Submit your post

Follow Us

वीडियो

सैमसंग के गैलक्सी Z फोल्ड 2 में ऐसा क्या है कि हर कोई तारीफ़ कर रहा?

एक बड़ा-सा टैबलेट, जो तह होकर फ़ोन जितना बन जाता है. एक फ़ोन है, जो तह होकर उसका भी आधा रह जाता है. 2020 में कोई अच्छी चीज़ हुई हो या ना हुई हो, फ़ोल्ड होने वाली डिवाइस के लिए तो ये बढ़िया साल है. पिछले साल फ़ोल्डेबल फ़ोन कॉन्सेप्ट डिवाइस की तरह आए थे. कॉन्सेप्ट था, इसलिए कमियां भी बहुत थीं. मगर इस साल लगता है कि गाड़ी पटरी पर है. सैमसंग ने हाल में अपना नया गैलक्सी Z फोल्ड 2 (Galaxy Z Fold 2) डिवाइस लॉन्च किया.  देखिए वीडियो.

 

सैमसंग के गैलक्सी Z फोल्ड 2 में ऐसा क्या है कि हर कोई तारीफ़ कर रहा?

एक बड़ा-सा टैबलेट, जो तह होकर फ़ोन जितना बन जाता है. एक फ़ोन है, जो तह होकर उसका भी आधा रह जाता है. 2020 में कोई अच्छी चीज़ हुई हो या ना हुई हो, फ़ोल्ड होने वाली डिवाइस के लिए तो ये बढ़िया साल है. पिछले साल फ़ोल्डेबल फ़ोन कॉन्सेप्ट डिवाइस की तरह आए थे. कॉन्सेप्ट था, इसलिए कमियां भी बहुत थीं. मगर इस साल लगता है कि गाड़ी पटरी पर है. सैमसंग ने हाल में अपना नया गैलक्सी Z फोल्ड 2 (Galaxy Z Fold 2) डिवाइस लॉन्च किया.  देखिए वीडियो.

 
वीडियो

PUBG बैन के बाद चाइनीज कंपनी टेनसेंट को सबसे बड़ा झटका अब लगा है

भारत सरकार ने हाल ही में 118 चाइनीज ऐप्स पर बैन लगाया, जिसमें पबजी मोबाइल (PUBG Mobile) और पबजी मोबाइल लाइट दोनों भी लपेटे में आ गए. पबजी गेम के पीछे वैसे तो साउथ कोरियन कंपनी है, मगर मोबाइल वाले इसके वर्जन में चाइनीज कंपनी टेनसेंट (Tencent) की हिस्सेदारी है. शायद यही बड़ी वजह रही कि ये गेम गेंहू के साथ घुन की तरह पिस गया. बहरहाल पबजी ने मुसीबत की जड़ को काटकर फेंकने की तैयारी कर ली है. मतलब ये है कि पबजी अब इंडिया में टेनसेंट के साथ कोई नाता नहीं रखेगा. देखिए वीडियो.

PUBG बैन के बाद चाइनीज कंपनी टेनसेंट को सबसे बड़ा झटका अब लगा है

भारत सरकार ने हाल ही में 118 चाइनीज ऐप्स पर बैन लगाया, जिसमें पबजी मोबाइल (PUBG Mobile) और पबजी मोबाइल लाइट दोनों भी लपेटे में आ गए. पबजी गेम के पीछे वैसे तो साउथ कोरियन कंपनी है, मगर मोबाइल वाले इसके वर्जन में चाइनीज कंपनी टेनसेंट (Tencent) की हिस्सेदारी है. शायद यही बड़ी वजह रही कि ये गेम गेंहू के साथ घुन की तरह पिस गया. बहरहाल पबजी ने मुसीबत की जड़ को काटकर फेंकने की तैयारी कर ली है. मतलब ये है कि पबजी अब इंडिया में टेनसेंट के साथ कोई नाता नहीं रखेगा. देखिए वीडियो.

भैरंट

Raegr AirDrums 400 रिव्यू: इन छुटनकू स्पीकर में कितना दम है?

Raegr AirDrums 400 रिव्यू: इन छुटनकू स्पीकर में कितना दम है?

