Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

बाबा रामपाल को हत्या के इन दो मामलों में कोर्ट ने दोषी बताया

228
शेयर्स

बरवाला के सतलोक आश्रम के संचालक संत रामपाल को हिसार की एक अदालत ने हत्या के दो मामलों में दोषी पाया है. सेंट्रल जेल 1 में बनी स्पेशल कोर्ट के एडीजे डीआर चालिया ने संत रामपाल को दो महिला और एक बच्चे की हत्या के मामले में दोषी करार दिया है. अब सजा पर फैसला 17 अक्टूबर को होगा..

क्या था मामला?

18-19 नवंबर 2014 को रामपाल के समर्थकों और पुलिस के बीच हुई हिंसा में छह महिलाओं और एक बच्चे की मौत हो गई थी.

18 नवंबर 2014 को सतलोक आश्रम के संचालक रामपाल को बरवाला के आश्रम से बाहर निकालने के लिए पुलिस ने एक अभियान शुरू किया था. इस दौरान बरवाला आश्रम के लोगों और पुलिस के बीच हिंसा हो गई थी. करीब दो दिनों तक पुलिस रामपाल को आश्रम से बाहर निकालने के लिए मशक्कत करती रही. 19 नवंबर की रात को बाबा और उसके 500 समर्थकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. पुलिस और समर्थकों के बीच हुई हिंसा में पांच महिलाओं के साथ ही एक बच्चे की भी मौत हो गई थी. इसके बाद पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की थी. पहली एफआईआर का नंबर था 429, जिसमें रामपाल के साथ ही 15 और लोगों पर हत्या का केस दर्ज किया गया था. दूसरी एफआईआर का नंबर था 430, जिसमें रामपाल और 14 दूसरे लोगों पर केस दर्ज किया था. 11 अक्टूबर को इन्हीं दो मामलों में फैसला आना है.

रामपाल को आश्रम से बाहर निकालने क्यों पहुंची थी पुलिस?

ये अलग-अलग तस्वीरें बताती हैं कि दो दिनों में रामपाल समर्थकों ने कितनी हिंसा की थी.
ये अलग-अलग तस्वीरें बताती हैं कि दो दिनों में रामपाल समर्थकों ने कितनी हिंसा की थी.

बात 2006 की है. खुद को कबीरपंथी कहलाने वाले बाबा रामपाल ने आर्य समाज की किताब सत्यार्थ प्रकाश पर कुछ रिमार्क्स पास किए. इससे गुस्साए आर्य समाज के अनुयायियों ने 12 जुलाई 2006 को बाबा के आश्रम पर हमला बोल दिया. बाबा के समर्थकों ने भी हिंसा का जवाब हिंसा से दिया. इस फसाद में 59 लोग घायल हो गए और एक की गोली लगने से मौत हो गई. रामपाल पर उस व्यक्ति की हत्या का केस दर्ज कर लिया गया. इसके अलावा अटेम्प्ट टू मर्डर का चार्ज भी लगा. उस वक़्त बाबा की गिरफ्तारी भी हुई थी. 22 महीने जेल में भी बिताए. 2008 में बाबा को बेल मिल गई. उसके बाद रामपाल किसी पेशी पर कोर्ट नहीं गए.कोर्ट ने उन्हें एक बार नहीं, बल्कि 42 बार पेशी के लिए बुलाया, लेकिन नहीं गए. नतीजा ये हुआ कि 5 नवंबर को पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने उनके खिलाफ़ नॉन बेलेबल वॉरंट जारी कर दिया. जवाब में बाबा के समर्थकों ने चक्का जाम कर दिया. अंबाला, चंडीगढ़, पंचकुला में रोड और रेल ट्रैफिक में बाधा पहुंचाई गई. 9 नवंबर को जब पुलिस बाबा को हिरासत में लेने सतलोक आश्रम पहुंची, तो वहां अलग ही नज़ारा देखने को मिला. और फिर दो दिनों तक हुई हिंसा में छह लोगों की मौत हो गई. इसके बाद एक बार फिर से रामपाल पर हत्या, हत्या की कोशिश, देशद्रोह, षड्यंत्र रचने और गैर कानूनी हथियार रखने के आरोप में केस दर्ज कर लिया.

