Submit your post

Follow Us

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

देशभर में राज्यसभा की 18 सीटों के लिए शुक्रवार, 19 जून को चुनाव हुए. पहले ये चुनाव 26 मार्च को होने थे, लेकिन कोरोना और लॉकडाउन की वजह से टल गए. इन 18 सीटों में से गुजरात और आंध्र प्रदेश में चार, मध्य प्रदेश और राजस्थान में तीन, झारखंड में दो और मणिपुर और मेघालय में एक-एक सीट पर चुनाव हुए. जानते हैं कौन जीता, कौन हारा.

गुजरात

गुजरात की चार राज्यसभा सीटों पर पांच प्रत्याशी मैदान में थे. गुजरात में एक राज्यसभा सीट जीतने के लिए 35 विधायकों के वोट की जरूरत थी. गुजरात में विधानसभा की 182 सीटें हैं. कांग्रेस के पास 65 विधायक थे. बीजेपी के पास 103. वहीं बीटीपी के दो, एनसीपी के एक और एक निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी.

बीजेपी ने अभय भारद्वाज, रमीला बेन बारा, नरहरि अमीन को मैदान में उतारा था. बीजेपी के तीनों कैंडिडेट ने जीत हासिल की है. वहीं, कांग्रेस के शक्ति सिंह गोहिल को जीत मिली है जबकि भरत सिंह सोलंकी हार गए हैं.

राजस्थान

राजस्थान में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए हुए मतदान में कांग्रेस उम्मीदवार केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी ने जीत हासिल की है. बीजेपी के उम्मीदवार राजेंद्र गहलोत भी राज्यसभा पहुंचे हैं. वहीं बीजेपी के दूसरे उम्मीदवार ओंकार सिंह हार गए हैं. कुल 200 विधायकों में से 198 ने वोट डाले. स्वास्थ्य संबंधी कारणों से सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल और डुंगरगढ़ से सीपीएम विधायक गिरधारी लाल मतदान नहीं सके. राजस्थान में एक सीट पर जीत के लिए 51 वोट चाहिए थे. कांग्रेस के दो उम्मीदवारों की जीत के लिए पार्टी को 102 मतों की आवश्कता थी और उसके पास फिलहाल 107 थे. बीजेपी के पास 75 विधायक थे. पहले से ही लग रहा था कि बीजेपी दूसरी सीट गंवा देगी.

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए चार उम्मीदवार मैदान में थे. एक सीट पर जीत हासिल करने के लिए 52 वोट चाहिए थे. बीजेपी के ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह सोलंकी को जीत मिली है. वहीं कांग्रेस के दिग्विजय सिंह जीत गए हैं, लेकिन दूसरे उम्मीदवार फूल सिंह बरैया हार गए हैं. यहां पहले से ही तय था कि बीजेपी दोनों सीटें निकाल लेगी.

झारखंड

राज्यसभा की दो सीटों के तीन उम्मीदवार मैदान में थे. झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और बीजेपी, तीनों ने एक-एक उम्मीदवार उतारा था. जेएमएम के शिबू सोरेन और बीजेपी के दीपक प्रकाश ने जीत हासिल की है. यहां एक सीट के लिए कम से कम 27 वोट चाहिए थे. जेएमएम के 29, कांग्रेस के 17 सीपीआईएमएल के एक, एनसीपी के एक, आरजेडी के एक और दो निर्दलीय विधायक थे. वहीं बीजेपी के 25 विधायक थे. सुदेश महतो की पार्टी आजसू के दो विधायक थे. आजसू ने बीजेपी के समर्थन दिया था.

आंध्र प्रदेश.

