Submit your post

Follow Us

मेजर चित्रेश की कहानी, जो अपनी शादी के लिए 28 फरवरी को घर आने वाले थे लेकिन...

63.70 K
शेयर्स

15 फरवरी. देहरादून की नेहरु कॉलोनी के रहने वाले रिटायर्ड पुलिस अफसर एसएस बिष्ट का जन्मदिन था. वो उठे तो घर पर एक सरप्राइज गिफ्ट उनका इंतजार कर रहा था. केक के साथ. इसे उनके बेटे ने भिजवाया था. बिष्ट साहब खुश थे. बेटे का फोन आया. बर्थडे विश किया. बताया 28 फरवरी को घर आ रहा हूं.

ये फोन था मेजर चित्रेश सिंह बिष्ट का. 28 फरवरी को वो इसलिए आने वाले थे क्योंकि 7 मार्च को उनकी शादी तय थी. उन्होंने मां से फोन पर कहा था कि आकर मैं अपनी पसंद की साड़ी दिलाऊंगा. वही मेरी शादी में पहनना. मगर वो नहीं आए. चित्रेश जम्मू कश्मीर के नौशेरा में पोस्टेड थे. 16 फरवरी की सुबह नौशेरा के बॉर्डर पर कई माइंस मिलीं. आतंकियों ने बिछाई थीं. चित्रेश अपनी बम डिस्पोजल टीम के साथ मौके पर पहुंचे. एक माइन डिफ्यूज कर दी. दूसरी कर रहे थे कि माइन एक्टिवेट हो गई. विस्फोट हुआ. और 31 साल के चित्रेश घायल हो गए. उन्हें अस्पताल लो जाया गया पर उन्हें बचाया नहीं जा सका. चित्रेश शहीद हो गए.

मेजर चित्रेश की मार्च में ही शादी थी.
मेजर चित्रेश की मार्च में ही शादी थी.

जब ये हादसा हुआ. चित्रेश के पिता एसएस बिष्ट बेटे की शादी के कार्ड बांटने में व्यस्त थे. पूरा परिवार शादी की तैयारियों में लगा था. मगर 16 फरवरी की शाम ये माहौल बदल गया. जब बेटे के शहीद होने की खबर घर पहुंची. पिता कहते हैं –

अजीब विडंबना है. वह शादी के लिए घर आने वाला था. अब हम उसके पार्थिव शरीर का इंतजार कर रहे हैं.

18 फरवरी को चित्रेश का पार्थिव शरीर जब देहरादून की नेहरु कॉलोनी स्थित अपने घर पहुंचा तो हर तरफ लोग थे. हजारों लोग. सड़क पटी पड़ी थी. नारे गूंज रहे थे – चित्रेश अमर रहें. भारत माता की जय. जब तक सूरज चांद रहेगा, चित्रेश तेरा नाम रहेगा…

मेजर चित्रेश की अंतिम यात्रा में पहुंचे उनके दोस्त मेजर जींतेंद्र रमोला कहते हैं चित्रेश बहुत बहादुर अफसर थे. अपनी ड्यूटी के लिए जुनून से भरे हुए. देश की सेवा करने के किसी भी मौके पर उन्हें कोई रोक नहीं सकता था. चित्रेश का शहीद होना देश के लिए तो बड़ी क्षति है ही, उससे ज्यादा उस परिवार के लिए है जिसने अपना बेटा खो दिया. परिवार के मुताबिक मेजर बिष्‍ट ने अब तक 25 बम डिफ्यूज किए थे. वह पढ़ाई में भी बचपन से ही बहुत होनहार थे. मेजर रैंक के लिए हुई परीक्षा में उन्होंने नौवां स्‍थान हासिल किया था. भारतीय सैन्‍य अकैडमी देहरादून से 2010 में पासआउट हुए थे. फिलहाल सेना की इंजिनियरिंग कोर में तैनात थे.

मेजर चित्रेश की अंतिम यात्रा में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी पहुंचे. वो बोले – मैं देश की सेवा में मेजर बिष्ट की शहादत को नमन करता हूं और शहीद के परिजनों के प्रति हार्दिक संवेदनाएं व्यक्त करता हूं. संकट की इस घड़ी में पूरा देश उनके साथ खड़ा है.

शहीद मेजर चित्रेश बिष्ट और उनके परिवार को हमारा भी सलाम.


लल्लनटॉप वीडियो देखें –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Pulwama Attack : Story of Major Chitresh Singh Bisht who lost his life defusing an IED in Jammu & Kashmir

क्या चल रहा है?

जोश-जोश में विवेक ओबेरॉय ने सलमान की फिल्म का प्रमोशन कर डाला, उन्हें खुद पता नहीं चला

लगता है विवेक इस हफ्ते 'मिस्टेक सप्ताह' मना रहे हैं.

इंडियन प्लेयरों की पत्नियों पर तो 20 दिन का बैन लगा, पाकिस्तानियों के साथ तो और भी बुरा हुआ है

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को लगता है कि प्लेयरों का फोकस बिगड़ गया है.

2019 चुनाव नतीजे: BJP के वो दो विजेता जिनके नाम रिकॉर्डबुक में जुड़ गए हैं

दोनों की वजहें एक दम अलग हैं.

जिस उम्मीदवार की रिज़ल्ट आने से पहले ही हत्या हो गई थी, वो जीत गए

उनके बेटे के साथ और 11 लोगों को मार दिया गया था.

फिर से मोदी सरकार बनने पर इन 16 फ़िल्मी सितारों ने क्या कहा?

सबसे क्यूट अनुपम खेर की मम्मी का वीडियो है.

काउंटिंग शुरू होने से कुछ ही घंटे पहले कांग्रेसी उम्मीदवार को गोली मारी, गला रेता

हथियारों से लेस छः लोगों ने उन्हें और उनके एक साथी को घेर लिया था.

दिल्ली में 22 साल के लड़के ने पिता के 50 टुकड़े किए और सूटकेस में भरकर फेंकने जा रहा था

ये केस 1930 के एक सीरीयल किलर की याद दिलाता है.

ICC की ये लिस्ट देखकर कोहली ने रोहित से कहा- भाई कोई नहीं है टक्कर में!

यही भौकाल वर्ल्ड कप में भी कायम रखना है.

वर्ल्ड कप 2019 जीतने के लिए इंग्लैंड ने 27 साल पहले वाला टोटका किया है

कहीं ये पाकिस्तान की बांछें न खिला दे.

अयोध्या में 7 गायों के साथ रेप करने वाला शख्स, गोशाला के सीसीटीवी के चलते पकड़ में आया

पुलिस ने पूछताछ की तो बोला- नशे में था, कुछ याद नहीं.