Submit your post

Follow Us

वीडियो

किताबवाला: जनरल सैम मानेकशॉ ने इंदिरा गांधी को इस्तीफे की धमकी क्यों दी थी?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल सेगमेंट जिसमें बातें होती हैं किताबों की. किताब लिखने वालों से. आज के एपिसोड में हम बात कर रहे हैं लेखक ब्रिगेडियर बेहराम एम पंथकी और ज़ेनोबिया पंथकी की किताब 'फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ: द मैन एंड हिज टाइम्स' के बारे में. लेखक  1971 में हुए भारत-पाकिस्तान के युद्ध के कुछ किस्से बता रहे हैं, जिनमें जनरल मानेकशॉ का अहम रोह रहा है.   देखिए वीडियो.

 

किताबवाला: जनरल सैम मानेकशॉ ने इंदिरा गांधी को इस्तीफे की धमकी क्यों दी थी?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल सेगमेंट जिसमें बातें होती हैं किताबों की. किताब लिखने वालों से. आज के एपिसोड में हम बात कर रहे हैं लेखक ब्रिगेडियर बेहराम एम पंथकी और ज़ेनोबिया पंथकी की किताब 'फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ: द मैन एंड हिज टाइम्स' के बारे में. लेखक  1971 में हुए भारत-पाकिस्तान के युद्ध के कुछ किस्से बता रहे हैं, जिनमें जनरल मानेकशॉ का अहम रोह रहा है.   देखिए वीडियो.

 
वीडियो

किताबवाला: जब महाराष्ट्र में सरकार बनाने की जल्दी में फडणवीस के हाथ से कुर्सी ही चली गई!

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल सेगमेंट जिसमें बातें होती हैं किताबों की. किताब लिखने वालों से. आज के एपिसोड में हम बात कर रहे हैं लेखक कमलेश सुतार की किताब "36 डेज़: अ पॉलिटिकल क्रोनिकल ऑफ एम्बीशन, डिसेप्शन, ट्रस्ट एंड बिट्रेयल" पर. ये किताब है महाराष्ट्र के चुनाव के नतीजे आने के बाद से सरकार बनने के उन 36 दिनों के बारे में. दी लल्लनटॉप के संपादक सौरभ द्विवेदी ने कमलेश सुतार से किताब के बारे में चर्चा की. देखिए वीडियो.

किताबवाला: जब महाराष्ट्र में सरकार बनाने की जल्दी में फडणवीस के हाथ से कुर्सी ही चली गई!

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल सेगमेंट जिसमें बातें होती हैं किताबों की. किताब लिखने वालों से. आज के एपिसोड में हम बात कर रहे हैं लेखक कमलेश सुतार की किताब "36 डेज़: अ पॉलिटिकल क्रोनिकल ऑफ एम्बीशन, डिसेप्शन, ट्रस्ट एंड बिट्रेयल" पर. ये किताब है महाराष्ट्र के चुनाव के नतीजे आने के बाद से सरकार बनने के उन 36 दिनों के बारे में. दी लल्लनटॉप के संपादक सौरभ द्विवेदी ने कमलेश सुतार से किताब के बारे में चर्चा की. देखिए वीडियो.

वीडियो

किताबवाला: आज के माहौल में हिंदी के लेखकों को किस बात का डर है?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल सेगमेंट जिसमें बातें होती हैं किताबों की. किताब लिखने वालों से. आज के एपिसोड में हम बात कर रहे हैं उपन्यास 'वैधानिक गल्प' के बारे में. साथ में हैं इस किताब को लिखने वाले उपन्यासकार और कहानीकार चंदन पांडेय. देखिए किताबवाला का ये एपिसोड.

किताबवाला: आज के माहौल में हिंदी के लेखकों को किस बात का डर है?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल सेगमेंट जिसमें बातें होती हैं किताबों की. किताब लिखने वालों से. आज के एपिसोड में हम बात कर रहे हैं उपन्यास 'वैधानिक गल्प' के बारे में. साथ में हैं इस किताब को लिखने वाले उपन्यासकार और कहानीकार चंदन पांडेय. देखिए किताबवाला का ये एपिसोड.
वीडियो

किताबवाला: तवलीन सिंह ने अखलाक़ की हत्या पर क्यों कुछ नहीं बोले थे पीएम मोदी?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल वीकली सीरीज. जिसमें हम बात करते हैं किसी एक खास किताब की. हमारे साथ में होते हैं उस किताब के लेखक. आज के एपिसोड में हम बात कर रहे हैं तवलीन सिंह की किताब  'Messiah Modi' की. तवलीन सिंह वरिष्ठ राजनीतिक पत्रकार और लेखक हैं.  देखिए किताबवाला का ये एपिसोड.

