Submit your post

Follow Us

वीडियो

पड़ताल: लव जिहाद के नाम पर वायरल वीडियो की सच्चाई

सोशल मीडिया पर लव जिहाद के दावे के साथ एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में एक लड़के के साथ लड़की है, जो किसी स्कूल की ड्रेस पहने हुए है. इसके अलावा वायरल वीडियो में कुछ लोगों का ग्रुप भी है, जो लड़के का कॉलर पकड़कर पूरी घटना को कैमरे में कैद करते हुए दिखाई दे रहा है. लोगों का आरोप है कि लड़का रोज स्कूल के बाहर से लड़की को अपने साथ भगाकर ले जाता है. बाद में वीडियो में एक महिला आती है जो पूरे मामले को सुलझाने की कोशिश करते हुए दिखाई देती है. ‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की सच्चाई जानने के लिए पड़ताल की. हमारी पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक निकला. वायरल वीडियो का लव जिहाद की घटना से कोई संबंध नहीं है. देखें वीडियो.

 

पड़ताल: लव जिहाद के नाम पर वायरल वीडियो की सच्चाई

सोशल मीडिया पर लव जिहाद के दावे के साथ एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में एक लड़के के साथ लड़की है, जो किसी स्कूल की ड्रेस पहने हुए है. इसके अलावा वायरल वीडियो में कुछ लोगों का ग्रुप भी है, जो लड़के का कॉलर पकड़कर पूरी घटना को कैमरे में कैद करते हुए दिखाई दे रहा है. लोगों का आरोप है कि लड़का रोज स्कूल के बाहर से लड़की को अपने साथ भगाकर ले जाता है. बाद में वीडियो में एक महिला आती है जो पूरे मामले को सुलझाने की कोशिश करते हुए दिखाई देती है. ‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की सच्चाई जानने के लिए पड़ताल की. हमारी पड़ताल में वायरल दावा भ्रामक निकला. वायरल वीडियो का लव जिहाद की घटना से कोई संबंध नहीं है. देखें वीडियो.

 
वीडियो

पड़ताल: क्या बीच सड़क पर SP विधायक ने UP पुलिस के दरोगा को पीटा, सच जानिए

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के द्वारा एक पुलिसकर्मी को पीटने का वीडियो वायरल हो रहा है. वीडियो में दिख रहे लोग पहले पुलिसकर्मी का कॉलर पकड़ते हैं, फिर एक आदमी पुलिसकर्मी को दो थप्पड़ लगा देता है. इस पूरी घटना में पुलिसकर्मी पिटाई से बचता नज़र आ रहा है. ‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की पड़ताल की. हमारी पड़ताल में वायरल वीडियो के साथ किया जा रहा दावा भ्रामक निकला. वायरल वीडियो मुख्तारगंज का नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के हसनगंज का है. वीडियो में पिटाई करता शख़्स समाजवादी पार्टी का विधायक नहीं है.

पड़ताल: क्या बीच सड़क पर SP विधायक ने UP पुलिस के दरोगा को पीटा, सच जानिए

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के द्वारा एक पुलिसकर्मी को पीटने का वीडियो वायरल हो रहा है. वीडियो में दिख रहे लोग पहले पुलिसकर्मी का कॉलर पकड़ते हैं, फिर एक आदमी पुलिसकर्मी को दो थप्पड़ लगा देता है. इस पूरी घटना में पुलिसकर्मी पिटाई से बचता नज़र आ रहा है. ‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की पड़ताल की. हमारी पड़ताल में वायरल वीडियो के साथ किया जा रहा दावा भ्रामक निकला. वायरल वीडियो मुख्तारगंज का नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के हसनगंज का है. वीडियो में पिटाई करता शख़्स समाजवादी पार्टी का विधायक नहीं है.

वीडियो

पड़ताल: प्लेटफॉर्म टिकट से ट्रेन में यात्रा करने के वायरल दावे का सच

25 नवंबर 2021 को सेन्ट्रल रेलवे की मुंबई डिविजन ने प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत 50 रुपए से घटाकर 10 रुपए करने का ऐलान किया. इसके बाद देशभर में अलग-अलग रेलवे जोन ने प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत को 10 रुपए कर दिया. प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत बढ़ाने पर रेलवे का तर्क था कि इससे कोरोना संकट के दौरान प्लेटफॉर्म पर आने वाली अनावश्यक भीड़ को रोका जा सकता है. अब प्लेटफॉर्म टिकट को लेकर एक दावा तेजी से वायरल हो रहा है. इसमें कहा गया है कि अगर आपके पास सिर्फ प्लेटफॉर्म टिकट है तो आप ट्रेन में यात्रा भी कर सकते हैं. ‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की पड़ताल की. हमारी जांच में ये वायरल दावा भ्रामक निकला. फिलहाल रेलवे ने ऐसा कोई भी नियम नहीं बनाया है, जिससे आप प्लेटफॉर्म टिकट के आधार पर ट्रेन में यात्रा कर सकें. देखें वीडियो.

