Submit your post

Follow Us

जब पाकिस्तान में पहली बार दी गई हिंदी में Mphill डिग्री

6
शेयर्स

शाहिन जफर पहली पाकिस्तानी, जिन्हें MPhil की डिग्री हिंदी में दी गई. सब्जेक्ट था ‘स्वतंत्रताय्योतर हिंदी उपन्यासों में नारी चित्रण'(1947-2000)

पाकिस्तान की हिस्ट्री में ये पहला मौका था, जब किसी पाकिस्तानी यूनिवर्सिटी ने MPhil डिग्री हिंदी में दी. नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ मॉर्डन लेंग्यूएजेस (NUML). लेकिन यहां भी पाकिस्तान के काम आई एक इंडियन यूनिवर्सिटी. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी.

NUML के एक स्पोक्सपर्सन ने बताया, ‘पाकिस्तान में हिंदी के जानकारों का अकाल सा है, इसलिए शाहिन के मामले में हमने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के दो एक्सपर्ट्स की मदद ली.’

NUML पाकिस्तानी की पहली यूनिवर्सिटी है, जहां ‘डिपार्टमेंट ऑफ हिंदी’ है. इस डिपार्टमेंट को 1973 में हिंदी को बढ़ावा देने के लिए बनाया गया था. शुरुआत में सिर्फ सर्टिफिकेट, डिप्लोमा कोर्स का जुगाड़ सेट किया गया. बाद में मुआमला बढ़ते-बढ़ते MPhil डिग्री तक आ पहुंचा. इस सेंटर में चीन और यूएई के अधिकारियों को भी ट्रेनिंग दी जाती है.
बता दें कि नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ मॉर्डन लेंग्यूएजेस (NUML) मिलिट्री रन यूनिवर्सिटी है. यानी यूनिवर्सिटी मिलिट्री के अंतर्गत आती है. ये डिग्री इसी साल अगस्त में दी गई.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड से कहा- करारा जवाब मिलेगा और लंका लगा दी

एक ओर जोफ्रा आर्चर थे तो दूसरी ओर हेजलवुड.

BCCI की टाइटल राइट्स डील में क्या झोल है?

ई-ऑक्शन नहीं होने को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं.

पतंजलि वाले बालकृष्ण को हार्ट अटैक आया, रेफर होने के बाद एम्स में भर्ती

पहले हरिद्वार के पतंजलि योगपीठ के पास भूमानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

पाकिस्तानी टेरर फंडिंग के आरोप में बलराम सिंह, सुनील सिंह और शुभम मिश्रा को ATS ने धरा

बलराम सिंह को 2017 में भी गिरफ्तार किया था. फिलहाल बेल पर था.

प्रियंका चोपड़ा को हटाने की रिक्वेस्ट पर यूनिसेफ ने पाक का मूड और खराब कर देने वाला जवाब दिया

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद प्रियंका का 'जय हिन्द' लिखने वाला मुद्दा अब जोर क्यों पकड़ रहा है?

सरकार के थिंक टैंक ने माना, 'बीते 70 साल में ऐसी बुरी मंदी नहीं देखी'

इससे पहले सुब्रमण्यम ने प्राइवेट सेक्टर को दो टूक हिदायत दे डाली थी कि,'बालिग व्यक्ति लगातार अपने पापा से मदद नहीं मांग सकता.'

जोफ्रा आर्चर ने ऑस्ट्रेलिया की बैटिंग का धागा खोलकर रख दिया

जितनी उम्मीद थी उससे ज़्यादा डिलीवर किया है.

वेल्लोर मामले में प्रशासन ने तो और भी बड़ी गड़बड़ी कर दी है

दलित की मौत के बाद उसे मजबूरी में पुल से लटकाकर उतारना पड़ा था

ICC में फर्स्ट रैंक वाली टीम इंडिया का टॉप ऑर्डर ही फेल हो गया, लेकिन आगे अच्छी खबर आनी बाकी थी

अच्छी खबर का नाम रहाणे और राहुल था.

ये तस्वीरें बता रहीं कि टाइटैनिक के मलबे को समंदर खा गया है

एकदम ताज़ा तस्वीरें हैं.