Submit your post

Follow Us

तहखाना

एक लड़की का दी लल्लनटॉप को खुला खत

कुछ वक्त पहले आशीष दैत्य ने औरतों के नाम एक खुला खत लिखा था. 2019 के महिला दिवस पर हमने उसे फिर आपके सामने पेश किया था. दिल्ली विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य एमफिल कर रहीं आंचल बावा ने आशीष के खत का जवाब दिया है. ये खत मेरा रंग डॉट इन पर ‘एक पूरी पीढ़ी का लल्लनटॉप … और पढ़ें An Open Letter by reader in response to Lallantop’s Open Letter on Women’s Day

एक लड़की का दी लल्लनटॉप को खुला खत

कुछ वक्त पहले आशीष दैत्य ने औरतों के नाम एक खुला खत लिखा था. 2019 के महिला दिवस पर हमने उसे फिर आपके सामने पेश किया था. दिल्ली विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य एमफिल कर रहीं आंचल बावा ने आशीष के खत का जवाब दिया है. ये खत मेरा रंग डॉट इन पर ‘एक पूरी पीढ़ी का लल्लनटॉप … और पढ़ें An Open Letter by reader in response to Lallantop’s Open Letter on Women’s Day

भैरंट

World Cancer Day: कैंसर के बारे में सब कुछ, कैसे होता है, कैसे बढ़ता है, कैसे ठीक होता है

हम हमेशा उसी टीचर से सबसे ज्यादा प्यार करते हैं, जो हमें खूब बड़ी-बड़ी बातें चुटकियों में समझा देता है. मनुष्का उसी टीचर जैसी हैं. वैसे असल में टीचर नहीं हैं, वैज्ञानिक हैं. सुनकर घबराने की जरूरत नहीं हैं, क्योंकि जो लिखती हैं, बड़ी मोहब्बत से लिखती हैं. उन्होंने जर्मनी से PhD की है और … और पढ़ें everything about cancer what you want to know in hindi by manushka on the lallantop

World Cancer Day: कैंसर के बारे में सब कुछ, कैसे होता है, कैसे बढ़ता है, कैसे ठीक होता है

हम हमेशा उसी टीचर से सबसे ज्यादा प्यार करते हैं, जो हमें खूब बड़ी-बड़ी बातें चुटकियों में समझा देता है. मनुष्का उसी टीचर जैसी हैं. वैसे असल में टीचर नहीं हैं, वैज्ञानिक हैं. सुनकर घबराने की जरूरत नहीं हैं, क्योंकि जो लिखती हैं, बड़ी मोहब्बत से लिखती हैं. उन्होंने जर्मनी से PhD की है और … और पढ़ें everything about cancer what you want to know in hindi by manushka on the lallantop

भैरंट

सेक्स, अध्यात्म और झूठ - वो, जो मैंने ओशो आश्रम में रजनीश के बारे में जाना

एलेन डि जेनेरस के साथ एक इंटरव्यू के दौरान प्रियंका चोपड़ा ने बताया है कि वो बैरी लेविंसन के साथ एक फिल्म करने जा रही हैं जिसमें वो मां आनंद शीला का किरदार निभाएंगी. अब ऊपर के पूरे वाक्य में कुल चार नाम आए हैं. आइए ज़ल्दी-ज़ल्दी इनके बारे में थोड़ा बहुत जान लेते हैं. … और पढ़ें Sex, spirituality and lies – what I learnt about Rajneesh inside Osho ashram

सेक्स, अध्यात्म और झूठ - वो, जो मैंने ओशो आश्रम में रजनीश के बारे में जाना

एलेन डि जेनेरस के साथ एक इंटरव्यू के दौरान प्रियंका चोपड़ा ने बताया है कि वो बैरी लेविंसन के साथ एक फिल्म करने जा रही हैं जिसमें वो मां आनंद शीला का किरदार निभाएंगी. अब ऊपर के पूरे वाक्य में कुल चार नाम आए हैं. आइए ज़ल्दी-ज़ल्दी इनके बारे में थोड़ा बहुत जान लेते हैं. … और पढ़ें Sex, spirituality and lies – what I learnt about Rajneesh inside Osho ashram

भैरंट

परिवारवाद: बांग्लादेश, पाकिस्तान, यूएस, दुनिया के तमाम हिस्सों में इसकी मौजूदगी है

दीपांकर शिवमूर्ति प्रयागराज में रहते हैं. स्वतंत्र लेखक, कवि और टिप्पणीकार हैं. समाज, साहित्य, सिनेमा, संस्कृति और सियासत सरीखे मुख़्तलिफ़ विषयों पर लिखते रहते हैं. पहली तस्वीर ‘चाय वाला’, ‘गरीब का बेटा’ जैसे मेटाफर प्रधानमंत्री मोदी के पसंदीदा मालूम पड़ते हैं. जब भी उन्हें मौका मिलता है, जतन से गढ़ी गई अपनी इस छवि का … और पढ़ें Nepotism in Indian Politics by Deepankar Shivmurti

