Submit your post

Follow Us

कहानी सेनारी हत्याकांड की: खून के बदले खून, जाति के बदले जाति

1.22 K
शेयर्स

17 साल बाद बिहार के कुख्यात सेनारी हत्याकांड में फैसला आया है. लोकल कोर्ट का. 10 लोगों को मौत की सजा हुई है. 3 को आजीवन कारावास. 18 मार्च 1999 को जहानाबाद के सेनारी गांव में 34 लोगों को काट दिया गया था.


90 का दशक. बिहार का जहानाबाद. सेनारी गांव. ये वो वक्त था जब बिहार के इस क्षेत्र में लोगों का एक ही मोटिवेशन था. बदला. कहने को तो दिन भर कहते थे. लेते भी थे. भूमिहारों और भूमिहीनों के बीच. पहला वर्ग सारी जमीनों पर कब्जा जमाये था. इनका कहना था कि हमने सब खरीदा है. बाप-दाद की मिल्कियत है. दूसरे वर्ग का कहना था कि सब छीना हुआ है. धोखे से. जबर्दस्ती से. लोगों को मूर्ख बना के.

जमीन-जायदाद की बातें बातों से नहीं सुलझतीं. जितनी बातें करो, उलझती जाती हैं. अमरबेल की तरह. किसी भी पेड़ पर लिपटती हैं. जितना छुड़ाओ, लरजती जाती हैं. तो दोनों पक्षों ने अपनी-अपनी अमरबेल बो ली. रणवीर सेना और माओवादी कम्युनिस्ट सेंटर (एमसीसी).

18 मार्च 1999. वाजपेयी सरकार अपना एक साल पूरा होने का जश्न मना रही थी. जनता में काफी उत्साह था. लोगों को लगता था कि अच्छे दिन आनेवाले हैं. उस रात सेनारी गांव में 500-600 लोग घुसे. चारों ओर से घेर लिया. घरों से खींच-खींच के मर्दों को बाहर किया गया. कुल 40 लोगों को चुना गया. इन लोगों की जबान नहीं खुलती थी. खींचने वालों की आंखें. एक डर में सहमा था. दूसरे ने मन इतना कड़ा कर लिया था कि बहता खून तो उसे देखना ही था.

चालीसों लोगों को खींचकर गांव से बाहर ले जाया गया. एकदम जानवरों की तरह. तीन समूहों में बांट दिया गया. बराबरी का नहीं देखा जा रहा था. बस खींच-खींच के खड़ा कर दिया गया. फिर बारी-बारी से हर एक का गला और पेट चीर दिया गया. 34 लोग मर गये. 6 तड़प रहे थे. प्रतिशोध इतना था कि मरने का कंफर्म नहीं किया जा रहा था. चीरने का करना था. बस. ये गांव भूमिहारों का था. मारने वाले एमसीसी के थे.

इस घटना के अगले दिन पटना हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार पद्मनारायण सिंह यहां पहुंचे. सेनारी उनका गांव था. अपने परिवार के 8 लोगों की फाड़ी हुई लाशें देखकर उनको दिल का दौरा पड़ा. वो भी मर गये.


तुरंत एरिया में आतंक फैल गया. जरा से खड़के पर लोग लाइसेंसी निकाल के छतों पर बैठ जाते. जो लोग अफोर्ड कर सकते थे, वो लाइसेंसी रखते थे. जो नहीं कर सकते थे, वो कट्टा खरीदते थे. पर खरीदते जरूर थे. बात-बात में अफवाह उड़ती. कि आ गये माओ वाले. लोग तुरंत पोजीशन ले लेते. दिन-रात की परवाह नहीं थी. बच्चे घरों से बाहर नहीं निकलते थे. कोई घर से बाहर सामान लेने जाता तो हथियार ले के जाता था. फिर सच्ची-झूठी कहानियां उड़तीं कि यहां देखे हैं नकाबपोश. भाग रहा था. निशाना ले रहा था. एक से एक निशानची थे गांव में. जरा से खटके पर गोली चला देते. बहुत लोग शहरों से नौकरी-पढ़ाई छोड़कर गांव में ठटे हुए थे कि बदला लिये जायेगा. बेतरह अफसोस भी होता कि उस दिन मैं था नहीं गांव में. नहीं दिखा देता. बहता खून और जलता खून सांसों को चैन नहीं लेने देते थे. रोती थीं तो औरतें जिन्हें ना तो अपने होने के बारे में पता था, ना ही उनका पता था जिनके होने का भरोसा दिला उनकी शादी कराई गई थी.


