Submit your post

Follow Us

तहखाना

जनाब, लड़कियां अपनी टांगें केवल सेक्स के लिए नहीं खोलतीं

बस की सीट हो या समाज, उन्हें जगह चाहिए होती है.

जनाब, लड़कियां अपनी टांगें केवल सेक्स के लिए नहीं खोलतीं

बीते महीनों हमारी टीम कई कॉलेजों में ‘रिक्रूटमेंट’ करने गई. मैं भी उस टीम का हिस्सा हूं. मैंने कभी रिक्रूटमेंट नहीं किए. और शर्ट-पैंट-ब्लेजर तो लाइफ में कभी नहीं पहना. कहते हैं कि एक प्यारी सी कुर्ती और जींस किसी भी लड़की के सबसे अच्छे ऑफिस यूनिफॉर्म होते हैं. मैं वो अक्सर पहनती हूं. साड़ी … और पढ़ें जनाब, लड़कियां अपनी टांगें केवल सेक्स के लिए नहीं खोलतीं

तहखाना

आलिया भट्ट ने अपनी फेवरेट सेक्स पोजीशन बताई तो वो हमारे लिए खबर क्यों है?

हम प्रोग्रेसिव हैं या पॉर्नोग्रफिक?

आलिया भट्ट ने अपनी फेवरेट सेक्स पोजीशन बताई तो वो हमारे लिए खबर क्यों है?

एक लड़की 19 की उम्र में अपना बॉलीवुड करियर शुरू करती है, और झट से सफल हो जाती है. 24 की उम्र तक आते-आते उसे न सिर्फ लोग, बल्कि क्रिटिक भी पसंद करने लगते हैं. वो बोल्ड रोल्स करती है. उसने अपनी फिल्मों के किरदारों में शराब पी है, इंडिपेंडेंट सिंगल लड़की का किरदार निभाया … और पढ़ें आलिया भट्ट ने अपनी फेवरेट सेक्स पोजीशन बताई तो वो हमारे लिए खबर क्यों है?

भैरंट

पीपी का कॉलम: लिखने वाली लड़कियों के नाम

अपना सारा जोश, सारा गुस्सा लिख डालो. तुम्हें नहीं मालूम तुम्हें पढ़कर किस कस्बे की बच्ची बदल रही है.

पीपी का कॉलम: लिखने वाली लड़कियों के नाम

मैं बचपन से लिख रही हूं. जब अंग्रेजी या हिंदी का एग्जाम होता, तो खूब मन लगाकर पेपर लिखती. और हिंदी के दसवीं बोर्ड के इम्तेहान में तो ऐसा हुआ कि खूब लिख आई. दिल खोलकर. कविताओं और कहानियों के बारे में जो-जो अच्छा या बुरा लगता था, लिख दिया. बाकी सारे पेपर सोच-समझकर देती … और पढ़ें पीपी का कॉलम: लिखने वाली लड़कियों के नाम

तहखाना

समाज को लगता है सेक्स सिर्फ लड़के-लड़की के बीच हो सकता है

आज मुझसे कोई मेरा सेक्शुअल ओरिएंटेशन पूछता है, तो मैं कहती हूं कि मैं डिस्कवर कर रही हूं.

समाज को लगता है सेक्स सिर्फ लड़के-लड़की के बीच हो सकता है

मैंने बचपन से ही लड़कियों के स्कूल में पढ़ाई की. माना जाता है कि लड़कियों के स्कूल में लड़कियां सेफ रहेंगी. उन्हें लड़के तंग नहीं करेंगे. उनका दिमाग नहीं भटकेगा और वो पढ़ाई पर फोकस करेंगी. जिस तरह बच्चों पर आदर्श बच्चे होने का बोझ रहता है, उसी तरह मां-बाप पर आदर्श मां-बाप बनने का … और पढ़ें समाज को लगता है सेक्स सिर्फ लड़के-लड़की के बीच हो सकता है

भैरंट

'लड़कों को भरे शरीर वाली लड़कियां अच्छी लगती हैं, थोड़ा वजन बढ़ा लो'

हर महीने खून बहाने वाले और 9 महीने तक बच्चे को पोषण देने वाले शरीर को 'सुंदरता' की जरूरत है या पोषण की?

