Submit your post

Follow Us

वीडियो

हिमाचल विधानसभा चुनाव 2017 में सोलन ज़िले की अर्की सीट पर कौन जीता था?

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 में सोलन ज़िले की अर्की सीट सबसे ज़्यादा चर्चित रही थी. इस सीट से 6 बार मुख्यमंत्री रहे कांग्रेस के वीरभद्र सिंह लड़े थे. उन्होंने अपनी सीट शिमला, रूरल बेटे विक्रमादित्य के लिए छोड़ दी थी. वहीं बीजेपी ने अर्की सीट पर दो बार से विधायक गोविंद राम शर्मा की जगह रतनसिंह पाल को उतारा था. रतनसिंह पाल का ये पहला चुनाव था और वो लंबे समय से RSS से जुड़े रहे हैं. उन्होंने अपनी किसान वाली इमेज भुनाने की खूब कोशिश की थी. लेकिन ये सब काम नहीं आया और वीरभद्र सिंह ने ये चुनाव 6051 मतों से जीता.

हिमाचल विधानसभा चुनाव 2017 में सोलन ज़िले की अर्की सीट पर कौन जीता था?

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 में सोलन ज़िले की अर्की सीट सबसे ज़्यादा चर्चित रही थी. इस सीट से 6 बार मुख्यमंत्री रहे कांग्रेस के वीरभद्र सिंह लड़े थे. उन्होंने अपनी सीट शिमला, रूरल बेटे विक्रमादित्य के लिए छोड़ दी थी. वहीं बीजेपी ने अर्की सीट पर दो बार से विधायक गोविंद राम शर्मा की जगह रतनसिंह पाल को उतारा था. रतनसिंह पाल का ये पहला चुनाव था और वो लंबे समय से RSS से जुड़े रहे हैं. उन्होंने अपनी किसान वाली इमेज भुनाने की खूब कोशिश की थी. लेकिन ये सब काम नहीं आया और वीरभद्र सिंह ने ये चुनाव 6051 मतों से जीता.
वीडियो

हिमाचल विधानसभा चुनाव 2017 में नादौन सीट किसने जीती?

2017 विधानसभा चुनाव में नादौन सीट पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू ने बीजेपी के विजय अग्निहोत्री को 2,349 वोटों से हराया. नादौन ऐतिहासिक रूप से समृद्ध, लेकिन विकास की निगाह से पिछड़ा दिखता है. हालांकि, इसका एक कारण ये भी है कि इस इलाके में गांव बहुत हैं. लोग मुख्यत: खेती पर निर्भर हैं. 2012 के चुनाव में इस सीट पर बीजेपी को 15 साल बाद जीत मिली थी. 2017 में कांग्रेस ने इस सीट पर प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू को उतारा था. वीरभद्र सिंह का ये आखिरी चुनाव माना जा रहा था, ऐसे में सुक्खू के 2022 के रास्ते के लिहाज़ से ये चुनाव महत्वपूर्ण था. सुक्खू हिमाचल युवा कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे हैं.

हिमाचल विधानसभा चुनाव 2017 में नादौन सीट किसने जीती?

2017 विधानसभा चुनाव में नादौन सीट पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू ने बीजेपी के विजय अग्निहोत्री को 2,349 वोटों से हराया. नादौन ऐतिहासिक रूप से समृद्ध, लेकिन विकास की निगाह से पिछड़ा दिखता है. हालांकि, इसका एक कारण ये भी है कि इस इलाके में गांव बहुत हैं. लोग मुख्यत: खेती पर निर्भर हैं. 2012 के चुनाव में इस सीट पर बीजेपी को 15 साल बाद जीत मिली थी. 2017 में कांग्रेस ने इस सीट पर प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू को उतारा था. वीरभद्र सिंह का ये आखिरी चुनाव माना जा रहा था, ऐसे में सुक्खू के 2022 के रास्ते के लिहाज़ से ये चुनाव महत्वपूर्ण था. सुक्खू हिमाचल युवा कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे हैं.
वीडियो

कांग्रेस के कद्दावर नेता जीएस बाली का क्या हाल हुआ?

हिमाचल विधानसभा चुनाव 2017 में कांगड़ा ज़िले की नगरोटा सीट पर अरुण कुमार कूका ने कद्दावर नेता जीएस बाली को 1000 मतों से हराया. जीएस बाली चार बार से सत्ता पर काबिज़ थे. नगरोटा की इस सीट पर अभी तक उन्हीं का दबदबा था. वीडियो से जानिए 2017 में जीएस बाली की हार के पीछे क्या कारण रहे.

