Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

वीडियो

फिल्म रिव्यू: सोनी

सुनसान सड़क. एक लड़की साइकिल चलाती हुई जा रही है. पीछे एक लड़का पड़ा है. उसे छेड़ता है. लड़की विरोध करती है. लड़का उसे मोलेस्ट करने और उसे मज़ा चखाने के लिए आगे बढ़ता है. लेकिन उल्टा लड़की उसकी जम कर पिटाई कर देती है. लड़की का नाम सोनी है. और इस सीन से होती है इसी नाम की फिल्म, यानी ‘सोनी’ की पावरफुल शुरुआत. और ये ‘पावरफुल’ वाली बात पूरी पौने दो घंटे के लगभग की फिल्म में बदस्तूर बनी रहती है. और बनी रहती है फिल्म की लीड एक्ट्रेस सोनी की एग्रेसिवनेस. रिव्यू के लिए देखिए ये वीडियो.

फिल्म रिव्यू: सोनी

सुनसान सड़क. एक लड़की साइकिल चलाती हुई जा रही है. पीछे एक लड़का पड़ा है. उसे छेड़ता है. लड़की विरोध करती है. लड़का उसे मोलेस्ट करने और उसे मज़ा चखाने के लिए आगे बढ़ता है. लेकिन उल्टा लड़की उसकी जम कर पिटाई कर देती है. लड़की का नाम सोनी है. और इस सीन से होती है इसी नाम की फिल्म, यानी ‘सोनी’ की पावरफुल शुरुआत. और ये ‘पावरफुल’ वाली बात पूरी पौने दो घंटे के लगभग की फिल्म में बदस्तूर बनी रहती है. और बनी रहती है फिल्म की लीड एक्ट्रेस सोनी की एग्रेसिवनेस. रिव्यू के लिए देखिए ये वीडियो.
झमाझम

सोनी: मूवी रिव्यू

सुनसान सड़क. एक लड़की साइकिल चलाती हुई जा रही है. पीछे एक लड़का पड़ा है. उसे छेड़ता है. लड़की विरोध करती है. लड़का उसे मोलेस्ट करने और उसे मज़ा चखाने के लिए आगे बढ़ता है. लेकिन उल्टा लड़की उसकी जम कर पिटाई कर देती है. लड़की का नाम सोनी है. और इस सीन से होती … और पढ़ें Soni: Movie Review streaming on Netflix, directed by Ivan Ayr, starring Geetika Vidya Ohlyan, Saloni Batra

सोनी: मूवी रिव्यू

सुनसान सड़क. एक लड़की साइकिल चलाती हुई जा रही है. पीछे एक लड़का पड़ा है. उसे छेड़ता है. लड़की विरोध करती है. लड़का उसे मोलेस्ट करने और उसे मज़ा चखाने के लिए आगे बढ़ता है. लेकिन उल्टा लड़की उसकी जम कर पिटाई कर देती है. लड़की का नाम सोनी है. और इस सीन से होती … और पढ़ें Soni: Movie Review streaming on Netflix, directed by Ivan Ayr, starring Geetika Vidya Ohlyan, Saloni Batra

झमाझम

रंगीला राजा: मूवी रिव्यू

गोविंदा. शक्ति कपूर. पहलाज निहलानी. प्रेम चोपड़ा. ये लोग नाइंटीज़ में इतने हिट थे कि अगर रंगीला राजा 90’s में रिलीज़ होती तो एडवांस बुकिंग से थोड़े-बहुत पैसे तो कमा ही लेती. लेकिन थोड़े-बहुत ही. वो भी इन फेमस नामों के चलते. ठीक जैसे ‘ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान’ ने कमाया था. मतलब ये कि उस समय की फिल्मों … और पढ़ें Rangeela Raja: Movie Review, Govinda, Pahlaj Nihalani, Shakti Kapoor, Prem Chopra

रंगीला राजा: मूवी रिव्यू

गोविंदा. शक्ति कपूर. पहलाज निहलानी. प्रेम चोपड़ा. ये लोग नाइंटीज़ में इतने हिट थे कि अगर रंगीला राजा 90’s में रिलीज़ होती तो एडवांस बुकिंग से थोड़े-बहुत पैसे तो कमा ही लेती. लेकिन थोड़े-बहुत ही. वो भी इन फेमस नामों के चलते. ठीक जैसे ‘ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान’ ने कमाया था. मतलब ये कि उस समय की फिल्मों … और पढ़ें Rangeela Raja: Movie Review, Govinda, Pahlaj Nihalani, Shakti Kapoor, Prem Chopra

वीडियो

फिल्म रिव्यू: व्हाई चीट इंडिया

‘व्हाई चीट इंडिया’. फिल्म आ चुकी है.इमराश हाशमी की है. एक उम्दा थॉट का एग्ज़िक्यूशन उतना सही से नहीं हो पाया है. काफी कुछ या तो ओवर फ़िल्मी लगता है या फिर इललॉजिकल. चलिए देखते हैं फिल्म का रिव्यू.

