Submit your post

Follow Us

प्रिया रमानी के बरी होने पर लोग बोले- हम उस बात का जश्न मना रहे, जिसकी जरूरत ही नहीं होनी चाहिए

पत्रकार प्रिया रमानी. उन्होंने तत्कालीन विदेश राज्य मंत्री और राज्य सभा सांसद एमजे अकबर पर 2018 में यौन शोषण का आरोप लगाया था. रमानी ने MeToo मूवमेंट के तहत सामने आकर कहा था कि अकबर ने 1993-94 में उनके साथ बुरा बर्ताव किया. उस समय अकबर प्रतिष्ठित एशियन एज अखबार के संपादक थे. रमानी नौकरी के सिलसिले में उनके पास इंटरव्यू देने गई थीं.

रमानी के इस खुलासे के बाद अकबर ने उनके ऊपर मानहानि का केस कर दिया. मामले में दो साल तक सुनवाई हुई. 17 फरवरी को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने रमानी को बरी कर दिया. साथ ही कुछ महत्वपूर्ण टिप्पणियां भी कीं. मसलन, किसी भी महिला को दशकों बाद भी अपनी व्यथा सुनाने का अधिकार है और किसी का सम्मान बचाने के लिए एक महिला की गरिमा की बलि नहीं चढ़ाई जा सकती. कोर्ट ने यह भी कहा कि प्रिया रमानी ने जो खुलासा किया, उससे दफ्तरों में महिलाओं के साथ होने वाले यौन शोषण की कहानियों को बाहर आने में मदद मिली.

रमानी ने भी इस फैसले पर खुशी जताई. रमानी ने कहा कि उन्हें ऐसा लग रहा है कि ना केवल वे बल्कि वो हर महिला सही साबित हुई है, जिसने कभी भी यौन शोषण के खिलाफ बोला है.

यह फैसला आने के बाद ही सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगा. लोगों ने ना केवल फैसले की तारीफ की बल्कि प्रिया के संघर्ष और जज्बे को भी सराहा. प्रिया की वकील और दूसरे सहयोगियों की भी तारीफ हुई. कई लोगों ने कहा कि इससे और भी महिलाओं को अपने साथ हुए अन्याय के खिलाफ बोलने की ताकत मिलेगी. आइए, कुछ ऐसे ही सोशल मीडिया रिएक्शन पर नजर डालते हैं.

प्रिया की सहयोगी और इस मामले में गवाह रहीं पत्रकार गजाला वहाब ने लिखा,

आज का दिन यह याद रखने के लायक है कि #मीटू एक आंदोलन नहीं है. यह घर और बाहर दोनों जगह एक सुरक्षित काम करने की जगह की मांग और आशा को लेकर एक चेतना है. महिलाएं, जो ऐसा कर सकती हैं, उन्हें हमेशा अपने लिए आवाज उठानी चाहिए और उनके लिए भी जो आवाज नहीं उठा पातीं.

पत्रकार रोहिणी सिंह ने ट्वीट किया,

‘प्रिया रमानी ने क्या लड़ाई लड़ी है. हर एक सेक्सुअल प्रीडेटर का पतन ही केवल आगे का रास्ता है.’

 

कारवां-ए-मोहब्बत की नताशा बधवार ने प्रिया की रमानी की हंसती हुई फोटो डाली और लिखा-

पैट्रियार्की को धूल चटाने के बाद कुछ ऐसा महसूस होता है.

संघमित्रा नाम की एक यूजर ने ट्वीट किया,

“हालात इतने खराब हो गए हैं कि हम आज उस बात को लेकर खुशी मना रहे हैं, जिसके लिए ऐसा करने की जरूरत ही नहीं होनी चाहिए. प्रिया रमानी की लड़ाई बहुत से पीड़िताओं को न्याय हासिल करने के लिए प्रेरित करेगी और यौन अपराध करने वालों के लिए एक सीख मिलेगी.”

 


चिन्मयी श्रीपदा ने ट्वीट किया,

“मैं अदालत और जजों को धन्यवाद देती हूं. अब हर जेंडर के लोग यौन शोषण करने वालों के खिलाफ आवाज उठा पाएंगे. प्रिया रमानी ने हम सबके लिए यह लड़ाई लड़ी है. वह मेरी हीरो है. हमारी हीरो है.”

