Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

'RBI गवर्नर से पूछा गया, आपको पद से क्यों न हटाया जाए और मुकदमा चले?'

1.34 K
शेयर्स

नोटबंदी किसका फैसला था नहीं क्लियर हुआ. कभी कहा गया सरकार का फैसला था तो कभी कहा गया आरबीआई का फैसला था. खैर फैसला जिसका भी हो अब इस बात के साफ़ होने के आसार दिख रहे हैं. आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल को अपनी चुप्पी तोड़नी पड़ेगी. क्योंकि संसद की लोक लेखा समिति (पब्लिक अकाउंट्स कमिटी PAC) ने उनको बुलावा भेजा है. आरबीआई गवर्नर के रेगुलेशंस में पिछले दो महीनों में जितने बदलाव आए हैं, उनपर जानकारी मांगी गई है. कांग्रेस नेता केवी थॉमस की अगुवाई वाली समिति ने पटेल से पूछा है कि अगर ऐसा कोई कानून नहीं है तो उन पर पॉवर का गलत इस्तेमाल करने के लिए मुकदमा क्‍यों न चले और उन्‍हें हटाया क्‍यों न जाए.

इसके अलावा 9 और सवालों के जवाब देने हैं जो PAC की भेजी लिस्ट में हैं. गवर्नर उर्जित पटेल ने लंडन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स, येल यूनिवर्सिटी और ऑक्सफ़ोर्ड से इकोनॉमिक्स की पढ़ाई की है. आईएमएफ में भी काम किया है. लेकिन रिज़र्व बैंक से जो सवाल पूछे गए हैं, और जिस डिटेल में पूछे गए हैं उनका जवाब देना उर्जित के लिए मुश्किल होगा. इसलिए नहीं कि क्या बोलें, बल्कि इसलिए कि क्या नहीं बोलें.

meem1
PAC के मुखिया वरिष्ठ कांग्रेसी नेता के वी थॉमस हैं. उनके अलावा PAC में और भी गैर भाजपा सदस्य हैं. इसलिए रिज़र्व बैंक से किए गए एक-एक सवाल में ये बात बाकायदा रिफ्लेक्ट हो रही है कि कोई छूट मिलने की उम्मीद न करें:

सवाल 1
केंद्र में मंत्री पीयूष गोयल ने संसद में कहा है कि नोटबंदी का फैसला रिज़र्व बैंक बोर्ड का था. सरकार ने उसे सिर्फ लागू किया. क्या आप सहमत हैं?

सवाल 2
अगर फैसला रिज़र्व बैंक का ही था, तो ये किस तारीख को तय पाया गया कि नोटबंदी देशहित के लिए ज़रूरी है?

सवाल 3
500 और 1000 के नोट रातों-रात चलन से बाहर करने के पीछे क्या ठोस वजह रही?

सवाल 4
नकली नोटों के लिए रिज़र्व बैंक का खुद का आंकड़ा सिर्फ 500 करोड़ तक सीमित है. भारत का कैश टू जीडीपी
रेशियो 12 % था, जो कि जापान (18 %) और स्विट्ज़रलैंड (13 %) से कम है. हाई डिनॉमिनेशन (ऊंची कीमत वाले नोट; 500-1000 के) का देश की मुद्रा में 86 % हिस्सा था. ये भी चीन (90 %) और अमेरिका (81 %) से ज़्यादा हटकर नहीं है. ऐसे में अचानक रिज़र्व बैंक को नोटबंदी की ज़रुरत क्यों महसूस हुई?

सवाल 5
8 नवम्बर को हुई इमरजेंसी मीटिंग के लिए रिज़र्व बैंक बोर्ड के सदस्यों को नोटिस कब भेजे गए? किन सदस्यों ने मीटिंग में हिस्सा लिया और ये मीटिंग कितनी देर चली? इस मीटिंग के मिनट्स (नोट्स) कहां हैं?

सवाल 6
इस मीटिंग के बाद जो नोट कैबिनेट को नोटबंदी पर अमल करने के लिए भेजा गया, क्या उसमें ये साफ़-साफ़ लिखा था, कि इस फैसले से 86 % नोट चलन से बाहर होंगे? रिज़र्व बैंक ने नए नोट छाप कर वापस सिस्टम में पहुंचाने में कितना वक़्त और पैसा लगने की बात की थी?

सवाल 7 (सबसे जबराट यही है)
रिज़र्व बैंक के 8 नवम्बर वाले नोटिफिकेशन में बैंक के कैश काउंटर से एक बार में 10,000 और पूरे हफ्ते में 20,000 निकालने की सीमा बांध दी गई थी. एटीएम से पैसे निकालने पर 2000 की सीमा थी. रिज़र्व बैंक ने किन नियमों और कानूनों के तहत ये बंदिशें लगाई थीं? अगर ऐसे कोई नियम नहीं हैं, तो क्यों ना आप पर (रिज़र्व बैंक गवर्नर पर) कार्रवाई हो और आपको पद के बेजा इस्तेमाल के लिए पद से हटा दिया जाए?

