Submit your post

Follow Us

डूबते टेलीकॉम को बचाने के लिए सरकार 42 हज़ार करोड़ की लाइफलाइन लेकर आई है

5
शेयर्स

टेलीकॉम सेक्टर के घाटे की बातें चल रही हैं. सबसे पहले बड़ी टेलीकॉम कंपनियों पर AGR की देनदारी निकली. सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि जल्द से जल्द चुकाओ. कंपनियां सकते में. कुछ दिन बीते तो वोडाफोन के सीईओ निक रीड का बयान आ गया. कहा कि भारतीय मार्केट और सुप्रीम कोर्ट का निर्णय बिजनेस के लिहाज से ठीक नहीं है. फिर पलटी भी मारी.

समय नहीं बीता था कि सितम्बर महीने में ख़त्म हुई वित्तीय वर्ष की दूसरी तिमाही की रिपोर्ट आ गयी. वोडाफोन और एयरटेल को मिलाकर 74 हज़ार करोड़ का नुकसान. ऊपर से AGR की देनदारी भी भारी भरकम. लगभग 95 हज़ार करोड़ की. जानकारों ने कहा कि सरकार की नीतियां बहुत पुख्ता नहीं हैं, इस वजह से इन बड़ी कंपनियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है, और जिओ को मिल रहा फायदा.

अब लगता है कि सरकार ने टेलीकॉम सेक्टर को सम्हालने की प्लानिंग शुरू कर दी है. और नया कदम लिया है. नए कदम से कंपनियों से कितने की राहत मिलेगी? 42 हज़ार करोड़ रुपयों की राहत.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कल कैबिनेट मीटिंग के बाद प्रेस कांफ्रेस करके जानकारी दी कि कंपनियों को स्पेक्ट्रम के पैसे के भुगतान में राहत दी जाएगी.
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कल कैबिनेट मीटिंग के बाद प्रेस कांफ्रेस करके जानकारी दी कि कंपनियों को स्पेक्ट्रम के पैसे के भुगतान में राहत दी जाएगी.

कैसे मिलेगी राहत? कैबिनेट ने निर्णय लिया है कि टेलीकॉम कंपनियां टेलीकॉम स्पेक्ट्रम की बकाया राशि को कुछ और देर में चुका सकती हैं. अगले दो सालों तक के स्पेक्ट्रम, मतलब 2020-21 और 2021-22 के वित्तीय वर्ष के स्पेक्ट्रम के बकाये के भुगतान पर रोक लगा दी है. और अब तक का बकाया 16 महीनों के बजाय 18 महीनों में चुकाया जा सकता है. बुधवार 20 नवम्बर को कैबिनेट मीटिंग के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ये जानकारियाँ साझा कीं.

किसको कितना फायदा होगा? टोटल तो लगभग 42 हज़ार करोड़ का. लेकिन तोड़कर देखें तो एयरटेल को 11,746 करोड़, वोडाफोन आईडिया को 23,920 करोड़ और जिओ को 6,670 करोड़ रुपयों का फायदा होगा.

Economic Times में प्रकाशित खबर की मानें तो सूत्रों ने कहा है कि सरकार टेलीकॉम सेक्टर में किसी एक कंपनी का राज नहीं होने देगी. साथ ही आने वाले हफ़्तों में टेलीकॉम कंपनियां जल्द ही मीटिंग करेंगी, जिसका मक़सद होगा कि टेलीकॉम सेक्टर को प्रॉफिटेबल बनाया जाए.

साथ ही सूत्रों ने ये भी बताया है कि AGR के बकाये पर कोई बातचीत अभी नहीं हो सकती है, क्योंकि ये एक कानूनी मसला है. और AGR के बकाये की पूर्ति की समय सीमा भी कोर्ट ने ही निर्धारित की है. साथ ही कोई भी एक्सटेंशन या कैलीबरेशन कोर्ट की निगरानी में होना चाहिए.

सरकार ने ये राहत क्यों दी?