दो केस में पहले ही बरी कर चुकी है अदालत

हिसार की एक अदालत रामपाल को दो मामलों में पहले ही बरी कर चुकी है.
हिसार की एक अदालत रामपाल को दो मामलों में पहले ही बरी कर चुकी है.

हिसार की एक अदालत ने 29 अगस्त 2017 को रामपाल को दो मामलों में बरी कर दिया था. इसमें से पहला केस राष्ट्रीय संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का था, जबकि दूसरा केस आश्रम में महिलाओं को बंधक बनाने का था. पुलिस दोनों ही मामलों में अदालत में सबूत पेश नहीं कर पाई और कोर्ट ने रामपाल को बरी कर दिया.

फैसले के दौरान पूरे जिले में लागू हुई धारा 144

पूरे हिसार में धारा 144 लगा दी गई है और फोर्स तैनात है.
पूरे हिसार में धारा 144 लगा दी गई है और फोर्स तैनात है.

18-19 नवंबर 2014 को हुई हिंसा को देखते हुए इस बार प्रशासन सजग था. 11 अक्टूबर को जब रामपाल पर फैसला आना था, तो उससे पहले ही प्रशासन की ओर से पूरे हिसार में धारा 144 लगा दी गई थी. इसके अलावा हिसार के सारे बॉर्डर सील कर दिए गए थे. कोर्ट के तीन किलोमीटर के दायरे को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया था और किसी भी बाहरी के आने-जाने पर रोक लगा दी गई थी. शहर में कुल 48 जगहों पर नाकेबंदी की गई थी. प्रशासन को अंदेशा था कि सुनवाई के दौरान 20,000 समर्थक पहुंच सकते हैं. किसी तरह की हिंसा से निपटने के लिए प्रशासन की ओर से जिले की पुलिस के 1300 जवान लगाए गए हैं, वहीं बाहर से भी 700 जवान बुलाए गए हैं. आरएएफ की पांच कंपनियां तैनात की गई हैं.


 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Rampal: Self Cliamed Godman Rampal found guilty in two murder cases by special court of Hisar

टॉप खबर

बुलंदशहर: एडीजी इंटेलिजेंस की रिपोर्ट में पुलिस की लापरवाही सामने आई

गुरुवार को ये रिपोर्ट सौंप दी गई.

बुलंदशहर: खेत में जिस गाय के अवशेष मिले, वो कब काटी गई?

योगेश राज ने FIR में लिखवाया कि उसने कटते देखा, लेकिन ये सच नहीं माना जा रहा है...

बार-बार बयान बदल रहा है बुलंदशहर का मुख्य आरोपी योगेश राज

योगेश राज सच बोल रहा है या उसके घरवाले?

फ़ेक न्यूज़ फैक्ट्री सुरेश चव्हाणके के खिलाफ एक्शन लेने में क्यों कांपता है सिस्टम?

बुलंदशहर मामले में झूठी खबर फैलाने वाले सुरेश चव्हाणके का फ़ेक न्यूज से पुराना रिश्ता है.

हत्यारी भीड़ के हाथों मारे गए SHO सुबोध के बेटे की बात सुनने के लिए हिम्मत चाहिए

हर मां बाप की तरह सुबोध कुमार सिंह का भी सपना था.

बुलंदशहर में SHO सुबोध कुमार सिंह के मारे जाने की पूरी कहानी

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में भीड़ ने कैसे एक दरोगा को मार डाला...

750 किलो प्याज की कमाई किसान ने पीएम को भेजी, ये गर्व की नहीं शर्म की बात है

यही किसान 2010 में ओबामा के सामने खेती की मिसाल देने के लिए पेश किया गया था.

खराब फैक्स से आगे की कहानी: राज्यपाल ने बताया, कैसे BJP की मनमानी नहीं होने दी

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने जो कहा, उससे पता चला कि कश्मीर में असल में क्या होने वाला था...

मोहम्मद अज़ीज़ नहीं रहे, करोड़ों लोगों को उनके जाने से अफसोस होगा

उन्होंने इतने गाने गाए थे जितने आज के सारे गायकों ने मिलकर नहीं गाए होंगे.

अयोध्या में राम की जो सबसे ऊंची मूर्ति बनने वाली है उसका ये नमूना फाइनल हुआ है

वर्ल्ड की इस "सबसे ऊंची स्टेच्यू" की वो बातें जो आप जानना चाहेंगे.