Submit your post

Follow Us

100 औरतों का रेप हुआ, मिले ब्रा के दस किलो चीथड़े!

26 फरवरी, 1978. खेतड़ी के एक मैदान में 2 हजार लोग इकट्ठे हुए. बॉलीवुड के कुछ स्टार्स परफॉर्म करने पहुंचे थे. शामियाना लगा हुआ था. भीड़ ज्यादा होने की वजह से सब लोगों को एंट्री नहीं मिल सकी. जो अंदर नहीं घुस पाए, वो मैदान के बाहर से अंदर पत्थर फेंकने लगे. जब पुलिस ने एक्शन लिया, किसी ने पावर सप्लाई बंद कर दी. लाइट चली गई. भीड़ बिखर गई. सब डिवीज़नल मजिस्ट्रेट और डिप्टी SP ने 120 पुलिस वालों के साथ मिलकर औरतों और बच्चों को पास के दीनबंधु सिनेमाघर में सुरक्षित पहुंचाया.

लेकिन अगले दिन नवभारत टाइम्स अख़बार में एक चिट्टी छपी. जिसमें लिखा था,

‘ये लिखते हुए मेरा सर शर्म से झुक रहा है कि कुछ लोग इतने घिनौने होते हैं कि उन्हें इंसानियत पर धब्बा कहा जा सकता है. उस दिन मांओं और बहनों का रेप हुआ. वो इस स्थिति में थीं कि शरीर पर पेटीकोट तक नहीं बचा था, जिसमें वो घर जा सकें. जाने कितनी लड़कियां गायब हो गईं और अगली सुबह घर पहुंचीं.

[…]

मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि सब डिवीज़नल मजिस्ट्रेट और डिप्टी SP इतने चुप क्यों हैं. मैंने देखा कैसे राजस्थान के बड़े-बड़े अधिकारी चुपचाप रेप का ये तमाशा देखते रहे.’

चिट्ठी भेजने वाले थे फरीदाबाद के हरजीत सहगल ने. चिट्ठी की हेडिंग थी ‘वो शर्मनाक रात’ जो एडिट पेज के ‘नज़र अपनी अपनी’ कॉलम में छपी थी.

पूरा वाकया झुंझुनू के एक लोकल साप्ताहिक ‘ताल-मेल’ ने उठा लिया. 12 मार्च के इशू में विस्तार से खबर छपी. जिसके बाद झुंझुनू के अख़बार नव ज्योति ने खबर को छापा. जिससे हरजीत सहगल की बात धीरे-धीरे सच साबित होने लगी.

जब खबर आग पकड़ने लगी, हिंदुस्तान टाइम्स के फ्रंट पेज की लीड स्टोरी बनी. 17 मार्च के दिल्ली एडिशन में खबर ‘जयपुर के स्पेशल करेसपॉन्डेंट’ की बाइलाइन से छपी. और देश में हंगामा मच गया.

हिंदुस्तान के जयपुर स्पेशल करेसपॉन्डेंट भंवर सुराना ने कहा कि उन्हें मालूम ही नहीं है अखबार में स्टोरी किसने की है. उन्होंने कहा, ‘मेरे पास सुबह से 300 फ़ोन आ चुके हैं. अच्छा हुआ खबर मैंने नहीं भेजी थी. वरना मेरी नौकरी चली जाती.’

अंग्रेजी अख़बार हिंदुस्तान टाइम्स के स्पेशल करेसपॉन्डेंट एच. सी. माथुर ने कहा कि उन्हें पता ही नहीं था ऐसी कोई खबर गई है.

खबर कितनी सच है, कितनी झूठ, इसका पता करने के लिए ‘कुलदीप नैय्यर कमिटी’ बनाई गई. हिंदुस्तान के एडिटर चंदूलाल चंद्राकर ने कमिटी को बताया कि स्टोरी को एच. सी. माथुर ने फाइल किया था. लेकिन बाइलाइन में नाम किसी का नहीं था. असल में हिंदुस्तान के रिपोर्टर ने नव ज्योति के रिपोर्टर से मिलकर खबर की. कुलदीप नैय्यर कमिटी को इस बात का कोई सबूत नहीं मिला कि नव ज्योति का रिपोर्टर घटना के दौरान वहां मौजूद था.

बड़ी बात ये है कि नवभारत टाइम्स के एडिटर सच्चिदानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ ने शायद ध्यान नहीं दिया. लेकिन जिस बंदे ने चिट्ठी लिखकर देश भर को ये खबर दी, वो आदमी फरीदाबाद का था. खेतड़ी से 120 किलोमीटर दूर. जांच के बाद पता चला कि जिस बंदे ने चिट्ठी भेजी थी, वो असल में कोई है ही नहीं.

मुद्दे को विधानसभा में उठाया गया. कांग्रेस से विधायक RN चौधरी ने विधानसभा को बताया कि दीनबंधु सिनेमाघर से 10 किलो वजन के बराबर फटी हुई ब्रा मिली हैं. चीफ मिनिस्ट भैरो सिंह शेखावत ने सारे आरोप खारिज कर दिए. उन्होंने कहा कि उन्हें खबर 7 मार्च को नवभारत टाइम्स से पता चली. राजस्थान के लेबर और ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर केदारनाथ शर्मा का कहना था कि वो 4 मार्च को खेतड़ी गए लेकिन उनसे किसी ने कोई शिकायत नहीं की. वहीं खेतड़ी म्युनिसिपैलिटी के चेयरमैन और जनता पार्टी के मेंबर नंदकिशोर शर्मा का कहना था कि उन्होंने मुख्यमंत्री भैरो सिंह शेखावत को टेलीग्राम से पूरी घटना के बारे में बताया था,  1 मार्च को ही.

जहां नव ज्योति ने बताया कि 100 औरतों का रेप हुआ, उसके विरोध में खड़े राजस्थान पत्रिका ने लिखा कि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था. औरतों और बच्चों को सुरक्षित घर पहुंचाया गया.

राजस्थान पत्रिका की सिंपथी जनता पार्टी से थी. जनता पार्टी की सरकार उस समय केंद्र में थी. प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई थे और अपोजिशन में इंदिरा गांधी थीं. नव ज्योति और कुछ इक्के-दुक्के अख़बार जो कांग्रेस आई से सिंपथी रखते थे, ने रिपोर्ट किया कि 100 से ज्यादा औरतें मोलेस्ट हुईं.

आज तक मालूम नहीं पड़ पाया कि असल घटना क्या थी. लेकिन अगर रेप की खबर सच थी, तो बड़े ही शानदार तरीके से राजनीति के दम पर देश के इतिहास का एक काला दिन मिटा दिया गया.


ये भी पढ़ें:.

शर्मनाक: वो जगह, जहां 2 लाख मर्द एक साथ रेप करते हैं

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

Lefthanders Day: बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मेरा बाएं-हत्था होना लोगों को चौंकाता है. और उनका सवाल मुझे चौंकाता है.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.