Submit your post

Follow Us

उन बच्चियों के नाम, जो कचरे में फेंकी गईं, 'पराई' बताकर ब्याही गईं

317
शेयर्स

पिछले एक महीने में राजस्थान के जयपुर, उदयपुर, सवाई माधोपुर, कोटा, श्रीगंगानगर, सीकर और धौलपुर में 16 बच्चियां पैदा होने के बाद फेंक दी गईं है. कहीं रेलवे ट्रैक पर, कहीं पूजा की टोकरी में, कहीं सड़क के किनारे.

1. 3 दिन की एक बच्ची जयपुर में रोती हुई मिली. कोई उसे सड़क के किनारे छोड़ गया था. कुछ मजदूरों ने उसे रोते देखा तो पुलिस को बताया. पुलिस ने बच्ची को अस्पताल तक पहुंचाया. जून की धूप में पड़े रहने से बच्ची का शरीर झुलस गया है.

2. 3 महीने की एक बच्ची झाड़ियों में मिली है. झाड़ियों में रहने से बच्ची का शरीर नीला पड़ गया है. पक्षी बच्ची के कान खा गए हैं.

3. 10 दिन की बच्ची एक मंदिर के पास फूलों की टोकरी में मिली. साथ में डायपर, पाउडर और दूध की बोतल भी थी.

4. कोटा के पास रेलवे ट्रैक पर एक बच्ची को फेंक दिया गया. ट्रेन में ट्रेवल करते हुए एक यात्री को बगल वाले ट्रैक पर बच्ची पड़ी हुई दिखी. अगले स्टेशन पर उतारकर उन्होंने आरपीएफ को सूचना दी. जिसके बाद बच्ची को अस्पताल तक पहुंचाया गया.

5. सवाई माधोपुर के सरकारी अस्पताल के नर्सरी के बाहर कोई रोती हुई बच्ची छोड़ गया. बच्ची की उम्र ढाई महीने थी. उसके पास भरी हुई दूध की बोतल थी. बच्ची को छोड़ने वाले कार से आए थे.

ये वो बच्चियां हैं, जो फेंकने के बावजूद बच गई हैं. अक्सर ऐसी बच्चियां मर जाया करती हैं.

इंडिया टुडे की 5 साल पुरानी एक गैरसरकारी रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में हर दिन 2500 बच्चियां मारी जाती हैं. इसमें नवजात और भ्रूण हत्याएं शामिल हैं.

अस्पतालों में आए दिन लावारिस बच्चियों को पहुंचाया जाता है. डॉक्टर कहते हैं, 10 में से दो बच्चियां तो ऐसी हालत में आती हैं, कि उन्हें बचाया ही नहीं जा सकता है. जब ये बच्चियां ठीक हो जाती हैं, इन्हें अनाथालयों में भेज दिया जाता है. अनाथलयों में ये किस तरह बड़ी होती हैं, इनका कैसा ख़याल रखा जाता है, मालूम नहीं. राजस्थान महिला आयोग का कहना है कि सरकार ने गर्भ में भ्रूण जांच को रोकने का जो अभियान चलाया है, उसी वजह से लड़कियों के सड़कों पर फेंकने की घटनाएं बढ़ी हैं. लोग गर्भ में लिंग का पता नही लग पाने की वजह से बच्चे तो पैदा कर रहे हैं. लेकिन जब पता चलता है कि वो लड़की है, तो सड़क पर फेंक देते हैं.

दिल्ली जैसे शहरों में हम औरतों को मनचाहे कपड़े पहनने, अपनी मर्ज़ी से शादी करने और मनमर्जी से बाहर घूमने के लिए लड़ाई करते हैं. आप छोटे शहरों की तरफ जाएं तो लड़कियां अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए तरसती हैं. लेकिन गांवों में तो मानो एक पैरेलल दुनिया है. जिसमें लड़कियां अपने होने, अपने शारीरिक अस्तित्व और सामाजिक पहचान के लिए तरसती हैं.

