Submit your post

Follow Us

मोदी सरकार पर चार लाख करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

34.31 K
शेयर्स

केंद्र की मोदी सरकार पर इस कार्यकाल के दौरान हुए सबसे बड़े  भ्रष्टाचार का बड़ा आरोप लग रहा है. आरोप है कि सरकार ने देश भर में कच्चे लोहे और दूसरे अयस्कों की 358 खदानों की लीज यानी पट्टे का समय बढ़ा दिया. इसके लिए खदानों का वैल्यूएशन यानी उनकी कीमत का आंकलन भी नहीं किया गया. इससे सरकार को 4 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. इसे मनमोहन सिंह की सरकार के समय हुए 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले जैसा ही माना जाए. इसके लिए बाकायदा सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी करके पूछा है कि क्यों न इन माइनिंग लीज को रद्द कर दिया जाए?

याचिका में क्या आरोप लगाए गए हैं?
सुप्रीम कोर्ट में ये याचिका एडवोकेट एमएल शर्मा ने दाखिल की है. फाइनेंशियल एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक इसमें आरोप लगाए गए हैं कि

1-केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को बाध्य किया कि वे 288 खदानों की लीज का समय बढ़ा दें.
2-इसके लिए साल 2015 में माइन्स एंड मिनरल्स एक्ट में संशोधन किया गया.
3-कच्चे लोहे समेत दूसरे अयस्कों की 358 खदानों की माइनिंग लीज की अवधि बढ़ाई गई.
4-इसके लिए खदानों के मूल्य का आंकलन आज के समय के मुताबिक नहीं किया गया.
5-खदानों को दोबारा आवंटित करने के लिए नीलामी प्रक्रिया को भी नहीं अपनाया गया.
6-ज्यादातर खदानें उन्हीं कंपनियों को दे दी गईँ, जिनके पास पहले से वे खदानें थीं.
7-इसके लिए केंद्र सरकार ने सिर्फ एक आदेश जारी किया.

सुप्रीम कोर्ट में किस बात का केस किया गया है?

याचिका में कहा गया है कि MMDR यानी माइंस एंड मिनरल्स डेवलपमेंट एंड रेगुलेशन एक्ट की धारा 8ए अवैध है. इसी सेक्शन के जरिए खदानों को दोबारा उन्हीं कंपनियों को दे दिया गया, जिनके पास वे पहले से थीं. पट्टों की समयसीमा 50 साल या उसकी अवधि खत्म होने तक कर दी गई है. कोयला के अलावा दूसरे खनिजों की खदानों के पट्टे 5 से 20 साल के लिए बढ़ाए गए हैं. इसके लिए एमएमडीआर एक्ट के संशोधन का सहारा लिया गया है. नीलामी से पट्टे दिए जाते तो 80 से 100 फीसदी फायदा हो सकता था.

क्या खदानों के बदले भाजपा ने पैसा लिया है?

फाइनेंशियल एक्सप्रेस में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक याचिका में आरोप लगाया गया है कि इस पूरे खेल में जमकर भ्रष्टाचार हुआ है. आरोप है कि बड़ी-बड़ी कंपनियों को लीज दिया गया है. जिन कंपनियों को लीज दी गई है, उन कंपनियों ने डोनेशन भी दिया है, जो गंभीर आर्थिक अपराध है. इस पूरी प्रक्रिया में सरकारी खजाने को करीब 4 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है.

फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक गोवा की 160, कर्नाटक की 45 और ओडिशा की 31 खदानों का रिन्यूवल किया गया. इनमें से ज्यादातर खदानें वेदांता ग्रुप और टाटा ग्रुप के कंपनियों के अधीन थीं. खास बात ये है कि यही दोनों ग्रुप सत्ताधारी भाजपा को सबसे ज्यादा चंदा देते रहे हैं.

याचिका में मुख्य मांग क्या की गई है?

याचिका में गुजारिश की गई है कि खदानों का आवंटन रद्द करके सीबीआई जांच कराई जाए. ये पट्टे बिना किसी नए मूल्यांकन के या नीलामी प्रक्रिया अपनाए इन कंपनियों को दिए गए हैं. पट्टे बिलकुल फ्री दिए गए हैं. इनको रद्द करके नए सिरे से नीलामी के जरिए आवंटन किया जाए. और कंपनियों से मार्केट रेट के आधार पर पैसे की वसूली की जाए. इसके साथ-साथ MMDR एक्ट के सेक्शन 8ए को रद्द किया जाए.

सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?

सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर केंद्र सरकार के साथ-साथ ओडिशा, झारखंड और कर्नाटक की सरकारों को नोटिस जारी किया है. केंद्र सरकार से पूछा गया है कि क्यों न इन खदानों के आवंटन को रद्द कर दिया जाए? सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस एसए बोबडे और जस्टिस एस अब्दुल नजीर की बेंच ने सीबीआई को भी नोटिस जारी किया है. कोर्ट ने सीनियर एडवोकेट पीएस नरसिम्हा को केस में सहयोग के लिए नियुक्त किया है.

कौन हैं एमएल शर्मा, जो इस केस को सुप्रीम कोर्ट तक लेकर गए?

एम एल शर्मा का पूरा नाम है मनोहर लाल शर्मा. सुप्रीम कोर्ट में वकील हैं और जनहित याचिकाएं दाखिल करने के लिए जाने जाते हैं. कोयले के ब्लॉक आवंटन में हुए घोटाले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पहली पीआईएल मनोहर लाल शर्मा ने ही की थी. मनोहर लाल शर्मा ही वो वकील थे, जिन्होंने निर्भया गैंग रेप के दोषियों का केस लड़ा था. 2013 में जब सुप्रीम कोर्ट में एक इंटर्न के सेक्शुअल हैरेसमेंट का मामला आया था, तो एमएल शर्मा ने पीड़िता के खिलाफ ही याचिका दाखिल कर दी थी. इसके बाद एमएल शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्ति के लिए बने नेशनल ज्यूडिशियल अपॉइंटमेंट कमीशन को भी कोर्ट में चुनौती दी थी. 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने एमएल शर्मा को नोटिस जारी करते हुए पूछा था कि क्यों न अब से एमएल शर्मा को किसी तरह की जनहित याचिका दाखिल करने से रोक दी जाए. अब 2019 में एमएल शर्मा ने एक बार फिर से पीआईएल दाखिल की है और आरोप लगाया है कि एनडीए की सरकार में लोहे के अयस्कों के खदानों के आवंटन में 4 लाख करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है.


वीडियोः  पीएम मोदी का गैर-राजनीतिक इंटरव्यू: मोदी के बोले 2 झूठ जो साफ़ पकड़े गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Supreme Court issues notice to government of India and Odisha, Jharkhand and Karnatka on extension of leases of 358 mines

टॉप खबर

ड्यूटी पर लौटे विंग कमांडर अभिनंदन के साथियों का जोश देख आप भी खुश हो जाएंगे

अभिनंदन ने एक मैसेज भी दिया है.

सनी देओल ने 'ढाई किलो का हाथ' वाला डायलॉग मारा, कर्नल राठौड़ ने 'निशाना' कांग्रेस की ओर मोड़ दिया

राजस्थान के रोड शो में सनी को देखने के लिए 'बेताब' लोगों ने 'गदर' मचा रक्खा था, लेकिन सनी पाजी 'बॉर्डर' क्रॉस करके यूपी चले गए.

राहुल गांधी के पूर्व बिजनेस पार्टनर को कांग्रेस के वक्त मिला था डिफेंस ऑफसेट कॉन्ट्रेक्ट!

रफाल पर मोदी सरकार को घेर रहे थे, खुद वैसे ही आरोपों में घिर गए हैं.

499 नंबर पाकर हंसिका और करिश्मा ने CBSE टॉप किया

मेरिट लिस्ट में पहली पांच टॉपर लड़कियां हैं!

मसूद अज़हर के अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित होने से भारत को क्या फर्क पड़ेगा?

हर बार चीन रोक लगा देता था, इस बार चीन ने भी समर्थन कर दिया.

भारतीय आर्मी ने जिस 'हिम मानव' के पैर की तस्वीरें जारी की थी, उसके अब और कई फोटो आए हैं

नई तस्वीरों में हिम मानव के पैरों के निशान की लंबाई नापी जा रही है.

दिल्ली में कॉन्स्टेबल ने ट्रेन के नीचे कुचलने से महिलाओं-बच्चों को बचाया, लेकिन खुद नहीं बच पाया

ट्रैक पर एक नहीं बल्कि दोनों तरफ से ट्रेन आ रही थी.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने यौन उत्पीड़न के आरोपों के जवाब में ये 9 बातें बोलीं

एक महिला के गंभीर आरोपों को लेकर हुई सुनवाई में तीन जजों की बेंच ने एक बहुत बड़ा दावा किया.

BJP प्रवक्ता पर जूता फेंकने वाला क्यों नाराज था, 2 दिन पहले की 4 FB पोस्ट से पता चला

खुद आयकर के चंगुल में फंसा है जूता फेंकने वाला शक्ति भार्गव.

BJP प्रवक्ता पर जूते से हमला करने वाला कानपुर का बहुत नामी आदमी है

450 करोड़ की प्रॉपटी 11.5 करोड़ में खरीद चुका है!