'लड़कों को भरे शरीर वाली लड़कियां अच्छी लगती हैं, थोड़ा वजन बढ़ा लो'

हर संडे जब भी कॉलम लिखने बैठती हूं, औरतों के बारे में सोचती हूं, तो सबसे पहले मां की याद आती है. हर दोपहर पापा का टिफिन तैयार होकर जाता. गरमागरम. हर दोपहर दादाजी और हम बच्चे लंच करने बैठते. मां किचन से गरम-गरम फुल्के निकालकर लातीं. दादाजी का नियम था, प्लेट में रोटी गरम-गरम … और पढ़ें ‘लड़कों को भरे शरीर वाली लड़कियां अच्छी लगती हैं, थोड़ा वजन बढ़ा लो’

तहखाना

हर रात रोते हैं तो आप प्यार में नहीं, परेशान हैं

डिप्रेशन एक समस्या है, इसे जीने का तरीका न बनाएं.

हर रात रोते हैं तो आप प्यार में नहीं, परेशान हैं

1. ‘तुम ठीक से सोयी नहीं क्या? न, सोयी तो हूं. क्यों? आंखें सूजी-सूजी हैं. और आपने मुस्कुराकर ‘पता नहीं क्यों’ वाला एक्सप्रेशन देकर बात ख़त्म कर दी.’ 2. सुबह सोचा, मैंने एक और रात यूं ही बिता दी. क्या मुझे उठकर ऑफिस जाना चाहिए? क्या होगा ऑफिस जाकर. थोड़ा काम, जिसमें जी नहीं लगेगा. … और पढ़ें हर रात रोते हैं तो आप प्यार में नहीं, परेशान हैं

तहखाना

रेप करने के पहले वो औरत को पॉर्न क्यों दिखाते हैं?

औरत की 'ना' को 'हां' में बदलने के लिए?

रेप करने के पहले वो औरत को पॉर्न क्यों दिखाते हैं?

मान लीजिए आप घर में अकेले हों. कोई आए, चाकू की नोक पर आपके पैसे लूट ले. फिर आपको बांधकर एक वीडियो दिखाए जिसमें किसी का खून किया जा रहा हो. सुकून से शूट किया गया. बड़ा सा वीडियो. क्या आप उस वीडियो को देख कहेंगे कि हां मेरा खून कर दो? या कोई आपको … और पढ़ें रेप करने के पहले वो औरत को पॉर्न क्यों दिखाते हैं?

तहखाना

'इंटरव्यू के लिए जा रही हो, बिकिनी वैक्स करा लो, सेलेक्शन पक्का है'

MEOW: क्यों पुरुष का पुरुष होना उसकी नियत पर शक करने के लिए उकसा देता है?

'इंटरव्यू के लिए जा रही हो, बिकिनी वैक्स करा लो, सेलेक्शन पक्का है'

‘भैया आ गए, भैया आ गए’. और गिरे हुए पर्दों को और करीब लाकर उनके बीच की दो अंगुल दूरी भी खत्म कर दी जाती है. शरीर से उतारे उलटे पड़े कपड़े समेट कर छिपा दिए जाते हैं. भैया मां को सामान सप्लाई करते हैं. और चले जाते हैं. पर्दों के भीतर वैक्सिंग करा रही … और पढ़ें ‘इंटरव्यू के लिए जा रही हो, बिकिनी वैक्स करा लो, सेलेक्शन पक्का है’

तहखाना

अपने बच्चों को शादी नहीं, डिवोर्स के लिए तैयार करिए

वजह आप जानेंगे तो आप भी इस बात से राजी होंगे...

अपने बच्चों को शादी नहीं, डिवोर्स के लिए तैयार करिए

ब्रैड पिट और एंजलीना जोली का डिवोर्स हो गया. लोगों ने कहा, जो प्रेम कहानी धोखे से शुरू होती है, वो धोखे पर ख़त्म होती है. कहा गया ब्रैड अपनी पिछली पत्नी जेनिफर को धोखा दे रहे थे, एंजलीना के लिए. ये भी कहा जा रहा है कि ब्रैड को अब मारियन कोटिलार्ड से इश्क … और पढ़ें अपने बच्चों को शादी नहीं, डिवोर्स के लिए तैयार करिए

भैरंट

सोनिया से कौन मांग रहा है चुम्मा?

पेश-ए-खिदमत है सोनिया का अधूरे चुम्मे के किस्सा.

सोनिया से कौन मांग रहा है चुम्मा?

बीते दिनों फेसबुक पर एक नोट की तस्वीर चली थी. जिसपर लिखा था ‘सोनम गुप्ता बेवफा है.’ न याद हो तो गूगल कर लेना. खैर, वो पुरानी बात हो गई. मार्केट में 10 का एक नया नोट चला है. जिसपर किसी ने लिखा है ‘सोनियाँ चुमाँ दे.’ जाने वो जज्बातों का कैसा उबाल होगा, कि … और पढ़ें सोनिया से कौन मांग रहा है चुम्मा?