Submit your post

Follow Us

वीडियो

ह्वावे कंपनी किरिन प्रोसेसर का प्रोडक्शन बंद कर देगी, पर क्यों?

स्मार्टफ़ोन की जान उसका प्रॉसेसर होता है. कोई कम्पनी ये प्रॉसेसर ख़ुद बनाती है और तो कुछ प्रोसेसर बनाने वाली कंपनियों से इन्हें खरीदती हैं. ऐपल और सैमसंग के साथ-साथ ह्वावे (Huawei) उन चुनिंदा कंपनियों में से एक है जो अपने प्रॉसेसर खुद बनाती हैं. लेकिन अब ह्वावे अपने प्रोसेसर नहीं बना पाएगा. देखिए वीडियो.

ह्वावे कंपनी किरिन प्रोसेसर का प्रोडक्शन बंद कर देगी, पर क्यों?

स्मार्टफ़ोन की जान उसका प्रॉसेसर होता है. कोई कम्पनी ये प्रॉसेसर ख़ुद बनाती है और तो कुछ प्रोसेसर बनाने वाली कंपनियों से इन्हें खरीदती हैं. ऐपल और सैमसंग के साथ-साथ ह्वावे (Huawei) उन चुनिंदा कंपनियों में से एक है जो अपने प्रॉसेसर खुद बनाती हैं. लेकिन अब ह्वावे अपने प्रोसेसर नहीं बना पाएगा. देखिए वीडियो.

वीडियो

फ़्लैगशिप फ़ोन की बजाए मिड-रेंज स्मार्टफ़ोन लेने की पांच वजहें जान लीजिए

हमारे कई साथी हैं, जो महंगे-महंगे स्मार्टफ़ोन रखते हैं. इनमें ख़ासतौर पर ऐपल का आइफ़ोन 11, सैमसंग का गैलेक्सी S20 और सैमसंग की नोट सीरीज़ के फ़ोन शामिल हैं. मगर इनमें से सिर्फ़ एकाध ही हैं, जो सच में फ़ोन का ‘यूज़’ करते हैं. बाक़ियों ने सिर्फ़ इसलिए फ़ोन ख़रीद रखा है, क्योंकि वो ख़रीद सकते हैं. फ़ोन के सारे फ़ीचर बस ऐसे ही खाली बैठे रहते हैं और हमारे साथी बस इसका इस्तेमाल वॉट्सऐप और फ़ेसबुक चलाने में करते रहते हैं. अगर मक़सद सिर्फ़ भौकाल बनाना है तो अलग ही बात है. बहरहाल आज के टाइम पर मिड-रेंज फ़ोन भी प्रीमियम फ़ोन जितना ही अच्छा दिखते हैं और बढ़िया फ़ीचर से लैस रहते हैं. देखिए वीडियो.

फ़्लैगशिप फ़ोन की बजाए मिड-रेंज स्मार्टफ़ोन लेने की पांच वजहें जान लीजिए

हमारे कई साथी हैं, जो महंगे-महंगे स्मार्टफ़ोन रखते हैं. इनमें ख़ासतौर पर ऐपल का आइफ़ोन 11, सैमसंग का गैलेक्सी S20 और सैमसंग की नोट सीरीज़ के फ़ोन शामिल हैं. मगर इनमें से सिर्फ़ एकाध ही हैं, जो सच में फ़ोन का ‘यूज़’ करते हैं. बाक़ियों ने सिर्फ़ इसलिए फ़ोन ख़रीद रखा है, क्योंकि वो ख़रीद सकते हैं. फ़ोन के सारे फ़ीचर बस ऐसे ही खाली बैठे रहते हैं और हमारे साथी बस इसका इस्तेमाल वॉट्सऐप और फ़ेसबुक चलाने में करते रहते हैं. अगर मक़सद सिर्फ़ भौकाल बनाना है तो अलग ही बात है. बहरहाल आज के टाइम पर मिड-रेंज फ़ोन भी प्रीमियम फ़ोन जितना ही अच्छा दिखते हैं और बढ़िया फ़ीचर से लैस रहते हैं. देखिए वीडियो.

वीडियो

महीनों इंतज़ार के बाद लॉन्च हुआ गूगल पिक्सल 4a: क्या है ख़ास?

