Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

कश्मीर में इस बार जिस तरह जान गई है, वो बहुत तकलीफ देने वाला है

663
शेयर्स

कश्मीर. जहां हमारा राष्ट्रवाद एक दूसरे तरह के राष्ट्रवाद से टकराता है. हमारे यहां उस राष्ट्रवाद को ‘अलगाववाद’ कहा जाता है. बंदूक के दम पर चल रही ‘आज़ादी’ की लड़ाई को बंदूक के सहारे ही काबू करने की कोशिश चल रही है. और लोग पिस रहे हैं. इस पिसाई ने 10 जुलाई की सुबह एक और जान ले ली. इस बार कोई जवान या उग्रवादी नहीं मरा था. इस बार मरा था एक बाप. इस डर से कि उसका बेटा मरने वाला है.

कश्मीर में शोपियां ज़िला है. उग्रवाद के गढ़ों में से एक. यहां के कुंदलन गांव में सेना, पुलिस और उग्रवादियों के बीच 9-10 जुलाई की दरम्यानी रात मुठभेड़ शुरू हुई. उग्रवादी एक घर में घेर लिए गए. और दोनों तरफ से गोलीबारी होने लगी. गोलियों की आवाज़ें हर तरफ खबर बनकर दौड़ने लगी. इनमें से एक पहुंची शोपियां के ही गांव मेमेंढर. यहां मोहम्मद इशाक़ नाइकू का घर है. नाइकू सुबह उठे तो उन्होंने कहीं से सुन लिया कि कुंदलन में जिस घर को सेना और दूसरी सुरक्षा एजेंसियों ने घेर रखा है, उसमें उनका बेटा ज़ीनत उल इस्लाम भी शामिल है.

कश्मीर में नियमित रूप से सेना और दूसरी एजेंसियां ऑपरेशन चलाती रहती हैं. लेकिन उग्रवाद कम होने की जगह हाल के दिनों में बढ़ा है. (फोटोःपीटीआई)
कश्मीर में नियमित रूप से सेना और दूसरी एजेंसियां ऑपरेशन चलाती रहती हैं. लेकिन उग्रवाद कम होने की जगह हाल के दिनों में बढ़ा है. (फोटोःपीटीआई)

कश्मीर में जब ये मालूम चलता है कि किसी लड़के ने हथियार उठा लिया है तो सेना और पुलिस उसके घरवालों से संपर्क करती है. बताती है कि आपके बेटे-पति-भाई ने देश के खिलाफ लड़ाई छेड़ दी है. हो सकता है कि उसका सामना कभी सेना या दूसरी सुरक्षा एजेंसियों से हो जाए. तब आप चलिएगा और मनाइएगा कि सरेंडर कर दें. क्योंकि सरेंडर न करने वाले उग्रवादी मुठभेड़ खत्म होने तक ज़िंदा नहीं बचते. बच जाते हैं तो कभी न कभी किसी और मुठभेड़ में फंस जाते हैं. उग्रवादियों के घरवालों को हमेशा इस बात का डर लगा रहता है कि उन्हें सरेंडर कराने का बुलावा न आ जाए. बुलावे से भी ज़्यादा इस बात का डर कि अगर उनके बेटे, भाई या पति ने सरेंडर करने से इनकार कर दिया तो? क्योंकि पूर्व में ऐसा हो चुका है.

शायद इसीलिए जब नाइकू ने सुना कि उनका बेटा मौत से एक कदम दूर है, उनके दिल ने जवाब दे दिया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्हें ज़ोर का हार्ट अटैक आया. रिश्तेदार उन्हें ज़िला अस्पताल लेकर भागे. ज़िले के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ ज़हूर अहमद का बयान है. कि नाइकू अस्पताल लाए जाते तब तक उनके बदन में जान बाकी नहीं थी.

बुरहान वानी का जनाज़ा. बुरहान की कश्मीर में बहुत इज़्ज़त है. लेकिन मां-बाप डरते हैं कि उनके बच्चे उग्रवाद की ओर बढ़े तो उनका हश्र भी बुरहान जैसा न हो. (फोटोःरॉयटर्स)
बुरहान वानी का जनाज़ा. बुरहान की कश्मीर में बहुत इज़्ज़त है. लेकिन मां-बाप डरते हैं कि उनके बच्चे उग्रवाद की ओर बढ़े तो उनका हश्र भी बुरहान जैसा न हो. (फोटोःरॉयटर्स)

नाइकू के मरने के बाद भी कुंदलन में मुठभेड़ चलती रही. गांव की भीड़ उग्रवादियों को बचाने के लिए मुठभेड़ स्थल की ओर दौड़ी. पत्थर भी चले. इसे काबू करने के लिए सुरक्षा एजेंसियों को गोली चलानी पड़ी जिसमें एक आदमी की मौत हो गई. 50 के करीब लोग घायल भी हुए. एक जवान और एक अधिकारी ज़ख्मी हुए हैं जिन्हें इलाज के लिए श्रीनगर के बेस अस्पताल लाया गया है.

नाइकू अब इस दुनिया में नहीं हैं. खबर लिखे जाने तक ये तय नहीं हो पाया है कि उनका बेटा मुठभेड़ वाले घर में था कि नहीं. सुरक्षा एजेंसियों का कहना है कि उनकी ओर से नाइकू से संपर्क नहीं किया गया था. वो कार्रवाई में मारे गए उग्रवादियों की शिनाख्त होने का इंतज़ार कर रही हैं.

