Submit your post

Follow Us

झमाझम

पड़ताल: क्या राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने कुंभलगढ़ किले में नमाज़ पढ़ने की इजाज़त दी है?

'दी लल्लनटॉप' की एंटी फ़ेक न्यूज़ वर्कशॉप में ऑडियंस ने जानना चाहा इस ख़बर का सच.

पड़ताल: क्या राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने कुंभलगढ़ किले में नमाज़ पढ़ने की इजाज़त दी है?

‘दी लल्लनटॉप’ देश में चल रहे लोकसभा चुनाव की ग्राउंड से सीधी कवरेज आप तक पहुंचा रहा है. इसके अलावा फेसबुक के साथ मिलकर देश के अलग-अलग इलाकों में फ़ेक न्यूज़ से बचने के लिए वर्कशॉप भी कर रहा है. लोगों से जान रहा है कि उन्हें किन ख़बरों के फ़ेक होने पर शक है. … और पढ़ें पड़ताल: क्या राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने कुंभलगढ़ किले में नमाज़ पढ़ने की इजाज़त दी है?

वीडियो

पड़ताल: इंदिरा गांधी के पति फिरोज़ गांधी और जवाहरलाल नेहरू के पूर्वजों के मुसलमान होने सच्चाई जान लीजिए

‘दी लल्लनटॉप’ देश में चल रहे लोकसभा चुनावों की ग्राउंड से सीधी कवरेज आप तक पहुंचा रहा है. इसके अलावा फेसबुक के साथ मिलकर देश के अलग-अलग इलाकों में फ़ेक न्यूज़ से बचने के लिए वर्कशॉप भी कर रहा है. और लोगों से जान रहा है कि उन्हें किन ख़बरों के फ़ेक होने पर शक है. इस कड़ी में हमारी टीम पहुंची देश के पश्चिमी राज्य गुजरात में. यहां के वडोदरा शहर में ‘दी लल्लनटॉप’ के रिपोर्टर निखिल ने ऐसी ही वर्कशॉप की. वर्कशॉप अटेंड कर रहे मितेश पटेल को एक ख़बर पर शक था. एक वायरल मैसेज की सच्चाई जानना चाहते हैं, जिसमें दावा किया जा रहा है कि देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के पूर्वज मुस्लिम थे. और उनकी बेटी और देश की प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा गांधी ने एक मुस्लिम से शादी की थी. मितेश चाहते हैं कि ‘दी लल्लनटॉप’ इसकी ख़बर की पड़ताल करे और उन तक सच पहुंचाए. हमने इस दावे की पड़ताल की. आप भी देखिए इस दावे की सच्चाई क्या है.

पड़ताल: इंदिरा गांधी के पति फिरोज़ गांधी और जवाहरलाल नेहरू के पूर्वजों के मुसलमान होने सच्चाई जान लीजिए

‘दी लल्लनटॉप’ देश में चल रहे लोकसभा चुनावों की ग्राउंड से सीधी कवरेज आप तक पहुंचा रहा है. इसके अलावा फेसबुक के साथ मिलकर देश के अलग-अलग इलाकों में फ़ेक न्यूज़ से बचने के लिए वर्कशॉप भी कर रहा है. और लोगों से जान रहा है कि उन्हें किन ख़बरों के फ़ेक होने पर शक है. इस कड़ी में हमारी टीम पहुंची देश के पश्चिमी राज्य गुजरात में. यहां के वडोदरा शहर में ‘दी लल्लनटॉप’ के रिपोर्टर निखिल ने ऐसी ही वर्कशॉप की. वर्कशॉप अटेंड कर रहे मितेश पटेल को एक ख़बर पर शक था. एक वायरल मैसेज की सच्चाई जानना चाहते हैं, जिसमें दावा किया जा रहा है कि देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के पूर्वज मुस्लिम थे. और उनकी बेटी और देश की प्रधानमंत्री रहीं इंदिरा गांधी ने एक मुस्लिम से शादी की थी. मितेश चाहते हैं कि ‘दी लल्लनटॉप’ इसकी ख़बर की पड़ताल करे और उन तक सच पहुंचाए. हमने इस दावे की पड़ताल की. आप भी देखिए इस दावे की सच्चाई क्या है.
झमाझम

पड़ताल: क्या जवाहरलाल नेहरू के पूर्वज मुस्लिम थे?

इंदिरा गांधी के पति फिरोज़ गांधी को भी मुस्लिम बताया जा रहा है.

पड़ताल: क्या जवाहरलाल नेहरू के पूर्वज मुस्लिम थे?

‘दी लल्लनटॉप’ देश में चल रहे लोकसभा चुनावों की ग्राउंड से सीधी कवरेज आप तक पहुंचा रहा है. इसके अलावा फेसबुक के साथ मिलकर देश के अलग-अलग इलाकों में फ़ेक न्यूज़ से बचने के लिए वर्कशॉप भी कर रहा है. और लोगों से जान रहा है कि उन्हें किन ख़बरों के फ़ेक होने पर शक … और पढ़ें पड़ताल: क्या जवाहरलाल नेहरू के पूर्वज मुस्लिम थे?

झमाझम

अटल की अंतिम यात्रा का वीडियो नरेंद्र मोदी के नॉमिनेशन की भीड़ बताकर वायरल किया

जिसने ये वीडियो वायरल किया, उसके लिए अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा का वीडियो भी वोट का एक जरिया है.

अटल की अंतिम यात्रा का वीडियो नरेंद्र मोदी के नॉमिनेशन की भीड़ बताकर वायरल किया

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है. इस वीडियो को लेकर कहा जा रहा है कि नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव के लिए जब नामांकन करने के लिए जा रहे हैं, उस वक्त की भीड़ देखिए. सृष्टिराज सिंह के नाम से एक आदमी ने अपने फेसबुक पेज से एक वीडियो शेयर … और पढ़ें अटल की अंतिम यात्रा का वीडियो नरेंद्र मोदी के नॉमिनेशन की भीड़ बताकर वायरल किया

झमाझम

क्या मिस्त्री का काम करने वाले सुमित बने IAS?

एमपी के सुमित विश्वकर्मा के नाम से एक सक्सेस स्टोरी वायरल हो रही है.

क्या मिस्त्री का काम करने वाले सुमित बने IAS?

बीते शुक्रवार को UPSC का रिजल्ट आया. बहुत सारे लोगों की सक्सेस स्टोरी शेयर हो रही है. IAS, IPS और IFS जैसे पदों के लिए टोटल 759 कैंडीडेट्स के नामों का ऐलान हुआ है. इन्हीं में से एक नाम है सुमित कुमार. इस नाम के साथ दिक्कत ये है कि मीडिया और सोशल मीडिया पर … और पढ़ें क्या मिस्त्री का काम करने वाले सुमित बने IAS?