद है.

इंटरनेट ऐड्स में 'प्लस साइज़' मॉडल्स को देखने से फूहड़ नजारा कोई नहीं होता

ये नजारा इसलिए भद्दा नहीं है क्योंकि मॉडल्स मोटी होती हैं...

लेस्बियन पॉर्न देख जो आनंद लेते हैं, उन्हें 377 पर कोर्ट के फैसले से ऐतराज है

म्याऊं: संस्कृति के रखवालों के नाम संदेश.

कोर्ट के फैसले को हमें ऑपरा सुनते एंड्र्यू के कमरे तक ले जाना है

साढ़े 4 मिनट का ये सीक्वेंस आपके अंदर बसे होमोफ़ोबिया को मार सकता है.

सौरभ से सवाल

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.