उस उम्र में, जब बच्चा, बच्चा ही होता है, वो न औरत होता है, न पुरुष. उसे मां के शरीर की गर्माहट और उसका दूध चाहिए होता है. ऐसी उम्र में बड़ी क्रूरता से लड़कियों की पहचान कर उन्हें मार डालना, ये अमानवीय है. हम वही लोग हैं, जो अखबारों में प्राकृतिक आपदाओं और मरे हुए लोगों के बारे में पढ़कर दुखी होते हैं. उन बॉलीवुड फिल्मों को सुपरहिट बनाते हैं, जिनमें लड़कियां मनमर्जी से जीती हैं, भाग के शादी करती हैं. फिर एक समाज के तौर पर हम इतने सालों में लड़कियों को क्यों नहीं अपना पाए हैं?

1. शहर हो या गांव, हम इस मानसिकता से बाहर ही नहीं निकल पाते कि लड़की घर की इज्ज़त है. इज्ज़त तो बचाने की चीज होती है, छुपाने की. इसलिए लड़की को पालने-पोसने के अलावा बचाना-छुपाना भी पड़ता है. तो कौन ये टेंशन मोल ले. इसलिए उन्हें पैदा होते ही, या होने के पहले ही मार डालो.

2. ‘हमने तो 5 लाख की FD करा ली, अब बेटी की शादी की चिंता नहीं.’ बेटी तो पराई होती है. और पराई होने के साथ-साथ ‘इज्ज़त’ भी होती है. तो मान बढ़ाने के लिए भारी दहेज देना भी देना ज़रूरी है. दहेज़ नहीं दे पाए तो बड़ी थू-थू होगी. इससे बेहतर तो यही है, कि लड़की को मार डालो. बुरी बात तो ये है कि इसे शहरों में तक देखा जाता है. खुद को प्रोग्रेसिव मानने वाले परिवारों में भी. हालांकि वहां दहेज का स्वरुप बदलकर ‘बिग फैट इंडियन वेडिंग’ बन जाता है. लोग खुलकर दहेज लेने और देने के बारे में नहीं बोलते. लड़के वाले कहते हैं, बस शादी में ‘इतना’ इंतजाम होना चाहिए. और लड़की वाले अपनी ‘इज्ज़त’ के चलते उसका भी चार गुना कर दिखाते हैं. अधिकांश परिवारों में दहेज को ‘बेटी को गिफ्ट’ बोलकर लिया-दिया जाता है.

3. बच्चियों के मन में बचपन से शादी के सपने बो दिए जाते हैं. 20 की उम्र पार करते ही वो अपनी शादी होते देखना चाहती हैं. उन्हें सीरियल और फिल्मों जैसी शादियां चाहिए होती हैं. अगर घर वाले सिंपल सी शादी भी कराने चाहें, तो युवाओं की डिमांड रहती है कि उनकी शादी में प्री-वेडिंग फोटो शूट से लेकर विदेश में हनीमून पैकेज तक रहें. हर मोड़ पर लड़की के घर वाले समझौते करते नज़र आते हैं. 

4. लड़की को तो पराए घर जाना है. घर में लड़के होंगे, तो काम करेंगे. घर में कमा कर लाएंगे. बुढ़ापे का सहारा बनेंगे.

लोग हजार कारण ढूंढ सकते हैं बेटियों को मारने के. लेकिन न मारने का एक ही कारण है. जो हर दूसरे कारण को मात देता है. वो ये, कि बेटियां भी इंसान होती हैं. उन्हें उसी तरह बड़ा करिए, जैसे अपने बेटों को करते हैं. और आप पाएंगे कि दोनों में कोई फर्क नहीं होता.

बच्चियों की हत्याओं और इन्हें इस तरह लावारिस छोड़ने को कैसे रोका जाए, ये एक कॉम्प्लेक्स सवाल है. अगर लड़कियों की जांच भ्रूण में ही हो जाती है, तो उन्हें गर्भ में ही मार दिया जाता है. अगर पैदा हो जाएं, तो पैदा होने के बाद मार दिया जाता है. और अगर तब भी न मारा जाए, तो लावारिस छोड़ दिया जाता है, जिससे वो खुद ही मर जाएं.

