Submit your post

Follow Us

न्यूज़

लॉकडाउन में राम गोपाल वर्मा ने कांड कर दिया है, उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा

लॉकडाउन में राम गोपाल वर्मा ने कांड कर दिया है, उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा

”जब तमाम फिल्मी लोग झाड़ू-पोछा, खाना बनाने, बर्तन धोने और कपड़े सुखाने में लगे थे, तब मैंने एक फिल्म बना दी.” ये कहना है मशहूर फिल्ममेकर राम गोपाल वर्मा का. और उनका कहना फैक्चुअली करेक्ट है. राम गोपाल वर्मा शॉर्ट में रामू ने ‘कोरोनावायरस’ नाम की फिल्म बनाई और उसका ट्रेलर भी रिलीज़ कर दिया. … और पढ़ें लॉकडाउन में राम गोपाल वर्मा ने कांड कर दिया है, उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा

भैरंट

कोरोना डायरीज़: 'टीवी से धार्मिक नफरत का ज़हर पी रहे अपने पिता को कैसे समझाऊं?'

कोरोना डायरीज़: 'टीवी से धार्मिक नफरत का ज़हर पी रहे अपने पिता को कैसे समझाऊं?'

नाम – कृष्ण ताखर काम – पी.एच.डी. स्कॉलर जगह – चिड़ावा, राजस्थान सब दोस्तों को नमस्कार. लॉकडाउन में घर बैठा हुआ नॉवल पढ़ रहा हूं. अल्बर्ट कामु का नॉवल ‘द प्लेग’. कोरोना महामारी के समय में इस नॉवल की अलग ही सार्थकता है. घर वालों के साथ बैठकर हर रोज़ एक कहानी भी पढ़ता हूं. … और पढ़ें कोरोना डायरीज़: ‘टीवी से धार्मिक नफरत का ज़हर पी रहे अपने पिता को कैसे समझाऊं?’

भैरंट

कोरोना डायरीज़: जब टिक-टॉक बनाने वाले पुलिस को देखकर डिसेबल होने की एक्टिंग करने लगे

कोरोना डायरीज़: जब टिक-टॉक बनाने वाले पुलिस को देखकर डिसेबल होने की एक्टिंग करने लगे

नाम- सृष्टि काम- साइकोलॉजी स्टूडेंट, लेडी श्री राम कॉलेज, दिल्ली जगह- दिल्ली मैं और मेरे जैसे इस लॉकडाउन को अलग तरह से एंजॉय कर रहे. वो शायद ऐसा है कि सबकुछ पलट गया है. जैसे मेरी रुटीन. मैं पहले सुबह 5:30 तक उठ जाती थी. अब इस समय सोने जाती हूं. मुझे कॉलेज जाने में दो … और पढ़ें कोरोना डायरीज़: जब टिक-टॉक बनाने वाले पुलिस को देखकर डिसेबल होने की एक्टिंग करने लगे

भैरंट

कोरोना डायरीज़: ये लड़की पुराने अखबार में क्या चीज तलाशती रहती है?

कोरोना डायरीज़: ये लड़की पुराने अखबार में क्या चीज तलाशती रहती है?

नाम- नेहा नेत्री राय काम- यूपीएसी की तैयारी जगह- बनारस मैं बिहार की हूं. आरा की. पिछले 6 साल से बनारस में रह रही हूं. बीएचयू में पढ़ती थी. एमए कर लिया. अब हॉस्टल से निकलना पड़ा तो कैम्पस के बाहर कमरा लेकर रहती हूं. UPSC की तैयारी करती हूं. एक टाइम के बाद यही … और पढ़ें कोरोना डायरीज़: ये लड़की पुराने अखबार में क्या चीज तलाशती रहती है?

भैरंट

कोरोना डायरीज: 1999 में बिहार से दिल्ली आए उदय कहते हैं, 'बिना कोरोना हुए मर जाएंगे'

कोरोना डायरीज: 1999 में बिहार से दिल्ली आए उदय कहते हैं, 'बिना कोरोना हुए मर जाएंगे'

नाम- उदय कुमार काम – इलेक्ट्रीशियन पता – दिल्ली हमारा नाम उदय है. हम दिल्ली आ गए थे सन 1999 में. घर से भाग कर यहां आए थे. लोग वहां बिहार में बताता था कि दिल्ली है दिलवालों की. बोलता था कि वहां आदमी भूखों नहीं मरता. घर पे पईसा रुपया का दिक्कत था ही. … और पढ़ें कोरोना डायरीज: 1999 में बिहार से दिल्ली आए उदय कहते हैं, ‘बिना कोरोना हुए मर जाएंगे’

भैरंट

कोरोना डायरीज: लॉकडाउन में इन लड़कियों ने जो बांटा, वो देश-दुनिया के हर राहत पैकेट में होना चाहिए

कोरोना डायरीज: लॉकडाउन में इन लड़कियों ने जो बांटा, वो देश-दुनिया के हर राहत पैकेट में होना चाहिए

नाम- सना श्रीवास्तव काम – मीडिया स्टूडेंट पता –   दिल्ली सोसायटी के लिए कुछ करना था इसलिए मीडिया की पढ़ाई चुनी. लेकिन जल्दी समझ आ गया कि सिर्फ़ इतने भर से बात बनेगी नहीं. पिछले साल कुछ दोस्तों के साथ फ़ील्ड पर निकल पड़ी. सटीक और सॉलिड चेंज लाने के लिए. भरोसा दिलाने के लिए … और पढ़ें कोरोना डायरीज: लॉकडाउन में इन लड़कियों ने जो बांटा, वो देश-दुनिया के हर राहत पैकेट में होना चाहिए

भैरंट

कोरोना डायरीज़: इस लड़की ने लॉकडाउन में जो सीख लिया, देखकर अच्छा लगेगा!