सवाल 8
पिछले दो महीनों में रिज़र्व बैंक के नियमों में इतनी घिचिड़-पिचिड़ क्यों हुई? उस अफसर का नाम बताएं जिसने कैश निकालने वाले लोगों की ऊंगली पर इंक लगाने का सुझाव दिया था. शादी के लिए अलग से विद्ड्रॉल लिमिट वाला सुझाव किसका था? अगर ये नियम रिज़र्व बैंक के बजाए सरकार की तरफ से आए थे, तो क्या ये मान लिया जाए कि रिज़र्व बैंक, वित्त मंत्रालय (फ़ाइनांस मिनिस्ट्री) के तहत एक विभाग है?

सवाल 9
चलन से बाहर हुए नोटों की कुल कीमत का सटीक आंकड़ा बताएं. इसमें से कितना बैंकों में जमा हुआ है?

सवाल 10
रिज़र्व बैंक ने नोटबंदी के फैसले पर दायर RTI का जवाब देने के लिए जो कारण दिए हैं, वो बेहूदा हैं. बैंक जवाब देने से क्यों बच रहा है?

इंडियन एक्सप्रेस के हवाले से खबर है कि राज्य सभा की स्टैंडिंग कमिटी (सबॉर्डिनेट लेजिस्लेशन) ने रिज़र्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल, डिप्टी गवर्नर एन एस विश्वनाथन और डिप्टी गवर्नर आर गांधी से नोटबंदी के फैसले पर सवाल-जवाब किए. इस मीटिंग में जनता दल (यूनाइटेड) के अनवर अली अंसारी ने यहां तक कहा कि लोगों की परेशानियों की जानकारी के बावजूद कदम न उठाना ‘क्रिमिनल नेग्लिजेंस’ (आपराधिक दर्जे की लापरवाही) के बराबर है.

गवर्नर क्या जवाब देंगे ये मालूम नहीं. लेकिन इतना तय है कि उन्होंने सवालों को पढ़ते हुए मार्कर से ‘बेहूदा’ और ‘कार्रवाई’ को ज़रूर हाईलाईट किया होगा.

जवाब देने की डेड-लाइन में अभी 20 दिन हैं. गवर्नर साहब को मेरी शुभकामनाएं.


 

ये भी पढ़ें:

जानिए क्यों उर्जित पटेल ने नहीं, नरेंद्र मोदी ने नोट बैन का ऐलान किया

यहां 500-1000 के पुराने नोटों पर मिल रहा है 10 परसेंट एक्स्ट्रा!

सोनम गुप्ता से पहले ये बन चुके हैं ‘नोट लेखकों’ का निशाना

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

भाजपा सांसद ने ऐसा क्या कह दिया जो एक्टर प्रकाश राज उनपर केस ठोक रहे हैं?

निजी जीवन को लेकर आपत्तिजनक बात लिख दी थी एमपी साहब ने.

मुंबई पुलिस ने वरुण धवन को दिखा दिया है कि असली रॉबिनहुड पांडे कौन है

चालान भी किया है और ट्विटर पर ज़लील भी.

'द कारवां' की ये रिपोर्ट अमित शाह के लिए इन दिनों की सबसे बड़ी चुनौती है

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस की सुनवाई कर रहे जज की मौत पर उनकी बहन ने बड़े गंभीर सवाल उठाए हैं.

वीडियो: मोदी सरकार में मंत्री की किस बात पर क्लास लगा दी लेडी डॉक्टर ने?

केंद्रीय पर्यटन मंत्री अल्फोंस कन्ननथनम थे सामने.

सरकार ने 'सेक्सी दुर्गा' फिल्म को इफ्फी से बाहर फेंकवाया था, अब डायरेक्टर का दांव देखो

सनल कुमार ससिधरन ने सत्ता के जबड़ों से अपनी अभिव्यक्ति की आज़ादी खींच निकाली है.

पद्मावती के बाद अब टाइगर ज़िन्दा है की भी रिलीज़ टलेगी

फिल्मों के लिए अच्छा समय नहीं चल रहा है.

टि्वटर पर पटरी से क्यों उतर रही है पीयूष गोयल की रेलगाड़ी?

ऐसे तो रेलवे की अच्छी खासी कवायद गड्ढे में चली जाएगी.

दिल्ली में खड़ी हनुमान की 108 फुट की मूर्ति 'हट' जाएगी क्या?

क्या है स्टैचू पर मची पूरी भसड़? पढ़िए और पोल में हिस्सा लीजिए.