डॉक्टर कहते हैं कि लावारिस मिलने वाले बच्चों की संख्या कम होती नहीं दिखती. साल 2015 में राजस्थान में करीब 18 बच्चियां लावारिस मिली थी. और साल 2016 में 6 महीने के अंदर ही लावारिस मिलने वाली बच्चियों की संख्या 16 पहुंच गई है. जयपुर के जे.के. लोन अस्पताल में हर हफ्ते एक से दो लावारिस बच्चे आते हैं. जिसमें 90 फीसदी बच्चियां होती हैं. डॉक्टर्स कहते हैं कि अस्पताल में आने वाले केसेज में बच्चियों की हालत इतनी खराब होती है कि जिंदा रखने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है.

Sequence 07.Still003

कागज़ बताते हैं कि सरकार कोशिश करती है. राजस्थान सरकार ने पिछले पांच सालों में अब तक 60 डाक्टरों के लाईसेंस कैंसल किए हैं. 150 से ज्यादा सोनोग्राफी सेंटरों पर कार्रवाई हुई है. अस्पतालों से बच्चियों के रिकॉर्ड रखने को कहा गया है. फिलहाल पूरे राजस्थान में 150 पालना-गृह के मुकाबले हर जिले में 700 पालना-गृह बनाने का प्लान है. इस तरह की नर्सरी और अनाथालय खुल जाने से शायद लोग बेटियों को फेंकना बंद कर, यहां छोड़ना शुरू कर दें. लेकिन उस मानसिकता का क्या, जो इन्हें बच्चियों को छोड़ने पर मजबूर करती है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
16 female infants found left orphaned, found battling for life in rajasthan

आरामकुर्सी

ज्ञानपीठ को अंग्रेजी में 'जनानपीठ' यानी 'jnanpith' क्यों लिखते हैं?

यज्ञ को भी 'यजना' कहते हैं. मगर क्यों?

PM मोदी ने इमरान खान के सामने पाकिस्तान को सभ्य शब्दों में खरी-खोटी सुनाई

इसमें उन्होंने एक चतुराई भी दिखाई.

रेसिंग कार ट्रैक छोड़कर दर्शकों में जा घुसी और 84 लोगों को मार डाला

ऐसा खौफ़नाक हादसा कि दिल बैठ जाए!

चीन में 10 लाख से ज्यादा लोग किस कानून का विरोध करने सड़कों पर उतर आए हैं?

ये चीन के ऑटोनॉमस प्रांत हॉन्ग कॉन्ग में हो रहा है.

लालू प्रसाद यादव पर जब फिल्म बनेगी तो उसकी कहानी ये होगी

क्या आप इसका क्लाइमेक्स सुझा सकते हैं?

वो 'अर्बन नक्सल' जिसके गुजर जाने पर नरेंद्र मोदी ने भी श्रद्धांजलि दी

क्या हुआ था जब गिरीश कर्नाड की मां ने उनका लव लेटर पकड़ लिया था

क्या हल्दी घाटी की लड़ाई हिन्दू और मुसलमानों के बीच जंग थी?

हल्दी घाटी में असल में कौन जीता, जानिए महाराणा प्रताप की पूरी कहानी.

वो साइंटिस्ट, जिसे नपुंसक बनाकर देश से निकाल दिया गया

जिसने देश की भरपूर सेवा की उसके साथ भयानक बर्ताव किया गया.

भारत का सबसे बड़ा रेल हादसा, जब सैकड़ों लाशों का पता ही नहीं चला

ट्रेन नदी में समा गई. लाशें बह गईं, सैकड़ों की कोई खबर नहीं मिली. सेना चाहती थी नदी उड़ाकर लाशें निकालना.

हिंदुस्तान से निकली मुसलमानों की वो क़ौम, जो पाकिस्तान में जुल्म की शिकार है

दरबदर क़ौमें : रोहिंग्या पर हो रहे ज़ुल्म के खिलाफ आवाज़ उठाने वालों को इस क़ौम पर हुए ज़ुल्म को भी नहीं भूलना चाहिए.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.