Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

बंद हो गईं वो अदालतें, जो आतंकियों को मौत की सज़ा सुना रही थीं

51
शेयर्स

पेशावर में आर्मी स्कूल पर आतंकी हमला. दिल दहला दिया था इस अटैक ने. सैकड़ों मां-बाप के अरमान कुचले गए थे. तबाही का मंज़र था. और पाकिस्तान के लिए सबक लेने का वक्त. फैसले लिए गए. आतंक को ख़त्म करने की कसमें खाई गईं. मगर हालात अब भी वही हैं. धमाके होते हैं. लोग मरते हैं. आतंकी खुलेआम घूमते हैं. पाकिस्तान को नजर नहीं आता. बस सबूत मांगता रहता है. लेकिन आर्मी ने इस हमले के बाद कुछ अदालतें बनाने की बात की थी. जिसको वहां के सुप्रीम कोर्ट ने इजाज़त दे दी थी. इन अदालतों ने दो साल में ताबड़तोड़ फैसले लिए. 275 मामलों की सुनवाई इन अदालतों में हुई और 161 को मौत की सजा सुना दी गई. लेकिन जो काम खुद कोर्ट को करना चाहिए था उसके लिए आर्मी की अदालतें बनाने से विवाद हुआ. इसे मानवाधिकार के खिलाफ बताया गया. दो साल बाद अब ये अदालतें बंद हो गई हैं.

16 दिसंबर 2014 को पेशावर के आर्मी स्कूल पर तालिबानी हमला हुआ. उस हमले में 150 से ज्यादा बच्चे मारे गए. तब पाकिस्तानी आर्मी ने सख्ती से आतंकियों के सफाए करने की बात की. और आर्मी अदालतें बनाये जाने की मांग हुई, जिसमें आतंकियों का फैसला फटाक से किया जा सके. अदालतों में पड़ा न रहे. आर्मी अदालतों को बनाने के लिए संविधान में संशोधन करना पड़ा और दो साल के लिए ये अदालतें बना दी गईं. जिनकी मियाद 7 जनवरी को पूरी हो गई.

तालिबानी हमले में 16 दिसंबर को पेशावर में 150 से ज्यादा बच्चे मारे गए थे.
तालिबानी हमले में 16 दिसंबर को पेशावर में 150 से ज्यादा बच्चे मारे गए थे.

आर्मी अदालतें बनाये जाने भारी बहस छिड़ गई थी और अदालतों में विभिन्न ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट ने इसे देश के संविधान और इंटरनेशनल चार्टरों में मौजूद ह्यूमन राइट्स के खिलाफ बताया. लेकिन इन विरोधों के बाद भी इन अदालतों को काम करने दिया गया, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने संसद की ओर से साल 2015 में लागू किए गए 21वें संवैधानिक संशोधन और पाकिस्तान सेना (संशोधन) विधेयक, 2015 को वैध करार दिया था.

संविधान में किए गए संशोधन में यह स्पष्ट तय कर दिया गया था कि ये अदालतें दो साल बाद खत्म कर दी जाएंगी. इस फैसले से आर्मी के पास लोगों पर मुकदमा चलाने की पॉवर आ गई थी. दो साल के दौरान आर्मी अदालतों को 275 मामले सौंपे गए, जिनमें 161 आतंकियों को मौत की सजा सुनाई गई. इनमें से अभी तक सिर्फ 12 आतंकियों को मौत मिली है. इन अदालतों ने 116 आतंकियों को कैद की सजा सुनाई, जिनमें से ज्यादातर उम्रकैद की सजा काट रहे हैं.

जिन आतंकियों को सजाएं सुनाई गर्इं, वे अल-कायदा, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, जमातउल अहरार, तौहीद वल जिहाद ग्रुप, जैश-ए-मुहम्मद, हरकत-उल-जिहाद-ए-इस्लामी, लश्कर-ए-झंगवी, लश्कर-ए-झंगवी अल-आलमी, लश्कर-ए-इस्लामी और सिपह-ए-सहाबा से जुड़े थे. अब तक जिन आतंकियों को फांसी पर लटकाया जा चुका है उनमें पेशावर स्कूल पर अटैक कराने वाला भी शामिल था. जिन आतंकी मामलों को आर्मी कोर्ट में भेजा जा रहा था अब वो देश में पहले से मौजूद एंटी टेरर कोर्ट में सुनवाई के लिए जाएंगे.


 

वो तारीख, जिसने पाकिस्तान को भी रुलाया और हिंदुस्तान को भी

मासूम बच्चों को मार के कौन सी जन्नत मिलती है?

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

भाजपा सांसद ने ऐसा क्या कह दिया जो एक्टर प्रकाश राज उनपर केस ठोक रहे हैं?

निजी जीवन को लेकर आपत्तिजनक बात लिख दी थी एमपी साहब ने.

मुंबई पुलिस ने वरुण धवन को दिखा दिया है कि असली रॉबिनहुड पांडे कौन है

चालान भी किया है और ट्विटर पर ज़लील भी.

'द कारवां' की ये रिपोर्ट अमित शाह के लिए इन दिनों की सबसे बड़ी चुनौती है

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस की सुनवाई कर रहे जज की मौत पर उनकी बहन ने बड़े गंभीर सवाल उठाए हैं.

वीडियो: मोदी सरकार में मंत्री की किस बात पर क्लास लगा दी लेडी डॉक्टर ने?

केंद्रीय पर्यटन मंत्री अल्फोंस कन्ननथनम थे सामने.

