Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

2019 फतह करने के लिए पीएम मोदी को तोड़ना होगा इस नेता का तिलिस्म

5.98 K
शेयर्स

ऐसा माना जा रहा था कि पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ 2019 तक कोई विपक्ष खड़ा ही नहीं होगा.

पर एक नाम सामने आ रहा है. 2014 के बेंच पर के प्रधानमंत्री उम्मीदवार नीतीश कुमार ने बेहद सधी हुई शुरुआत कर दी है. राष्ट्रपति चुनाव को लेकर जद यू नेता नीतीश गांधी परिवार के घर 10 जनपथ जाकर सोनिया गांधी से मिले हैं. पर ये मीटिंग सिर्फ इसी चुनाव को लेकर नहीं है. कुछ बातें हुई हैं. हाल के दिनों में भाजपा के विजय-रथ के सामने विपक्ष औंधे मुंह लेटा हुआ नजर आ रहा है. पर नीतीश एक तगड़ी उम्मीद जगा रहे हैं.

34829-mlojdhdkhr-1492705433

ये रही 5 वजहें जो बताती हैं क्यों 2019 में नीतीश कुमार एक तगड़ी चुनौती पेश करेंगे:

1. नीतीश कुमार ने वो गलती नहीं की है, जो अरविंद केजरीवाल समेत बाकी नेता कर चुके हैं

एक दूर की कौड़ी के तौर पर अरविंद केजरीवाल को भविष्य में विपक्ष के पीएम उम्मीदवार के रूप में देखा जा रहा था. पर लगातार नरेंद्र मोदी पर हमले कर के अरविंद पीछे हो गए हैं. फिर पंजाब और गोवा में करारी हार के बाद उनकी राजनीति पर निशान लग गया है. राजौरी गार्डन के उपविधानसभा चुनाव में आप पार्टी की जमानत जब्त हो गई. पर नीतीश कुमार ने बुद्धिमता का परिचय दिया है. नरेंद्र मोदी के कामों की बड़ाई कर उन्होंने जनता को अपने खिलाफ नहीं होने दिया है. वो बार-बार ये दिखाते रहते हैं कि विकास को लेकर वो चिंतित हैं.

kejriwal-nitish-kumar

डिमॉनीटाइजेशन के मुद्दे पर भी उन्होंने नरेंद्र मोदी की बड़ाई की. बाकी नेताओं ने आलोचना कर जनता को अपने खिलाफ कर लिया. नीतीश कुमार जनता के मूड को भांपने में कामयाब रहे हैं.

2. विपक्ष के पास ऐसा कोई नेता नहीं है, जो भाजपा के एजेंडे का सामना कर सके

विपक्ष ने अपना ध्यान मोदी पर ही रखा है. वहीं मोदी लगातार फैसले लेकर विपक्ष को पीछे धकेल देते हैं. सोनिया गांधी से अपनी मुलाकात के बाद नीतीश कुमार ने ये कहा कि विपक्ष को अपना एजेंडा बदलना चाहिए. भाजपा की ताकत को नीतीश बखूबी समझते हैं. वो समझते हैं कि विपक्ष को अपने मुद्दे अलग करने चाहिए. सेक्युलर राजनीति की परंपरागत परिभाषा से विपक्ष को घाटा हुआ है. नीतीश कुमार सोशल इंजीनियरिंग के मास्टर हैं. वहीं अगर विपक्ष के बाकी नेताओं को देखें तो अखिलेश यादव, मायावती, ममता बनर्जी और राहुल गांधी अपनी पार्टी में तो ऊपर हैं, लेकिन बाकी पार्टियां उनको लेकर संशय में हैं. नीतीश पर विपक्ष तैयार हो सकता है.

3. नीतीश एजेंडा तय करना जानते हैं

लालू प्रसाद यादव को हराने के लिए नीतीश ने विकास का मॉडल गढ़ा था. विकास का मॉडल लेकर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन गए. पर नीतीश के तीसरे कार्यकाल में विकास का शब्द थोड़ा पीछे हो गया है. पर उन्होंने शराबबंदी को अपनी सफलता में शामिल कर लिया है. इस चीज को नरेंद्र मोदी ने भी मुख्यमंत्री रहते हुए खूब भुनाया था. नीतीश ने तो दूसरे राज्यों में भी इसका प्रचार किया है. एक तरफ शराब पीना किसी व्यक्ति की चॉइस है, पर ये भी सच है कि समाज का एक बड़ा तबका शराब की समस्या से ग्रसित है. खास तौर से कामगार समाज में महिलाएं मर्दों की शराब की आदतों से त्रस्त रहती हैं. उनके लिए शराबबंदी काफी राहत देने वाली चीज है.

