Submit your post

Follow Us

प्यासे सुअर को पानी पिलाने पर मिली 10 साल की कैद

73
शेयर्स

अपने यहां सीडी में भजन बजते हैं. कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा. मने पानी पिलाना सबसे बड़ा पुण्य कहा जाता है. लेकिन कनाडा में इसका उल्टा केस हो गया. पिछली 29 नवंबर को एक अजीब केस और उससे भी अजीब सजा खबरों की मार्केट में आई. 48 साल की एक मोहतरमा, जिनका नाम है अनीता क्रैजंक. टोरंटो में रहती हैं. ये ‘टोरंटो पिग सेव’ ग्रुप की कोफाउंडर भी हैं. 22 जून को इनसे एक भारी गुनाह हो गया था. सड़क पर सुअर ढोने वाली लॉरी जा रही थी. उसके अंदर बंद सुअर इनको प्यासे दिखे तो पानी पिला दिया. ड्राइवर ने मना किया फिर भी पिलाया. दूसरे दिन घर पर कोर्ट का ऑर्डर आ गया पेशी का. वहां उनको इस ‘आपराधिक शरारत’ के लिए 10 साल जेल और 5 हजार डॉलर जुर्माने की सजा सुना दी.
कनाडा का कानून भी लंबे हाथ वाला है. वहां सुअर आदमी की प्रॉपर्टी है. उसे 36 घंटे तक भूखा प्यासा रख कर यहां वहां ले जाना लोगों का अधिकार है. और मैडम की कुल लड़ाई इसी के खिलाफ है. फिलहाल अनीता और उनके वकील ने केस आगे बढ़ा दिया है.

इस वीडियो में अनीता पानी पिलाते दिख रही हैं और ड्राइवर उनको हूल देने में लगा है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

सलमान खान ईद 2020 पर ये फिल्म लाने वाले हैं

आज से शूटिंग शुरू हो चुकी है.

IND vs BAN: विराट कोहली हैं नहीं, अब रोहित शर्मा से जुड़ी बुरी खबर आई है

पहले T20 मैच से पहले ही ये होना था.

गांगुली ने आते ही रवि शास्त्री के लिए टीम कोचिंग के अलावा कौन सा नया प्लान बनाया है?

राहुल द्रविड़ जरूर खुश होंगे.

झारखंड चुनाव की तारीख का ऐलान हो गया है

जानिए किन तारीखों को चुनाव होंगे और नतीजे कब आएंगे.

शादी का ऐसा विज्ञापन कभी नहीं देखा होगा !!

चुनाव और पत्नी का गहरा कनेक्शन है

मयंक और शुभमन ने मार-मार के भूसा भर दिया, दूसरी टीम मिलके उतने रन न बना सकी

बची कसर यादव ने पूरी की. 29 बॉल्स में 72 रन पीट डाले.

'अनु मलिक अपने स्टूडियो में सोफे पर लेटकर मेरी आंखों के बारे में बात कर रहा था'

सोना महापात्रा के बाद नेहा भसीन ने बताई अपनी आपबीती.

दिल्ली की हवा इतनी ज़हरीली हो गई है कि पब्लिक इमरजेंसी घोषित करनी पड़ी

...और ये उस दिन हुआ जब दुनिया के सबसे ताकतवर देशों में से एक की मुखिया हमारे यहां आई हैं.

अगले CJI ने अयोध्या ज़मीन विवाद के केस में आस्था वाले ऐंगल पर क्या कहा है?

सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या केस से जुड़ी सुनवाई पूरी हो चुकी है. अब फैसले की बारी है.

ये अजूबा मामला है रिश्वतखोरी का, 15 साल, 20 हज़ार और दो कहानियां

अनुकंपा पर मिली नौकरी लेकिन बुरी फंसी क्लर्क