Submit your post

Follow Us

तहखाना

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

1. सोनल 33 साल की है. 7 साल हो गए शादी को. 5 साल का एक बेटा है. सोनल के पति इंटरनेट सर्विस कंपनी में काम करते हैं. सोनल हाउसवाइफ है. बेटा स्कूल से लौट आए उसके बाद सोनल की दोपहरें खाली होती हैं. छोटी बहन आई थी तो उसने सोनल का फेसबुक अकाउंट बना … और पढ़ें फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

वीडियो

म्याऊं: जिन्हें आप मनचला कहते हैं दरअसल वो स्टॉकर होते हैं, और ये अपराध है.

दिल्ली के भोगल में जब मुनासिर प्रीति को चाकू भोंक रहा थाशाम के साढ़े छह बजे थे. पीठ पर जब पहला वार हुआ तो वो भागी. कुछ लोग उसे बचाने भी आए. मगर मुनासिर के हाथ में चाकू था और वो बदहवास था. जबतक भीड़ उसपर काबू पातीवो प्रीति को छह बार चाकू मार चुका था. दोनों को अस्पताल तो ले जाया गया. मगर प्रीति नहीं बची.

म्याऊं: जिन्हें आप मनचला कहते हैं दरअसल वो स्टॉकर होते हैं, और ये अपराध है.

दिल्ली के भोगल में जब मुनासिर प्रीति को चाकू भोंक रहा थाशाम के साढ़े छह बजे थे. पीठ पर जब पहला वार हुआ तो वो भागी. कुछ लोग उसे बचाने भी आए. मगर मुनासिर के हाथ में चाकू था और वो बदहवास था. जबतक भीड़ उसपर काबू पातीवो प्रीति को छह बार चाकू मार चुका था. दोनों को अस्पताल तो ले जाया गया. मगर प्रीति नहीं बची.
तहखाना

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

हिमा दास, आदि

भागना एक नेगेटिव शब्द है. उल्टे पांव भागना. चप्पल छोड़कर भागना. मैदान छोड़कर भागना. भागने में डर और चोरी की भावना छिपी है. पलायन की भावना छिपी है. और जो लड़कियां घर से भाग जाती हैं, उनके लिए भागने में छिपी हैं बददुआएं, लांछन, निष्ठुरता और मां-बाप की नाक कटवा देने का आरोप. मगर लड़कियां … और पढ़ें हिमा दास, आदि

वीडियो

म्याऊं: फिल्मों और गानों में लड़कियां क्यों नहीं पचा पातीं शराब?

फिल्मों में शराब पीकर लड़कियों को कभी नॉर्मल रियेक्ट करते नहीं दिखाते. फिल्म में प्लॉट में शराब का काम ही लड़की के बहकने वाले एक सीन को बनाना है. क्योंकि इससे हीरो को भी हीरो बनने का मौका मिलता है. चूंकि लड़कियां शराब हैंडल नहीं कर सकतींवो हमेशा एक गार्जियन के साथ पिएंये जरूरी होता है.

म्याऊं: फिल्मों और गानों में लड़कियां क्यों नहीं पचा पातीं शराब?

फिल्मों में शराब पीकर लड़कियों को कभी नॉर्मल रियेक्ट करते नहीं दिखाते. फिल्म में प्लॉट में शराब का काम ही लड़की के बहकने वाले एक सीन को बनाना है. क्योंकि इससे हीरो को भी हीरो बनने का मौका मिलता है. चूंकि लड़कियां शराब हैंडल नहीं कर सकतींवो हमेशा एक गार्जियन के साथ पिएंये जरूरी होता है.
तहखाना

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

‘साइको सैयां’ गीत आज यानी 8 जुलाई को रिलीज हुआ है. गाने में प्रभाष और श्रद्धा कपूर हैं. गाने में स्वयं ‘बाहुबली’ हैं तो गाना तो हिट होना ही है. गाना आने के पहले उसका उसका चंद सेकेंड्स का ट्रेलर ही दो दिनों से यूट्यूब पर ट्रेंड कर रहा था. और अब यही हाल गाने … और पढ़ें ब्लॉग: शराब पीकर ‘टाइट’ लड़कियां

वीडियो

म्याऊं: औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

डीपफेक महिलाओं के लिए काफी खतरनाक सिद्ध हो रही है. डीपफ़ेक दो शब्दों के मेल से बनता है. ‘डीप लर्निंग’ और ‘फ़ेक’. डीप लर्निंग, आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस का एक हिस्सा है. आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस को सरल शब्दों में समझें तो ऐसी टेक्नोलॉजी, जो खुद काम कर सकती है, अपनी अक्ल लगाकर. डीपफ़ेक, ‘ह्यूमन इमेज सिंथेसिस’ नाम की टेक्नोलॉजी पर काम करता है. जैसे हम किसी भी चीज की फोटोकॉपी कर लेते हैं. वैसे ही ये टेक्नोलॉजी चलती-फिरती चीजों की कॉपी कर सकती है. यानी स्क्रीन पर एक इंसान आप चलते-फिरते, बोलते देख सकते हैं, जो नकली हो. वीडियो में देखिए क्यों इतना खतरनाक है डीपफेक.