आंध्र प्रदेश में राज्यसभा की चारों सीटें वाईएसआर कांग्रेस ने जीत ली हैं. वाईएसआर कांग्रेस की तरफ से पिल्ली सुभाष चंद्रबोस, मोपीदेवी वेंकटरमणास, आल्ला अयोध्या रामीरेड्डी और परिमल नाथवानी मैदान में थे. वहीं टीडीपी ने वर्ला रामय्या पर दांव लगाया था. 175 सदस्यों वाली विधानसभा में 173 विधायकों ने वोटिंग की थी. पीटीआई के अनुसार, तेलुगूदेशम पार्टी के विधायक के अत्चन्नायडू ने अपना वोट नहीं डाला, क्योंकि ईएसआई घोटाले में पिछले सप्ताह उनकी गिरफ्तारी के बाद न्यायिक रिमांड के तहत अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. टीडीपी के एक अन्य विधायक अनागनी सत्य प्रसाद होम क्वारंटीन का हवाला देते हुए नहीं आए, जबकि पार्टी के तीन बागी विधायकों ने मतदान प्रक्रिया में मताधिकार का प्रयोग किया.

मणिपुर

इकलौती सीट पर बीजेपी के महाराजा संजाओबा लिसिम्बा ने जीत हासिल की है. उन्होंने कांग्रेस के पूर्व मंत्री तोंगब्रम मंगिबाबू और नागा पीपल्स फ्रंट से होनरीकुई काशुंग को हराया.

मेघालय

राज्य में नेशनल पीपल्स पार्टी के डॉक्टर डब्ल्यू. आर. खरलुखी राज्यसभा के लिए चुने गए हैं. वो मेघालय डेमोक्रेटिक अलायंस (एमडीए) के उम्मीदवार थे. उन्होंने विपक्षी कांग्रेस के पूर्व विधायक कैनेडी खीरीयम को हराया. 60 सदस्यीय मेघालय विधानसभा में खरलुखी को 39 वोट मिले. कांग्रेस को 19 और एक वोट इनवैलिड रहा.


Video: मोरारी बापू पर गुजरात के इस पूर्व BJP विधायक ने हमले की कोशिश की है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

नेपोटिज्म पर दिए गए इरफान खान के बेटे के जवाब की तारीफ क्यों हो रही है?

इंस्टाग्राम पर एक यूजर ने सवाल किया था.

पीएम ने कहा- न कोई हमारी सीमा में घुसा हुआ है, न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है

पीएम ने सर्वदलीय बैठक में सीमा पर हालात के बारे में बताया.

युवराज सिंह ने बता दी अपने रिटायर होने की वजह

इसे जानकर चौंक सकते हैं युवी के फैन.

क्या गलवान जैसे मुश्किल हालात में भी जवान आत्मरक्षा के लिए गोली नहीं चला सकते?

राहुल गांधी के जवाब में विदेश मंत्री एस. जयशंकर के ट्वीट से बढ़ा बवाल.

वक़ार यूनुस ने सचिन तेंडुलकर की किस पारी को बताया बेस्ट?

वनडे में सचिन की सबसे 'आइकॉनिक' पारी.

सुशांत के लिए पूरे बॉलीवुड को कोसने वाली कंगना ने जिया ख़ान मामले में सूरज पंचोली का बचाव किया था

कंगना का डिप्रेशन पर ये पुराना बयान चौंकाता है. लोग सवाल कर रहे हैं कि ये 'पाखंड' क्यों?

छत्तीसगढ़ः महिला सदस्य को कोरोना हुआ तो नक्सलियों ने घर भेज दिया

पुलिस ने बताया कि माओवादी संगठनों में कई लोग कोरोना से संक्रमित हैं.

सुशांत मामले में KRK ने टी-सीरीज़ के खिलाफ ट्वीट किया, चार मिनट बाद ही डिलीट भी कर दिया

ऐसा क्या लिख डाला था जो आनन-फानन डिलीट करना पड़ा?

आपको पता है सौरव गांगुली के ओपनर बनने का क़िस्सा?

इन्होंने बनाया था दादा को ओपनर.

मध्य प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव कांग्रेस विधायक PPE किट पहनकर वोट डालने पहुंचे

एक वोट के लिए इतना बड़ा रिस्क लिया गया?