गूगल के पिक्सल स्मार्टफ़ोन अपने कैमरा और प्योर एंड्रॉयड एक्सपीरियंस के लिए जाने जाते हैं. पिक्सल 4a (Pixel 4a) के लॉन्च के साथ गूगल ने अपनी पिक्सल सीरीज़ का एक नया मिड-रेंज स्मार्टफ़ोन ऐड कर दिया है. फ़ोन की क़ीमत 349 यूएस डॉलर है और इसकी हाईलाइट में शामिल हैं- क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 730 प्रॉसेसर, 12.2MP कैमरा सेटअप और 3,140mAh की बैटरी. देखिए वीडियो.

महीनों इंतज़ार के बाद लॉन्च हुआ गूगल पिक्सल 4a: क्या है ख़ास?

गूगल के पिक्सल स्मार्टफ़ोन अपने कैमरा और प्योर एंड्रॉयड एक्सपीरियंस के लिए जाने जाते हैं. पिक्सल 4a (Pixel 4a) के लॉन्च के साथ गूगल ने अपनी पिक्सल सीरीज़ का एक नया मिड-रेंज स्मार्टफ़ोन ऐड कर दिया है. फ़ोन की क़ीमत 349 यूएस डॉलर है और इसकी हाईलाइट में शामिल हैं- क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 730 प्रॉसेसर, 12.2MP कैमरा सेटअप और 3,140mAh की बैटरी. देखिए वीडियो.

वीडियो

PUBG ने भारत के लिए अपनी प्राइवसी पॉलिसी में क्या बदल डाला?

इधर जब PUBG Mobile के बैन होने न होने पर सोशल मीडिया पर पूरी गर्म-जोशी के साथ बहस चल रही थी, तब PUBG ने इंडिया के लिए अपनी प्राइवसी पॉलिसी ही बदल डाली. गेम चालू करते ही ऐप बताती है कि देखो भइया, हमने अभी-अभी इंडिया के लिए अपनी प्राइवसी पॉलिसी अपडेट की है. आगे बढ़ने पर बड़ा लम्बा सा फर्रा खुलता है. ऊपर PUBG की प्राइवसी पॉलिसी की समरी या सारांश है और नीचे पूरी की पूरी की पॉलिसी. PUBG मोबाइल बताता है कि ये आपकी जानकारी को कहां रखता है और कैसे यूज़ करता है. देखिए वीडियो.

PUBG ने भारत के लिए अपनी प्राइवसी पॉलिसी में क्या बदल डाला?

इधर जब PUBG Mobile के बैन होने न होने पर सोशल मीडिया पर पूरी गर्म-जोशी के साथ बहस चल रही थी, तब PUBG ने इंडिया के लिए अपनी प्राइवसी पॉलिसी ही बदल डाली. गेम चालू करते ही ऐप बताती है कि देखो भइया, हमने अभी-अभी इंडिया के लिए अपनी प्राइवसी पॉलिसी अपडेट की है. आगे बढ़ने पर बड़ा लम्बा सा फर्रा खुलता है. ऊपर PUBG की प्राइवसी पॉलिसी की समरी या सारांश है और नीचे पूरी की पूरी की पॉलिसी. PUBG मोबाइल बताता है कि ये आपकी जानकारी को कहां रखता है और कैसे यूज़ करता है. देखिए वीडियो.

वीडियो

पांच मिनट में ही फोन की बैटरी 50% चार्ज हो जाएगी, पर कैसे?

टेक जगत की जानी-मानी कम्पनी क्वालकॉम ने क्विक चार्ज 5 (Quick Charge 5 या QC 5) नाम की फ़ास्ट चार्जिंग टेक्नॉलजी लॉन्च की है. क्वालकॉम का कहना है कि ये नई टेक्नॉलजी फ़ोन की बैटरी को सिर्फ़ पांच मिनट में ज़ीरो से 50% तक चार्ज कर सकती है. क्विक चार्ज 5 का पावर आउटपुट 100W से भी ऊपर है. पूरी खबर देखें वीडियो में.

 

पांच मिनट में ही फोन की बैटरी 50% चार्ज हो जाएगी, पर कैसे?

टेक जगत की जानी-मानी कम्पनी क्वालकॉम ने क्विक चार्ज 5 (Quick Charge 5 या QC 5) नाम की फ़ास्ट चार्जिंग टेक्नॉलजी लॉन्च की है. क्वालकॉम का कहना है कि ये नई टेक्नॉलजी फ़ोन की बैटरी को सिर्फ़ पांच मिनट में ज़ीरो से 50% तक चार्ज कर सकती है. क्विक चार्ज 5 का पावर आउटपुट 100W से भी ऊपर है. पूरी खबर देखें वीडियो में.

