Submit your post

Follow Us

संसद में राहुल गांधी ने जो-जो बोला, वो बीजेपी के लिए वाकई भूकंप ही था

1.27 K
शेयर्स

20 जुलाई का दिन संसद के लिए बड़ा दिन था. वो इसलिए क्योंकि इस तारीख को केंद्र की बीजेपी सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर बहस होनी थी. सुबह 11 बजे संसद की कार्यवाही शुरू हुई. तुरंत ही ओडिसा के सीएम नवीन पटनायक वाली पार्टी बीजेडी ने वॉकआउट करने की घोषणा की. सदन को बताया गया कि शिवसेना भी इस कार्यवाही से गैरहाजिर रहेगी. बहस शुरू होने से पहले सदन में कांग्रेस के नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा –

130 करोड़ भारतीयों के मुद्दे और इस सरकार की कमियों को उजागर करने के लिए क्या यह समय हमारे लिए पर्याप्त है? हर पार्टी को (बोलने के लिए) 30 मिनट मिलने चाहिए थे.

मल्लिकार्जुन खड़गे.
मल्लिकार्जुन खड़गे ने की ज्यादा समय की मांग.

इस बयान पर मजे लेते हुए बीजेपी के नेता अनंत कुमार ने कहा –

वनडे के जमाने में पांच दिन का टेस्ट मैच खेलना ठीक नहीं है.

खैर शोरशराबे के बीच बहस की शुरुआत हुई. सबसे पहले मौका मिला जयदेवा गाला को. वो गुंगटूर से एमपी हैं और आंध्र प्रदेश में सरकार चलाने वाली टीडीपी के सदस्य हैं. उसी टीडीपी के जिसने कुछ महीने पहले केंद्र की बीजेपी सरकार से समर्थन वापस लिया. उन्होंने अपनी नाराजगी जताई. कहा –

सरकार ने आंध्र के लिए जो वादे किए वो पूरे नहीं किए. आंध्र प्रदेश को सभी राज्यों के मुकाबले कम पैसा मिला. तेलंगाना नहीं आंध्र प्रदेश है नया राज्य. इसलिए आंध्र प्रदेश के सामने ज्यादा दिक्कतें थीं. प्रदेश बंटने से आंध्र का नुकसान हुआ. रेवेन्यू जेनरेशन के रास्ते कम हुए. संसाधनों का बंटवारा भी सही से नहीं हुआ. पीएम मोदी ने आंध्र की रैलियों में जो वादे किए थे, वो पूरे नहीं किए. उन्होंने आंध्र के लोगों के साथ धोखा किया. समय आने पर आंध्र की जनता बीजेपी को इसका जवाब देगी. वैसा ही हाल करेगी जैसा कांग्रेस का किया था. ये एक धर्मयुद्ध है सरकार के खिलाफ. आंध्र के लिए स्पेशल कैटिगरी स्टेटस का वादा हुआ था, वित्त मंत्री से लेकर पीएम ने किया था, मगर इसे पूरा नहीं किया गया. वित्त मंत्री तथ्यों से खेलना बंद करें. हमारे पास ऐसे सुबूत हैं, जिससे सबकी आंखें खुल जाएंगी. आंध्र प्रदेश में चुनाव प्रचार के दौरान पीएम मोदी ने कहा था कि कांग्रेस ने मां को मार दिया और बच्चे को बचा लिया. मोदी ने कहा था कि मैं मां को बचाऊंगा. मगर कुछ नहीं हुआ.

350 करोड़ सरदार पटेल के स्टैच्यू के लिए दिए गए, वहीं हमारे प्रदेश की कैपिटल अमरावति के लिए मात्र 1500 करोड़ रुपये दिए गए. पीएम मोदी ने आंध्र के लिए वर्ल्ड क्लास कैपिटल बनाने का वादा किया था. क्या इतने पैसे में ऐसा किया जा सकता है. टीडीपी के एमपी आजकल बीजेपी के टार्गेट में हैं तो वाईएसआर के नेता अमित शाह और बीजेपी की विजिटर लिस्ट में हैं. आंध्र प्रदेश को स्पेशल स्टेटस के तहत बजट में 1800 करोड़ रुपये दिए गए. इससे ज्यादा तो बाहुबली फिल्म का कलेक्शन था.