फिल्म रिव्यू: व्हाई चीट इंडिया

‘व्हाई चीट इंडिया’. फिल्म आ चुकी है.इमराश हाशमी की है. एक उम्दा थॉट का एग्ज़िक्यूशन उतना सही से नहीं हो पाया है. काफी कुछ या तो ओवर फ़िल्मी लगता है या फिर इललॉजिकल. चलिए देखते हैं फिल्म का रिव्यू.
झमाझम

फिल्म रिव्यू: व्हाई चीट इंडिया

शिक्षा की मंडी, पढ़ाई का धंधा एक आदमी है. राकेश सिंह उर्फ़ रॉकी. महंगी गाड़ियों में चलता है, महंगे होटलों में रहता है और पैसों में खेलता है. जिसका कहना है कि उसके उजले करियर के पीछे एक काला अतीत है. ठुकराए जाने के, कमतर समझे जाने के अपमान से गुज़रकर यहां तक पहुंचा है. … और पढ़ें Film Review: Why Cheat India

फिल्म रिव्यू: व्हाई चीट इंडिया

शिक्षा की मंडी, पढ़ाई का धंधा एक आदमी है. राकेश सिंह उर्फ़ रॉकी. महंगी गाड़ियों में चलता है, महंगे होटलों में रहता है और पैसों में खेलता है. जिसका कहना है कि उसके उजले करियर के पीछे एक काला अतीत है. ठुकराए जाने के, कमतर समझे जाने के अपमान से गुज़रकर यहां तक पहुंचा है. … और पढ़ें Film Review: Why Cheat India

झमाझम

परछाईं: वेब सीरीज़ रिव्यू

रस्किन बॉन्ड, 84 साल के एंग्लो-इंडियन लेखक. इनके बारे में बच्चा-बच्चा जानता है. बल्कि बच्चे ही तो इन्हें सबसे ज़्यादा जानते हैं. क्यूंकि बच्चों के लिए ही वो सबसे ज़्यादा लिखते हैं. मसूरी, देहरादून में रहते हैं. सोलह साल से ही लिखना-विखना शुरू कर दिया दिया था. पद्म श्री, पद्म भूषण जैसे सम्मान मिल चुके हैं. … और पढ़ें Parchayee: Ghost Stories By Ruskin Bond Web Series streaming on Zee5, review after first episode

परछाईं: वेब सीरीज़ रिव्यू

रस्किन बॉन्ड, 84 साल के एंग्लो-इंडियन लेखक. इनके बारे में बच्चा-बच्चा जानता है. बल्कि बच्चे ही तो इन्हें सबसे ज़्यादा जानते हैं. क्यूंकि बच्चों के लिए ही वो सबसे ज़्यादा लिखते हैं. मसूरी, देहरादून में रहते हैं. सोलह साल से ही लिखना-विखना शुरू कर दिया दिया था. पद्म श्री, पद्म भूषण जैसे सम्मान मिल चुके हैं. … और पढ़ें Parchayee: Ghost Stories By Ruskin Bond Web Series streaming on Zee5, review after first episode

झमाझम

द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर: मूवी रिव्यू

ॐ नारे और नारे और नारे और नारे ॐ सबकुछ, सबकुछ, सबकुछ ॐ कुछ नहीं, कुछ नहीं, कुछ नही एंड क्रेडिट रोल होते वक्त बैकग्राउंड में चलने वाली बाबा नागर्जुन की ये कविता ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का सबसे स्ट्रॉन्ग पार्ट है. फिल्म की स्टोरी है प्रधानमंत्री के रूप में मनमोहन सिंह के एक दशक … और पढ़ें The Accidental Prime Minister: Movie Review

द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर: मूवी रिव्यू

ॐ नारे और नारे और नारे और नारे ॐ सबकुछ, सबकुछ, सबकुछ ॐ कुछ नहीं, कुछ नहीं, कुछ नही एंड क्रेडिट रोल होते वक्त बैकग्राउंड में चलने वाली बाबा नागर्जुन की ये कविता ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का सबसे स्ट्रॉन्ग पार्ट है. फिल्म की स्टोरी है प्रधानमंत्री के रूप में मनमोहन सिंह के एक दशक … और पढ़ें The Accidental Prime Minister: Movie Review

