Submit your post

Follow Us

'बधाई हो' में दादी बनी सुरेखा सीकरी को ब्रेन स्ट्रोक, पिछले 10 महीने से नहीं किया फिल्मों में काम

280
शेयर्स

फिल्म ‘बधाई हो’ ने इस साल नेशनल अवॉर्ड्स में दो अवॉर्ड जीते. एक तो फिल्म को मिला और दूसरा अवॉर्ड मिला दादी का रोल करने वाली सुरेखा सीकरी को. ये सुरेखा का तीसरा नेशनल अवॉर्ड है. इससे पहले वो ‘तमस’ और ‘मम्मो’ जैसी फिल्मों के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का नेशनल अवॉर्ड जीत चुकी हैं. लेकिन अजीब बात ये है कि वो ‘बधाई हो’ से इतनी तारीफें बटोरने के बाद किसी फिल्म में नज़र नहीं आई हैं. यानी तकरीबन 9-10 महीने से उन्होंने किसी फिल्म में काम नहीं किया है. और इसके पीछे की वजह से उनकी तबीयत, जो पिछले काफी समय से खराब चल रही है.

हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए सुरेखा ने बताया कि 10 महीने पहले वो महाबलेश्वर में अपने एक प्रोजेक्ट की शूटिंग कर रही थीं. वहीं बाथरूम में गिरने की वजह से उन्हें ब्रेन स्ट्रोक हो गया था. ब्रेन स्ट्रोक तब होता है, जब आपके दिमाग वाले हिस्से में खून की सप्लाई बंद हो जाती है. तब से उनका इलाज ही चल रहा है इसीलिए उन्होंने कोई फिल्म साइन नहीं की है. सुरेखा ने एचटी के साथ बातचीत में आगे बताया कि उनके मुताबिक ‘बधाई हो’ को बेस्ट स्क्रीनप्ले का अवॉर्ड भी मिलना चाहिए था. लेकिन बधाई के बाद पब्लिक से मिले प्यार और नेशनल अवॉर्ड दोनों से ही वो काफी खुश हैं.

फिल्म 'बधाई हो' के एक सीन में अपनी बहू को ताने मारता सुरेखा का किरदार.
फिल्म ‘बधाई हो’ के एक सीन में अपनी बहू को ताने मारता सुरेखा का किरदार.

सुरेखा सीकरी ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 1978 में आई चर्चित  फिल्म ‘किस्सा कुर्सी का’ से की थी. ये फिल्म इंदिरा गांधी और संजय गांधी की राजनीति पर व्यंग्य थी. इस फिल्म को कई विवादों का सामना करना पड़ा. और फाइनली फिल्म की मास्टर कॉपी समेत सभी प्रिंट्स को गुड़गांव के मारुती फैक्ट्री में लाकर जला दिया गया.

गोविंद निहलानी डायरेक्टेड फिल्म 'तमस' में सुरेखा सीकरी ने राजो का किरदार निभाया था.
‘तमस’ के एक सीन में सुरेखा सीकरी. गोविंद निहलानी डायरेक्टेड इस फिल्म में उन्होंने राजो का किरदार निभाया था.

हालांकि इस फिल्म ने सुरेखा के लिए रास्ता खोल दिया था. आगे वो प्रकाश झा की ‘परिणति’ (1988), सईद मिर्ज़ा की ‘सलीम लंगड़े पे मत रो’ (1989), मणि कौल की ‘नज़र’, श्याम बेनेगल की ‘सरदारी बेगम’ और ‘हरी-भरी’ जैसी पैरलल फिल्मों में नज़र आईं. मेनस्ट्रीम में उनकी एंट्री हुई आमिर खान की फिल्म ‘सरफरोश’ (1999) से. इसके बाद उन्होंने ‘रेनकोट’ (2004), ‘तुमसा नहीं देखा’ (2004) और ‘हमको दीवाना कर गए’ (2006) जैसी फिल्मों में भी काम किया. टीवी पर भी ‘बालिका वधू’ में निभाए ‘दादीसा’ के किरदार ने भी उन्हें खूब मकबूलियत दी.

‘बधाई हो’ में उन्होंने एक ऊपर से रूखी लेकिन भीतर से नर्म दिल सास और नायक की दादी का रोल किया था. शुरुआत में उस किरदार को अपनी बहू के अधेड़ावस्था में प्रेग्नेंट होने से समस्या रहती है. लेकिन बाद में वो अपने बहू के लिए लोगों से भी लड़ जाती है. उनका ये कैरेक्टर फिल्म में काफी बिटर-स्वीट सा था. फिल्म में उनकी बहू-बेटे का रोल नीना गुप्ता और गजराज राव ने किया था.

बहू की प्रेग्नेंसी का मज़ाक उड़ाने वाले लोगों से भिड़कर बहू को सांत्वना देती सासू मां.
बहू की प्रेग्नेंसी का मज़ाक उड़ाने वाले लोगों से भिड़कर बहू को सांत्वना देती सासू मां.

इस मौके ‘बधाई हो’ का लल्लनटॉप रिव्यू भी देखते जाइए:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कांग्रेस और सपा छोड़कर भाजपा में आए नेताओं ने मोदी के बारे में क्या कहा?

वो भी कल लखनऊ में...

कश्मीर में बैन के बाद भी किसकी मेहरबानी से गिलानी इस्तेमाल कर रहे थे फोन-इंटरनेट?

बैन के चार दिन बाद तक गिलानी के पास इंटरनेट और फोन था. प्रशासन को इसकी भनक भी नहीं थी.

पीएम मोदी ने छठवीं बार लाल किले पर फहराया तिरंगा, 92 मिनट के भाषण में नया क्या था?

पीएम मोदी ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाई.

बीफ़-पोर्क के नाम पर ज़ोमैटो कर्मचारियों को भड़काने वाले लोकल भाजपा नेता निकले!

और एक नहीं, कई हैं ऐसे. देखिए तो...

यूपी के एक और अस्पताल में 32 बच्चों की मौत, डॉक्टरों को कारण का पता नहीं

किसी ने कहा था, "अगस्त में तो बच्चे मरते ही हैं"

भगवान राम के इतने वंशज निकल आए हैं कि आप भी माथा पकड़ लेंगे

अभी राम पर खानदानी बहस हो रही है. खुद ही देखिए...

उन्नाव मामले में भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर अब लंबा फंस गए हैं

सीबीआई ने केस में रोचक खुलासे किए हैं

राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम मोदी ने बताया क्या है उनका 'मिशन कश्मीर'

पीएम मोदी ने लगभग 40 मिनट तक अपनी बात रखी.

जम्मू-कश्मीर के मामले में आत्माओं का भी प्रवेश हो गया है

और एक समय एक "आत्मा" बहुत दुखी हुई थी

मायावती का ऐसा हृदय परिवर्तन कैसे हुआ कि कश्मीर पर सरकार के साथ हो गयीं?

धारा 370 हटवाना चाहती थीं या वजह कुछ और है?