परिवारवाद: बांग्लादेश, पाकिस्तान, यूएस, दुनिया के तमाम हिस्सों में इसकी मौजूदगी है

दीपांकर शिवमूर्ति प्रयागराज में रहते हैं. स्वतंत्र लेखक, कवि और टिप्पणीकार हैं. समाज, साहित्य, सिनेमा, संस्कृति और सियासत सरीखे मुख़्तलिफ़ विषयों पर लिखते रहते हैं. पहली तस्वीर ‘चाय वाला’, ‘गरीब का बेटा’ जैसे मेटाफर प्रधानमंत्री मोदी के पसंदीदा मालूम पड़ते हैं. जब भी उन्हें मौका मिलता है, जतन से गढ़ी गई अपनी इस छवि का … और पढ़ें Nepotism in Indian Politics by Deepankar Shivmurti

भैरंट

अगले जन्म में किस जाति में पैदा होने की इच्छा जताई थी गांधी ने?

हिमांशु दी लल्लनटॉप के दोस्त और रीडर हैं. जब भी इनको थोड़ी सी फुरसत मिलती है, अपने ज्ञान के खजाने से थोड़े मोती हमको दे देते हैं. हम आप तक पहुंचा देते हैं. आजाद भारत की एक बहुत बड़ी समस्या या कहिए शर्मिंदगी पर इन्होंने कुछ लिखा है. पढ़ा जाए. कभी आपकी चाभी या फोन … और पढ़ें Manual scavenging in India and Gandhi’s views on the caste system?

अगले जन्म में किस जाति में पैदा होने की इच्छा जताई थी गांधी ने?

हिमांशु दी लल्लनटॉप के दोस्त और रीडर हैं. जब भी इनको थोड़ी सी फुरसत मिलती है, अपने ज्ञान के खजाने से थोड़े मोती हमको दे देते हैं. हम आप तक पहुंचा देते हैं. आजाद भारत की एक बहुत बड़ी समस्या या कहिए शर्मिंदगी पर इन्होंने कुछ लिखा है. पढ़ा जाए. कभी आपकी चाभी या फोन … और पढ़ें Manual scavenging in India and Gandhi’s views on the caste system?

भैरंट

'बिहारियों की मेहनत से जलने वालों ने बिहारी को गाली बना दिया'

हिमांशु सिंह दी लल्लनटॉप के दोस्त हैं. ठाकरे फिल्म का ट्रेलर देखा तो एक जख्म ताज़ा हो गया. क्षेत्रवाद कैसे क्षेत्र से नहीं आर्थिक स्थिति से जुड़ा हुआ मसला है. इस पर लेख लिख डाला. हम उसे उठाकर आपके सामने जस का तस धरे दे रहे हैं. कमेंट करके बताइयेगा सही है या नहीं.   … और पढ़ें This is how Thackeray movie will praise regionalism

'बिहारियों की मेहनत से जलने वालों ने बिहारी को गाली बना दिया'

हिमांशु सिंह दी लल्लनटॉप के दोस्त हैं. ठाकरे फिल्म का ट्रेलर देखा तो एक जख्म ताज़ा हो गया. क्षेत्रवाद कैसे क्षेत्र से नहीं आर्थिक स्थिति से जुड़ा हुआ मसला है. इस पर लेख लिख डाला. हम उसे उठाकर आपके सामने जस का तस धरे दे रहे हैं. कमेंट करके बताइयेगा सही है या नहीं.   … और पढ़ें This is how Thackeray movie will praise regionalism

भैरंट

जेएनयू के सबसे बड़े 'एंटी-नेशनल' आदमी को सलाम करने का दिन

ये आर्टिकल हमारे लिए अनुराग अनंत ने भेजा है. रमाशंकर यादव ‘विद्रोही’ की बरसी पर उन्होंने उनसे जुड़े अपने संस्मरणों को लिखा है. विद्रोही 1957 में यूपी के फिरोज़पुर में पैदा हुए थे. जेएनयू में ही पढ़े. लेकिन फिर वहीं के होकर रह गए. आजीवन कैंपस में ही गुजारा किया. बिना किसी आय के स्त्रोत … और पढ़ें Remembering Ramashankar Yadav Vidrohi the mad rebel poet of JNU whose revolutionary poems blew our minds away

जेएनयू के सबसे बड़े 'एंटी-नेशनल' आदमी को सलाम करने का दिन

ये आर्टिकल हमारे लिए अनुराग अनंत ने भेजा है. रमाशंकर यादव ‘विद्रोही’ की बरसी पर उन्होंने उनसे जुड़े अपने संस्मरणों को लिखा है. विद्रोही 1957 में यूपी के फिरोज़पुर में पैदा हुए थे. जेएनयू में ही पढ़े. लेकिन फिर वहीं के होकर रह गए. आजीवन कैंपस में ही गुजारा किया. बिना किसी आय के स्त्रोत … और पढ़ें Remembering Ramashankar Yadav Vidrohi the mad rebel poet of JNU whose revolutionary poems blew our minds away

भैरंट

'कौन हैं ये दो औरतें जो बग़ल में कोई पोटली दबा बहुधा निर्वस्त्र भटकती हैं?'