झमाझम

फिल्म रिव्यू: उरी - दी सर्जिकल स्ट्राइक

जिस फिल्म में देशभक्ति वाले डायलॉग्स की भरमार हो, उसे रिव्यू करने के अपने ख़तरे होते हैं. फिल्म को क्रिटिसाइज़ करने के आपके अधिकार को किसी खास नुक़्तानिगाह से भी देखा जा सकता है. फिल्म में निकाला गया नुक्स मुल्क में निकाला गया नज़र आने की आशंका होती है. दूसरी तरफ, फिल्म की तारीफ़ आपको किसी ख़ास खेमे का होने का सर्टिफिकेट … और पढ़ें Film Review: Uri – The Surgical Strike

फिल्म रिव्यू: उरी - दी सर्जिकल स्ट्राइक

जिस फिल्म में देशभक्ति वाले डायलॉग्स की भरमार हो, उसे रिव्यू करने के अपने ख़तरे होते हैं. फिल्म को क्रिटिसाइज़ करने के आपके अधिकार को किसी खास नुक़्तानिगाह से भी देखा जा सकता है. फिल्म में निकाला गया नुक्स मुल्क में निकाला गया नज़र आने की आशंका होती है. दूसरी तरफ, फिल्म की तारीफ़ आपको किसी ख़ास खेमे का होने का सर्टिफिकेट … और पढ़ें Film Review: Uri – The Surgical Strike

वीडियो

फिल्म रिव्यू: सिंबा

आज की फिल्म है ‘सिंबा’. रोहित शेट्टी की फिल्म. रोहित शेट्टी की फिल्मों की एक ख़ास बात होती है. आपको पहले से पता होता है आपको क्या मिलने वाला है. उड़ती कारें, मुक्का खाकर हवा में तैरते विलेन्स, स्लो मोशन का जलवा, ग्रेविटी डिफाइंग एक्शन सीन्स, थोड़ा कॉमेडी का तड़का और हल्का-फुल्का इमोशनल मेलोड्रामा. फॉर्मूला फ़िल्में बनाने में इस दशक में अगर किसी एक डायरेक्टर को महारत हासिल है, तो वो रोहित शेट्टी ही हैं. उनकी फ़िल्में कालजयी भले ही न होती हो, लेकिन हॉल से निकलने वाले लोगों में कोई विरला ही होता है जो ये कहे कि पैसे बरबाद हो गए. ‘सिंबा’ देखने आप ज़्यादा उम्मीदें लेकर नहीं जाते. और शायद इसी वजह से आपको फिल्म पसंद आ सकती है.

फिल्म रिव्यू: सिंबा

आज की फिल्म है ‘सिंबा’. रोहित शेट्टी की फिल्म. रोहित शेट्टी की फिल्मों की एक ख़ास बात होती है. आपको पहले से पता होता है आपको क्या मिलने वाला है. उड़ती कारें, मुक्का खाकर हवा में तैरते विलेन्स, स्लो मोशन का जलवा, ग्रेविटी डिफाइंग एक्शन सीन्स, थोड़ा कॉमेडी का तड़का और हल्का-फुल्का इमोशनल मेलोड्रामा. फॉर्मूला फ़िल्में बनाने में इस दशक में अगर किसी एक डायरेक्टर को महारत हासिल है, तो वो रोहित शेट्टी ही हैं. उनकी फ़िल्में कालजयी भले ही न होती हो, लेकिन हॉल से निकलने वाले लोगों में कोई विरला ही होता है जो ये कहे कि पैसे बरबाद हो गए. ‘सिंबा’ देखने आप ज़्यादा उम्मीदें लेकर नहीं जाते. और शायद इसी वजह से आपको फिल्म पसंद आ सकती है.
तहखाना

क्यों 2018 में ये दस से अधिक हिंदी फिल्में मुझे अच्छी लगीं?

1. हिचकी   ~   (शिक्षा) डायरेक्टरः सिद्धार्थ मल्होत्रा – बड़ी सरल सी होते हुए भी इस फिल्म का कुल अहसास बहुत पॉजिटिव है. एक से ज्यादा बार देख सकते हैं. मनोबल बढ़ाती है. प्रेरित करती है. बच्चों का प्रतिनिधि सिनेमा भी ये है जो मुख्यधारा में न के बराबर बन रहा है भारत में. इस लिहाज … और पढ़ें Relevant and Best Hindi Films Of 2018 – My List

क्यों 2018 में ये दस से अधिक हिंदी फिल्में मुझे अच्छी लगीं?

1. हिचकी   ~   (शिक्षा) डायरेक्टरः सिद्धार्थ मल्होत्रा – बड़ी सरल सी होते हुए भी इस फिल्म का कुल अहसास बहुत पॉजिटिव है. एक से ज्यादा बार देख सकते हैं. मनोबल बढ़ाती है. प्रेरित करती है. बच्चों का प्रतिनिधि सिनेमा भी ये है जो मुख्यधारा में न के बराबर बन रहा है भारत में. इस लिहाज … और पढ़ें Relevant and Best Hindi Films Of 2018 – My List