Submit your post

Follow Us

झमाझम

डियर अक्षय कुमार, क्या आपको भी सिर्फ शहीद सैनिक पर बात करना पसंद हैं?

फेसबुक पर उनका नया वीडियो आया, देखा क्या?

डियर अक्षय कुमार, क्या आपको भी सिर्फ शहीद सैनिक पर बात करना पसंद हैं?

नोट: ये स्टोरी लिखते वक्त श्री अक्षय कुमार का वीडियो अपलोड हुए 20 घंटे हो चुके हैं. 2 लाख 31 हजार लाइक्स और करीब 80 हजार शेयर्स. ये स्टोरी वायरल केंद्र में लगनी चाहिए लेकिन एक पेंच है. सेलिब्रिटीज का तो कुछ भी वायरल हो जाता है. खास बात उसका वायरल होना नहीं, उसमें काम … और पढ़ें डियर अक्षय कुमार, क्या आपको भी सिर्फ शहीद सैनिक पर बात करना पसंद हैं?

भैरंट

ऑफिस की कैब के लिए लेट हो जाने वालों को खुला खत

दोस्त खुशी होती है, चार दिन की ज़िंदगी है. उसमें भी तुम्हारे जैसा आदमी लेट होने का वक़्त निकाल लेता है.

ऑफिस की कैब के लिए लेट हो जाने वालों को खुला खत

हैल्लो दोस्त, गुड मॉर्निंग, उम्मीद है अब तक तुम्हारी नींद खुल गई होगी. मुंह भी धुल गया होगा. एकाध बार ऑफिस के ट्रिपल टोंड दूध वाली कॉफी भी पी ली होगी. तुमको कुछ बताना चाहता हूं, दुनिया में अगर स्वर्ग कहीं हैं तो वो कौन सी जगह है तुम्हें पता है, नहीं पता तो धांय-धांय … और पढ़ें ऑफिस की कैब के लिए लेट हो जाने वालों को खुला खत

भैरंट

शाहरुख, ठाकरे के आगे झुककर तुमने अपना एक चाहने वाला खो दिया है

गुंडों के आगे साष्टांग नमस्कार करने वाले शाहरुख़ को एक फैन का खुला ख़त.

शाहरुख, ठाकरे के आगे झुककर तुमने अपना एक चाहने वाला खो दिया है

शाहरुख़, तुम्हारी पहली फिल्म मेरा बर्थडे प्रेजेंट था. चाचू ने सिनेमा हॉल में दिखाई थी. नौ साल का था मैं तब. उस वक़्त सिनेमा हॉल में फ़िल्में देखना एक उत्सव हुआ करता था. आज भी याद है जब तुमने आधी फिल्म के बाद यामाहा बाइक पर गाते हुए फिल्म में और बॉलीवुड में भी एंट्री … और पढ़ें शाहरुख, ठाकरे के आगे झुककर तुमने अपना एक चाहने वाला खो दिया है

भैरंट

एक खुला ख़त, 'हर्ष फायरिंग' करने वालों के नाम

आप बारात में शामिल होने जा रहे हैं, डकैती में नहीं. फिर बंदूक की क्या जरूरत?

एक खुला ख़त, 'हर्ष फायरिंग' करने वालों के नाम

सुनिए, ये खत आप सभी के लिए है जिनके घरों में शादी है. आपके मामा की शादी होगी, भाईजान की होगी, छोटी बहन की होगी. या बेटी की होगी. आपके यहां न हुई तो पड़ोस में होगी. बारात आएगी या जाएगी. पटाखे छूटेंगे, गोलियां भी चलेंगी. और सोचिए इसी सबके बीच किसी की जान चली … और पढ़ें एक खुला ख़त, ‘हर्ष फायरिंग’ करने वालों के नाम

भैरंट

हुज़ूर, हम तो खड़े हो जाएंगे, आप भी तो होइए

सुप्रीम कोर्ट के नाम खुल्ला ख़त. (ओपन वाला खुल्ला, 2000 का नोट ले के यहां न आएं.)