 
वीडियो

ज़ी फ़ाइव नया प्लान लाया है, जिसमें खर्चा कम है, मगर कमिटमेंट बड़ा

ज़ी फ़ाइव (Zee5) ने एक नया सब्स्क्रिप्शन प्लान लॉन्च किया है. नाम— ज़ी फ़ाइव क्लब (Zee5 Club). क़ीमत— 365 रुपए सालाना. इस प्लान में मूवीज़, लाइव टीवी चैनल, और जी फ़ाइव के कॉन्टेंट के साथ-साथ ऑल्ट बालाजी (Alt Balaji) के शो भी शामिल हैं. ये नया प्लान ज़ी फ़ाइव के पुराने प्रीमीयम प्लान की तरह ही है, बस थोड़े से उलट फेर के साथ. ज़ी फ़ाइव का कहना है कि इसने ये सस्ता पैक इसलिए लॉन्च किया है ताकि ज़्यादा से ज़्यादा इंडियन ऑडियन्स तक विडियो स्ट्रीमिंग सर्विस को पहुंचाया जा सके. देखिए वीडियो.

ज़ी फ़ाइव नया प्लान लाया है, जिसमें खर्चा कम है, मगर कमिटमेंट बड़ा

ज़ी फ़ाइव (Zee5) ने एक नया सब्स्क्रिप्शन प्लान लॉन्च किया है. नाम— ज़ी फ़ाइव क्लब (Zee5 Club). क़ीमत— 365 रुपए सालाना. इस प्लान में मूवीज़, लाइव टीवी चैनल, और जी फ़ाइव के कॉन्टेंट के साथ-साथ ऑल्ट बालाजी (Alt Balaji) के शो भी शामिल हैं. ये नया प्लान ज़ी फ़ाइव के पुराने प्रीमीयम प्लान की तरह ही है, बस थोड़े से उलट फेर के साथ. ज़ी फ़ाइव का कहना है कि इसने ये सस्ता पैक इसलिए लॉन्च किया है ताकि ज़्यादा से ज़्यादा इंडियन ऑडियन्स तक विडियो स्ट्रीमिंग सर्विस को पहुंचाया जा सके. देखिए वीडियो.

वीडियो

वीवो के इस नए गिम्बल कैमरा में क्या खास है और ये दूसरे कैमरे से कैसे अलग है?

आजकल के स्मार्टफ़ोन में इन-डिस्प्ले फ़िंगरप्रिंट सेन्सर, फ़ुल स्क्रीन डिस्प्ले और पॉप-अप सेल्फ़ी कैमरा इतना कॉमन हो गया है कि 10,000-15,000 रुपए के फ़ोन में भी मिल जाता है. लेकिन सबसे पहले इन टेक्नॉलजी को लेकर कौन आया था? चाइनीज़ स्मार्टफ़ोन कम्पनी वीवो. और अब यही कम्पनी स्मार्टफ़ोन के लिए एक और नई टेक्नॉलजी लेकर आई है, जिसका नाम है गिम्बल कैमरा. ये टेक्नॉलजी वीवो के नए नवेले फ़ोन “वीवो X50 प्रो” में लगी हुई है. इससे होगा क्या? वीडियो फ़ुटेज स्टेबल, यानी कि स्थिर बनेगी. इससे पहले कि हम ये बताएं कि वीवो का गिम्बल कैमरा क्या और कैसे कम करता है, पहले जान लेते हैं कि गिम्बल क्या है. देखिए वीडियो.

 

वीवो के इस नए गिम्बल कैमरा में क्या खास है और ये दूसरे कैमरे से कैसे अलग है?