पाकी टॉकी

'मैं जो हूं जौन एलिया हूं जनाब, इसका बेहद लिहाज़ कीजिएगा'

जनाब कहते थे, मुझे खुद को तबाह करने का मलाल नहीं है. जानिए अकेले में रहने वाले शायर को.

70 साल बाद पाकिस्तान गए इस शख्स की कहानी हम सबके काम की है

दोनों मुल्कों के दरमियान कड़वाहट का जवाब भी मिलेगा.

पाकिस्तान में जिसे अब प्रधानमंत्री बनाया गया है, वो दो साल जेल में रह चुके हैं

जेल से छूटकर चुनाव लड़े और हार गए थे. अब 45 दिन के लिए पीएम बन गए.

मनी लॉन्ड्रिंग केस में नवाज शरीफ दोषी करार, नहीं रहेंगे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

पनामा पेपर्स लीक ने दुनियाभर में हलचल मचाई थी.

जब अफरीदी ही औरतों को चूल्हे में झोंकना चाहते हों, इस खिलाड़ी पर ये भद्दे कमेंट हमें हैरान नहीं करते

पिता के साथ एयरपोर्ट से बाइक पर घर जाती इस पाक खिलाड़ी को निशाना बनाया जाना शर्मनाक है.

गोरमिंट को गालियां देकर वायरल हुईं इन आंटी के साथ बहुत बुरा हो रहा है

'ये गोरमिंट बिक चुकी है. अब कुछ नहीं बचा.' कहने वाली आंटी की ये बुरी खबर है.

क्या जिन्ना की बहन फातिमा का पाकिस्तान में कत्ल हुआ था?

उनके जनाज़े पर पत्थर क्यों बरसे?

'मैं अल्लाह के घर से चोरी कर रहा हूं, तुम कौन होते हो बीच में नाक घुसाने वाले'

चोर का ये ख़त पढ़ लीजिए. सोच में पड़ जाएंगे!

छिड़ी बहस, क्या सच में डॉल्फिन से सेक्स कर रहे हैं पाकिस्तानी?

रमज़ान के पाक महीने में डॉल्फिन को बचाने की बात हो रही है.

कौन है ये पाकिस्तानी पत्रकार, जिसने पूरी टीम के बदले 3 साल के लिए विराट कोहली को मांगा है

दोनों देशों में ट्रोल हुई हैं. ट्रोल करने वालों को इनके ये पांच ट्वीट देख लेने चाहिए.

भौंचक

डायलॉग्स के अलावा भी बहुत कुछ है वायरल हो रही शॉर्ट मूवी 'जूस' में

क्रांति के लिए हाथ में मशाल, झंडे या बैनर की ज़रूरत नहीं, आंखों में गुस्सा और हाथ में एक ग्लास जूस काफी है.

वाघा बॉर्डर पर हमारी शान हैं BSF वाले, इन्हें सड़क पर कौन ले आया है

चंडीगढ़ में जवानों के साथ जो हुआ वो उनके सम्मान के लिए बहुत गलत है.

उत्तर प्रदेश में 3 दिन पहले हुए इस 'गैंगरेप' की सच्चाई ये है

यूपी के उन्नाव की इस घटना का कनेक्शन अहमदाबाद से है.

अपना नाम ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी में देखने के लिए फॉलो करें ये 5 स्टेप्स

ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी ने आप सब से सुझाव मांगे हैं.

यदि न्यूडिटी की उम्मीद है तो ‘न्यूड’ का यह ट्रेलर मत देखना!

गोवा के फ़िल्म फेस्टिवल में दिखाई जानी थी, अंतिम समय में हटा दी गयी

हॉरर मूवी 'दी ब्लैक कैट' जिसे अपने बच्चों को ज़रूर दिखाना चाहिए

बच्चों के लिए इतना सीरियस काम इससे पहले गुलज़ार को ही करते देखा था.

क्या आपको पता है कि बॉल पेन के ढक्कन में छेद क्यों होता है?

बॉल पेन के कैप में बना छेद यूं ही नहीं बना होता है. ना ही ये स्याही को सूखने से बचाता है.

नितिन गडकरी ने किसानों को बचाने का बदबूदार आइडिया दिया है

पहली नजर में आपको बकैती लगेगी लेकिन सीरियसता से पढ़ना.

पर्यटन विभाग दिया जाना चाहिए इक्यावन बार ट्रांसफर हो चुके खेमका जी को

इतनी बार तो हमने अपने बैचलर-शिप में मैगी नहीं खाई!

कांग्रेस वालो, किसी का माल उड़ाओ तो कम से कम क्रेडिट तो दे ही दो

कार्टूनिस्ट सतीश आचार्य नाराज हैं, बोले- परमिशन लेनी चाहिए थी.