कांग्रेस के कद्दावर नेता जीएस बाली का क्या हाल हुआ?

हिमाचल विधानसभा चुनाव 2017 में कांगड़ा ज़िले की नगरोटा सीट पर अरुण कुमार कूका ने कद्दावर नेता जीएस बाली को 1000 मतों से हराया. जीएस बाली चार बार से सत्ता पर काबिज़ थे. नगरोटा की इस सीट पर अभी तक उन्हीं का दबदबा था. वीडियो से जानिए 2017 में जीएस बाली की हार के पीछे क्या कारण रहे.
चुनाव

जब धूमल के घर झूठा फोन कॉल आया और सब खुशियां मनाने लगे

जब धूमल के घर झूठा फोन कॉल आया और सब खुशियां मनाने लगे

18 दिसंबर को हिमाचल प्रदेश में जैसे-जैसे काउंटिंग बढ़ रही थी, शिमला के बीजेपी दफ्तर में नारों का शोर तेज़ हो रहा था. लेकिन हमीरपुर जिले के समीरपुर गांव में माहौल एकदम उलट था. ये प्रेम कुमार धूमल का गांव है, जिन्हें बीजेपी ने सीएम कैंडिडेट घोषित किया था. धूमल चुनाव हार गए. कांग्रेस ने … और पढ़ें जब धूमल के घर झूठा फोन कॉल आया और सब खुशियां मनाने लगे

वीडियो

HP में BJP के बड़े चेहरे, जो मोदी लहर के बाद भी हारे

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 में बीजेपी को जीत हासिल हुई. 68 में से 44 सीटें बीजेपी के पाले में गईं, वहीं कांग्रेस के खेमे में 21 सीटें आईं. लेकिन मोदी लहर के बावजूद बीजेपी के कई बड़े चेहरे हैं, जो हिमाचल में हार गए. इस लिस्ट में सबसे चौंकाने वाला नाम है खुद प्रेम कुमार धूमल का. वो हमीरपुर में सुजानपुर सीट पर रजिंदर सिंह राणा से हारे. जानिए बीजेपी के और दिग्गजों के बारे में जो हिमाचल में अपनी सीट पर हार गए.

HP में BJP के बड़े चेहरे, जो मोदी लहर के बाद भी हारे

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 में बीजेपी को जीत हासिल हुई. 68 में से 44 सीटें बीजेपी के पाले में गईं, वहीं कांग्रेस के खेमे में 21 सीटें आईं. लेकिन मोदी लहर के बावजूद बीजेपी के कई बड़े चेहरे हैं, जो हिमाचल में हार गए. इस लिस्ट में सबसे चौंकाने वाला नाम है खुद प्रेम कुमार धूमल का. वो हमीरपुर में सुजानपुर सीट पर रजिंदर सिंह राणा से हारे. जानिए बीजेपी के और दिग्गजों के बारे में जो हिमाचल में अपनी सीट पर हार गए.
वीडियो

हिमाचल प्रदेश के BJP CM कैंडीडेट को किसने सेट किया

हिमाचल प्रदेश में बीजेपी के सीएम कैंडिडेट थे प्रेम कुमार धूमल. ये दो बार हिमाचल के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं. लेकिन 18 दिसंबर, 2017 को आए नतीजों में वो अपना चुनाव 1919 वोटों से हार गए. उन्हें कांग्रेस के रजिंदर राणा ने हराया. ये वही रजिंदर राणा हैं, जो कभी प्रेम कुमार धूमल से सियासत की बारीकियां सीखते थे. उनका मीडिया प्रबंधन किया करते थे. जानिए प्रेम कुमार धूमल के हारने के पीछे क्या वजहें रहीं.

हिमाचल प्रदेश के BJP CM कैंडीडेट को किसने सेट किया

हिमाचल प्रदेश में बीजेपी के सीएम कैंडिडेट थे प्रेम कुमार धूमल. ये दो बार हिमाचल के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं. लेकिन 18 दिसंबर, 2017 को आए नतीजों में वो अपना चुनाव 1919 वोटों से हार गए. उन्हें कांग्रेस के रजिंदर राणा ने हराया. ये वही रजिंदर राणा हैं, जो कभी प्रेम कुमार धूमल से सियासत की बारीकियां सीखते थे. उनका मीडिया प्रबंधन किया करते थे. जानिए प्रेम कुमार धूमल के हारने के पीछे क्या वजहें रहीं.
वीडियो

हिमाचल चुनावी नतीजों का लल्लनटॉप ऐनालिसिस

लल्लनटॉप ने साल 2017 में तीन चुनावी यात्रा की. पहली उत्तर प्रदेश की. फिर हिमाचल और आखिर में गुजरात की. तीनों के विधानसभा चुनाव, 2017 में हुए. ये वीडियो हिमाचल का हर हाल बताता है. जानिए साल 2012 में हिमाचल विधानसभा चुनाव जीतने वाली कांग्रेस, 2017 में किन वजहों से बीजेपी से हार गई. सुनिए हिमाचल चुनावी नतीजों का लल्लनटॉप ऐनालिसिस.

