Submit your post

Follow Us

भैरंट

जब प्रधानमंत्री ने भरी संसद में मस्जिद बनवाने का वादा किया था

जब प्रधानमंत्री ने भरी संसद में मस्जिद बनवाने का वादा किया था

6 दिसंबर, 1992. वो दिन जब बाबरी मस्जिद को ढहाया गया था, तब पी. वी. नरसिम्हा राव देश के प्रधानमंत्री थे. राव ने अगले दिन यानी 7 दिसंबर, 1992 को संसद में भाषण दिया. भाषण में राव ने कई बार राज्य सरकार और मुख्यमंत्री का ज़िक्र किया है. वो उत्तर प्रदेश की BJP गवर्नमेंट और वहां के … और पढ़ें जब प्रधानमंत्री ने भरी संसद में मस्जिद बनवाने का वादा किया था

वीडियो

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन फाइल करेगा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड. यानी एआईएमपीएलबी ने 17 नवंबर यानी रविवार को एक बैठक की. अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ये बैठक बुलाई गई थी. बैठक में 45 सदस्य शामिल हुए. इस बैठक में तय हुआ कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन दायर की जाएगी. साथ ही AIMPLB का कहना है कि उसे मस्जिद के बदले दूसरी जगह पर दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन मंजूर नहीं है. उन्हें वही जमीन चाहिए जहां बाबरी मस्जिद बनी थी. उनका कहना है कि वे इसलिए अदालत नहीं गए थे कि उन्हें दूसरी जगह जमीन दे दी जाए.

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन फाइल करेगा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड. यानी एआईएमपीएलबी ने 17 नवंबर यानी रविवार को एक बैठक की. अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ये बैठक बुलाई गई थी. बैठक में 45 सदस्य शामिल हुए. इस बैठक में तय हुआ कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन दायर की जाएगी. साथ ही AIMPLB का कहना है कि उसे मस्जिद के बदले दूसरी जगह पर दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन मंजूर नहीं है. उन्हें वही जमीन चाहिए जहां बाबरी मस्जिद बनी थी. उनका कहना है कि वे इसलिए अदालत नहीं गए थे कि उन्हें दूसरी जगह जमीन दे दी जाए.
वीडियो

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जावेद अख्तर ने मस्जिद वाली ज़मीन पर ये सलाह दी

अयोध्या मामले में 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया. इसमें 2.77 एकड़ की विवादित ज़मीन पर रामलला का दावा माना गया. मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही कहीं और पांच एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है. अदालत के इस फैसले पर शायर जावेद अख़्तर की प्रतिक्रिया आई है. उनका मानना है कि मस्जिद के लिए जो पांच एकड़ की ज़मीन मिलेगी, वहां अस्पताल बनाया जाना चाहिए.

 

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जावेद अख्तर ने मस्जिद वाली ज़मीन पर ये सलाह दी

अयोध्या मामले में 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया. इसमें 2.77 एकड़ की विवादित ज़मीन पर रामलला का दावा माना गया. मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही कहीं और पांच एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है. अदालत के इस फैसले पर शायर जावेद अख़्तर की प्रतिक्रिया आई है. उनका मानना है कि मस्जिद के लिए जो पांच एकड़ की ज़मीन मिलेगी, वहां अस्पताल बनाया जाना चाहिए.

 
वीडियो

अयोध्या फैसले के दौरान ड्यूटी पर तैनात 5 पुलिस वाले वॉट्सऐप की वजह से सस्पेंड

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के दिन ड्यूटी के दौरान वॉट्सऐप का इस्तेमाल करना पुलिसवालों को भारी पड़ गया. मामला मध्यप्रदेश के जबलपुर का है. पांच पुलिसवालों को वॉट्सऐप पर चैटिंग की वजह से सजा मिली है.

 

अयोध्या फैसले के दौरान ड्यूटी पर तैनात 5 पुलिस वाले वॉट्सऐप की वजह से सस्पेंड

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के दिन ड्यूटी के दौरान वॉट्सऐप का इस्तेमाल करना पुलिसवालों को भारी पड़ गया. मामला मध्यप्रदेश के जबलपुर का है. पांच पुलिसवालों को वॉट्सऐप पर चैटिंग की वजह से सजा मिली है.