सरकार ने 'सेक्सी दुर्गा' फिल्म को इफ्फी से बाहर फेंकवाया था, अब डायरेक्टर का दांव देखो

सनल कुमार ससिधरन ने सत्ता के जबड़ों से अपनी अभिव्यक्ति की आज़ादी खींच निकाली है.

पद्मावती के बाद अब टाइगर ज़िन्दा है की भी रिलीज़ टलेगी

फिल्मों के लिए अच्छा समय नहीं चल रहा है.

टि्वटर पर पटरी से क्यों उतर रही है पीयूष गोयल की रेलगाड़ी?

ऐसे तो रेलवे की अच्छी खासी कवायद गड्ढे में चली जाएगी.

दिल्ली में खड़ी हनुमान की 108 फुट की मूर्ति 'हट' जाएगी क्या?

क्या है स्टैचू पर मची पूरी भसड़? पढ़िए और पोल में हिस्सा लीजिए.

टॉप खबर

वास्कोडिगामा पटरी से उतरी: जानिए यूपी के इस रेल हादसे के बारे में सब कुछ

उत्तर प्रदेश में तीन महीने के भीतर ये दूसरा ट्रेन हादसा है. जानिए पिछले एक्सीडेंट्स के बारे में भी.

गांधी की हत्या में RSS की क्या भूमिका थी?

इस सवाल पर दशकों से सिर धुना जा रहा है, जवाब किसी के पास नहीं है.

क्यों हार्दिक की तथाकथित सेक्स सीडी बीजेपी को भारी पड़ सकती है

2016 में आए एक स्टिंग ऑपरेशन के बाद बीजेपी को लेने के देने पड़ गए थे.

भला हो गुजरात चुनाव का...मेरा कुछ फायदा तो हुआ

केंद्र सरकार ने 211 चीजों के टैक्स स्लैब में किया बदलाव.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपए का इनाम जीतिए

दि लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

नन्हे प्रद्युम्न की हत्या में अब 11वीं का छात्र हिरासत में लिया गया है

रायन स्कूल में हुई हत्या के मामले में सीबीआई ने हरियाणा पुलिस की थ्योरी खारिज कर दी है.

फर्जी कंपनियों में पैसा लगाने के सवाल पर बीजेपी सांसद ने रिपोर्टर को सुट्ट कर दिया

पैराडाइज पेपर्स लीक का मामला है, सांसद का जवाब 'देखकर' उनकी होशियारी के कायल हो जाओगे.

पैराडाइज़ पेपर्स लीकः भारत के कौन से ताकतवर लोगों का नाम सामने आया है?

एक करोड़ चौतीस लाख गोपनीय पन्नों का ये ऐतिहासिक खुलासा देश और दुनिया को हिलाकर रख देगा.

12 साल पहले 12 हजार रुपए की खीर खा गए थे नरेंद्र मोदी!

RTI के हवाले से ये दावा गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री ने किया है, जो भाजपा में रह चुके हैं.

कहानी उस अस्पताल की, जिसमें आतंकी पकड़ा गया और अब कांग्रेस-बीजेपी आमने-सामने हैं

गुजरात के मुख्यमंंत्री विजय रुपाणी और अहमद पटेल के बीच जारी है जुबानी जंग

भौंचक

डायलॉग्स के अलावा भी बहुत कुछ है वायरल हो रही शॉर्ट मूवी 'जूस' में

क्रांति के लिए हाथ में मशाल, झंडे या बैनर की ज़रूरत नहीं, आंखों में गुस्सा और हाथ में एक ग्लास जूस काफी है.

वाघा बॉर्डर पर हमारी शान हैं BSF वाले, इन्हें सड़क पर कौन ले आया है

चंडीगढ़ में जवानों के साथ जो हुआ वो उनके सम्मान के लिए बहुत गलत है.

उत्तर प्रदेश में 3 दिन पहले हुए इस 'गैंगरेप' की सच्चाई ये है

यूपी के उन्नाव की इस घटना का कनेक्शन अहमदाबाद से है.

अपना नाम ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी में देखने के लिए फॉलो करें ये 5 स्टेप्स

ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी ने आप सब से सुझाव मांगे हैं.

यदि न्यूडिटी की उम्मीद है तो ‘न्यूड’ का यह ट्रेलर मत देखना!

गोवा के फ़िल्म फेस्टिवल में दिखाई जानी थी, अंतिम समय में हटा दी गयी

हॉरर मूवी 'दी ब्लैक कैट' जिसे अपने बच्चों को ज़रूर दिखाना चाहिए

बच्चों के लिए इतना सीरियस काम इससे पहले गुलज़ार को ही करते देखा था.

क्या आपको पता है कि बॉल पेन के ढक्कन में छेद क्यों होता है?

बॉल पेन के कैप में बना छेद यूं ही नहीं बना होता है. ना ही ये स्याही को सूखने से बचाता है.

नितिन गडकरी ने किसानों को बचाने का बदबूदार आइडिया दिया है

पहली नजर में आपको बकैती लगेगी लेकिन सीरियसता से पढ़ना.

पर्यटन विभाग दिया जाना चाहिए इक्यावन बार ट्रांसफर हो चुके खेमका जी को

इतनी बार तो हमने अपने बैचलर-शिप में मैगी नहीं खाई!

कांग्रेस वालो, किसी का माल उड़ाओ तो कम से कम क्रेडिट तो दे ही दो

कार्टूनिस्ट सतीश आचार्य नाराज हैं, बोले- परमिशन लेनी चाहिए थी.