किताबवाला: तवलीन सिंह ने अखलाक़ की हत्या पर क्यों कुछ नहीं बोले थे पीएम मोदी?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल वीकली सीरीज. जिसमें हम बात करते हैं किसी एक खास किताब की. हमारे साथ में होते हैं उस किताब के लेखक. आज के एपिसोड में हम बात कर रहे हैं तवलीन सिंह की किताब  'Messiah Modi' की. तवलीन सिंह वरिष्ठ राजनीतिक पत्रकार और लेखक हैं.  देखिए किताबवाला का ये एपिसोड.
वीडियो

किताबवाला: गीत चतुर्वेदी ने बताया, 'प्रेम में डूबी स्त्री का चेहरा' कैसा दिखता है?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप की स्पेशल सीरीज. जो होती है किताबों पर, किताब लिखने वालों के साथ. आज हमारे साथ हैं गीत चतुर्वेदी. जाने माने पत्रकार, साहित्यकार, कहानीकार, कवि और ट्रांसलेटर. गीत चतुर्वेदी की नई कविता संग्रह आई है खुशियों के गुप्तचर. जिनसे न केवल हम उनकी कविताओं के बारे में बात करेंगे बल्कि कविताओं को सुनेंगे भी. देखिए किताबवाला का ये एपिसोड.

किताबवाला: गीत चतुर्वेदी ने बताया, 'प्रेम में डूबी स्त्री का चेहरा' कैसा दिखता है?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप की स्पेशल सीरीज. जो होती है किताबों पर, किताब लिखने वालों के साथ. आज हमारे साथ हैं गीत चतुर्वेदी. जाने माने पत्रकार, साहित्यकार, कहानीकार, कवि और ट्रांसलेटर. गीत चतुर्वेदी की नई कविता संग्रह आई है खुशियों के गुप्तचर. जिनसे न केवल हम उनकी कविताओं के बारे में बात करेंगे बल्कि कविताओं को सुनेंगे भी. देखिए किताबवाला का ये एपिसोड.
वीडियो

किताबवाला: तिहाड़ में कैदी मालिश से लेकर फांसी तक के खौफनाक सच सामने आए

किताबवाला के इस नए एपिसोड में मुलाकात 'ब्लैक वॉरेंट-कन्फेशंस ऑफ अ तिहाड़ जेलर' के लेखक सुनील गुप्ता से, जो तिहाड़ जेल के जेलर रहे हैं. इस किताब के प्रकाशित किया है रोली पब्लिकेशन ने और किताब लिखने में सुनील गुप्ता का साथ दिया है सुनेत्रा चौधरी ने. किताबवाला के इस एपिसोड में बताया कि उनके ज़माने में जेल के भीतर जेलरों की नहीं, बल्कि दुनिया भर के कुख्यात सीरियल किलर, दुष्कर्मी, अंतर्राष्ट्रीय ड्रग तस्कर व मास्टरमाइंड ठग चार्ल्स शोभराज की बादशाहत चला करती थी. इसके अलावा उन्होंने जेल के भीतर के कई ऐसे राज़ इस किताब में खोले हैं जिसकी वजह से आप ये किताब ज़रूर पढ़ना चाहेंगे. किताबवाला का आखिरी एपिसोड देखने के लिए यहां क्लिक करें  

किताबवाला: तिहाड़ में कैदी मालिश से लेकर फांसी तक के खौफनाक सच सामने आए

किताबवाला के इस नए एपिसोड में मुलाकात 'ब्लैक वॉरेंट-कन्फेशंस ऑफ अ तिहाड़ जेलर' के लेखक सुनील गुप्ता से, जो तिहाड़ जेल के जेलर रहे हैं. इस किताब के प्रकाशित किया है रोली पब्लिकेशन ने और किताब लिखने में सुनील गुप्ता का साथ दिया है सुनेत्रा चौधरी ने. किताबवाला के इस एपिसोड में बताया कि उनके ज़माने में जेल के भीतर जेलरों की नहीं, बल्कि दुनिया भर के कुख्यात सीरियल किलर, दुष्कर्मी, अंतर्राष्ट्रीय ड्रग तस्कर व मास्टरमाइंड ठग चार्ल्स शोभराज की बादशाहत चला करती थी. इसके अलावा उन्होंने जेल के भीतर के कई ऐसे राज़ इस किताब में खोले हैं जिसकी वजह से आप ये किताब ज़रूर पढ़ना चाहेंगे. किताबवाला का आखिरी एपिसोड देखने के लिए यहां क्लिक करें  
वीडियो