पड़ताल: प्लेटफॉर्म टिकट से ट्रेन में यात्रा करने के वायरल दावे का सच

25 नवंबर 2021 को सेन्ट्रल रेलवे की मुंबई डिविजन ने प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत 50 रुपए से घटाकर 10 रुपए करने का ऐलान किया. इसके बाद देशभर में अलग-अलग रेलवे जोन ने प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत को 10 रुपए कर दिया. प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत बढ़ाने पर रेलवे का तर्क था कि इससे कोरोना संकट के दौरान प्लेटफॉर्म पर आने वाली अनावश्यक भीड़ को रोका जा सकता है. अब प्लेटफॉर्म टिकट को लेकर एक दावा तेजी से वायरल हो रहा है. इसमें कहा गया है कि अगर आपके पास सिर्फ प्लेटफॉर्म टिकट है तो आप ट्रेन में यात्रा भी कर सकते हैं. ‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की पड़ताल की. हमारी जांच में ये वायरल दावा भ्रामक निकला. फिलहाल रेलवे ने ऐसा कोई भी नियम नहीं बनाया है, जिससे आप प्लेटफॉर्म टिकट के आधार पर ट्रेन में यात्रा कर सकें. देखें वीडियो.

वीडियो

पड़ताल: क्या राम मंदिर का निर्माण रुकने की आशंका जताता गाना मुस्लिम समुदाय ने बनाया है?

आबादी के हिसाब से देश के सबसे बड़े राज्य- उत्तर प्रदेश में 2022 की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं. चुनाव के करीब आते ही सूबे में रोज़ सियासी घटनाक्रम बदल रहे हैं. सूबे की हर पार्टी जमीन से लेकर इंटरनेट तक प्रचार-प्रसार में जुटी है. अब समाजवादी पार्टी, मुस्लिम समुदाय और राम मंदिर को जोड़ता एक वीडियो वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में समाजवादी पार्टी से कथित तौर पर जुड़ा एक गाना सुनाई दे रहा है. गाने के लिरिक्स को वीडियो में लिखकर भी चलाया जा रहा है. दावा किया जा रहा है कि वीडियो में सुनाई दे रहा गाना मुस्लिम समुदाय ने बनाया है. हमने इस दावे की पड़ताल की. नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए वीडियो.

पड़ताल: क्या राम मंदिर का निर्माण रुकने की आशंका जताता गाना मुस्लिम समुदाय ने बनाया है?

आबादी के हिसाब से देश के सबसे बड़े राज्य- उत्तर प्रदेश में 2022 की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं. चुनाव के करीब आते ही सूबे में रोज़ सियासी घटनाक्रम बदल रहे हैं. सूबे की हर पार्टी जमीन से लेकर इंटरनेट तक प्रचार-प्रसार में जुटी है. अब समाजवादी पार्टी, मुस्लिम समुदाय और राम मंदिर को जोड़ता एक वीडियो वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में समाजवादी पार्टी से कथित तौर पर जुड़ा एक गाना सुनाई दे रहा है. गाने के लिरिक्स को वीडियो में लिखकर भी चलाया जा रहा है. दावा किया जा रहा है कि वीडियो में सुनाई दे रहा गाना मुस्लिम समुदाय ने बनाया है. हमने इस दावे की पड़ताल की. नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए वीडियो.

वीडियो

पड़ताल: क्या सुशांत सिंह राजपूत के ADGP बहनोई की सड़क हादसे में मौत हो गई?

16 नवंबर 2021 को बिहार के लखीसराय में एक दर्दनाक सड़क हादसा हुआ. ट्रक और कार की भिड़ंत के कारण हुए हादसे में कुल छह लोगों की मौत हो गई. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मरने वाले छह लोगों में से पांच दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदार थे. हादसे में चार लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए. जानकारी के मुताबिक, कार में सवार लोग पटना में एक दाह संस्कार में शामिल होने के बाद घर लौट रहे थे. सोशल मीडिया पर इस सड़क दुर्घटना पर को लेकर दो दावे तेजी से वायरल हो रहे हैं. हमने पड़ताल की. नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

 

पड़ताल: क्या सुशांत सिंह राजपूत के ADGP बहनोई की सड़क हादसे में मौत हो गई?

