Submit your post

Follow Us

वीडियो

इकबाल अंसारी को राम मंदिर भूमिपूजन का न्योता मिला, तो उन्होंने क्या कहा?

जो चेहरा बाबरी मस्जिद का सबसे बड़ा पक्षकार बनकर अब तक सामने आया है, उसे ही राम मंदिर के भूमिपूजन कार्यक्रम में न्योता मिला है. राम मंदिर बनाने के खिलाफ कानूनी लड़ाई में सबसे महत्वपूर्ण पक्षकार इकबाल अंसारी को भूमि पूजन का औपचारिक न्योता भेजा गया है. यह तब है, जब सिर्फ चुनिंदा लोगों को ही इस मौके पर अयोध्या बुलाया गया है. देखिए वीडियो.

 

इकबाल अंसारी को राम मंदिर भूमिपूजन का न्योता मिला, तो उन्होंने क्या कहा?

जो चेहरा बाबरी मस्जिद का सबसे बड़ा पक्षकार बनकर अब तक सामने आया है, उसे ही राम मंदिर के भूमिपूजन कार्यक्रम में न्योता मिला है. राम मंदिर बनाने के खिलाफ कानूनी लड़ाई में सबसे महत्वपूर्ण पक्षकार इकबाल अंसारी को भूमि पूजन का औपचारिक न्योता भेजा गया है. यह तब है, जब सिर्फ चुनिंदा लोगों को ही इस मौके पर अयोध्या बुलाया गया है. देखिए वीडियो.

 
वीडियो

अयोध्या: भूमि पूजन के लिए डाक से पहुंची पवित्र स्थानों की मिट्टी और नदियों का जल

अयोध्या. राम मंदिर भूमिपूजन के लिए तीन दिवसीय अनुष्ठान 3 अगस्त से शुरू हो चुका है. सुबह 9.30 बजे गणेश पूजन किया गया. इसके बाद बड़ी देवी काली मंदिर में पूजा हुई. बड़ी देवी काली भगवान राम की कुल देवी मानी जाती हैं. मंगलवार, यानी 4 अगस्त को हनुमान गढ़ी में पूजा होगी. इसके बाद बुधवार यानी 5 अगस्त को भूमि पूजन का कार्यक्रम होगा. भूमि पूजन के लिए 100 नदियों का जल और 2000 जगहों की मिट्टी अयोध्या पहुंच चुकी है. देखिए वीडियो.

 

अयोध्या: भूमि पूजन के लिए डाक से पहुंची पवित्र स्थानों की मिट्टी और नदियों का जल

अयोध्या. राम मंदिर भूमिपूजन के लिए तीन दिवसीय अनुष्ठान 3 अगस्त से शुरू हो चुका है. सुबह 9.30 बजे गणेश पूजन किया गया. इसके बाद बड़ी देवी काली मंदिर में पूजा हुई. बड़ी देवी काली भगवान राम की कुल देवी मानी जाती हैं. मंगलवार, यानी 4 अगस्त को हनुमान गढ़ी में पूजा होगी. इसके बाद बुधवार यानी 5 अगस्त को भूमि पूजन का कार्यक्रम होगा. भूमि पूजन के लिए 100 नदियों का जल और 2000 जगहों की मिट्टी अयोध्या पहुंच चुकी है. देखिए वीडियो.

 
वीडियो

नेता नगरी: अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजन से क्या पीएम मोदी 2024 की तैयारी करने में जुटे हैं?

नेता नगरी. दी लल्लनटॉप का स्पेशल वीकली शो. जिसमें सौरभ द्विवेदी बात कर रहे हैं राजदीप सरदेसाई के साथ. इन मुद्दों पर-

1. नई एजुकेशन पॉलिसी आ गई है, नफ़ा-नुकसान समझिए

2. अयोध्या में जोरों पर श्रीराम मंदिर भूमि पूजन की तैयारी

3. क्या 'होटल पॉलिटिक्स' से गहलोत बचा लेंगे सरकार

नेता नगरी का पिछला एपिसोड देखने के लिए यहां क्लिक करें.

नेता नगरी: अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजन से क्या पीएम मोदी 2024 की तैयारी करने में जुटे हैं?