जुलाई 2016. कश्मीर. कर्फ्यू के दौरान एक आदमी सड़क पर पुलिस वाले को बाहर निकलने की वजह के तौर पर दवाई की शीशी दिखाते हुए. दवाई खरीदने निकलना उस आदमी की मजबूरी है. उसकी तलाशी लेना पुलिस वाले की. (फोटोःरॉयटर्स)
जुलाई 2016, कश्मीर. कर्फ्यू के दौरान एक आदमी सड़क पर पुलिस वाले को बाहर निकलने की वजह के तौर पर दवाई की शीशी दिखाते हुए. दवाई खरीदने निकलना उस आदमी की मजबूरी है. उसकी तलाशी लेना पुलिस वाले की. (फोटोःरॉयटर्स)

कार्रवाई में उग्रवादियों की मौत को ‘मिलिटेंट’ का ‘न्यूट्रलाइज़’ होना कहा जाता है. जब इस तरह की कार्रवाई में ऐसे किसी शख्स की मौत होती है जिसे मारना लक्ष्य नहीं था, तो उसे कोलैटरल डैमेज कहा जाता है. ऐसा कहकर से एक इंसान की मौत पर होने वाला अफसोस कम करने की कोशिश होती है. नाइकू की मौत इन दोनों खांचों में नहीं समाती.

अफवाह उन खबरों को कहते हैं जिनका पक्का आधार नहीं होता. लेकिन जिनके सच होने का डर बहुत लगता है. जब नाइकू ने जान छोड़ी, तब कोई पक्के से नहीं जानता था कि ज़ीनत मुठभेड़ वाले घर में था कि नहीं. तब तक वो एक अफवाह ही थी. और यही इस खबर का सबसे दुर्भाग्यपूर्ण हिस्सा है. कश्मीर में अब अफवाहें जान लेने लगी हैं. एक कौम के लिए इससे दुखद कुछ नहीं हो सकता.


ये भी पढ़ेंः
जब भारत से लगे पाकिस्तान में नारा लगा – ‘हम क्या चाहते, आज़ादी’
कश्मीर का ‘आतंकी’ सैयद सलाहुद्दीन, जो एक वक्त माननीय विधायक होते-होते रह गया था
मुसलमान, संविधान और इनटॉलरेंस पर इस सेना के अफसर की बात जरूर सुननी चाहिए
‘सेकुलर कहलाने वाली पार्टियां चाहती हैं कि मुसलमान सिर्फ मुसलमान बना रहे, डरा रहे’
क्या नेहरू के रक्षा मंत्री रहे वी के मेनन की अय्याशी के कारण भारत 1962 में चीन से हार गया?
क्या था आइरिश क्रांतिकारियों का ‘गंदा प्रोटेस्ट’ जिसकी तारीफ दुश्मन अंग्रेजों ने भी की?
वीडियोः इमरजेंसी के दौरान जब जुहानन मार थोमा ने इंदिरा गांधी को लताड़ा

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Shopian encounter: militant’s father dies of massive heart attack upon hearing his son is trapped in a gun battle with forces

टॉप खबर

भारत बंद तो ठीक है, लेकिन इसमें हुई हिंसा और तोड़फोड़ की ज़िम्मेदारी कौन लेगा?

कांग्रेस की अगुवाई में 21 विपक्षी पार्टियों ने किया है भारत बंद.

सवर्णों के भारत बंद में भी हुई हिंसा, पथराव में घायल हो गए सांसद पप्पू यादव

बिहार, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और राजस्थान में दिखा सबसे ज्यादा असर.

धारा 377: समलैंगिकता पर सुप्रीम कोर्ट ने क्रांतिकारी फैसला दिया है

फैसला हाशिए में रह रहे LGBTQ समुदाय के लिए उत्सव का सबब है

कर्नाटक के विधानसभा चुनाव में हार के बाद अब निकाय चुनाव में BJP के साथ क्या हुआ?

कांग्रेस और जेडी-एस अलग-अलग लड़े, मगर फिर भी फायदा नहीं उठा पाई बीजेपी.

इंडिया vs इंग्लैंड: हाथी निकल गया मगर दुम रह गई

इंडिया और जीत के बीच अादिल राशिद आ गए.

कीनन-रुबेन मर्डर केस में जो मेन गवाह था, उसका भी मर्डर हो गया

लड़की छेड़ने का विरोध करने पर कीनन-रुबेन को मार दिया गया था, अब अविनाश को भी वैसे ही मारा गया.

नहीं रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी

93 साल की उम्र में एम्स में ली अंतिम सांस.

कांवड़ियों पर 'पुष्पवर्षा' के लिए किराए पर आए हेलिकॉप्टर पर तगड़ा खर्च आया

यूपी सरकार की तरफ से ये हेलिकॉप्टर लिया तो गया था कांवड़ियों पर निगरानी के लिए.

मुजफ्फरपुर जैसा देवरिया का केस, कार आती थी, 15 साल से बड़ी लड़कियों को कहीं ले जाती थी

24 बच्चियों को पुलिस ने छुड़ा लिया है, 18 अब भी गायब हैं.

मैच में चीटिंग हुई है: इंग्लैंड के 11 खेल रहे थे, इंडिया का बस एक कोहली

एक ही बल्लेबाज के भरोसे टेस्ट मैच नहीं जीते जाते.