आज के दौर में वायरलेस ईयरबड्स और स्पीकर की भरमार है. एक ढूंढने जाएं, तो दर्जनों मिलते हैं. वो भी सब लगभग एक जैसे. ऐसे में हमारे पास रिव्यू के लिए एक ऐसा स्पीकर सेट आया, जो बाकियों से थोड़ा अलग था. क्या है कि ये वायरलेस स्पीकर और TWS (ट्रुली वायरलेस स्टीरियो) ईयरफ़ोन के … और पढ़ें Raegr AirDrums 400 रिव्यू: इन छुटनकू स्पीकर में कितना दम है?

वीडियो

नए मोबाइल फ़ोन्स में टाइप-सी चार्जर ही क्यों मिलता है?

सोचिए, आप लैपटॉप पर काम कर रहे हैं. फ़ोन पास में चार्जिंग पर लगा है. फिर जैसे ही फ़ोन चार्ज हुआ, आपने वही केबल लैपटॉप में लगा दिया. लैपटॉप भी चार्ज हो गया. अब अपने केबल का सिरा चार्जर से निकालकर फ़ोन में लगा दिया. अब लैपटॉप और फ़ोन आपस में कनेक्ट हो गए. और ये सब होने वाला नहीं है, बल्कि ऑलरेडी हो रहा है. कैसे? यूएसबी टाइप-सी (USB Type-C) केबल, पोर्ट और कनेक्टर की मदद से. केबल बोले तो तार. पोर्ट का मतलब फ़ोन या लैपटॉप का वो होल, जिसमें केबल लगता है. और कनेक्टर वो चीज़ है, जो केबल और पोर्ट को जोड़ती है. देखिए वीडियो.

 

नए मोबाइल फ़ोन्स में टाइप-सी चार्जर ही क्यों मिलता है?

सोचिए, आप लैपटॉप पर काम कर रहे हैं. फ़ोन पास में चार्जिंग पर लगा है. फिर जैसे ही फ़ोन चार्ज हुआ, आपने वही केबल लैपटॉप में लगा दिया. लैपटॉप भी चार्ज हो गया. अब अपने केबल का सिरा चार्जर से निकालकर फ़ोन में लगा दिया. अब लैपटॉप और फ़ोन आपस में कनेक्ट हो गए. और ये सब होने वाला नहीं है, बल्कि ऑलरेडी हो रहा है. कैसे? यूएसबी टाइप-सी (USB Type-C) केबल, पोर्ट और कनेक्टर की मदद से. केबल बोले तो तार. पोर्ट का मतलब फ़ोन या लैपटॉप का वो होल, जिसमें केबल लगता है. और कनेक्टर वो चीज़ है, जो केबल और पोर्ट को जोड़ती है. देखिए वीडियो.

 
वीडियो

PUBG डिक्शनरी के नूबड़ा, नेड, बोट जैसे शब्दों का मतलब क्या था?

पबजी (PUBG) मोबाइल बैन हुआ. लोगों ने प्रतिक्रियाएं दीं. गेम खेलने वाले तो ग़म के सागर में गोता लगाते दिखे मगर उन्हीं के घर वाले बोले बहुब्बढ़िया हुआ जो बैन हो गया. सोशल मीडिया भी पबजी मीम से भर गया. कोई बोला “और डिसलाइक करो मोदी जी का वीडियो, बैन कर दिहिन बस.” मगर इस बीच किसी ने पबजी की डिक्शनरी पर बात नहीं की. देखिए वीडियो.

 

PUBG डिक्शनरी के नूबड़ा, नेड, बोट जैसे शब्दों का मतलब क्या था?

पबजी (PUBG) मोबाइल बैन हुआ. लोगों ने प्रतिक्रियाएं दीं. गेम खेलने वाले तो ग़म के सागर में गोता लगाते दिखे मगर उन्हीं के घर वाले बोले बहुब्बढ़िया हुआ जो बैन हो गया. सोशल मीडिया भी पबजी मीम से भर गया. कोई बोला “और डिसलाइक करो मोदी जी का वीडियो, बैन कर दिहिन बस.” मगर इस बीच किसी ने पबजी की डिक्शनरी पर बात नहीं की. देखिए वीडियो.

 
वीडियो

PUBG बैन के अलावा जो कांड हुआ, उस पर आपने ध्यान दिया क्या?

