Submit your post

Follow Us

तहखाना

महामहिम: तानाशाह के गाल थपथपा देने वाला राष्ट्रपति

उन्होंने ये काम स्टालिन और पोप के साथ भी किया था

महामहिम: तानाशाह के गाल थपथपा देने वाला राष्ट्रपति

1921 का साल था. महाराजा कॉलेज मैसूर के कुछ छात्र एक बग्घी को फूलों से सजा रहे थे. हालांकि यह उनके लिए कोई खुश होने का मौका नहीं था. उनके सबसे प्रिय टीचर उन्हें छोड़ कर कलकत्ता जा रहे थे. दोपहर को विदाई समारोह के बाद जब प्रोफेसर सभागार से बाहर निकले तो फूले से … और पढ़ें महामहिम: तानाशाह के गाल थपथपा देने वाला राष्ट्रपति

तहखाना

महामहिम: हरियाणा का चौधरी, जिसने राष्ट्रपति चुनाव में गजब का रिकॉर्ड बनाया

हरीराम की जिंदगी में दो का अंक यहीं नहीं रुकता. आप चौधरी हरीराम को गूगल करेंगे तो दो नतीजे भी नहीं आएंगे.

महामहिम: हरियाणा का चौधरी, जिसने राष्ट्रपति चुनाव में गजब का रिकॉर्ड बनाया

ये चौधरी हरीराम की कहानी है. नेता थे. कभी नहीं जीते. कोई भी चुनाव. मगर फिर भी उनकी कहानी सुनी जानी चाहिए. क्योंकि दूसरे नंबर पर रहकर भी उन्होंने एक नायाब रेकॉर्ड बनाया. इकलौता ऐसा नेता, जो दो बार राष्ट्रपति पद के चुनाव में रनरअप रहा. दूसरे (1957) और तीसरे (1962) राष्ट्रपति चुनाव के दौरान. … और पढ़ें महामहिम: हरियाणा का चौधरी, जिसने राष्ट्रपति चुनाव में गजब का रिकॉर्ड बनाया

तहखाना

महामहिम: राजेंद्र प्रसाद के दूसरी बार चुनाव लड़ने पर राधाकृष्णन ने क्या धमकी दी?

कांग्रेस के एक बड़े धड़े का समर्थन राजेंद्र प्रसाद के साथ था. इसके अलावा मौलाना आजाद भी राजेंद्र बाबू के पक्ष में खड़े थे.

महामहिम: राजेंद्र प्रसाद के दूसरी बार चुनाव लड़ने पर राधाकृष्णन ने क्या धमकी दी?

1952 में जब देश में पहली बार चुनाव हुआ. संसद में नए प्रतिनिधि आए. इसलिए राष्ट्रपति के चुनाव फिर से करवाए गए. 1950 में राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर तख्ता पलट झेल चुके नेहरू ने 1952 में शांत रहना ही ठीक समझा. हालांकि दोनों के संबंध में कोई ख़ास सुधार नहीं आया था. 1951 में … और पढ़ें महामहिम: राजेंद्र प्रसाद के दूसरी बार चुनाव लड़ने पर राधाकृष्णन ने क्या धमकी दी?