New Doc 62_1
सेनारी हत्याकांड में मरे हुए लोगों की लाशें

ये हत्याकांड यूं ही नहीं हो गया था. डेढ़ साल से दिल को ठंडा रखा गया था. खून को गर्म. इसी दिन के लिये. 1 दिसंबर 1997 को जहानाबाद के ही लक्ष्मणपुर-बाथे के शंकरबिगहा गांव में 58 लोगों को काट दिया गया था. 10 फरवरी 1998 को नारायणपुर गांव में 12 लोगों को काट दिया गया था. मरने वाले सारे दलित थे. मारनेवाले भूमिहार. इस घटना के बाद केंद्र ने बिहार में राष्ट्रपति शासन लगा दिया था. पर कांग्रेस के विरोध के चलते 24 दिनों में ही वापस लेना पड़ा था. राबड़ी सरकार फिर आ गई थी.

इतने दिन से मरे हुये लोगों का पक्ष दिन गिन रहा था. सेनारी कांड के दिन पूरी तैयारी थी. गांव को घेरने के अलावा दूसरे गांवों के रास्तों की भी मोर्चाबंदी कर दी गई थी. सेनारी से एक किलोमीटर दूर पुलिस चौकी को घेरकर गोलीबारी कर दी गई. जब पूरा कांड हो गया तो 45 मिनट बाद पुलिस पहुंच पाई. पुलिस कह रही थी कि अगर हम लोग नहीं आते तो और ज्यादा लोग मरते. हमने इतनी तत्परता दिखाई कि लोग बच गये.

इस हत्याकांड में एक चीज बड़ी तड़पाने वाली थी. जमीन का संघर्ष अपनी जगह था. पर सेनारी गांव में भूमिहर और भूमिहीन के बीच झगड़ा नहीं था. लोग काम चला रहे थे. आसपास के गांवों में एमसीसी सक्रिय थी, पर इस गांव में नहीं. 300 घरों के गांव में 70 भूमिहार परिवार ‘मजदूर’ पड़ोसियों के साथ बड़ी शांति से रहते थे. और शायद यही वजह थी कि इसी गांव को चुना गया.

रणवीर सेना भूमिहारों ने बनाई थी. ‘आत्मरक्षा’ के लिये. श्रीकृष्ण सिंह के बाद बिहार में इस जाति का कोई मुख्यमंत्री नहीं हुआ था. उस वक्त इस जाति से सांसद भी बस दो ही थे. जमीन थी, पर राजनीतिक ताकत खो चुके थे. ये अप्रासंगिकता बर्दाश्त नहीं हो पाती थी. इनका ये भी कहना था कि अब पहले का जमाना नहीं है कि सबके पास 500 बीघा जमीन है. हम लोगों का भी तो परिवार बढ़ा है, टूटा है. नहीं है सबके पास उतनी जमीनें. दलित समुदाय को ये बात गवारा नहीं थी. उनके हिसाब से सारी जमीनें इन लोगों ने हड़प ली थीं. सरकार तो जैसे कोई रोल निभाना ही नहीं चाहती थी. आजादी के इतने साल बीत गये थे. पर जमीन का बंटवारा नहीं हुआ था. लोग कह रहे थे कि राष्ट्रपति शासन के दौरान ही बढ़िया था. लोग कह रहे थे कि जितने दिन ये रहा, हमने ताला नहीं लगाया घरों में.

अब सेनारी कांड के बाद सबको लगने लगा कि अस्तित्व बचाना है तो कांड करना ही पड़ेगा. अफवाहें उड़ती रहीं कि गांव के गांव फूंके जाने वाले हैं. जरा सी आग कहीं दिखती तो लोग सहम जाते. दूर अंधेरे में कुछ चमक जाता तो लोग छतों से उतर कर घर में छिप जाते. हर अजनबी की नजर स्याह लगती. बेधती हुई. हर कोई जासूस था. दुश्मन का. हर कोई महत्त्वपूर्ण था. हर जान की कीमत थी. दो जानें. उस वक्त औकात और हैसियत नहीं देखी जा रही थी. बस जाति के आधार पर फैसला हो रहा था. सब एक हो गये थे. ये नहीं समझ रहे थे कि एक होकर भी सब टूट रहे हैं. मन से. लोकतंत्र से. प्रगति से. ये एकता किस काम की थी?


9 अक्टूबर 2013 को पटना हाई कोर्ट ने लक्ष्मणपुर-बाथे नरसंहार के सभी 26 आरोपियों को बरी कर दिया. कहा कि किसी के खिलाफ कोई सबूत नहीं था. 58 लोगों की हत्या का कोई जिम्मेदार नहीं था.


कहानी शहाबुद्दीन की जिसने दो भाइयों को तेजाब से नहला दिया था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.