हुज़ूर, हम तो खड़े हो जाएंगे, आप भी तो होइए

सुप्रीम माईबाप को सप्रेम नमस्कार, सुनते आए हैं कि घर के सबसे बड़े की बात सुनना आदर की सुप्रीम स्थिति है. और बिना सवाल किए आदेश मानना समस्त संस्कारों का आइफ़िल टॉवर. और आप तो जानते ही होंगे हम भारतीय कितने ही जातिवादी, नस्लवादी, पुरुषवादी वगैरह-वगैरह हों लेकिन संस्कारी भयंकर मात्रा में हैं. सुबह नहा-धो … और पढ़ें हुज़ूर, हम तो खड़े हो जाएंगे, आप भी तो होइए

भैरंट

नवाज़ुद्दीन, तुम मुसलमान हो, तुम्हें राम के हाथों मरने भी न दिया जायेगा

रामलीला में ऐक्टिंग करने की चाहत रखने वाले नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी को खुला ख़त.

नवाज़ुद्दीन, तुम मुसलमान हो, तुम्हें राम के हाथों मरने भी न दिया जायेगा

डियर नवाज़, कैसे हो? सुना है कि दशहरे में कुछ प्लान था तुम्हारा? रामलीला में ऐक्टिंग करने जा रहे थे? क्या हुआ? नहीं करोगे? क्यूं? अच्छा! करने नहीं दिया जा रहा है. कोई बात नहीं. आज-कल ऐसा ही हो रहा है. तुम्हें ज़बरदस्ती इस रामलीला में ऐक्टिंग करने से रोका जा रहा है. किसी शिव … और पढ़ें नवाज़ुद्दीन, तुम मुसलमान हो, तुम्हें राम के हाथों मरने भी न दिया जायेगा

भैरंट

एचआर वालों को खुला खत: ऑपरेशन करके कार्ड हमारे अंदर ही रख दो

इतने मेल का आप करते क्या हैं? प्रिंट आउट निकालकर हवाईजहाज तो नहीं उड़ाते?

एचआर वालों को खुला खत: ऑपरेशन करके कार्ड हमारे अंदर ही रख दो

डियर सर/मैडम, ये खत आपको उस तरह का नहीं लगेगा, जैसा दूसरा कोई ऑफिशियल मेल लगता है. एक बात बताइए क्या आपके केआरए में ये होता है कि हर रोज़ चार सौ छप्पन मेल मंगाने ही हैं. जब आप घर में घुसते हैं तो बेल बजाते हैं या मेल बजाते हैं. आपके पति/पत्नी जब धनिया-मिर्च … और पढ़ें एचआर वालों को खुला खत: ऑपरेशन करके कार्ड हमारे अंदर ही रख दो

भैरंट

डियर दयाशंकर, मायावती मर्द होतीं तब भी 'वेश्या' कहते?

यूपी के BJP उपाध्यक्ष ने मायावती को 'वेश्या' कहा. हमने उन्हें एक चिट्ठी लिखी है, उनकी ही बात से निकले कुछ मासूम सवाल.

डियर दयाशंकर, मायावती मर्द होतीं तब भी 'वेश्या' कहते?

माननीय दया शंकर सिंह जी, और आपके जैसे हजारों लोग. आप बहुत बड़े आदमी हैं. UP के बीजेपी वाइस प्रेसिडेंट हैं. सुबह से शाम तक पचासों लोग आपको सलामी ठोंकते होंगे. पांव छूते होंगे. निश्चित ही आप बड़े काबिल होंगे. जो इस पद पर हैं. पार्टी का काम-धाम देखते हैं. लेकिन ये सब आप बिना … और पढ़ें डियर दयाशंकर, मायावती मर्द होतीं तब भी ‘वेश्या’ कहते?

तहखाना

उन मां-बाप के नाम, जिनकी बेटियां घरों से नहीं भागीं

जिंदगी उनकी थी, सौदा आपने किया. आपकी बेटियां बंद कमरों में रोती रहीं, लेकिन घर छोड़कर भागी नहीं. बस इसलिए कि बीस-एक लोगों में आपकी इज्जत बनी रहे.

उन मां-बाप के नाम, जिनकी बेटियां घरों से नहीं भागीं

आप, जी हां आप. 50-60 की उम्र में पहुंच चुके वो मां-बाप, जो कभी अपनी करीब आती रिटायरमेंट देखते हैं और कभी बड़ी होती बेटी. हर महीने पास बुक में एंट्री करवाते हुए सोचते हैं, क्या उसकी शादी के लिए इतने पैसे काफी रहेंगे. और बड़ी की शादी के बाद छोटी को कैसे निपटाएंगे. जाने … और पढ़ें उन मां-बाप के नाम, जिनकी बेटियां घरों से नहीं भागीं