इसलिए क्योंकि मार्केट में कम्पटीशन बना रहे. अगर वोडाफोन भारत में अपना बिजनेस बंद कर देता है, जैसे कयास लगाए जा रहे हैं, तो मार्केट में एयरटेल और जिओ नाम की दो ही कंपनियां बचेंगी. जानकारों का कहना है कि कस्टमर अच्छी सुविधा और कम पैसे के लिए इन्हीं दो कंपनियों के बीच आवाजाही करता रहेगा.

जब वोडाफोन की हालत खस्ता होने की खबरें चली थीं, तभी सरकार ने तय किया था कि वो कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में एक सचिवों की कमिटी का गठन करेगी. इस कमिटी का मुख्य काम? टेलीकॉम कंपनियों की शिकायत सुनना और उनका निराकरण करना.

कंपनियों ने खुद भी कुछ कदम उठाए?

एकदम उठाए हैं. दाम बढ़ाकर. वोडाफोन और एयरटेल ने बाकायदा ऐलान कर दिया कि वे अपनी सेवाओं के दाम एक दिसंबर से बढाने वाले हैं. दोनों कंपनियों ने ये नहीं बताया कि वे अपनी सेवाओं के चार्ज में कितनी बढ़ोतरी करने वाले हैं. कहा कि अपने उपभोक्ताओं को सेवाएं देते रहने के लिए ज़रूरी है कि दामों में बढ़ोतरी की जाए. जिओ ने ये सब देखा. इशारा दिया कि वे TRAI के नियमों के अधीन हैं और ज़रुरत पड़ने पर वे भी अपनी सेवाओं के दाम में बढ़ोतरी कर सकते हैं.


लल्लनटॉप वीडियो : क्या होती है पुनर्विचार याचिका और कौन इसे दाखिल कर सकता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

78 साल के इस एथलीट को पता नहीं था कि गोल्ड मेडल जीतने के बाद ऐसा होगा

ज़िंदगी की रेस में कभी-कभी आप जीतकर भी नहीं जीत पाते.

खान तिकड़ी की फिल्में प्रोड्यूस करने वाले आदित्य चोपड़ा पर FIR, आगे कुछ भी हो सकता है

इतना ही नहीं, अपनी स्टार पत्नी रानी मुखर्जी की वजह से भी वो एक बड़े पंगे में फंस गए हैं.

बच्चे की एक किडनी नहीं थी फिर भी 100 उठक-बैठक करवाई, दर्द से तड़प उठा

अनुशासन बना रहे इसलिए स्कूल में बाउंसर तैनात हैं, इस तरह सज़ा देते हैं.

इंडिया में आतंकवाद बढ़ रहा है क्योंकि बाघ हमारा राष्ट्रीय पशु है: महंत

ये वैसा ही है, जैसे दिल्ली के प्रदूषण के लिए समोसों को जिम्मेदार ठहराया जाए.

अच्छी शुरुआत के बावजूद पाकिस्तान से हारा भारत, एमर्जिंग एशिया कप से बाहर

आखिरी ओवर तो बुरे सपने जैसा था.

जिन्हें लगता है कि रोने से मर्दानगी जाती है, उन्हें सचिन का ये पोस्ट जरूर पढ़ना चाहिए

साथ में वो फोटो भी देखें जो उन्होंने पोस्ट की है.

क्रिकेट से संन्यास ले चुके गौतम गंभीर को क्रिकेट का ये बड़ा सम्मान मिला है

ईस्ट दिल्ली से सांसद हैं गौतम गंभीर.

डे-नाइट टेस्ट में भारत की मदद के लिए सौरव गांगुली ने दिया ये 'हथियार'

डे-नाइट टेस्ट को कामयाब बनाने के लिए सौरव ने ग्राउंड मैन्स को दिया ये निर्देश.

ईडन गार्डन्स में उतरेंगे भारत और बांग्लादेश के 42 प्लेयर्स

भारत के पहले डे-नाइट टेस्ट को खास बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ रहे हैं दादा.

धोनी क्रिकेट के मैदान पर वापसी कब करेंगे, पता चल गया!

विराट कोहली ने फोटो ट्वीट की है.