कोरोना डायरीज़: इस लड़की ने लॉकडाउन में जो सीख लिया, देखकर अच्छा लगेगा!

नाम- हर्षिका काम- स्टूडेंट जगह- बनारस मैं एक घर में लगभग बंद हूं. लगभग शब्द इसलिए कह रही, क्योंकि दिन में एक बार दूध लेने के लिए बाहर निकलना पड़ता है. सुबह 7 बजे तक उठ जाओ तो दूध मिल जाता है बाकी अगर नींद नहीं खुले तो दूध नहीं मिलता और तब दिन भर … और पढ़ें कोरोना डायरीज़: इस लड़की ने लॉकडाउन में जो सीख लिया, देखकर अच्छा लगेगा!

वीडियो

कोरोना डायरीज़: लॉकडाउन में फंसे लोगों के लिए इसल लड़की के काम के आप फ़ैन हो जाएंगे

कोरोना डायरीज. अलग अलग लोगों की आपबीती. जगबीती. ताकि हम पढ़ें. संवेदनशील और समझदार हों. ये अकेले की लड़ाई नहीं है. इसलिए अनुभव साझा करना जरूरी है. इस वीडियो में अनुप्रिया अपनी कहानी बता रहे हैं. जो गुरुग्राम के एक कॉल सेंटर में काम करते थे. अगर आपका भी कोई खास एक्सपीरियंस है. तस्वीर या वीडियो है. तो हमें भेजें. corona.diaries.LT@gmail.com पर.

कोरोना डायरीज़: लॉकडाउन में फंसे लोगों के लिए इसल लड़की के काम के आप फ़ैन हो जाएंगे

कोरोना डायरीज. अलग अलग लोगों की आपबीती. जगबीती. ताकि हम पढ़ें. संवेदनशील और समझदार हों. ये अकेले की लड़ाई नहीं है. इसलिए अनुभव साझा करना जरूरी है. इस वीडियो में अनुप्रिया अपनी कहानी बता रहे हैं. जो गुरुग्राम के एक कॉल सेंटर में काम करते थे. अगर आपका भी कोई खास एक्सपीरियंस है. तस्वीर या वीडियो है. तो हमें भेजें. corona.diaries.LT@gmail.com पर.
वीडियो

करोना डायरीज़: पोलैंड में कोरोना वायरस से कैसे निबट रही है सरकार?

कोरोना डायरीज. अलग अलग लोगों की आपबीती. जगबीती. ताकि हम पढ़ें. संवेदनशील और समझदार हों. ये अकेले की लड़ाई नहीं है. इसलिए अनुभव साझा करना जरूरी है. इस वीडियो में सुभाष वशिष्ठ अपनी कहानी बता रहे हैं. जो पोलैंड से हैं. अगर आपका भी कोई खास एक्सपीरियंस है. तस्वीर या वीडियो है. तो हमें भेजें. corona.diaries.LT@gmail.com पर.

 

करोना डायरीज़: पोलैंड में कोरोना वायरस से कैसे निबट रही है सरकार?

कोरोना डायरीज. अलग अलग लोगों की आपबीती. जगबीती. ताकि हम पढ़ें. संवेदनशील और समझदार हों. ये अकेले की लड़ाई नहीं है. इसलिए अनुभव साझा करना जरूरी है. इस वीडियो में सुभाष वशिष्ठ अपनी कहानी बता रहे हैं. जो पोलैंड से हैं. अगर आपका भी कोई खास एक्सपीरियंस है. तस्वीर या वीडियो है. तो हमें भेजें. corona.diaries.LT@gmail.com पर.

 
भैरंट

कोरोना डायरीज़: जानिए क्यों लॉकडाउन न हो तो भी आईटी कंपनियां कुछ न करने के पैसे देती हैं

कोरोना डायरीज़: जानिए क्यों लॉकडाउन न हो तो भी आईटी कंपनियां कुछ न करने के पैसे देती हैं

नाम- प्रियेश काम- वेबसाइट डेवलपर जगह- नोएडा आईटी सेक्टर में नौकरी करने वालों को पता होगा, एक टर्म होता है, बेंच. बेंच उन टीम मेंबर को कहते हैं जिनके पास काम नहीं होता है. लेकिन वह कंपनी के हिस्सा होते हैं. एवरेज टाइम में 5% लोग मान सकते हैं इनकी संख्या दिखाकर ही आईटी सेक्टर … और पढ़ें कोरोना डायरीज़: जानिए क्यों लॉकडाउन न हो तो भी आईटी कंपनियां कुछ न करने के पैसे देती हैं