टीडीपी के सांसद के इस बयान के दौरान पूरे टाइम तेलंगाना के सांसद हंगामा करते रहे. उन्होंने राज्य के बंटवारे को अनडेमोक्रेटिक बताने पर विरोध जताया. इसे चर्चा से हटाने की मांग की. इसके बाद बारी आई बीजेपी की. सबसे पहले आए बीजेपी के राकेश सिंह जोकि एमपी बीजेपी के अध्यक्ष हैं. जाहिर सी बात है कि उन्हें एमपी में आने वाले चुनाव के मद्देनजर बोलने के लिए चुना गया. ताकि बात भी बन जाए और एमपी के नए प्रदेश अध्यक्ष का चेहरा भी जनता देख ले. वो बोले –

देश में कई बार अविश्वास प्रस्ताव आए. मगर इस तरह से पहली बार हुआ. इस बार का प्रस्ताव लाने की कोई जरूरत नहीं थी. गल्ला जी कह रहे थे कि वो हमें साप दे रहे हैं. अरे वो ऐसे ही सापित हो गए जब वो कांग्रेस के साथ आ गए. अभी-अभी हमने कर्नाटक के सीएम को रोते हुए देखा. कांग्रेस ने तो घोटालों की राजनीति की. गरीबी हटाने की बात कही गई, मगर गरीब ही हट गए. बाबा साहेब को हराने की कांग्रेस ने हर मुमकिन कोशिश की. केंद्र का काम ये है कि वो सभी राज्य की जरूरतों का ख्याल रखे. हम एक राज्य की राजनीति के लिए दूसरे राज्यों के हक की बलि नहीं चढ़ा सकते. कांग्रेस की सरकार के वक्त एमपी के साथ बहुत भेदभाव हुआ. सड़क के गड्ढे भरने के लिए पैसे मांगने पर एमपी के सीएम को उपवास के लिए बैठना पड़ा था. पर हमने बिनी किसी भेदभाव के काम किया. महिलाओं को गैस कनेक्शन दिए. 18 हजार गांवों में बिजली पहुंचाई. मोदी सरकार ने गरीबों की मदद की. उनके लिए सोचा. 4 लाख गांव सौंच से मुक्त हुए.

 

राकेश सिंह इसके बाद बोले कि कांग्रेस के शासन में फाइलें पहले अटकती, फिर लटकती फिर भटकती थीं. इसके पीछे कुछ विशेष कारण होते थे. मेरे पास जबलपुर के ऐसे कई मामले हैं. बीजेपी सरकार आते ही ऐसी सारी फाइलें पास हुईं. आज एक दिन में देश में 27 किलोमीटर सड़क बन रही है. भारत विश्व की छठवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन रहा है. इस्लामिक देश में मंदिर बन रहा है. डोकलाम में चीनी सैनिक पीछे हट जाते हैं. पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक होती है. अमेरिका में पीएम मोदी के लिए प्रोटोकॉल टूटता है. हमने 4 सालों में किसानों की आमदनी बढ़ाई. उपज का डेढ़ गुना देने की तरफ कदम बढ़ाया. पूर्व पीएम लाल बहादुर शास्त्री का नाम लेने पर कांग्रेस के लोग कतराते हैं. मगर हमने उनके नारे- जय जवान, जय किसान को आगे बढ़ाया. उसे साकार किया. हमारे कामों की वजह से ही हमारी 19 राज्यों में सरकार बनी. नॉर्थ ईस्ट के लोगों को पहली बार लग रहा है कि वो भारत का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं. ये हताशा, कुंठा के चलते आया अविश्वास प्रस्ताव है.

तीन चुनावी राज्यों के काम गिनाए

इसके बाद राकेश सिंह एकदम चुनावी मोड में आ गए. मतलब वो करने लगे जिसके लिए उन्हें बुलवाया गया था. इस साल जिन तीन राज्यों में चुनाव होने हैं माने राजस्थान, एमपी और छत्तीसगढ़, वहां बीजेपी की सरकारों में हुए कामों को गिनाया. बोले – राजस्थान में नवंबर 2013 में बिजली प्रोडक्शन कम था. वो बढ़ गया. ऐसे ही राजस्थान में हुए कई काम गिनाए मसलन किसानों को बिजली कनेक्शन देना, 26 किमी रोज सड़क बनना आदि. 1685 गांवों को सड़कों से पहली बार जोड़ा गया.

छत्तीसगढ़ में हुए विकास कामों को भी राकेश सिंह ने गिनाया. बोले – 2003 तक छत्तीसगढ़ का बजट था मात्र 9000 करोड़ रुपये. अब 2018 में 83000 करोड़ का बजट है. बिजली प्रोडक्शन बढ़ा. कृषि उत्पादन 2003 के मुकाबले 65 लाख मीट्रिक टन से 1 करोड़ 3 लाख मीट्रिक टन हो गया. 1072 किलोमीटर सड़कें बनी थीं. आज 22000 किलोमीटर सड़क बन चुकी हैं. स्कूल 21,082 थे 2003 में. अब 60726 स्कूल हो गए.