भारत में PUBG मोबाइल बैन हो गया. दो दिन पहले ये खबर आई और सोशल मीडिया पर हाय तौबा मच गई. अब कैसे बीते दिन, कैसे कटे रात. लेकिन जो लोग अपने बच्चों, दोस्तों और पार्टनर्स के पब्जी की लत से परेशान थे उन्होंने राहत की सांस ली. क्या पता मोदी जी का नाम लेकर थाली भी पीटी हो! खैर, हर तरफ चर्चा ए पब्जी है. लेकिन उसके साथ बैन हुए 117 ऐप्स पर कोई बात ही नहीं कर रहा. कई ऐसे गेम्स बैन हुए जिसके करोड़ों खेलने वाले थे लेकिन उन पर कोई बात ही नहीं कर रहा है. देखिए वीडियो.

PUBG बैन के अलावा जो कांड हुआ, उस पर आपने ध्यान दिया क्या?

भारत में PUBG मोबाइल बैन हो गया. दो दिन पहले ये खबर आई और सोशल मीडिया पर हाय तौबा मच गई. अब कैसे बीते दिन, कैसे कटे रात. लेकिन जो लोग अपने बच्चों, दोस्तों और पार्टनर्स के पब्जी की लत से परेशान थे उन्होंने राहत की सांस ली. क्या पता मोदी जी का नाम लेकर थाली भी पीटी हो! खैर, हर तरफ चर्चा ए पब्जी है. लेकिन उसके साथ बैन हुए 117 ऐप्स पर कोई बात ही नहीं कर रहा. कई ऐसे गेम्स बैन हुए जिसके करोड़ों खेलने वाले थे लेकिन उन पर कोई बात ही नहीं कर रहा है. देखिए वीडियो.

वीडियो

ऑनलाइन क्लासेस में नोट्स न लिख पाने की चिक-चिक से बचने में बहुत मददगार होंगे ये सॉफ्टवेयर

ट्रान्सक्राइब. यानी किसी स्पीच या किसी के बोले हुए शब्दों को जैसे का तैसा लिखित रूप में उतार देना. स्कूल में जो इमला या डिक्टेशन लिखा करते थे, वो समझिए इसी की प्रैक्टिस थी. अब पढ़ाई ऑनलाइन हो रही है. ऐसे में कई लोगों को टीचर को सुनकर नोट्स बनाना मुश्किल पड़ रहा है. कैसा हो अगर ये ट्रान्सक्राइब का काम एक सॉफ़्टवेयर कर दे और आप सिर्फ़ क्लास में ध्यान लगाएं. सुनकर बढ़िया लगा ना. ऐसा मुमकिन है. देखिए वीडियो.

ऑनलाइन क्लासेस में नोट्स न लिख पाने की चिक-चिक से बचने में बहुत मददगार होंगे ये सॉफ्टवेयर

ट्रान्सक्राइब. यानी किसी स्पीच या किसी के बोले हुए शब्दों को जैसे का तैसा लिखित रूप में उतार देना. स्कूल में जो इमला या डिक्टेशन लिखा करते थे, वो समझिए इसी की प्रैक्टिस थी. अब पढ़ाई ऑनलाइन हो रही है. ऐसे में कई लोगों को टीचर को सुनकर नोट्स बनाना मुश्किल पड़ रहा है. कैसा हो अगर ये ट्रान्सक्राइब का काम एक सॉफ़्टवेयर कर दे और आप सिर्फ़ क्लास में ध्यान लगाएं. सुनकर बढ़िया लगा ना. ऐसा मुमकिन है. देखिए वीडियो.

वीडियो

गूगल क्रोम ब्राउजर में क्या-क्या नए बदलाव आए, जिनसे बड़ी राहत मिलने वाली है

दुनिया की तकरीबन 65 फीसदी इंटरनेट यूजर जनता क्रोम ब्राउजर ही इस्तेमाल करती है. आजकल वर्क फ्रॉम होम के चलते गूगल ने अपने डेस्कटॉप ब्राउजर में कई ऐसे बदलाव किए हैं, जिससे क्रोमवीरों को काफी सहूलियत मिलने वाली है. आइए जानते हैं, क्रोम ब्राउजर में आए नए बदलावों के बारे में. देखिए वीडियो.