नेता नगरी. दी लल्लनटॉप का स्पेशल वीकली शो. जिसमें सौरभ द्विवेदी बात कर रहे हैं राजदीप सरदेसाई के साथ. इन मुद्दों पर-

1. नई एजुकेशन पॉलिसी आ गई है, नफ़ा-नुकसान समझिए

2. अयोध्या में जोरों पर श्रीराम मंदिर भूमि पूजन की तैयारी

3. क्या 'होटल पॉलिटिक्स' से गहलोत बचा लेंगे सरकार

नेता नगरी का पिछला एपिसोड देखने के लिए यहां क्लिक करें.

वीडियो

अयोध्या राम मंदिर के नीचे 'टाइम कैप्सूल' रखने की बात पर एक और बयान आया है

अयोध्या में राम मंदिर का 5 अगस्त को भूमि पूजन होना है. इससे पहले 26 जुलाई को खबर आती है कि मंदिर के गर्भगृह के पास ही ज़मीन खोदकर अंदर ‘टाइम कैप्सूल’ रखा जाएगा. कहा गया कि इसमें मंदिर का पूरा इतिहास-भूगोल, सारी जानकारियां दर्ज़ होंगी, जो आने वाले कई साल तक ज़मीन के भीतर सुरक्षित रहेंगी. ताकि भविष्य में जन्मभूमि और राम मंदिर का इतिहास देखा जा सके और कोई विवाद न हो. देखिए वीडियो.

 

अयोध्या राम मंदिर के नीचे 'टाइम कैप्सूल' रखने की बात पर एक और बयान आया है

अयोध्या में राम मंदिर का 5 अगस्त को भूमि पूजन होना है. इससे पहले 26 जुलाई को खबर आती है कि मंदिर के गर्भगृह के पास ही ज़मीन खोदकर अंदर ‘टाइम कैप्सूल’ रखा जाएगा. कहा गया कि इसमें मंदिर का पूरा इतिहास-भूगोल, सारी जानकारियां दर्ज़ होंगी, जो आने वाले कई साल तक ज़मीन के भीतर सुरक्षित रहेंगी. ताकि भविष्य में जन्मभूमि और राम मंदिर का इतिहास देखा जा सके और कोई विवाद न हो. देखिए वीडियो.

 
वीडियो

अयोध्या राम मंदिर की नीव में 2,000 फीट नीचे पीएम मोदी दफनाएंगे टाइम कैप्सूल

पहले राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के मेंबर कामेश्वर चौपाल ने कहा कि टाइम कैप्सूल जमीन में दबाया जाएगा. इसके दो दिन बाद ट्रस्ट के जनरल सेक्रेटरी चंपत राय ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं होगा. अपडेटेड स्टोरी यहां पढ़ें:   

अयोध्या राम मंदिर की नीव में 2,000 फीट नीचे पीएम मोदी दफनाएंगे टाइम कैप्सूल

पहले राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के मेंबर कामेश्वर चौपाल ने कहा कि टाइम कैप्सूल जमीन में दबाया जाएगा. इसके दो दिन बाद ट्रस्ट के जनरल सेक्रेटरी चंपत राय ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं होगा. अपडेटेड स्टोरी यहां पढ़ें:   
वीडियो

राम जन्मभूमि की खुदाई में सात ब्लैक टच स्टोन के खंभे और छह रेड सैंड स्टोन के खंभे मिले हैं!

अयोध्या. यहां राम जन्मभूमि परिसर में ज़मीन सपाट की जा रही है. राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का कहना है कि खुदाई के दौरान कई पुरातात्विक टूटी हुई मूर्तियां मिल रही हैं. कहा गया है कि एक शिवलिंग मिला है, जो करीब पांच फुट का है. मलबे में सात ब्लैक टच स्टोन के खंभे और छह रेड सैंड स्टोन के खंभे मिलने की बात कही गई है. वीडियो देखें.

 

राम जन्मभूमि की खुदाई में सात ब्लैक टच स्टोन के खंभे और छह रेड सैंड स्टोन के खंभे मिले हैं!

अयोध्या. यहां राम जन्मभूमि परिसर में ज़मीन सपाट की जा रही है. राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का कहना है कि खुदाई के दौरान कई पुरातात्विक टूटी हुई मूर्तियां मिल रही हैं. कहा गया है कि एक शिवलिंग मिला है, जो करीब पांच फुट का है. मलबे में सात ब्लैक टच स्टोन के खंभे और छह रेड सैंड स्टोन के खंभे मिलने की बात कही गई है. वीडियो देखें.