राकेश ने बीजेपी के काम गिनाए.
राकेश ने बीजेपी के काम गिनाए.

फिर वो आए अपने प्रदेश मध्य प्रदेश की बात लेकर. बोले – वहां 2003 से बीजेपी की सरकार है. एमपी में 14 सालों में जो काम हुआ उससे एमपी बीमारू राज्य से बाहर हुआ. 2003 में कृषि विकास दर 3 प्रतिशत से 20 प्रतिशत पर आ गई. 700000 हेक्टेयर सिंचित था. अब 40,00,000 हेक्टेयर हो गया. बिजली उत्पादन था 2960 वाट. अब 18364 हो गया. प्रति व्यक्ति आय 14000 से 80000 प्रति हुई. 21647 करोड़ से बजट 164000 करोड़ रुपये हो गया. स्कूल बढ़े. सड़कें बढ़ीं.

जाहिर सी बात है कि इन तीन राज्यों में चुनाव होने हैं. इसलिए तीनों के काम गिनाए गए. इस दौरान कांग्रेस ने जमके विरोध भी किया. इस पर राकेश सिंह बोले- कांग्रेस को एमपी के विकास की बात सुनना अच्छा नहीं लगता. मुझे मध्य प्रदेश की मिट्टी से प्यार है. आप सबको भी होना चाहिए. वो आगे बोले – धर्मनिरपेक्षता की बात करके विपक्ष साथ आ रहा है. जबकि इसके पीछे सत्ता की लालसा ही है. अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था- अविश्वास प्रस्ताव तब लाए जाते हैं जब सत्तादल के टूटने की संभावना हो. मगर यहां गलत वजह से अविश्वास प्रस्ताव लाया गया.

राहुल आए और पीएम मोदी पर जमके बरसे

अब बारी थी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की. उनके बोलने से पहले ही बीजेपी हल्ला करने लगी. खैर संसद है तो शोरशराबा है. राहुल ने इंग्लिश में बोलना शुरू किया तो उधर से आवाज आई. हिंदी में बोलो. जवाब आया हिंदी में भी बोलूंगा. फिर राहुल बोले – मैंने गाला जी का भाषण सुना. मैंने उनमें बेचैनी देखी. मुझे समझ आया कि आप पर एक नए हथियार का उपयोग हुआ. इसे हम जुमला स्ट्राइक के नाम से जानते हैं. आप इससे अकेले पीड़ित नहीं हैं. किसान, दलित, आदिवासी और महिलाओं पर भी जुमला स्ट्राइक हुआ. आपने कहा कि पीएम के शब्द का मतलब होना चाहिए. देश भी यही पूछ रहा है.

इनका जुमला नंबर 1 सुनिए. 15 लाख आएंगे रुपये हर अकाउंट में. जुमला नंबर 2 – दो करोड़ लोगों को हर साल रोजगार. लेबर ब्यूरो के अनुसार महज 4 लाख लोगों को रोजगार मिला. चाइना 50 हजार युवाओं को 24 घंटे में नौकरी देता है. आप लोग 400 लोगों को नहीं दे पा रहे. ये लोग कभी कहते हैं. पकौड़े बनाओ.

पता नहीं कहां से मैसेज आया कि पीएम ने रात 8 बजे नोटबंदी का फैसला किया. शायद समझ नहीं थी कि किसान, व्यापारी कैश में धंधा चलाते हैं. बेरोजगारी हिंदुस्तान में 7 साल में सबसे ज्यादा है. जीएसटी कांग्रेस लाई थी. आपने विरोध किया था. गुजरात के सीएम ने विरोध किया था. हम चाहते थे कि एक जीएसटी हो. पेट्रोल-डीजल उसमें हो. मगर अब पांच अलग-अलग जीएसटी है. आपने हर घर में जीएसटी डाल दिया. पीएम बाहर जाते हैं. वहां सिर्फ सूट-बूट वालों से बात करते हैं. गरीबों, किसानों, छोटे व्यापारी से बात नहीं करते. जो छोटे व्यापारी थे, उनकी जेब में हाथ डालकर आपने उनका पैसा छीन लिया. जियो के इश्तेहार पर पीएम का फोटो आ सकता है. जो 10-20 बड़े बिजनेसमैन हैं, ये उनके लिए ही सबकुछ करते हैं. गरीबों के लिए इनके दिल में कोई जगह नहीं है.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी.
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी को कई मुद्दों पर घेरा.