 
न्यूज़

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जावेद अख़्तर ने मस्जिद वाली ज़मीन पर ये सलाह दी है

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जावेद अख़्तर ने मस्जिद वाली ज़मीन पर ये सलाह दी है

अयोध्या मामले में 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया. इसमें 2.77 एकड़ की विवादित ज़मीन पर रामलला का दावा माना गया. मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही कहीं और पांच एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है. अदालत के इस फैसले पर शायर जावेद अख़्तर की प्रतिक्रिया आई है. उनका मानना … और पढ़ें अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जावेद अख़्तर ने मस्जिद वाली ज़मीन पर ये सलाह दी है

न्यूज़

नेशनल हेराल्ड ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आलोचना के बाद माफी मांग ली

नेशनल हेराल्ड ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आलोचना के बाद माफी मांग ली

9 नवंबर, 2019. सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की पीठ ने अयोध्या विवाद पर अंतिम फैसला सुनाया. पहले तो कोर्ट ने अपने विवादित भूमि पर सुन्नी वक्फ बोर्ड का दावा खारिज किया और कहा कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ ज़मीन कहीं और दी जाए. सुप्रीम कोर्ट ने निर्मोही अखाड़े का दावा भी खारिज … और पढ़ें नेशनल हेराल्ड ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आलोचना के बाद माफी मांग ली

वीडियो

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में स्कंद पुराण को भी आधार बनाया है

9 नवंबर, 2019. सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की पीठ ने अयोध्या विवाद पर अंतिम फैसला सुनाया. सुप्रीम कोर्ट की पांचों जजों की बेंच सर्वसम्मति से इस नतीजे पर पहुंची है. और इस नतीजे पर पहुंचने के लिए अदालत ने जिन दस्तावेज़ों को अहमियत दी, उनमें से एक है स्कंद पुराण.

   

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में स्कंद पुराण को भी आधार बनाया है

9 नवंबर, 2019. सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की पीठ ने अयोध्या विवाद पर अंतिम फैसला सुनाया. सुप्रीम कोर्ट की पांचों जजों की बेंच सर्वसम्मति से इस नतीजे पर पहुंची है. और इस नतीजे पर पहुंचने के लिए अदालत ने जिन दस्तावेज़ों को अहमियत दी, उनमें से एक है स्कंद पुराण.

   
वीडियो

अयोध्या फैसला: गवाह राजिंदर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में बताया

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या ज़मीन विवाद पर फैसला सुना दिया है. पूरा फैसला 1045 पन्नों का है. किस पक्ष ने कब-क्या दलील दी, सबकी जानकारी दी गई है. 1045 पन्ने के फैसले में एक विटनेस ने ये बताया है कि सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी भी राम जन्म भूमि के दर्शन करने गए थे. फैसले की कॉपी के परिशिष्ट के पॉइंट नंबर 69 में ये बात बताई गई है.    

अयोध्या फैसला: गवाह राजिंदर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में बताया

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या ज़मीन विवाद पर फैसला सुना दिया है. पूरा फैसला 1045 पन्नों का है. किस पक्ष ने कब-क्या दलील दी, सबकी जानकारी दी गई है. 1045 पन्ने के फैसले में एक विटनेस ने ये बताया है कि सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी भी राम जन्म भूमि के दर्शन करने गए थे. फैसले की कॉपी के परिशिष्ट के पॉइंट नंबर 69 में ये बात बताई गई है.    
वीडियो

अयोध्या में राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला बता रहे सौरभ द्विवेदी

9 नवंबर, 2019. सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि अयोध्या की विवादित ज़मीन पर मंदिर बनेगा. इसके लिए केंद्र सरकार को तीन महीने के अंदर एक ट्रस्ट का गठन करना होगा, जो मंदिर बनाने की रूपरेखा तैयार करेगा. सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश से साफ है कि मंदिर बनाने का जिम्मा ट्रस्ट के ही पास होगा, जिसे केंद्र सरकार बनाएगी.

 

अयोध्या में राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला बता रहे सौरभ द्विवेदी

9 नवंबर, 2019. सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि अयोध्या की विवादित ज़मीन पर मंदिर बनेगा. इसके लिए केंद्र सरकार को तीन महीने के अंदर एक ट्रस्ट का गठन करना होगा, जो मंदिर बनाने की रूपरेखा तैयार करेगा. सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश से साफ है कि मंदिर बनाने का जिम्मा ट्रस्ट के ही पास होगा, जिसे केंद्र सरकार बनाएगी.

 
वीडियो

अयोध्या: राम मंदिर के लिए ट्रस्ट की रूपरेखा क्या सोमनाथ मंदिर जैसी हो सकती है?

अयोध्या भूमि विवाद में सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने फैसला सुना दिया है. अदालत ने केंद्र से मंदिर निर्माण के लिए एक ट्रस्ट बनाने को कहा है. इसके अलावा अयोध्या में ही किसी और जगह पर मुस्लिम पक्ष को पांच एकड़ ज़मीन देने के आदेश भी हुए हैं.

अयोध्या: राम मंदिर के लिए ट्रस्ट की रूपरेखा क्या सोमनाथ मंदिर जैसी हो सकती है?

अयोध्या भूमि विवाद में सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने फैसला सुना दिया है. अदालत ने केंद्र से मंदिर निर्माण के लिए एक ट्रस्ट बनाने को कहा है. इसके अलावा अयोध्या में ही किसी और जगह पर मुस्लिम पक्ष को पांच एकड़ ज़मीन देने के आदेश भी हुए हैं.