16 नवंबर 2021 को बिहार के लखीसराय में एक दर्दनाक सड़क हादसा हुआ. ट्रक और कार की भिड़ंत के कारण हुए हादसे में कुल छह लोगों की मौत हो गई. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मरने वाले छह लोगों में से पांच दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदार थे. हादसे में चार लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए. जानकारी के मुताबिक, कार में सवार लोग पटना में एक दाह संस्कार में शामिल होने के बाद घर लौट रहे थे. सोशल मीडिया पर इस सड़क दुर्घटना पर को लेकर दो दावे तेजी से वायरल हो रहे हैं. हमने पड़ताल की. नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

 
वीडियो

पड़ताल: क्या सड़क पर नमाज़ पढ़ने का वीडियो भारत का है?

सड़क पर नमाज अदा करने की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है. सोशल मीडिया यूजर्स इस तस्वीर को भारत का बता रहे हैं. इस तस्वीर के साथ तमाम दावे किए जा रहे हैं. ‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की पड़ताल की.  नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

पड़ताल: क्या सड़क पर नमाज़ पढ़ने का वीडियो भारत का है?

सड़क पर नमाज अदा करने की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है. सोशल मीडिया यूजर्स इस तस्वीर को भारत का बता रहे हैं. इस तस्वीर के साथ तमाम दावे किए जा रहे हैं. ‘दी लल्लनटॉप’ ने वायरल दावे की पड़ताल की.  नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

वीडियो

'क्या भारत को 99 साल की लीज़ पर आज़ादी मिली है', सच यहां जान लीजिए

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) युवा मोर्चा की कार्यकर्ता रुचि पाठक ने लल्लनटॉप अड्डा में दावा किया है कि भारत पूरी तरह से स्वतंत्र नहीं है और भारत की स्वतंत्रता 99 वर्षों के लिए पट्टे पर है। रुचि पाठक के अनुसार, 1947 में भारत को अंग्रेजों से पूर्ण स्वतंत्रता नहीं मिली थी, यह कहते हुए कि हमारी स्वतंत्रता अंग्रेजों से 99 साल की लीज डील है और नेहरू ने ब्रिटिश क्राउन से 99 साल की लीज पर भारत को आजादी दिलाई। रुचि पाठक जिस वीडियो में ये दावे कर रही हैं वह अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। झूठे दावे के पीछे की सच्चाई जानने के लिए द लल्लनटॉप पड़ताल का यह एपिसोड देखें.

'क्या भारत को 99 साल की लीज़ पर आज़ादी मिली है', सच यहां जान लीजिए

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) युवा मोर्चा की कार्यकर्ता रुचि पाठक ने लल्लनटॉप अड्डा में दावा किया है कि भारत पूरी तरह से स्वतंत्र नहीं है और भारत की स्वतंत्रता 99 वर्षों के लिए पट्टे पर है। रुचि पाठक के अनुसार, 1947 में भारत को अंग्रेजों से पूर्ण स्वतंत्रता नहीं मिली थी, यह कहते हुए कि हमारी स्वतंत्रता अंग्रेजों से 99 साल की लीज डील है और नेहरू ने ब्रिटिश क्राउन से 99 साल की लीज पर भारत को आजादी दिलाई। रुचि पाठक जिस वीडियो में ये दावे कर रही हैं वह अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। झूठे दावे के पीछे की सच्चाई जानने के लिए द लल्लनटॉप पड़ताल का यह एपिसोड देखें.

वीडियो

पड़ताल: क्या बिजली संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति करने के लिए रेलवे ने मालगाड़ी शुरू कर दी?

बीते दिनों में देश के तमाम पावरप्लांट्स से कोयले की कमी की खबरें लगातार सामने आई हैं. इस बीच कोयले की आपूर्ति से जुड़ा एक वीडियो इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो में कोयले से लदी एक मालगाड़ी दिख रही है. पूर्व केंद्रीय मंत्री और BJP नेता प्रकाश जावड़ेकर ने इस वीडियो को बिजली संयंत्रों को की जा रही कोयला आपूर्ति से जोड़ते हुए लिखा कि 4 इंजन वाली 4 किलोमीटर लंबी मालगाड़ी को बिजली संयंत्रों की कोयला आपूर्ति करने के लिए युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है. ये है मोदी सरकार और मोदी जी. इस दावे की हमने पड़ताल की. नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

पड़ताल: क्या बिजली संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति करने के लिए रेलवे ने मालगाड़ी शुरू कर दी?

