Submit your post

Follow Us

यूपी-उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर, अब तक 82 लोगों की मौत

रूड़की से कुशीनगर तक पसरा है मातम, सहारनपुर में सबसे ज्यादा 36 की मौत.

829
शेयर्स

अवैध रूप से धधक रहीं शराब की भट्ठियां यूपी और उत्तराखंड में कहर बनकर टूटी हैं. मेरठ, सहारनपुर, रूड़की से लेकर कुशीनगर तक अब तक 82 लोगों की मौत हो चुकी है. जिसमें मेरठ में 18, सहारनपुर में 36, रुड़की में 20 और कुशीनगर में 8 लोगों की मौत हुई है. यूपी सरकार के मुताबिक जहरीली शराब से मरने वाले ज्यादातर लोग एक तेरहवीं में शामिल होने उत्तराखंड गए थे. वहीं पर इन सब ने शराब पी. वापस आने के बाद इन लोगों की हालत बिगड़नी शुरू हो गई. मेरठ में मरने वाले 18 लोग सहारनपुर से इलाज के लिए लाए गए थे. अभी भी कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है. मरने वालों में अधिकतर सहारनपुर जिले के नागल, गागलहेड़ी और देवबंद थाना क्षेत्र के गांव के रहने वाले लोग हैं. दर्जन भर गांवों में मातम पसरा हुआ है.

प्रशासन की लापरवाही के लिए सरकार ने नागल थाना प्रभारी सहित दस पुलिसकर्मा और आबकारी विभाग के तीन इंस्पेक्टर व दो कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया है. नागल थाना प्रभारी हरीश राजपूत, एसआई अश्वनी कुमार, अय्यूब अली और प्रमोद नैन के अलावा कांस्टेबल बाबूराम, मोनू राठी, विजय तोमर, संजय त्यागी, नवीन और सौरव को सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं आबकारी विभाग के सिपाही अरविंद और नीरज भी निलंबित किए गए हैं.

8 फरवरी की रात यूपी के मुख्य सचिव और बाद में डीजीपी ने सभी जिलों के जिलाधिकारियों और पुलिस कप्तानों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करते हुए निर्देश दिए कि जहरीली शराब के मामले में सभी जिलों में छापेमारी और खोजबीन की जाए. यह अभियान अगले पंद्रह दिनों तक चलेगा. जिसमें धरपकड़ के साथ-साथ अवैध शराब की भट्टियों पर छापेमारी की जाएगी. सरकार की तरफ से साफ निर्देश है कि जिस जिले में लापरवाही होगी, वहां के पुलिस कप्तान और जिलाधिकारी को इसका खामियाजा भुगतना होगा.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों को दो-दो लाख और घायलों को 50 हजार रूपया मुआवजा देने की घोषणा की है.
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों को दो-दो लाख और घायलों को 50 हजार रूपया मुआवजा देने की घोषणा की है.

अब प्रशासन हुआ ऐक्टिव

सहारनपुर और कुशीनगर मे हुई मौतों के बावजूद जानलेवा शराब की तस्करी का धंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है. कुशीनगर में पुलिस और आबकारी की संयुक्त टीम ने छापा मारकर कप्तानगंज थाना क्षेत्र के एनएच 28 पर ढाबे पर खड़ी ट्रक में भूसे में छिपाकर ले जाई जा रही शराब की 1600 पेटियां बरामद की हैं. बरामद अवैध शराब की कीमत लगभग 80 लाख रुपये से अधिक बताई जा रही है. कप्तानगंज पुलिस ने आबकारी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है और फिलहाल शराब तस्कर फरार बताया जा रहा है.

प्रशासनिक आदेश के बाद अधिकारी भी एक्शन मोड में आ गए हैं. पूरे प्रदेश में अभियान चलाया जा रहा है. इस अभियान के तहत दर्जनों जिलों मे एक साथ आबकारी और पुलिस की छापेमारी चल रही है. कई जगह से शराब की बरामदगी हुई है तो कई अवैध फैक्ट्रियां सील की गई हैं. लेकिन यही कार्रवाई इसी तत्परता के साथ पहले की गई होती तो इस तरह की नौबत ही न आती. इतनी बड़ी संख्या में लोगों की मौत होने के बाद नींद से जागे प्रशासन ने पूरे प्रदेश में अवैध शराब के खिलाफ अभियान चलाने की बात कही है. लेकिन गांव-गांव धधक रही भट्ठियों पर इस अभियान का कितना असर होगा ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा.


 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कांग्रेस और सपा छोड़कर भाजपा में आए नेताओं ने मोदी के बारे में क्या कहा?

वो भी कल लखनऊ में...

कश्मीर में बैन के बाद भी किसकी मेहरबानी से गिलानी इस्तेमाल कर रहे थे फोन-इंटरनेट?

बैन के चार दिन बाद तक गिलानी के पास इंटरनेट और फोन था. प्रशासन को इसकी भनक भी नहीं थी.

पीएम मोदी ने छठवीं बार लाल किले पर फहराया तिरंगा, 92 मिनट के भाषण में नया क्या था?

पीएम मोदी ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाई.

बीफ़-पोर्क के नाम पर ज़ोमैटो कर्मचारियों को भड़काने वाले लोकल भाजपा नेता निकले!

और एक नहीं, कई हैं ऐसे. देखिए तो...

यूपी के एक और अस्पताल में 32 बच्चों की मौत, डॉक्टरों को कारण का पता नहीं

किसी ने कहा था, "अगस्त में तो बच्चे मरते ही हैं"

भगवान राम के इतने वंशज निकल आए हैं कि आप भी माथा पकड़ लेंगे

अभी राम पर खानदानी बहस हो रही है. खुद ही देखिए...

उन्नाव मामले में भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर अब लंबा फंस गए हैं

सीबीआई ने केस में रोचक खुलासे किए हैं

राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम मोदी ने बताया क्या है उनका 'मिशन कश्मीर'

पीएम मोदी ने लगभग 40 मिनट तक अपनी बात रखी.

जम्मू-कश्मीर के मामले में आत्माओं का भी प्रवेश हो गया है

और एक समय एक "आत्मा" बहुत दुखी हुई थी

मायावती का ऐसा हृदय परिवर्तन कैसे हुआ कि कश्मीर पर सरकार के साथ हो गयीं?

धारा 370 हटवाना चाहती थीं या वजह कुछ और है?