स्वतंत्र पत्रकार रोहिणी मोहन ने लिखा,

“मोर पॉवर टू प्रिया रमानी. इस मामले में उनकी जो ऊर्जा लगी और उन्होंने जिस धैर्य का परिचय दिया, वो बिल्कुल भी आसान नहीं था. और मैं यह सोचना बंद नहीं कर पा रही हूं कि यह यौन शोषण का ऐसा मामला है जिसमें जो अपराधी साबित हुआ है, वो जेल नहीं जाएगा.”

 


वहीं शालिनी नाम की रिसर्चर ने लिखा,

“और जब हम प्रिया रमानी को लेकर आए फैसले का जश्न मना रहे हैं, तो हमें भंवरी देवी और राया सरकार के निडर एक्टिविज्म को भी याद करना चाहिए. जिन्होंने व्यक्तिगत कीमत चुकाकर भारत में मीटू मूवमेंट की नींव रखी.”

न्यू यॉर्क टाइम्स और बिजनेस स्टैंडर्ड के लिए काम कर चुकीं पत्रकार नीलंजना रॉय ने रमानी की वकील रेबेका जॉन की तारीफ की. उन्होंने लिखा,

“रेबेका जॉन के लिए तालियां और सम्मान. वे उन नायिकाओं में से हैं जिन्हें हम प्यार करते हैं और जिनकी हमें जरूरत है. और अब प्रिया रमानी की जीत को सेलिब्रेट करने की जरूरत है. लेकिन यह भी सुनिश्चित करने की जरूरत है कि महिलाएं और दूसरे विक्टिम बिना किसी डर के अपना सच बता सकें.”


 

वीडियो- क्या है विच हंटिंग और स्लट शेमिंग, जिनका शिकार अक्सर औरतें होती हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

अपनी जूनियर से फ्लर्ट करते हैं तो कोर्ट ने आपके लिए ये स्पेशल बात कही है

मामला मध्यप्रदेश के एक जिला जज से जुड़ा है.

'तुम्हारी मां क्या करती हैं? LOL', सवाल पूछने वाले ट्रोल को नव्या नवेली ने प्यार से समेट दिया

नव्या ने अपनी मां को 'कामकाजी' बताते हुए एक पोस्ट शेयर किया था.

ट्यूशन पढ़ाने गई दलित टीचर की अर्धनग्न हालत में लाश मिली, रेप की आशंका

सोशल मीडिया पर विक्टिम का नाम ट्रेंड कर रहा है.

लड़की प्रेमी के साथ घर छोड़कर गई, दो महीने बाद कुएं में मिला उसका सिर, खेत में मिली बॉडी

लड़की के प्रेमी सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

18 साल की लड़की दो महीने में छह बार बेची गई, आखिर में उसने सुसाइड कर लिया

एमपी के कपल ने नौकरी दिलाने के नाम पर लड़की को किडनैप किया था.

पुलिस पर आरोप, कथित रेप पीड़िता का शव आरोपी से जलवाया कि सबूत मिट जाएं

लाश को जलाने का वीडियो वायरल हो गया.

घर से पॉर्न शूट कर मोटा पैसा कमा रही थी एक्ट्रेस, दूसरी लड़कियों को भी फ़ोर्स करने का आरोप

इन पर करोड़ों रुपये का मानहानि का केस भी हो चुका है.

रैगिंग और सुसाइड के 8 साल पुराने केस में कोर्ट ने क्या सज़ा सुनाई?

साथ ही जानिए रैगिंग से जुड़ी ज़रूरी बातें.

16 साल की लड़की की कथित गैंगरेप के बाद हत्या, पिता और भांजी को भी पत्थर से कुचला

चार दिन तक जंगल में अधमरी पड़ी रही लड़की

नई सेक्स पोजीशन ट्राई करते हुए लड़के की मौत, आरोपी लड़की मुश्किल में फंसी है

हत्या के आरोप में मुश्किल से मिली बेल.