बीते दिनों में देश के तमाम पावरप्लांट्स से कोयले की कमी की खबरें लगातार सामने आई हैं. इस बीच कोयले की आपूर्ति से जुड़ा एक वीडियो इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो में कोयले से लदी एक मालगाड़ी दिख रही है. पूर्व केंद्रीय मंत्री और BJP नेता प्रकाश जावड़ेकर ने इस वीडियो को बिजली संयंत्रों को की जा रही कोयला आपूर्ति से जोड़ते हुए लिखा कि 4 इंजन वाली 4 किलोमीटर लंबी मालगाड़ी को बिजली संयंत्रों की कोयला आपूर्ति करने के लिए युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है. ये है मोदी सरकार और मोदी जी. इस दावे की हमने पड़ताल की. नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

वीडियो

पड़ताल: क्या सोनिया गांधी ने दलित के नाम पर एक ईसाई को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया है?

पंजाब सरकार में हुए नेतृत्व परिवर्तन के बाद नए CM बने हैं चरणजीत सिंह चन्नी. चन्नी कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार में कैबिनेट मंत्री भी थे. पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी  अनुसूचित जाति से आते हैं. ऐसे में विपक्षियों ने उनकी  नियुक्ति को दलित वोटर्स को लुभाने का पैंतरा बताया है. पर सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे भी लोग हैं जो मुख्यमंत्री चन्नी के ईसाई होने का दावा कर रहे हैं. इनका कहना है कि कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दलित के नाम पर एक ईसाई को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया है. हमने इस दावे की पड़ताल की. नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

पड़ताल: क्या सोनिया गांधी ने दलित के नाम पर एक ईसाई को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया है?

पंजाब सरकार में हुए नेतृत्व परिवर्तन के बाद नए CM बने हैं चरणजीत सिंह चन्नी. चन्नी कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार में कैबिनेट मंत्री भी थे. पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी  अनुसूचित जाति से आते हैं. ऐसे में विपक्षियों ने उनकी  नियुक्ति को दलित वोटर्स को लुभाने का पैंतरा बताया है. पर सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे भी लोग हैं जो मुख्यमंत्री चन्नी के ईसाई होने का दावा कर रहे हैं. इनका कहना है कि कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दलित के नाम पर एक ईसाई को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया है. हमने इस दावे की पड़ताल की. नतीजा क्या निकला, जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

वीडियो

पड़ताल: क्या महारानी एलिजाबेथ के लिए परेड में खड़े जवान RSS के स्वंयसेवक हैं?

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ यानी RSS को आज़ादी से पहले के उनके इतिहास के लिए निशाने पर रखा जाता रहा है. भारत छोड़ो आंदोलन में RSS की भूमिका और फिर महात्मा गांधी की हत्या के बाद RSS पर कई सवाल उठे. सिलसिला आज भी जारी है. सोशल मीडिया पर एक दावा वायरल हो रहा है. कहा जा रहा है कि जब पूरा देश अंग्रेजों से लड़ रहा था, तब कुछ गद्दार इंग्लैंड की रानी को सलामी दे रहे थे. सुना है इनके वंशज खुद को देशभक्त कहते हैं. इस तस्वीर में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के स्वंयसेवकों को ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ के सामने परेड की अवस्था में दिखाया जा रहा है. वायरल कैप्शन तस्वीर में भी यही बात लिखी दिख रही है. हमने इसकी पड़ताल की. नतीजा क्या निकला. जानने के लिए देखिए ये वीडियो.

पड़ताल: क्या महारानी एलिजाबेथ के लिए परेड में खड़े जवान RSS के स्वंयसेवक हैं?

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ यानी RSS को आज़ादी से पहले के उनके इतिहास के लिए निशाने पर रखा जाता रहा है. भारत छोड़ो आंदोलन में RSS की भूमिका और फिर महात्मा गांधी की हत्या के बाद RSS पर कई सवाल उठे. सिलसिला आज भी जारी है. सोशल मीडिया पर एक दावा वायरल हो रहा है. कहा जा रहा है कि जब पूरा देश अंग्रेजों से लड़ रहा था, तब कुछ गद्दार इंग्लैंड की रानी को सलामी दे रहे थे. सुना है इनके वंशज खुद को देशभक्त कहते हैं. इस तस्वीर में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के स्वंयसेवकों को ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ के सामने परेड की अवस्था में दिखाया जा रहा है. वायरल कैप्शन तस्वीर में भी यही बात लिखी दिख रही है. हमने इसकी पड़ताल की. नतीजा क्या निकला. जानने के लिए देखिए ये वीडियो.