Submit your post

Follow Us

यूपी-उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर, अब तक 82 लोगों की मौत

रूड़की से कुशीनगर तक पसरा है मातम, सहारनपुर में सबसे ज्यादा 36 की मौत.

829
शेयर्स

अवैध रूप से धधक रहीं शराब की भट्ठियां यूपी और उत्तराखंड में कहर बनकर टूटी हैं. मेरठ, सहारनपुर, रूड़की से लेकर कुशीनगर तक अब तक 82 लोगों की मौत हो चुकी है. जिसमें मेरठ में 18, सहारनपुर में 36, रुड़की में 20 और कुशीनगर में 8 लोगों की मौत हुई है. यूपी सरकार के मुताबिक जहरीली शराब से मरने वाले ज्यादातर लोग एक तेरहवीं में शामिल होने उत्तराखंड गए थे. वहीं पर इन सब ने शराब पी. वापस आने के बाद इन लोगों की हालत बिगड़नी शुरू हो गई. मेरठ में मरने वाले 18 लोग सहारनपुर से इलाज के लिए लाए गए थे. अभी भी कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है. मरने वालों में अधिकतर सहारनपुर जिले के नागल, गागलहेड़ी और देवबंद थाना क्षेत्र के गांव के रहने वाले लोग हैं. दर्जन भर गांवों में मातम पसरा हुआ है.

प्रशासन की लापरवाही के लिए सरकार ने नागल थाना प्रभारी सहित दस पुलिसकर्मा और आबकारी विभाग के तीन इंस्पेक्टर व दो कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया है. नागल थाना प्रभारी हरीश राजपूत, एसआई अश्वनी कुमार, अय्यूब अली और प्रमोद नैन के अलावा कांस्टेबल बाबूराम, मोनू राठी, विजय तोमर, संजय त्यागी, नवीन और सौरव को सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं आबकारी विभाग के सिपाही अरविंद और नीरज भी निलंबित किए गए हैं.

8 फरवरी की रात यूपी के मुख्य सचिव और बाद में डीजीपी ने सभी जिलों के जिलाधिकारियों और पुलिस कप्तानों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करते हुए निर्देश दिए कि जहरीली शराब के मामले में सभी जिलों में छापेमारी और खोजबीन की जाए. यह अभियान अगले पंद्रह दिनों तक चलेगा. जिसमें धरपकड़ के साथ-साथ अवैध शराब की भट्टियों पर छापेमारी की जाएगी. सरकार की तरफ से साफ निर्देश है कि जिस जिले में लापरवाही होगी, वहां के पुलिस कप्तान और जिलाधिकारी को इसका खामियाजा भुगतना होगा.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों को दो-दो लाख और घायलों को 50 हजार रूपया मुआवजा देने की घोषणा की है.
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों को दो-दो लाख और घायलों को 50 हजार रूपया मुआवजा देने की घोषणा की है.

अब प्रशासन हुआ ऐक्टिव

सहारनपुर और कुशीनगर मे हुई मौतों के बावजूद जानलेवा शराब की तस्करी का धंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है. कुशीनगर में पुलिस और आबकारी की संयुक्त टीम ने छापा मारकर कप्तानगंज थाना क्षेत्र के एनएच 28 पर ढाबे पर खड़ी ट्रक में भूसे में छिपाकर ले जाई जा रही शराब की 1600 पेटियां बरामद की हैं. बरामद अवैध शराब की कीमत लगभग 80 लाख रुपये से अधिक बताई जा रही है. कप्तानगंज पुलिस ने आबकारी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है और फिलहाल शराब तस्कर फरार बताया जा रहा है.

प्रशासनिक आदेश के बाद अधिकारी भी एक्शन मोड में आ गए हैं. पूरे प्रदेश में अभियान चलाया जा रहा है. इस अभियान के तहत दर्जनों जिलों मे एक साथ आबकारी और पुलिस की छापेमारी चल रही है. कई जगह से शराब की बरामदगी हुई है तो कई अवैध फैक्ट्रियां सील की गई हैं. लेकिन यही कार्रवाई इसी तत्परता के साथ पहले की गई होती तो इस तरह की नौबत ही न आती. इतनी बड़ी संख्या में लोगों की मौत होने के बाद नींद से जागे प्रशासन ने पूरे प्रदेश में अवैध शराब के खिलाफ अभियान चलाने की बात कही है. लेकिन गांव-गांव धधक रही भट्ठियों पर इस अभियान का कितना असर होगा ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा.


 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Uttar pradesh: 82 people died in Saharanpur Meerut and Kushinagar district after drinking spurious liquor

टॉप खबर

कौन है वह आदमी, जिसने न्यूज़ीलैंड की मस्जिदों में हमला किया

बोला, सारे मुसलमानों से नफरत नहीं करता.

किस वजह से मसूद अजहर को बार-बार बचाता है चीन?

दुनिया से बैर लेकर भी क्यों पाकिस्तान और आतंकियों का साथ देता है चीन...

आखिर क्यों क्रैश हो रहे हैं Boeing 737 MAX प्लेन, जिन्हें पूरी दुनिया में बैन किया जा रहा है

बोइंग के इस प्लेन के क्रैश होने से 5 महीनों में कुल 346 लोगों की मौत हो चुकी हैं.

पाकिस्तान से हुई लड़ाई में कैप्टन अमरिंदर का क्या रोल था?

कैप्टन हर जगह 65 की जंग की बात करते हैं. आज बड्डे है. जानते हैं उनसे जुड़े किस्से.

रॉयटर्स के मुताबिक भारत की बालाकोट स्ट्राइक फेल हुई! सैटेलाइट इमेज में क्या दिखा?

एक्सपर्ट के मुताबिक हाई रेजॉल्यूशन फोटो में जैश के मदरसे को कोई साफ नुकसान नहीं दिखता.

IND vs AUS : वो 5 फैक्टर, जिन्होंने भारत को दूसरा वनडे जिता दिया

कोहली तो हैं हीं...मगर असली काम तो बॉलरों ने किया.

किन तीन वजहों से दलित-आदिवासी संगठनों ने 5 मार्च को 'भारत बंद' बुलाया?

चुनाव के माहौल में इनकी नाराज़गी का क्या असर होगा? कोई असर होगा भी कि नहीं होगा...

वो पांच जवान, जो बड़गाम हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद हुए

ये वही क्रैश है जिसे पहले मिग विमान क्रैश समझ लिया गया था.

बडगाम में क्रैश हेलिकॉप्टर MI-17, जिसे बार-बार रूस से मंगाया जाता है

इसी हेलिकॉप्टर से एक और हादसा हो चुका है.