जय शाह का मुद्दा उठाया, राफेल पर मांगा जवाब राहुल बोले – पीएम ने कहा था कि मैं देश का चौकीदार हूं. मगर जब अमित शाह के पुत्र जय शाह 16000 गुना अपनी आमदनी बढ़ाता है तो पीएम के मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है.( बवाला चालू हो चुका है). राफेल डील में पता नहीं क्या हुआ, किससे बात हुई. पीएम फ्रांस गए और प्लेन की कीमत 520 करोड़ से 1620 करोड़ रुपये हो गई. रक्षा मंत्री ने कहा कि मैं देश को प्लेन का दाम बताऊंगी. फिर उन्होंने कहा कि मैं ये आंकड़ा नहीं दे सकती. उन्होंने फ्रांस से गोपनीयता के करार की बात कही. मैं खुद फ्रांस के सीएम से मिला. उन्होंने कहा कि ऐसा कोई करार नहीं है. पीएम मोदी के दबाव में आकर निर्मला सीतारमण ने देश से झूठ बोला है. (इस पर रक्षा मंत्री ने विरोध जताया). स्पीकर ने झूठ बोलने वाली बात कार्यवाही में न जाने की बात कही. राहुल इसके बाद बोले-

सब कोई जानता है कि कैसे कुछ बड़े व्यापारियों से पीएम मोदी के संबंध हैं. ऐसे ही एक उद्योगपति को राफेल के सौदे में हजारों करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाया गया. एचएएल से ये सौदा छीना गया. 45,000 करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाया गया उद्योगपति को. पीएम को बताना चाहिए कि ये कैसे हुआ. मुझे पता है कि पीएम मुस्कुरा रहे हैं. मगर वो नर्वस हैं. वो मुझसे नजरें नहीं मिला पा रहे हैं. वो इसलिए क्योंकि पीएम सच नहीं बोले.

इस पर अनंत कुमार ने रूल बुक निकालकर इसे नियम के खिलाफ बताया. बोले – ऐसे आरोप लगाने से पहले एडवांस नोटिस देना चाहिए. राहुल इसके बाद बोले –

पीएम चौकीदार नहीं हैं, भागीदार हैं. गुजरात में नदी किनारे चीन के राष्ट्रपति के साथ पीएम झूला झूले. फिर चीन के हजारों सैनिक भारत की बाउंड्री के अंदर होते हैं. राष्ट्रपति वापस जाते हैं और हजारों सैनिक डोकलाम के अंदर होते हैं. फिर पीएम चाइना जाते हैं और कहते हैं कि बिना एजेंडा की बात होगी. डोकलाम पर बात नहीं करेंगे. ये चाइना का एजेंडा था. पीएम ने सैनिकों को धोखा दिया, जो चीनी सैनिक के सामने डटे रहे.

 

अपने दोस्तों की जेब में पैसा डाल रहे पीएम

राहुल ने आरोप लगाया कि पीएम ने 2.5 लाख करोड़ रुपये देश के बड़े उद्योगपतियों के माफ किए. किसान कह रहे हैं हमारा भी माफ कर दो. पर वित्त मंत्री बोले- नहीं, नहीं तुम्हारा नहीं होगा. पेट्रोल-डीजल के रेट घट रहे हैं. पर पूरे हिंदुस्तान में इसके रेट बढ़ रहे हैं. वो इसलिए क्योंकि पीएम मोदी इस पैसे को अपने दोस्तों की जेब में डालना चाहते हैं. पहली बार विदेश में हिंदुस्तान का रेप्युटेशन बन रहा है कि भारत अपनी महिलाओं की सुरक्षा नहीं कर पा रहा है. देश में दलित, मुसलमान, आदिवासी पीटे जा रहे हैं. पर पीएम के मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है.

हममें और अमित शाह और मोदी जी में फर्क ये है कि हम लोग हारना स्वीकार कर सकते हैं. मगर शाह और मोदी हार बर्दाश्त नहीं कर सकते. मैं बाहर गया तो विपक्ष के लोगों ने मुझे बधाई दी. पर हैरत की बात ये है कि बीजेपी के कुछ लोगों ने भी मुझे हाथ मिलाकर बधाई दी. कहा- बहुत अच्छा बोले. ये बताता है कि इनके लोगों में भी यही गुस्सा है. ये अकाली दल की नेता हरसिमरत जी भी मुझे देखकर हंस रही थीं.