हिंदी कवियों की मौजूदा पीढ़ी में गीत चतुर्वेदी का स्थान ऊंचा है. वो एक अच्छे कवि, बेहतरीन इंसान, पत्रकार और समीक्षक हैं. 27 नवम्बर 1977 को जन्मे गीत लोर्का, नेरूदा, यानिस रित्सोस, एडम ज़गायेव्स्की और दुन्या मिखाइल आदि की कविताओं के अनुवाद कर चुके हैं. पहल, तद्भव, उद्भावना कवितांक, वागर्थ, साक्षात्कार, पल-प्रतिपल, वसुधा, समकालीन भारतीय साहित्य, … और पढ़ें Ek Kavita Roz: Mother India by Geet Chaturvedi

'कौन हैं ये दो औरतें जो बग़ल में कोई पोटली दबा बहुधा निर्वस्त्र भटकती हैं?'

हिंदी कवियों की मौजूदा पीढ़ी में गीत चतुर्वेदी का स्थान ऊंचा है. वो एक अच्छे कवि, बेहतरीन इंसान, पत्रकार और समीक्षक हैं. 27 नवम्बर 1977 को जन्मे गीत लोर्का, नेरूदा, यानिस रित्सोस, एडम ज़गायेव्स्की और दुन्या मिखाइल आदि की कविताओं के अनुवाद कर चुके हैं. पहल, तद्भव, उद्भावना कवितांक, वागर्थ, साक्षात्कार, पल-प्रतिपल, वसुधा, समकालीन भारतीय साहित्य, … और पढ़ें Ek Kavita Roz: Mother India by Geet Chaturvedi

तहखाना

हो सके तो आज अपनी मां को करवा चौथ का व्रत करने से रोक लो

आज करवा चौथ है. बहुत सारी पत्नियां अपने पति के लिए व्रत रखती हैं. बहुत सारी बिना पानी पिए व्रत रखती हैं. बाद के दिनों में जब कुछ लोगों ने महसूस किया कि पति की लंबी उम्र के लिए सिर्फ पत्नियां ही क्यों कष्ट सहती हैं तो इस परंपरा को ‘मॉडिफाई’ कर लिया गया और बहुत सारे … और पढ़ें why you can not stop your mother to celebrate Karva Chauth

हो सके तो आज अपनी मां को करवा चौथ का व्रत करने से रोक लो

आज करवा चौथ है. बहुत सारी पत्नियां अपने पति के लिए व्रत रखती हैं. बहुत सारी बिना पानी पिए व्रत रखती हैं. बाद के दिनों में जब कुछ लोगों ने महसूस किया कि पति की लंबी उम्र के लिए सिर्फ पत्नियां ही क्यों कष्ट सहती हैं तो इस परंपरा को ‘मॉडिफाई’ कर लिया गया और बहुत सारे … और पढ़ें why you can not stop your mother to celebrate Karva Chauth

तहखाना

उस्ताद सईदुद्दीन डागर, जो अपने ही मुल्क में एक घर पाने की आरज़ू लिए मर गए

 डॉ. अजीत प्रधान. लल्लनटॉप के दोस्त. ये जनाब मेलबर्न में रहते थे. 1998 में स्वदेश आ गए. बिहार-झारखंड में हॉस्पिटल्स की हालत देखी नहीं गई, तो बिहार का पहला हार्ट हॉस्पिटल शुरू किया. नाम है जीवक हॉस्पिटल, जिसके 20 साल पूरे होते-होते डॉक साब के हाथों 8000 ओपन हार्ट सर्जरी हो चुकी हैं. दूसरों के … और पढ़ें Remembering Ustad Sayeeduddin Dagar, the great Indian classical vocalist of Dhrupad tradition

उस्ताद सईदुद्दीन डागर, जो अपने ही मुल्क में एक घर पाने की आरज़ू लिए मर गए

 डॉ. अजीत प्रधान. लल्लनटॉप के दोस्त. ये जनाब मेलबर्न में रहते थे. 1998 में स्वदेश आ गए. बिहार-झारखंड में हॉस्पिटल्स की हालत देखी नहीं गई, तो बिहार का पहला हार्ट हॉस्पिटल शुरू किया. नाम है जीवक हॉस्पिटल, जिसके 20 साल पूरे होते-होते डॉक साब के हाथों 8000 ओपन हार्ट सर्जरी हो चुकी हैं. दूसरों के … और पढ़ें Remembering Ustad Sayeeduddin Dagar, the great Indian classical vocalist of Dhrupad tradition