Submit your post

Follow Us

जब कमेंट्री करते हुए सौरव गांगुली और जॉन राइट 2003 वर्ल्ड कप की यादों में खो गए

523
शेयर्स

इंडिया और बांग्लादेश का प्रैक्टिस मैच चल रहा था. इंग्लैंड में कार्डिफ के मैदान पर ये मैच खेला गया. इंडिया ने यहां बांग्लादेश को 95 रनों से हराकर बढ़िया प्रैक्टिस की. 13वां ओवर चल रहा था और उधर रोहित शर्मा और विराट कोहली क्रीज पर थे. इधर कमेंट्री बॉक्स पर कुछ खास बातें हो रहीं थी. माइक्रोफोन इस वक्त सौरव गांगुली औऱ जॉन राइट के हाथ में था. अब दोनों साथ आए औऱ वर्ल्ड कप का मौका है तो दोनों के बीच पुरानी बातों पर चर्चा होनी शुरू हो गई. ऐसा लगा कि दोनों 2003 की यादों में खो गए.

सौरव गांगुली को टीम इंडिया की कप्तानी 2000 में तब मिली थी जब इंडियन क्रिकेट मैच फिक्सिंग के जाल में फंस चुकी थी. मोहम्मद अजहरुद्दीन के बाद मौका गांगुली को मिला था. गांगुली ने कप्तानी संभाली और इंडिया को अलग दिशा में लेकर चले गए. गांगुली की इस सफलता के असली रणनीतिकार थे टीम के कोच जॉन राइट. न्यूजीलैंड के इस पूर्व क्रिकेटर ने जिस सयंम और चतुराई से इंडियन क्रिकेट की तकदीर बदली उसी का नतीजा है कि 2001 में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के 16 मैच जीत चुके रथ को कोलकाता के ईडन गार्डन्स में रोका था. फिर 2003 के वर्ल्ड कप फाइनल तक पहुंच कर टीम इंडिया ने दिखा दिया था कि टीम को सही लीडरशिप की कितनी जरूरत थी. गांगुली और राइट दोनों ने साल 2000 से 2005 तक साथ काम किया. दोनों के बीच कभी कोई विवाद नहीं उठा.

अब दोनों जब करीब एक दशक बाद कमेंट्री बॉक्स में साथ आए तो पुरानी यादों में खो गए. गांगुली कहने लगे, “जब मैं कप्तान था तो जॉन राइट सारे निर्णय लेते थे और मैं उनका पालन एक आज्ञाकारी शिष्य की तरह करता था.” इसका राइट ने तुरंत जवाब दिया,” इसका मतबल मेरी याददाश्त थोड़ी कमजोर हो गई है. क्योंकि मुझे तो याद है कि आप इंचार्ज थे औऱ मै तो बस पीछे ब्रैकग्राउंड में ही घूमता फिरता रहता था.”

गांगुली ने फिर जॉन राइट से पूछा कि  क्या आपको 2003 वर्ल्ड कप  के वॉर्म अप मैच का स्कोर याद है?  साथ ही गांगुली ने ये भी कहा कि आप फ्लॉस डांस करके दिखाइए जैसा आप करते थे.

दोनों के बीच इस बातचीत पर सोशल मीडिया ने खूब चर्चा की. एक नजर ऐसी ही कुछ रिएक्शन्स पर

tWEETS1

tWEETS


लल्लनटॉप वीडियो भी देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

इमरान खान की भयानक बेज्ज़ती बिजली विभाग के क्लर्क ने कर दी है

सोचा होगा, 'हमरा एक्के मकसद है, बदला!'

जज साहब ने भ्रष्टाचार पर जजों का धागा खोला, मगर फिर जो हुआ वो बहुत बुरा है

कहानी पटना हाईकोर्ट के जज राकेश कुमार की, जो चारा घोटाले के हीरो हैं.

अयोध्या में बाबरी मस्जिद को बाबर ने बनवाया ही नहीं?

ये बात सुनकर मुग़लों की बीच मार हो गयी होती.

पेरू में लगभग 250 बच्चों की बलि चढ़ा दी गयी और लाशें अब जाकर मिली हैं

खुदाई करने वालों ने जो कहा वो तो बहुत भयानक है

देश के आधे पुलिसवाले मानकर बैठे हैं कि मुसलमान अपराधी होते ही हैं

पुलिसवाले और क्या सोचते हैं, ये सर्वे पढ़ लो

वो आदमी, जिसने पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण ठुकरा दिया था

उस्ताद विलायत ख़ान का सितार और उनकी बातें.

विधानसभा में पॉर्न देखते पकड़ाए थे, BJP ने उपमुख्यमंत्री बना दिया

और BJP ने देश में पॉर्न पर प्रतिबंध लगाया हुआ है.

आईफोन होने से इतनी बड़ी दिक्कत आएगी, ब्रिटेन में रहने वालों ने नहीं सोचा होगा

मामला ब्रेग्जिट से जुड़ा है. लोग फॉर्म नहीं भर पा रहे.

पूर्व CBI जज ने कहा, ज़मानत के लिए भाजपा नेता ने की थी 40 करोड़ की पेशकश

और अब भाजपा के "कुबेर" गहरा फंस चुके हैं.

आशीर्वाद मांगने पहुंचे खट्टर, आदमी ने खुद को आग लगा ली

दो बार मुख्यमंत्री से मिला, फिर भी नहीं लगी नौकरी.