Submit your post

Follow Us

वीडियो

सीएम योगी पर ट्वीट कर फंसे प्रशांत कनौजिया को सुप्रीम कोर्ट से बेल कैसे मिली?दी लल्लनटॉप शो| Episode 234

दी लल्लनटॉप शो में सौरभ द्विवेदी आज बात करेंगे- 1.पत्रकार प्रशांत कनौजिया के बारे में, जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत को रिहा करने का आदेश दिया है. 2.इंडियन एयरफोर्स के लापता हुए विमान के बारे में, जिसका मलबा अरुणाचल प्रदेश में मिल गया है. दी लल्लनटॉप शो का पिछला एपिसोड देखने के लिए यहां क्लिक करें.

सीएम योगी पर ट्वीट कर फंसे प्रशांत कनौजिया को सुप्रीम कोर्ट से बेल कैसे मिली?दी लल्लनटॉप शो| Episode 234

दी लल्लनटॉप शो में सौरभ द्विवेदी आज बात करेंगे- 1.पत्रकार प्रशांत कनौजिया के बारे में, जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत को रिहा करने का आदेश दिया है. 2.इंडियन एयरफोर्स के लापता हुए विमान के बारे में, जिसका मलबा अरुणाचल प्रदेश में मिल गया है. दी लल्लनटॉप शो का पिछला एपिसोड देखने के लिए यहां क्लिक करें.
न्यूज़

बच्चों के सामने मां-बाप को चाकू से गोद डाला, लोग वीडियो बनाते रहे, मदद नहीं की

बच्चों के सामने मां-बाप को चाकू से गोद डाला, लोग वीडियो बनाते रहे, मदद नहीं की

एक शख्स महिला को घूरकर देखता है. महिला उसकी इस हरकत का विरोध करती है. मगर वो आदमी अपनी इस हरकत से बाज नहीं आता. इस पर महिला अपने घर की तरफ दौड़ लगाती है. वो 100 नंबर पर कॉल करके पुलिस बुलाना चाहती है. इतने में वो शख्स अपने घर के अंदर घुस जाता … और पढ़ें बच्चों के सामने मां-बाप को चाकू से गोद डाला, लोग वीडियो बनाते रहे, मदद नहीं की

वीडियो

क्या उर्दू सिर्फ मुसलमानों की ही ज़ुबान है ?

उर्दू को लेकर लोगों के मन में हमेशा एक भ्रम की स्थिति होती है, कि ये सिर्फ मुसलमानों की ज़ुबान है. ऐसा बिल्कुल नहीं है. आप इस वीडियो में ऐसे शख्स से मिलेंगे जो आपका ये पूरा कन्सेप्ट क्लियर कर देंगे.

क्या उर्दू सिर्फ मुसलमानों की ही ज़ुबान है ?

उर्दू को लेकर लोगों के मन में हमेशा एक भ्रम की स्थिति होती है, कि ये सिर्फ मुसलमानों की ज़ुबान है. ऐसा बिल्कुल नहीं है. आप इस वीडियो में ऐसे शख्स से मिलेंगे जो आपका ये पूरा कन्सेप्ट क्लियर कर देंगे.
वीडियो

संगीत मेरे अंदर है, मुझसे बात करता है: स्वानंद किरकिरे

स्वानंद किरकिरे जानेमाने गीतकार और प्लेबैक सिंगर हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि फिल्म इंडस्ट्री में आने से पहले वो एक सेल्समैन का काम करते थे? देखिए स्वानंद का फुल इंटरव्यू लल्लनटॉप अड्डा पर.

संगीत मेरे अंदर है, मुझसे बात करता है: स्वानंद किरकिरे

स्वानंद किरकिरे जानेमाने गीतकार और प्लेबैक सिंगर हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि फिल्म इंडस्ट्री में आने से पहले वो एक सेल्समैन का काम करते थे? देखिए स्वानंद का फुल इंटरव्यू लल्लनटॉप अड्डा पर.
वीडियो

राजदीप की ज़िंदगी से जुड़ी हर एक बात आपको यहां मिलेगी!

मशहूर पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने लल्लनटॉप अड्डा पर पत्रकारिता के साथ-साथ कई मुद्दों पर बात की है. राजदीप सरदेसाई के बार में कम ही लोग ये जानते हैं कि उनके पिता एक क्रिकेटर थे, अगर आप ये बात जानते भी हैं कि उनके पिता क्रिकेटर थे तो ये बात नहीं जानते होंगे कि उनके पिता को क्रिकेट एक दर्जी ने सिखाया. राजदीप सरदेसाई ने अपनी ज़िंदगी से ज़ुड़े कुछ ऐसे ही रोचक किस्से लल्लनटॉप अड्डे पर सुनाए जिसे आपको ज़रूरी सुननी चाहिए.

राजदीप की ज़िंदगी से जुड़ी हर एक बात आपको यहां मिलेगी!

मशहूर पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने लल्लनटॉप अड्डा पर पत्रकारिता के साथ-साथ कई मुद्दों पर बात की है. राजदीप सरदेसाई के बार में कम ही लोग ये जानते हैं कि उनके पिता एक क्रिकेटर थे, अगर आप ये बात जानते भी हैं कि उनके पिता क्रिकेटर थे तो ये बात नहीं जानते होंगे कि उनके पिता को क्रिकेट एक दर्जी ने सिखाया. राजदीप सरदेसाई ने अपनी ज़िंदगी से ज़ुड़े कुछ ऐसे ही रोचक किस्से लल्लनटॉप अड्डे पर सुनाए जिसे आपको ज़रूरी सुननी चाहिए.
वीडियो

आशुतोष राणा ने कई मुद्दों पर बहुत संजीदगी से बात की है

मशहूर कलाकार और लेखक आशुतोष राणा ने लल्लनटॉप के अड्डे पर खास बातचीत की. उन्होंने शादीशुदा ज़िदगी के अलावा कई ऐसे मुद्दे पर बात की जिसे सुनना आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. आशुतोष राणा ने अपनी ज़िंदगी के कई पड़ाव के बारे में बेहद तफ्सील से बात की, जिसमें ज्ञान और सीख भारी मात्रा में छिपी हुई है.