किताबवाला: अमित शाह ने नरेंद्र मोदी के लिए पर्दे के पीछे क्या-क्या काम किए?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल वीकली शो. जिसमें हम बात करते हैं किताबों के बारे में. और साथ में होतें हैं किताब के लेखक. किताबवाला के इस एपिसोड में हमारे साथ हैं वरिष्ठ पत्रकार संतोष कुमार. संतोष ने 2019 के लोकसभा चुनाव पर किताब लिखी है. किताब का नाम है, 'भारत कैसे हुआ मोदीमय: ऐतिहासिक जीत की अंतर्कथा.'  इस किताब को प्रभात प्रकाशन ने प्रकाशन किया है. संतोष लंबे समय से बीजेपी को कवर कर रहे हैं. और यही कारण है कि उनके पास पार्टी की ढेर सारी अंतर्कथाएं हैं. जिनके बारे में संतोष ने किताब में बताया है. देखिए इस हफ्ते का किताबवाला.

किताबवाला: अमित शाह ने नरेंद्र मोदी के लिए पर्दे के पीछे क्या-क्या काम किए?

किताबवाला. दी लल्लनटॉप का स्पेशल वीकली शो. जिसमें हम बात करते हैं किताबों के बारे में. और साथ में होतें हैं किताब के लेखक. किताबवाला के इस एपिसोड में हमारे साथ हैं वरिष्ठ पत्रकार संतोष कुमार. संतोष ने 2019 के लोकसभा चुनाव पर किताब लिखी है. किताब का नाम है, 'भारत कैसे हुआ मोदीमय: ऐतिहासिक जीत की अंतर्कथा.'  इस किताब को प्रभात प्रकाशन ने प्रकाशन किया है. संतोष लंबे समय से बीजेपी को कवर कर रहे हैं. और यही कारण है कि उनके पास पार्टी की ढेर सारी अंतर्कथाएं हैं. जिनके बारे में संतोष ने किताब में बताया है. देखिए इस हफ्ते का किताबवाला.
वीडियो

किताबवाला: मशहूर एक्टर बलराज सहनी नास्तिक थे पर गुरु ग्रंथ साहिब पढ़ते मिले

मशहूर एक्टर परिक्षित सहनी की किताब 'नॉन कन्फर्मिस्ट मेमरीज़ ऑफ माई फादर बलराज सहनी'. जिसे पेंग्विन ने छापा है. किताबवाला के इस एपिसोड में एडिटर सौरव द्विवेदी ने परिक्षित सहनी से इस किताब और सिनेमा से जुड़े कई सवाल पूछे. जिसका उन्होंने विस्तार से जवाब दिया. वैसे कई लोगों को इनके नाम को लेकर भी कन्फ्यूज़न की स्थिति बनी रहती है, परिक्षित सहनी ने अपने नाम से जुड़ा किस्सा भी बताया. फिल्म 3 इडियट्स, पीके और लगे रहो मुन्ना भाई जैसी फिल्मों में काम कर चुके परिक्षित सहनी की किताब में क्या-क्या खास बातें हैं, इसे जानने के लिए ये वीडियो आपको ज़रूर देखना चाहिए. इस वीडियो में आपको किताब की जानकारी के अलावा मशहूर एक्टर बलराज सहनी के बारे में भी कई नई बातें भी पता चलेंगी.

किताबवाला: मशहूर एक्टर बलराज सहनी नास्तिक थे पर गुरु ग्रंथ साहिब पढ़ते मिले

मशहूर एक्टर परिक्षित सहनी की किताब 'नॉन कन्फर्मिस्ट मेमरीज़ ऑफ माई फादर बलराज सहनी'. जिसे पेंग्विन ने छापा है. किताबवाला के इस एपिसोड में एडिटर सौरव द्विवेदी ने परिक्षित सहनी से इस किताब और सिनेमा से जुड़े कई सवाल पूछे. जिसका उन्होंने विस्तार से जवाब दिया. वैसे कई लोगों को इनके नाम को लेकर भी कन्फ्यूज़न की स्थिति बनी रहती है, परिक्षित सहनी ने अपने नाम से जुड़ा किस्सा भी बताया. फिल्म 3 इडियट्स, पीके और लगे रहो मुन्ना भाई जैसी फिल्मों में काम कर चुके परिक्षित सहनी की किताब में क्या-क्या खास बातें हैं, इसे जानने के लिए ये वीडियो आपको ज़रूर देखना चाहिए. इस वीडियो में आपको किताब की जानकारी के अलावा मशहूर एक्टर बलराज सहनी के बारे में भी कई नई बातें भी पता चलेंगी.
वीडियो

'आज फिर जीने की तमन्ना है' गाना, गाइड फिल्म में क्यों नहीं चाहते थे देव आनंद?