आजकल के स्मार्टफ़ोन में इन-डिस्प्ले फ़िंगरप्रिंट सेन्सर, फ़ुल स्क्रीन डिस्प्ले और पॉप-अप सेल्फ़ी कैमरा इतना कॉमन हो गया है कि 10,000-15,000 रुपए के फ़ोन में भी मिल जाता है. लेकिन सबसे पहले इन टेक्नॉलजी को लेकर कौन आया था? चाइनीज़ स्मार्टफ़ोन कम्पनी वीवो. और अब यही कम्पनी स्मार्टफ़ोन के लिए एक और नई टेक्नॉलजी लेकर आई है, जिसका नाम है गिम्बल कैमरा. ये टेक्नॉलजी वीवो के नए नवेले फ़ोन “वीवो X50 प्रो” में लगी हुई है. इससे होगा क्या? वीडियो फ़ुटेज स्टेबल, यानी कि स्थिर बनेगी. इससे पहले कि हम ये बताएं कि वीवो का गिम्बल कैमरा क्या और कैसे कम करता है, पहले जान लेते हैं कि गिम्बल क्या है. देखिए वीडियो.

 
वीडियो

जानिए फेसबुक का मैसेंजर 'रूम्स' कैसे इस्तेमाल करना है, जो सबको टक्कर दे रहा है

तमाम लोग फेसबुक पर पूछ रहे हैं कि ये रूम्स क्या है और इसकी चाबी कहां से मिलेगी. दरअसल कोविड-19 लॉकडाउन के बाद से विडियो कॉलिंग ऐप्स की चांदी हो रखी है. ऐसे में फेसबुक ने भी मेसेंजर रूम्स (Messenger Rooms) नाम से एक विडियो कॉन्फ़्रेन्स वाली घुट्टी बना डाली. वैसे तो मेसेंजर रूम्स कुछ वक्त पहले ही आ गया था, पर शायद एक जैसे नाम होने की वजह से कुछ कन्फ़्यूज़न हो गया. देखिए वीडियो.

 

जानिए फेसबुक का मैसेंजर 'रूम्स' कैसे इस्तेमाल करना है, जो सबको टक्कर दे रहा है

तमाम लोग फेसबुक पर पूछ रहे हैं कि ये रूम्स क्या है और इसकी चाबी कहां से मिलेगी. दरअसल कोविड-19 लॉकडाउन के बाद से विडियो कॉलिंग ऐप्स की चांदी हो रखी है. ऐसे में फेसबुक ने भी मेसेंजर रूम्स (Messenger Rooms) नाम से एक विडियो कॉन्फ़्रेन्स वाली घुट्टी बना डाली. वैसे तो मेसेंजर रूम्स कुछ वक्त पहले ही आ गया था, पर शायद एक जैसे नाम होने की वजह से कुछ कन्फ़्यूज़न हो गया. देखिए वीडियो.

 
वीडियो

नेटफ़्लिक्स के 199 रुपये वाले प्लान के बाद आए 349 रुपये वाले प्लान में क्या खास है?

नेटफ़्लिक्स (Netflix) ने पिछले साल इंडिया के लिए 199 रुपए महीने वाला एक स्पेशल मोबाइल-ओनली, यानी कि सिर्फ़ मोबाइल फ़ोन पर चलने वाला प्लान लॉन्च किया था. प्लान की कामयाबी को देखते हुए स्ट्रीमिंग सर्विस अब एक नया मोबाइल+ प्लान टेस्ट कर रही है. इस प्लान की क़ीमत 349 रुपए महीना है. एंड्रॉयड-प्योर नाम की वेबसाइट ने सबसे पहले इस प्लान को देखा और रिपोर्ट किया. ख़बर के मुताबिक़, 349 वाला प्लान स्मार्टफोन के साथ-साथ टैबलेट और कम्प्यूटर पर भी चलेगा. देखिए वीडियो.

 

नेटफ़्लिक्स के 199 रुपये वाले प्लान के बाद आए 349 रुपये वाले प्लान में क्या खास है?

नेटफ़्लिक्स (Netflix) ने पिछले साल इंडिया के लिए 199 रुपए महीने वाला एक स्पेशल मोबाइल-ओनली, यानी कि सिर्फ़ मोबाइल फ़ोन पर चलने वाला प्लान लॉन्च किया था. प्लान की कामयाबी को देखते हुए स्ट्रीमिंग सर्विस अब एक नया मोबाइल+ प्लान टेस्ट कर रही है. इस प्लान की क़ीमत 349 रुपए महीना है. एंड्रॉयड-प्योर नाम की वेबसाइट ने सबसे पहले इस प्लान को देखा और रिपोर्ट किया. ख़बर के मुताबिक़, 349 वाला प्लान स्मार्टफोन के साथ-साथ टैबलेट और कम्प्यूटर पर भी चलेगा. देखिए वीडियो.