Submit your post

Follow Us

पाकिस्तान में #ThankYouMSD टॉप-ट्रेंडिंग, पड़ोसी मुल्क धोनी पर इत्ता बलिहारी क्यूं हुआ जा रहा है?

वर्ल्ड कप में भारत का आख़िरी मैच. न्यूज़ीलैंड बनाम भारत. इंडिया का बैटिंग ऑर्डर जब रेत के घरौंदे जैसा भहरा चुका था और ड्रेसिंग रूम की बालकनी में मुर्दनी छाई हुई थी, तब जडेजा और धोनी क्रीज़ पर भिड़े हुए थे. धोनी ने विकेट संभाल रखा था. जडेजा ताबड़तोड़ रेल रहे थे. जडेजा मर चुके मैच को इलेक्ट्रिक झटका दिए पड़े थे. लोगों को लगा अब मैच जाग पड़ेगा. और पूछेगा ‘क्या हुआ था मुझे.’

एकबारगी इंडियन फैन्स की हार्ट-बीट फिर सुनाई देने लगी. धोनी का सिंगल पॉइंट एजेंडा था, विकेट रोकना. गेंद चाहे जितना ललचाए, धोनी साधू की तरह मंतर साधते रहे. कोई लंबा शॉट नहीं. स्ट्राइक लगातार जडेजा को देते रहे.

यही चीज़ कुछ लोगों को बुरी लगी. कहने लगे कि ‘माही मारता क्यों नहीं’. कुछ का मानना था कि, जिस मैच में भारत का सब कुछ दांव पर लगा हो वहां माही टुक-टुका काहे रहे थे. जब बल्ला भांजना था तब माही देश के सब्र का एग्ज़ाम काहे लेना चाह रहे थे.

# लेकिन पड़ोसी मुल्क ऐसा नहीं सोचता

पाकिस्तान. क्रिकेट के मैदान पर भारत का चिर-विरोधी. कप उठाओ चाहे ना उठाओ, पाकिस्तानी टीम की इज़्ज़त वाली अर्थी उठनी चाहिए. इधर वालों में कुछ का ‘किरकेट’ धर्म यही कहता है. नहीं टाइपिंग की ग़लती नहीं है, किरकेट ही है. क्योंकि सबका ‘क्रिकेट धर्म’ इत्ता रूड नहीं हो सकता. बहरहाल. इधर कुछ लोग चाहे जो कह लें. उधर वाले इज़्ज़त पूरी देते हैं. उन्हें तो ज़रूर देते हैं, जिनसे इधर कुछ लोग बार-बार पूछते हैं ‘अब रिटायर क्यों नहीं हो जाते’.

धोनी. कल से पाकिस्तान के सोशल मीडिया में छाए हुए हैं. ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे हैं पाकिस्तान के.

पड़ोसी लोग कह रहे हैं #ThankYouMSD.

# लगातार पाकिस्तान Twitter पर नंबर वन बने हुए हैं धोनी

कल जैसे ही मैच और भारत की उम्मीद ख़त्म हुई. पाकिस्तानी ट्विटर पर ऐक्टिव हुए. धोनी लहराने लगे. और अब तक शहंशाह बने हुए हैं.

अब तक धोनी को थैंक्स कहते हुए 16 हज़ार Tweets दर्ज हो चुके हैं पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से
अब तक धोनी को थैंक्स कहते हुए 16 हज़ार Tweets दर्ज हो चुके हैं पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से

लोग रुक नहीं रहे हैं. लगातार ट्विटर पर धोनी को शुक्रिया कहे ही चले जा रहे हैं.

बस देखते चले जाइए भाई सा’ब 

धोनी तो धोनी हैं

इसे कहते हैं ‘स्पोर्ट स्पिरिट’. जहां खेल और खिलाड़ी से इतर और कुछ नहीं है. खेल सिर्फ़ खेल है. मानव सभ्यता को सभ्यता बनाने वाली दूसरी सबसे पुरानी चीज़. पहली है ‘शिकार’. इसलिए खेल को खेल ही रहने दो कोई और काम ना दो.


वीडियो देखें:

वर्ल्ड कप 2019: सरफराज अहमद ने अपनी कप्तानी, कोच से खटपट और इंडिया-इंग्लैंड मैच पर अपनी बात रखी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन के बीच इस कंपनी ने 600 लोगों को नौकरी से निकाल दिया?

स्थानीय विधायक ने मामले की शिकायत कर्नाटक सरकार और केंद्र सरकार से की है.

आयुष्मान कार्ड वालों की फ़्री कोरोना जांच होगी, लेकिन 2 करोड़ परिवार इस लिस्ट से ही ग़ायब!

क्या गड़बड़ी हुई गिनती में?

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.