राहलु आगे बोले- आप सोचोगे कि मेरे दिल में पीएम के लिए गुस्सा है, क्रोध है, नफरत है. मगर मैं दिल से कहता हूं कि पीएम, बीजेपी और आरएसएस ने मुझे कांग्रेस का मतलब समझाया. कि इन्होंने मुझे हिंदुस्तानी होने का मतलब समझाया. कि तुम्हें कोई भी कितनी भी गाली दे तुम उसे प्यार करो. आपने मुझे मेरा धर्म समझाया. आपने मुझे शिव का मतलब समझाया. मुझे हिंदू होने का मतलब समझाया. इससे बड़ी बात हो ही नहीं सकती. मैं इसके लिए आपको धन्यवाद देता हूं.( सामने से आवाज आ रही थी- बोलो जय श्रीराम). राहुल बोले –

आपके अंदर मेरे लिए गुस्सा है, नफरत है. आपके लिए मैं पप्पू हूं.
पर मेरे अंदर आपके लिए इतना सा भी क्रोध नहीं है. मैं कांग्रेस हूं.
कांग्रेस ने इसी भावना से इस देश को बनाया है, इस बात को याद रखिएगा.
यही भावना मैं आपके अंदर से निकालूंगा और आप सबको कांग्रेसी बनाऊंगा.

राहुल पीएम मोदी के गले लग गए जाकर.
राहुल पीएम मोदी के गले लग गए जाकर.

इसके बाद राहुल पीएम मोदी के पास गए और उनसे गले मिले. पीएम ने भी राहुल की पीठ थपथपाई. अब इंतजार है पीएम नरेंद्र मोदी के जवाब का. वो कैसे राहुल की झप्पी और तमाम आरोपों का जवाब देते हैं.


ये भी पढ़ें –

वीसी के खिलाफ खबर छपी और जेएनयू से अखबार के पन्ने ही गायब हो गए

कौन हैं करोड़पति सांसद जयदेव गल्ला, जिन्होंने आज लोकसभा में बहस की शुरुआत की?

राहुल गांधी से गले मिलने पर पीएम ने क्या कहा, पता चल गया!

अगले कुछ दिनों तक संसद में होने वाली हर गतिविधि पर हर भारतवासी की नज़र टिकी रहेंगी

पुलिस के धक्के से ट्रक के नीचे आने वाला ये छात्र कौन है?

लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

देश के आधे पुलिसवाले मानकर बैठे हैं कि मुसलमान अपराधी होते ही हैं

पुलिसवाले और क्या सोचते हैं, ये सर्वे पढ़ लो

वो आदमी, जिसने पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण ठुकरा दिया था

उस्ताद विलायत ख़ान का सितार और उनकी बातें.

विधानसभा में पॉर्न देखते पकड़ाए थे, BJP ने उपमुख्यमंत्री बना दिया

और BJP ने देश में पॉर्न पर प्रतिबंध लगाया हुआ है.

आईफोन होने से इतनी बड़ी दिक्कत आएगी, ब्रिटेन में रहने वालों ने नहीं सोचा होगा

मामला ब्रेग्जिट से जुड़ा है. लोग फॉर्म नहीं भर पा रहे.

पूर्व CBI जज ने कहा, ज़मानत के लिए भाजपा नेता ने की थी 40 करोड़ की पेशकश

और अब भाजपा के "कुबेर" गहरा फंस चुके हैं.

आशीर्वाद मांगने पहुंचे खट्टर, आदमी ने खुद को आग लगा ली

दो बार मुख्यमंत्री से मिला, फिर भी नहीं लगी नौकरी.

नेटफ्लिक्स पर आने वाली शाहरुख़ की 'बार्ड ऑफ़ ब्लड' में कश्मीर क्यूं खचेर रहा है पाकिस्तान?

पाकिस्तानी आर्मी के प्रवक्ता के बयान पर सोशल मीडिया कहने लगा 'पीछे तो देखो'.

केरल बाढ़ के हीरो आईएएस कन्नन गोपीनाथन ने कश्मीर मसले पर नौकरी छोड़ते हुए ये बातें कही हैं

नौकरी छोड़ दी. अब न कोई सेविंग्स है, न ही रहने को अपना ख़ुद का घर.

धरती पर क्राइम तो रोज़ होते हैं, लेकिन पहली बार अंतरिक्ष में हुए क्राइम की खबर आई है

अंतरिक्ष में रहते क्राइम करने की बात चौंकाती है.

अरुण जेटली नहीं रहे, यूएई से पीएम मोदी ने कुछ यूं किया याद

गौतम गंभीर ने जेटली को पिता तुल्य बताया.