आशुतोष राणा ने कई मुद्दों पर बहुत संजीदगी से बात की है

मशहूर कलाकार और लेखक आशुतोष राणा ने लल्लनटॉप के अड्डे पर खास बातचीत की. उन्होंने शादीशुदा ज़िदगी के अलावा कई ऐसे मुद्दे पर बात की जिसे सुनना आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है. आशुतोष राणा ने अपनी ज़िंदगी के कई पड़ाव के बारे में बेहद तफ्सील से बात की, जिसमें ज्ञान और सीख भारी मात्रा में छिपी हुई है.
वीडियो

यूं ही नहीं ये शारदा सिन्हा बनीं

शारदा सिन्हा आज किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं. मैथिली पारंपरिक गाने के साथ छठ पूजा के गीत गाकर दुनिया भर में मशहूर हुईं शारदा सिन्हा साहित्य आजतक के मंच पर पहुंचीं. यहां इन्होंने लल्लनटॉप की टीम से भी खास बातचीत की. बातचीत के दौरान इन्होंने अपने जीवन के हर उस अनछुए पहलुओं पर बात की जिसपर शायद ही इससे पहले शारदा सिन्हा जी ने बात की हो. ये वीडियो देखिए इस वीडियो को देखने के बाद आपको शारदा सिन्हा के बारे में विस्तार से जानकारी मिल जाएगी.

यूं ही नहीं ये शारदा सिन्हा बनीं

शारदा सिन्हा आज किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं. मैथिली पारंपरिक गाने के साथ छठ पूजा के गीत गाकर दुनिया भर में मशहूर हुईं शारदा सिन्हा साहित्य आजतक के मंच पर पहुंचीं. यहां इन्होंने लल्लनटॉप की टीम से भी खास बातचीत की. बातचीत के दौरान इन्होंने अपने जीवन के हर उस अनछुए पहलुओं पर बात की जिसपर शायद ही इससे पहले शारदा सिन्हा जी ने बात की हो. ये वीडियो देखिए इस वीडियो को देखने के बाद आपको शारदा सिन्हा के बारे में विस्तार से जानकारी मिल जाएगी.
वीडियो

रमेश दुबे की हंसते-हंसते लोट-पोट करने वाली कॉमेडी

अवधी कॉमेडियन और यूट्यूब स्टार रमेश दुबे किसी के परिचय के मोहताज नहीं है. सोशल मीडिया पर लुटावन काका के रूप में रमेश को खूब प्रसिद्धि मिली है. रमेश तीन दिन तक चलने वाले साहित्य और कला के उत्सव साहित्य आजतक में लल्लनटॉप अड्डा पर आए. यहां उन्होंने मिमिक्री और अपने कैरेक्टर्स के माध्यम से लोगों का मनोरंजन किया.

रमेश दुबे की हंसते-हंसते लोट-पोट करने वाली कॉमेडी

अवधी कॉमेडियन और यूट्यूब स्टार रमेश दुबे किसी के परिचय के मोहताज नहीं है. सोशल मीडिया पर लुटावन काका के रूप में रमेश को खूब प्रसिद्धि मिली है. रमेश तीन दिन तक चलने वाले साहित्य और कला के उत्सव साहित्य आजतक में लल्लनटॉप अड्डा पर आए. यहां उन्होंने मिमिक्री और अपने कैरेक्टर्स के माध्यम से लोगों का मनोरंजन किया.
भैरंट

'फेमिनिज़म से शुरू होती हमारी बहसें अंत में सेक्स पर पहुंच जातीं'

'फेमिनिज़म से शुरू होती हमारी बहसें अंत में सेक्स पर पहुंच जातीं'

पिछले साल 2017 में 10 से 12 नवंबर तक आज तक ने तीन दिवसीय आयोजन ‘साहित्य आजतक’ के जरिए साहित्यिक हलचल बढ़ाई. सरगर्मियां बढ़ाने में बड़ा किरदार लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन का भी रहा. इस  प्रतियोगिता का पहला इनाम एक लाख रुपए था. 15 दूसरी कहानियों को भी पांच-पांच हज़ार  रुपए का पुरस्कार दिया गया.  आज … और पढ़ें ‘फेमिनिज़म से शुरू होती हमारी बहसें अंत में सेक्स पर पहुंच जातीं’

भैरंट

'मैंने प्रण लिया था कि अब मैं कभी इस दुनिया में कदम नहीं रखूंगा'

'मैंने प्रण लिया था कि अब मैं कभी इस दुनिया में कदम नहीं रखूंगा'

पिछले साल 2017 में 10 से 12 नवंबर तक आज तक ने तीन दिवसीय आयोजन ‘साहित्य आजतक’ के जरिए साहित्यिक हलचल बढ़ाई. सरगर्मियां बढ़ाने में बड़ा किरदार लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन का भी रहा. इस  प्रतियोगिता का पहला इनाम एक लाख रुपए था. 15 दूसरी कहानियों को भी पांच-पांच हज़ार  रुपए का पुरस्कार दिया गया.  आज पढ़िए इन्हीं 15 कहानियों में से एक- शहनाई. इसे … और पढ़ें ‘मैंने प्रण लिया था कि अब मैं कभी इस दुनिया में कदम नहीं रखूंगा’