म्याऊं: औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

डीपफेक महिलाओं के लिए काफी खतरनाक सिद्ध हो रही है. डीपफ़ेक दो शब्दों के मेल से बनता है. ‘डीप लर्निंग’ और ‘फ़ेक’. डीप लर्निंग, आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस का एक हिस्सा है. आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस को सरल शब्दों में समझें तो ऐसी टेक्नोलॉजी, जो खुद काम कर सकती है, अपनी अक्ल लगाकर. डीपफ़ेक, ‘ह्यूमन इमेज सिंथेसिस’ नाम की टेक्नोलॉजी पर काम करता है. जैसे हम किसी भी चीज की फोटोकॉपी कर लेते हैं. वैसे ही ये टेक्नोलॉजी चलती-फिरती चीजों की कॉपी कर सकती है. यानी स्क्रीन पर एक इंसान आप चलते-फिरते, बोलते देख सकते हैं, जो नकली हो. वीडियो में देखिए क्यों इतना खतरनाक है डीपफेक.
वीडियो

म्याऊं: क्यूट और प्रोटेक्टिव की आड़ में औरतों के साथ हिंसा करते हीरो

जबसे ‘कबीर सिंह’ रिलीज हुई है, विवादों में है. ‘अर्जुन रेड्डी’ की इस रीमेक को खूब लताड़ा गया है. और सही लताड़ा गया है. फिल्म में कई सीन ऐसे हैं जो औरतों के प्रति हिंसा को बढ़ावा देते हैं. यहां तक एक सीन में तो अटेम्प्टेड रेप तक को बढ़ावा दिया गया है. पर फिल्म की कमाई बताती है कि हम फिल्म को एन्जॉय कर रहे हैं. वजह है हमारी सोच जो पुरुष को दुनिया के केंद्र में रखती है. इस सोच के दोषी हम सब हैं. मैं, आप और हमारे सबसे बड़े कलाकार. ये सोच है जो कहती है कि अगर कुछ पुरुष के साथ सही हुआ है तो वो सही है.

म्याऊं: क्यूट और प्रोटेक्टिव की आड़ में औरतों के साथ हिंसा करते हीरो

जबसे ‘कबीर सिंह’ रिलीज हुई है, विवादों में है. ‘अर्जुन रेड्डी’ की इस रीमेक को खूब लताड़ा गया है. और सही लताड़ा गया है. फिल्म में कई सीन ऐसे हैं जो औरतों के प्रति हिंसा को बढ़ावा देते हैं. यहां तक एक सीन में तो अटेम्प्टेड रेप तक को बढ़ावा दिया गया है. पर फिल्म की कमाई बताती है कि हम फिल्म को एन्जॉय कर रहे हैं. वजह है हमारी सोच जो पुरुष को दुनिया के केंद्र में रखती है. इस सोच के दोषी हम सब हैं. मैं, आप और हमारे सबसे बड़े कलाकार. ये सोच है जो कहती है कि अगर कुछ पुरुष के साथ सही हुआ है तो वो सही है.
तहखाना

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

एक महशूर भारतीय पत्रकार हैं. औरत हैं. ज़ाहिर सी बात है, ट्रोल होती रहती हैं. लोग गालियां देते हैं, रेप की धमकियां देते हैं. मगर बीते साल उनके साथ कुछ ऐसा हुआ था, जिसने उन्हें इतनी बुरी तरह तोड़ दिया, कि वो बेहोश होती रहीं, उल्टियां करती रहीं. अस्पताल में भर्ती होना पड़ा. उनका गुनाह … और पढ़ें औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

तहखाना

हीरो की हिंसा और शोषण को सहने वाली बेवकूफ नायिकाएं

हमें क्रोध और हिंसा क्यों रोमैंटिक लगते हैं?

हीरो की हिंसा और शोषण को सहने वाली बेवकूफ नायिकाएं

जबसे ‘कबीर सिंह’ (Kabir Singh) रिलीज हुई है, विवादों में है. ‘अर्जुन रेड्डी’ की इस रीमेक को खूब लताड़ा गया है. और सही लताड़ा गया है. फिल्म में कई सीन ऐसे हैं जो औरतों के प्रति हिंसा को बढ़ावा देते हैं. यहां तक एक सीन में तो अटेम्प्टेड रेप तक को बढ़ावा दिया गया है. … और पढ़ें हीरो की हिंसा और शोषण को सहने वाली बेवकूफ नायिकाएं

तहखाना

नौकरानी, पत्नी और 'सेक्सी सेक्रेटरी' का 'सुख' एक साथ देने वाली रोबोट से मिलिए

ब्लॉग: हमारे कुंठित समाज को टेक्नोलॉजी का तोहफा.

नौकरानी, पत्नी और 'सेक्सी सेक्रेटरी' का 'सुख' एक साथ देने वाली रोबोट से मिलिए

‘कुर्सी की पेटी बांध लें.’ ‘यूजर अन्य कॉल पर व्यस्त है, कृपया कुछ देर में कॉल करें.’ ‘आगे से बांएं मुड़ें.’ ये कुछ संदेश हैं जो हम अक्सर सुनते हैं. 10 में से 9 बार ये संदेश महिला की आवाज में होते हैं. इन संदेशों की अगर हम पुरुष की भारी आवाज़ में कल्पना करें … और पढ़ें नौकरानी, पत्नी और ‘सेक्सी सेक्रेटरी’ का ‘सुख’ एक साथ देने वाली रोबोट से मिलिए