modi-nitish.Sub_.01

4. नीतीश कुमार ने अपनी योग्यता को साबित किया है

बिहार चुनाव से पहले ऐसा लग रहा था कि नरेंद्र मोदी को रोक सकना असंभव है. पर नीतीश ने एक असंभव सा कदम उठाकर लालू प्रसाद यादव के साथ हाथ मिला लिया. ये भले उनकी राजनीतिक विचारधारा के खिलाफ गया, पर राजनीति के हिसाब से बेहद चतुर कदम था. भाजपा लगातार अपनी धुर विरोधी कांग्रेस के नेताओं को पार्टी में शामिल करती जा रही है. ना सिर्फ शामिल किया है, बल्कि असम, उत्तराखंड के चुनावों में जीत भी हासिल की है. यहां तक कि बूढ़े नेता एस एम कृष्णा को भी शामिल कर लिया. इस राजनीति को नीतीश खूब समझते हैं. यूपी के चुनाव में अखिलेश यादव और मायावती यही काम नहीं कर पाए. पर अब दोनों ही विपक्ष के गठबंधन में शामिल होने के हिंट देते रहते हैं.

5. सबसे बड़ी चीज है नीतीश का अंदाज

NITISH AT SAMPARK YATRA

अभी राजनीति में तेज बोलने वाले लोग खूब छा रहे हैं. हर नेता चिल्लाना चाहता है. अगर आप दिल्ली एमसीडी चुनावों के प्रचार को देख लें तो ये पता चल जाता है कि लगभग हर दूसरा नेता नरेंद्र मोदी की तरह बोलना चाह रहा है. अरविंद केजरीवाल भी इसी तरह बोलते हैं. पर कम शब्दों में आराम से बात करने वाले नेता बहुत कम हैं. नीतीश कुमार इन चीजों में आगे हैं. उनका अंदाज भरोसा जताने वाला है. गंभीरता से अपनी बात रखना जानते हैं. पॉलिटिकली करेक्ट नेता हैं. उन पर फालतू बोलने का कोई आरोप नहीं लगा है. पीएम उम्मीदवार के रूप में उनकी बिहार वाली स्ट्रैटजी काम कर सकती है कि बाकी नेता अंधाधुंध हमले करें और नीतीश अपने अंदाज में क्रेडिबिलिटी बढ़ाते जाएं.

Also Read:

चंबल का ये गांव नदी से तैरती हुई लाशें हटा कर पानी भरता है

जिनको ‘क्रूरता’ के लिए याद रखा गया, उन्होंने लता मंगेशकर को सोने का कुंडल इनाम दिया

क्या न्यूक्लियर युद्ध में सब मारे जाएंगे? पढ़िए एटम बम से जुड़े दस बड़े झूठ

वो 9 लोग जो पिछले तीन साल से पीएम मोदी के सारे काम देख रहे हैं

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

वास्कोडिगामा पटरी से उतरी: जानिए यूपी के इस रेल हादसे के बारे में सब कुछ

उत्तर प्रदेश में तीन महीने के भीतर ये दूसरा ट्रेन हादसा है. जानिए पिछले एक्सीडेंट्स के बारे में भी.

गांधी की हत्या में RSS की क्या भूमिका थी?

इस सवाल पर दशकों से सिर धुना जा रहा है, जवाब किसी के पास नहीं है.

क्यों हार्दिक की तथाकथित सेक्स सीडी बीजेपी को भारी पड़ सकती है

2016 में आए एक स्टिंग ऑपरेशन के बाद बीजेपी को लेने के देने पड़ गए थे.

भला हो गुजरात चुनाव का...मेरा कुछ फायदा तो हुआ

केंद्र सरकार ने 211 चीजों के टैक्स स्लैब में किया बदलाव.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपए का इनाम जीतिए

दि लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

नन्हे प्रद्युम्न की हत्या में अब 11वीं का छात्र हिरासत में लिया गया है

रायन स्कूल में हुई हत्या के मामले में सीबीआई ने हरियाणा पुलिस की थ्योरी खारिज कर दी है.

फर्जी कंपनियों में पैसा लगाने के सवाल पर बीजेपी सांसद ने रिपोर्टर को सुट्ट कर दिया

पैराडाइज पेपर्स लीक का मामला है, सांसद का जवाब 'देखकर' उनकी होशियारी के कायल हो जाओगे.

पैराडाइज़ पेपर्स लीकः भारत के कौन से ताकतवर लोगों का नाम सामने आया है?

एक करोड़ चौतीस लाख गोपनीय पन्नों का ये ऐतिहासिक खुलासा देश और दुनिया को हिलाकर रख देगा.

12 साल पहले 12 हजार रुपए की खीर खा गए थे नरेंद्र मोदी!

RTI के हवाले से ये दावा गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री ने किया है, जो भाजपा में रह चुके हैं.