प्रभात प्रकाशन से छपी शिवेंद्र कुमार सिंह और गिरिजेश कुमार की किताब 'रागगीरी' फिल्मी संगीत में शास्त्रीय रागों की अनुसनी कहानी का अद्भुत संग्रह है. जिसे आप किसी भी सूरत में मिस नहीं करना चाहेंगे. इस किताब के लेखक शिवेंद्र कुमार सिंह हैं जो पेशे से पत्रकार रहे हैं. जबकि दूसरे लेखक गिरिजेश भी पेशे से पत्रकार ही हैं. किताबवाला के इस एपिसोड में शिवेंद्र कुमार सिंह से खास बातचीत है जिन्होंने 'रागगीरी' के बारे में विस्तार से बात की है. इस किताब की खूबियां बताई हैं. साथ ही है हर राग से जुड़ा एक दिलचस्प किस्सा, जिन्हें जोड़कर 'रागगीरी' का निर्माण हुआ है. किताब रागगीरी को इन लिंक्स के जरिए खरीदा जा सकता है. Amazon- https://amzn.to/33lvKEJ Flipkart- https://bit.ly/2My7VTt Prabhat Prakashan- https://www.prabhatbooks.com/raaggiri.htm

'आज फिर जीने की तमन्ना है' गाना, गाइड फिल्म में क्यों नहीं चाहते थे देव आनंद?

प्रभात प्रकाशन से छपी शिवेंद्र कुमार सिंह और गिरिजेश कुमार की किताब 'रागगीरी' फिल्मी संगीत में शास्त्रीय रागों की अनुसनी कहानी का अद्भुत संग्रह है. जिसे आप किसी भी सूरत में मिस नहीं करना चाहेंगे. इस किताब के लेखक शिवेंद्र कुमार सिंह हैं जो पेशे से पत्रकार रहे हैं. जबकि दूसरे लेखक गिरिजेश भी पेशे से पत्रकार ही हैं. किताबवाला के इस एपिसोड में शिवेंद्र कुमार सिंह से खास बातचीत है जिन्होंने 'रागगीरी' के बारे में विस्तार से बात की है. इस किताब की खूबियां बताई हैं. साथ ही है हर राग से जुड़ा एक दिलचस्प किस्सा, जिन्हें जोड़कर 'रागगीरी' का निर्माण हुआ है. किताब रागगीरी को इन लिंक्स के जरिए खरीदा जा सकता है. Amazon- https://amzn.to/33lvKEJ Flipkart- https://bit.ly/2My7VTt Prabhat Prakashan- https://www.prabhatbooks.com/raaggiri.htm
वीडियो

किताबवाला: मनीष सिसोदिया के सामने लेडी टीचर के रोने की वजह आपको भावुक कर देगी

किताबवाला के इस नए एपिसोड में दिल्ली सरकार के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से खास बातचीत है. मनीष सिसोदिया ने दिल्ली सरकार में शिक्षा मंत्री का पदभार संभालने के साथ ही कई बदलाव किए. दिल्ली में सरकारी स्कूलों की व्यवस्था सुधारने में इनका बड़ा योगदान है. साल 2015 में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद उन्होंने स्कूलों को लेकर जितने काम किए उसे उन्होंने एक किताब की शक्ल दी है. इस किताब का नाम है 'शिक्षा'. इस इंटरव्यू को या फिर किताबवाला सेगमेंट के इस नए वीडियो को आपको ज़रूर देखना चाहिए.

किताबवाला: मनीष सिसोदिया के सामने लेडी टीचर के रोने की वजह आपको भावुक कर देगी

किताबवाला के इस नए एपिसोड में दिल्ली सरकार के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से खास बातचीत है. मनीष सिसोदिया ने दिल्ली सरकार में शिक्षा मंत्री का पदभार संभालने के साथ ही कई बदलाव किए. दिल्ली में सरकारी स्कूलों की व्यवस्था सुधारने में इनका बड़ा योगदान है. साल 2015 में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद उन्होंने स्कूलों को लेकर जितने काम किए उसे उन्होंने एक किताब की शक्ल दी है. इस किताब का नाम है 'शिक्षा'. इस इंटरव्यू को या फिर किताबवाला सेगमेंट के इस नए वीडियो को आपको ज़रूर देखना चाहिए.