हिमाचल चुनावी नतीजों का लल्लनटॉप ऐनालिसिस

लल्लनटॉप ने साल 2017 में तीन चुनावी यात्रा की. पहली उत्तर प्रदेश की. फिर हिमाचल और आखिर में गुजरात की. तीनों के विधानसभा चुनाव, 2017 में हुए. ये वीडियो हिमाचल का हर हाल बताता है. जानिए साल 2012 में हिमाचल विधानसभा चुनाव जीतने वाली कांग्रेस, 2017 में किन वजहों से बीजेपी से हार गई. सुनिए हिमाचल चुनावी नतीजों का लल्लनटॉप ऐनालिसिस.
वीडियो

गुजरात चुनावी नतीजों का लल्लनटॉप ऐनालिसिस

दी लल्लनटॉप ने हिमाचल प्रदेश और गुजरात की चुनावी यात्रा की थी. ऐसा कोई ज़िला नहीं था, जहां हमारी टीमें नहीं पहुंची थीं. इन दोनों राज्यों के विधानसभा चुनाव 2017 के नतीजों में बीजेपी को स्पष्ट बहुमत हासिल हुआ है. वीडियो से जानिए हिमाचल और गुजरात की ज़मीनी हकीकत. वो मुद्दे जिन पर इस चुनाव में बात नहीं हुई. साथ ही जानिए बीजेपी की जीत और कांग्रेस की हार के पीछे क्या-क्या फ़ैक्टर रहे.

गुजरात चुनावी नतीजों का लल्लनटॉप ऐनालिसिस

दी लल्लनटॉप ने हिमाचल प्रदेश और गुजरात की चुनावी यात्रा की थी. ऐसा कोई ज़िला नहीं था, जहां हमारी टीमें नहीं पहुंची थीं. इन दोनों राज्यों के विधानसभा चुनाव 2017 के नतीजों में बीजेपी को स्पष्ट बहुमत हासिल हुआ है. वीडियो से जानिए हिमाचल और गुजरात की ज़मीनी हकीकत. वो मुद्दे जिन पर इस चुनाव में बात नहीं हुई. साथ ही जानिए बीजेपी की जीत और कांग्रेस की हार के पीछे क्या-क्या फ़ैक्टर रहे.
झमाझम

ईवीएम में गड़बड़ी पर इलेक्शन कमीशन ने क्या सच में ये लेटर जारी किया था?

ईवीएम में गड़बड़ी पर इलेक्शन कमीशन ने क्या सच में ये लेटर जारी किया था?

गुजरात चुनाव के नतीजे आने के दो-तीन दिन पहले से ही पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ईवीएम के खिलाफ माहौल बनाने लगे थे. कह रहे थे- ईवीएम को हैक करने की तैयारी है. अहमदाबाद की एक कंपनी के इंजीनियर 5000 ईवीएम के सोर्स कोड से हैकिंग करने वाले हैं. हार्दिक का तर्क भी बड़ा साइंटिफिक था- … और पढ़ें ईवीएम में गड़बड़ी पर इलेक्शन कमीशन ने क्या सच में ये लेटर जारी किया था?

चुनाव

हिमाचल में बीजेपी के सीएम कैंडिडेट धूमल की हार में इन दो नेताओं की जीत छिपी है

हिमाचल में बीजेपी के सीएम कैंडिडेट धूमल की हार में इन दो नेताओं की जीत छिपी है

पहले कैंडिडेट जयराम ठाकुर सीट- सेराज जिला- मंडी प्रेमकुमार धूमल के सुजानपुर की सीट पर हारने के बाद हिमाचल में असल राजनीति खुलकर सामने आ रही है. मंडी की सेराज वेली से विधायक या यूं कहा जाए कि 5 बार के विधायक जयराम अचानक उभरा वो चेहरा है जिसे मुख्यमंत्री पद की रेस में सबसे … और पढ़ें हिमाचल में बीजेपी के सीएम कैंडिडेट धूमल की हार में इन दो नेताओं की जीत छिपी है