कहानी उस अस्पताल की, जिसमें आतंकी पकड़ा गया और अब कांग्रेस-बीजेपी आमने-सामने हैं

गुजरात के मुख्यमंंत्री विजय रुपाणी और अहमद पटेल के बीच जारी है जुबानी जंग

पाकी टॉकी

'मैं जो हूं जौन एलिया हूं जनाब, इसका बेहद लिहाज़ कीजिएगा'

जनाब कहते थे, मुझे खुद को तबाह करने का मलाल नहीं है. जानिए अकेले में रहने वाले शायर को.

70 साल बाद पाकिस्तान गए इस शख्स की कहानी हम सबके काम की है

दोनों मुल्कों के दरमियान कड़वाहट का जवाब भी मिलेगा.

पाकिस्तान में जिसे अब प्रधानमंत्री बनाया गया है, वो दो साल जेल में रह चुके हैं

जेल से छूटकर चुनाव लड़े और हार गए थे. अब 45 दिन के लिए पीएम बन गए.

मनी लॉन्ड्रिंग केस में नवाज शरीफ दोषी करार, नहीं रहेंगे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

पनामा पेपर्स लीक ने दुनियाभर में हलचल मचाई थी.

जब अफरीदी ही औरतों को चूल्हे में झोंकना चाहते हों, इस खिलाड़ी पर ये भद्दे कमेंट हमें हैरान नहीं करते

पिता के साथ एयरपोर्ट से बाइक पर घर जाती इस पाक खिलाड़ी को निशाना बनाया जाना शर्मनाक है.

गोरमिंट को गालियां देकर वायरल हुईं इन आंटी के साथ बहुत बुरा हो रहा है

'ये गोरमिंट बिक चुकी है. अब कुछ नहीं बचा.' कहने वाली आंटी की ये बुरी खबर है.

क्या जिन्ना की बहन फातिमा का पाकिस्तान में कत्ल हुआ था?

उनके जनाज़े पर पत्थर क्यों बरसे?

'मैं अल्लाह के घर से चोरी कर रहा हूं, तुम कौन होते हो बीच में नाक घुसाने वाले'

चोर का ये ख़त पढ़ लीजिए. सोच में पड़ जाएंगे!

छिड़ी बहस, क्या सच में डॉल्फिन से सेक्स कर रहे हैं पाकिस्तानी?

रमज़ान के पाक महीने में डॉल्फिन को बचाने की बात हो रही है.

कौन है ये पाकिस्तानी पत्रकार, जिसने पूरी टीम के बदले 3 साल के लिए विराट कोहली को मांगा है

दोनों देशों में ट्रोल हुई हैं. ट्रोल करने वालों को इनके ये पांच ट्वीट देख लेने चाहिए.

भौंचक

डायलॉग्स के अलावा भी बहुत कुछ है वायरल हो रही शॉर्ट मूवी 'जूस' में

क्रांति के लिए हाथ में मशाल, झंडे या बैनर की ज़रूरत नहीं, आंखों में गुस्सा और हाथ में एक ग्लास जूस काफी है.

वाघा बॉर्डर पर हमारी शान हैं BSF वाले, इन्हें सड़क पर कौन ले आया है

चंडीगढ़ में जवानों के साथ जो हुआ वो उनके सम्मान के लिए बहुत गलत है.

उत्तर प्रदेश में 3 दिन पहले हुए इस 'गैंगरेप' की सच्चाई ये है

यूपी के उन्नाव की इस घटना का कनेक्शन अहमदाबाद से है.

अपना नाम ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी में देखने के लिए फॉलो करें ये 5 स्टेप्स

ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी ने आप सब से सुझाव मांगे हैं.

यदि न्यूडिटी की उम्मीद है तो ‘न्यूड’ का यह ट्रेलर मत देखना!

गोवा के फ़िल्म फेस्टिवल में दिखाई जानी थी, अंतिम समय में हटा दी गयी

हॉरर मूवी 'दी ब्लैक कैट' जिसे अपने बच्चों को ज़रूर दिखाना चाहिए

बच्चों के लिए इतना सीरियस काम इससे पहले गुलज़ार को ही करते देखा था.

क्या आपको पता है कि बॉल पेन के ढक्कन में छेद क्यों होता है?

बॉल पेन के कैप में बना छेद यूं ही नहीं बना होता है. ना ही ये स्याही को सूखने से बचाता है.

नितिन गडकरी ने किसानों को बचाने का बदबूदार आइडिया दिया है

पहली नजर में आपको बकैती लगेगी लेकिन सीरियसता से पढ़ना.

पर्यटन विभाग दिया जाना चाहिए इक्यावन बार ट्रांसफर हो चुके खेमका जी को

इतनी बार तो हमने अपने बैचलर-शिप में मैगी नहीं खाई!

कांग्रेस वालो, किसी का माल उड़ाओ तो कम से कम क्रेडिट तो दे ही दो

कार्टूनिस्ट सतीश आचार्य नाराज हैं, बोले- परमिशन लेनी चाहिए थी.