Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

तहखाना

कुंडी न खड़काएं राजन, सीधा अंदर आएं राजन

आरामकुर्सी

प्लेन क्रैश वाले दिन इस कांग्रेस नेता को होना था संजय गांधी के साथ

कहानी राजेश पायलट की. दो हादसों की. एक जिसमें वह बचे, एक जिसमें वह मरे.

आरामकुर्सी

आसाराम के 3 क्रिमिनल केसेज़ की असली कहानियां जो विचलित करने वाली हैं

इन्हें पढ़कर शायद उसके पुराने समर्थकों की बंद आंखें भी फटी रह जाएं.

आरामकुर्सी

आरामकुर्सी

जहां रेप करने के बाद रेपिस्ट को दी जाती है सबसे खौफनाक सजा

और वो जगह, जहां साबित होने के बाद भी रेपिस्ट बहुत आसानी से बच सकता है.

आरामकुर्सी

मनोज प्रभाकर का स्टिंग ऑपरेशन जिसने मैच फ़िक्सिंग के राज़ खोल दिए

मनोज प्रभाकर. बीड़ा उठाया क्रिकेट में जमा गंदगी को साफ़ करने का. नहीं मालूम था कि जल में रहके मगर से बैर ठीक नहीं. खुद ही नप गए.

आरामकुर्सी

जिस वजह से सीरिया पर हमला किया, उस मामले में खुद भी गुनहगार हैं अमेरिका-ब्रिटेन

तीन ताकतवर देश एक तरफ. एक ताकतवर देश दूसरी तरफ. कुछ इसी तरह विश्वयुद्ध शुरू होते हैं.

आरामकुर्सी

"इमरान ख़ान, वसीम अकरम और वक़ार यूनुस ने बॉल टेंपरिंग करके पाकिस्तान की बदनामी की"

क्रिकेट में पहली बार रिवर्स स्विंग करने वाले सरफ़राज़ नवाज़ का लल्लनटॉप इंटरव्यू.

आरामकुर्सी

बांका के दिग्विजय सिंह, जिन्होंने नीतीश कुमार को राजनीति के मैदान में धूल चटाई थी

निशानेबाजी में भारत को गोल्ड दिलाने वाली श्रेयसी सिंह के पापा की कहानी.

आरामकुर्सी

जब अल्लाह जिलाई बाई ने आकाशवाणी के डूबने की भविष्यवाणी की, जो सच साबित हुई

ठुमरी दादरा को 'ठुमरा-दादरी' कहनेवाले अफसर जहां हो, वहां और क्या होगा!

आरामकुर्सी

केमिकल अटैक झेल रहे जिन बच्चों की तस्वीरें देखी नहीं जातीं, उनका दोषी सीरिया है या कोई और?

पुतिन ने साफ कहा है. कि अगर अमेरिका ने हमला करने की गलती की, तो भुगतेगा.

Loading…

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.

ऑफिस के ड्युअल फेस लोगों के साथ कैसे मैनेज करें?

पर ध्यान रहे. आप इस केस को कैसे हैंडल कर रहे हैं, ये दफ्तर में किसी को पता न चले.

ललिता ने पूछा सौरभ से सवाल. मगर अधूरा. अब क्या करें

कुछ तो करना ही होगा गुरु. अधूरा भी तो एक तरह से पूरा है. जानो माजरा भीतर.

ऐसा क्या करें कि हम भी जेएनयू के कन्हैया लाल की तरह फेमस हो जाएं?

कोई भी जो किसी की तरह बना, कभी फेमस नहीं हो पाया. फेमस वही हुआ, जो अपनी तरह बना. सचिन गावस्कर नहीं बने. विराट सचिन नहीं बने. मोदी अटल नहीं बने और केजरीवाल अन्ना नहीं बने.

क्यूं हमने हिटलर को बुरा इंसान समझा, और चर्चिल-रूज़वेल्ट को बाइज्ज़त बरी कर दिया?

चर्चिल का असली चेहरा और हिटलर के पक्ष को जानना, एक भारतीय होने के नाते हमारे लिए ज़रूरी है.

जब महिला अफसर को डराने के लिए आधी रात को उनके घर पर पत्थर फेंके गए

लेकिन वो भी बहादुर औरत थीं, डटकर मुकाबला करती रहीं.

राकेश सिंह को भाजपा ने क्यों बनाया मध्यप्रदेश का अध्यक्ष

तोमर कभी शिवराज के करीबी थे, लेकिन उनके सिपाहसालार नहीं बनाए गए.

ऊष्ण कटिबंधीय मौसम की वासना और ममता कुलकर्णी

वो गृहकार्य में दक्ष थी. मगर देह तो देह ठहरी. थक जाती थी. और तब पिया और बहनोई के बिस्तर में फर्क नहीं कर पाती थी. बस झप्प से सो जाती थी. श्रम की महत्ता.

दो भारतीय पत्रकारों को दुनिया का सबसे बड़ा पत्रकारिता पुरस्कार मिला है

जानिए इन्होंने ऐसा क्या किया जिसकी हमको भनक तक नहीं?

शर्म आती है कि हम सलमान खान और कपिल शर्मा के दौर में जी रहे हैं

कपिल की कॉमेडी घटिया थी, मगर वो इतनी नीच हरकत करेंगे, ये न सोचा था.

हॉस्टल में खून लगा सैनेटरी पैड मिला, तो लड़कियों के कपड़े उतारकर चेक किया कि किसे पीरियड्स हैं

डॉक्टर हरि सिंह गौर यूनिवर्सिटी के रानी लक्ष्मीबाई गर्ल्स हॉस्टल की घटना है ये.

हमने मोहम्मद शमी और उनकी पत्नी के बारे में ये क्यों नहीं बताया

प्रतीक्षा पीपी का साप्ताहिक कॉलम, म्याऊं