 
भैरंट

जब प्रधानमंत्री ने भरी संसद में मस्जिद बनवाने का वादा किया था

जब प्रधानमंत्री ने भरी संसद में मस्जिद बनवाने का वादा किया था

6 दिसंबर, 1992. वो दिन जब बाबरी मस्जिद को ढहाया गया था, तब पी. वी. नरसिम्हा राव देश के प्रधानमंत्री थे. राव ने अगले दिन यानी 7 दिसंबर, 1992 को संसद में भाषण दिया. भाषण में राव ने कई बार राज्य सरकार और मुख्यमंत्री का ज़िक्र किया है. वो उत्तर प्रदेश की BJP गवर्नमेंट और वहां के … और पढ़ें जब प्रधानमंत्री ने भरी संसद में मस्जिद बनवाने का वादा किया था

वीडियो

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन फाइल करेगा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड. यानी एआईएमपीएलबी ने 17 नवंबर यानी रविवार को एक बैठक की. अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ये बैठक बुलाई गई थी. बैठक में 45 सदस्य शामिल हुए. इस बैठक में तय हुआ कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन दायर की जाएगी. साथ ही AIMPLB का कहना है कि उसे मस्जिद के बदले दूसरी जगह पर दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन मंजूर नहीं है. उन्हें वही जमीन चाहिए जहां बाबरी मस्जिद बनी थी. उनका कहना है कि वे इसलिए अदालत नहीं गए थे कि उन्हें दूसरी जगह जमीन दे दी जाए.

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन फाइल करेगा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड. यानी एआईएमपीएलबी ने 17 नवंबर यानी रविवार को एक बैठक की. अयोध्या भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ये बैठक बुलाई गई थी. बैठक में 45 सदस्य शामिल हुए. इस बैठक में तय हुआ कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन दायर की जाएगी. साथ ही AIMPLB का कहना है कि उसे मस्जिद के बदले दूसरी जगह पर दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन मंजूर नहीं है. उन्हें वही जमीन चाहिए जहां बाबरी मस्जिद बनी थी. उनका कहना है कि वे इसलिए अदालत नहीं गए थे कि उन्हें दूसरी जगह जमीन दे दी जाए.
वीडियो

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जावेद अख्तर ने मस्जिद वाली ज़मीन पर ये सलाह दी

अयोध्या मामले में 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया. इसमें 2.77 एकड़ की विवादित ज़मीन पर रामलला का दावा माना गया. मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही कहीं और पांच एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है. अदालत के इस फैसले पर शायर जावेद अख़्तर की प्रतिक्रिया आई है. उनका मानना है कि मस्जिद के लिए जो पांच एकड़ की ज़मीन मिलेगी, वहां अस्पताल बनाया जाना चाहिए.

 

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जावेद अख्तर ने मस्जिद वाली ज़मीन पर ये सलाह दी

अयोध्या मामले में 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया. इसमें 2.77 एकड़ की विवादित ज़मीन पर रामलला का दावा माना गया. मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही कहीं और पांच एकड़ ज़मीन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है. अदालत के इस फैसले पर शायर जावेद अख़्तर की प्रतिक्रिया आई है. उनका मानना है कि मस्जिद के लिए जो पांच एकड़ की ज़मीन मिलेगी, वहां अस्पताल बनाया जाना चाहिए.

 
वीडियो

अयोध्या फैसले के दौरान ड्यूटी पर तैनात 5 पुलिस वाले वॉट्सऐप की वजह से सस्पेंड

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के दिन ड्यूटी के दौरान वॉट्सऐप का इस्तेमाल करना पुलिसवालों को भारी पड़ गया. मामला मध्यप्रदेश के जबलपुर का है. पांच पुलिसवालों को वॉट्सऐप पर चैटिंग की वजह से सजा मिली है.

 

अयोध्या फैसले के दौरान ड्यूटी पर तैनात 5 पुलिस वाले वॉट्सऐप की वजह से सस्पेंड

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के दिन ड्यूटी के दौरान वॉट्सऐप का इस्तेमाल करना पुलिसवालों को भारी पड़ गया. मामला मध्यप्रदेश के जबलपुर का है. पांच पुलिसवालों को वॉट्सऐप पर चैटिंग की वजह से सजा मिली है.