 

गूगल क्रोम ब्राउजर में क्या-क्या नए बदलाव आए, जिनसे बड़ी राहत मिलने वाली है

दुनिया की तकरीबन 65 फीसदी इंटरनेट यूजर जनता क्रोम ब्राउजर ही इस्तेमाल करती है. आजकल वर्क फ्रॉम होम के चलते गूगल ने अपने डेस्कटॉप ब्राउजर में कई ऐसे बदलाव किए हैं, जिससे क्रोमवीरों को काफी सहूलियत मिलने वाली है. आइए जानते हैं, क्रोम ब्राउजर में आए नए बदलावों के बारे में. देखिए वीडियो.

 
वीडियो

कोरमो जॉब्स कैसे काम करता है, जिसे गूगल नौकरी दिलवाने के लिए लाया है?

जॉब ढूंढने के लिए ऐप्लिकेशन पहले से भतेरे पड़े हैं, मगर गूगल ने कहा, ऐसे कैसे? और कुछ इस तरह इंडिया में कोरमो जॉब्स (Kormo Jobs) नाम का ऐप अवतरित हुआ. मगर कोरमो का मसला थोड़ा अलग टाइप का है. ये काफ़ी एंट्री लेवल की जॉब ऑफ़र करता है, पर सारी की सारी लिस्टिंग वेरिफ़ाइड होती हैं. ‘कोरमो’ के आगे अगर ‘जॉब्स’ न लगा होता, तो हर बार चिकन कोरमा ही याद आता. हमने ख़ुद इसको इंस्टॉल करके देखा और प्रोफ़ाइल भी बनाई. आसानी और साफ़-सुथरे इंटरफ़ेस के मामले में हम इसको 10 में से 9 नम्बर तो दे ही सकते हैं. ऐप कैसे कम करता है, वो हम बाद में बताएंगे. पहले थोड़ा ऐप के बारे में भी जान लेते हैं. देखिए वीडियो.

कोरमो जॉब्स कैसे काम करता है, जिसे गूगल नौकरी दिलवाने के लिए लाया है?

जॉब ढूंढने के लिए ऐप्लिकेशन पहले से भतेरे पड़े हैं, मगर गूगल ने कहा, ऐसे कैसे? और कुछ इस तरह इंडिया में कोरमो जॉब्स (Kormo Jobs) नाम का ऐप अवतरित हुआ. मगर कोरमो का मसला थोड़ा अलग टाइप का है. ये काफ़ी एंट्री लेवल की जॉब ऑफ़र करता है, पर सारी की सारी लिस्टिंग वेरिफ़ाइड होती हैं. ‘कोरमो’ के आगे अगर ‘जॉब्स’ न लगा होता, तो हर बार चिकन कोरमा ही याद आता. हमने ख़ुद इसको इंस्टॉल करके देखा और प्रोफ़ाइल भी बनाई. आसानी और साफ़-सुथरे इंटरफ़ेस के मामले में हम इसको 10 में से 9 नम्बर तो दे ही सकते हैं. ऐप कैसे कम करता है, वो हम बाद में बताएंगे. पहले थोड़ा ऐप के बारे में भी जान लेते हैं. देखिए वीडियो.

वीडियो

क्या यूट्यूब पर डिसलाइक्स के रिकॉर्ड बनाने से कोई फ़ायदा होता है?

यूट्यूब पर किसी विडियो को लाइक करने का बटन तो आपने देखा ही होगा. लेकिन इसी के साथ डिसलाइक का भी बटन होता है. जानते हैं क्यों? ऐसा इसलिए ताकि विडियो डालने वाला जान सके कि उसकी ऑडियन्स को उसका कॉन्टेंट पसंद आया या नहीं. लेकिन इस बटन को कई बार “डिसलाइक मॉब” हाईजैक कर ले जाती है. मगर क्या डिसलाइक्स के रिकॉर्ड बनाने से कोई फ़ायदा होता है? आइए बताते हैं.

क्या यूट्यूब पर डिसलाइक्स के रिकॉर्ड बनाने से कोई फ़ायदा होता है?

यूट्यूब पर किसी विडियो को लाइक करने का बटन तो आपने देखा ही होगा. लेकिन इसी के साथ डिसलाइक का भी बटन होता है. जानते हैं क्यों? ऐसा इसलिए ताकि विडियो डालने वाला जान सके कि उसकी ऑडियन्स को उसका कॉन्टेंट पसंद आया या नहीं. लेकिन इस बटन को कई बार “डिसलाइक मॉब” हाईजैक कर ले जाती है. मगर क्या डिसलाइक्स के रिकॉर्ड बनाने से कोई फ़ायदा होता है? आइए बताते हैं.