Submit your post

Follow Us

छोटी बाउंड्री और इंडिया की खराब फील्डिंग ने न्यूजीलैंड के 212 रन बनवा दिए

409
शेयर्स

इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच तीसरा और आखिरी टी20 मैच. हैमिल्टन का ग्राउंड. ये इंडिया का वर्ल्ड कप से पहले विदेशी जमीन पर आखिरी मैच है. ये एक मैच जीतते ही इंडिया अपने इस दौरे को ऊंचाई पर खत्म कर सकती है.
तो कप्तान रोहित शर्मा ने यहां टॉस जीता और पहले फील्डिंग करने का फैसला किया. मगर यहां न्यूजीलैंड की टीम अलग ही इरादे से उतरी दिखी. वो इस मैच को जीतकर टी20 सीरीज पर कब्जा करने के इरादे से बैटिंग करते दिखे. ऐसे में न्यूजीलैंड ने लगातार 10 रन से ऊपर का औसत बनाए रखा और निर्धारित 20 ओवरों में किवी टीम ने 212 रन स्कोरबोर्ड पर टांग दिए.

यहां हैमिल्टन की छोटी बाउंड्री को दोष दें या इंडिया की खराब फील्डिंग को. मगर अब इंडिया के लिए 213 रनों का लक्ष्य कोई आसान काम नहीं होगा. इंडिया को 10.60 के औसत से रन बनाने हैं. इसी बीच बात हार्दिक पंड्या का बैड लक की भी हो रही है. हार्दिक ने अपने 4 ओवरों में 44 रन दिए और कई मौकों के बावजूद विकेट हाथ नहीं लगा. वैसे आज क्रुणाल भी खूब पिटे. 4 ओवरों में 54 रन लुटाए. कुलदीप सबसे किफायती साबित हुए और 4 ओवरों में 26 रन देकर 2 विकेट ले गए. इंडिया की फील्डिंग इतनी ढीली रही कि खलील अहमद चौथा ओवर फेंक रहे थे. दूसरी ही गेंद ओपनर सीफर्ट ने हवा में शॉट खेला. गेंद के नीचे विजय शंकर भाग रहे थे. शंकर ने पूरे जी जान से दौड़ लगाई और गेंद के नीचे पहुंच गए. मगर आखिरी मौके पर गेंद हाथ से निकल गई. अगर ये कैच विजय शंकर लपक लेते तो इस टूर का ये सबसे यादगार कैच होता. तब न्यूजीलैंड का स्कोर 38/0 था.

Untitled design (4)
कोलिन मुनरो ने सबसे ज्यादा 40 गेंद पर 72 रन मारे.

दोनों ओपनर इसे 80 तक ले गए औऱ यहां कोलिन मुनरो और टी सीफर्ट धांसू रफ्तार से रन बना रहे थे. इतने में कुलदीप यादव के इस ओवर में धोनी ने कुलदीप को जैसी गेंद करने को कहा, इस चाइनामैन ने वैसी ही की और सीफर्ट फंस गए. इस बल्लेबाज ने गेंद को आगे से खेलने की कोशिश की और पीछे पैर मामूली सा बाहर निकला. गेंद पीछे धोनी के दस्तानों में थी और उसी लाइटनिंग फास्ट स्पीड से धोनी से गिल्लियां बिखेर दीं. थर्ड अंपायर को भी काफी वक्त लगा ये तय करने में कि बल्लेबाज आउट है या नहीं. मगर इस बीच धोनी जिस कॉन्फिडेंस से अपनी टीम के प्लेयर्स से मिल रहे थे, ये साफ था कि इंडिया को पहला विकेट मिल चुका है. फिर थर्ड अंपायर ने भी इसे आउट दिया. कमेंट्री बॉक्स में कमेंटेटर्स ये बोलते हुए सुने गए कि धोनी 37 साल की उम्र में भी 19 साल की एनर्जी रखते हैं और ये टीम इंडिया के लिए गजब का योगदान दे रहे हैं.

Capture

मगर हैमिल्टन की छोटी बाउंड्री के साथ साथ आज हार्दिक पंड्या के लिए भी दिन अच्छा नहीं रहा. पंड्या की गेंद पर एक के बाद एक कैच छूटे. पहले पांचवें ओवर में जब सामने कोलिन मुनरो थे तो तीसरी ही गेंद पर विजय शंकर के पास गेंद गई. शंकर खूब भागे मगर चौका नहीं रोक पाए और जाकर एडवरटीजमेंट बोर्ड से टकरा गए. दूसरा मौका 13वें ओवर में आया जब हार्दिक की पहली ही गेंद पर कोलिन मुनरो ने शॉर्ट गेंद को हवा में उछाल दिया. गेंद आसमान सिर के ऊपर उंचाई पर थी और उसके नीचे थे खलील अहमद. ये एक बेहद आसान कैच था मगर खलील के हाथ से गेंद टपक गई. उस वक्त मुनरो 61 रन बना चुके थे. उसके बाद इस ओवर में मुनरो ने 17 रन मार दिए और न्यूजीलैंड का स्कोर 135/1 हो गया.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
New Zealand put 212 on scroreboard against India in third and final T20I at Hamilton

टॉप खबर

प्रणब मुखर्जी ने कुछ ऐसा बोल दिया, जिससे मनमोहन सिंह का ज़ायका बिगड़ सकता है

मनमोहन सिंह ने किस नेता के साथ बहुत बुरा किया?

लोकसभा में बहस हो रही थी, अमित शाह ने ओवैसी को चुप करा दिया!

किस बात पर अमित शाह ऊंगली दिखाकर बात करने लगे थे?

कहानी भारत के अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-2 की, जिसे दुनिया का कोई भी देश इतने सस्ते में नहीं बना पाया

एंड गेम में मारवेल ने जितने पैसे खर्च करके थानोस को मारा, उतने में तो भारत दो बार चांद पर पहुंच जाएगा.

मदरसे में मिला देसी कट्टा, जानिए क्या होता था

और अफवाहों पर बवाल हो गया

बच्चों के बलात्कार पर अब होगी फांसी, मोदी सरकार का फैसला

बहुत दिनों से बात चल रही थी, अब काम होगा!

भाजपा विधायक की बेटी ने दलित से शादी की तो बाप ने मरवाने के लिए गुंडे भेज दिए!

पति और पत्नी भागे-भागे वीडियो बना रहे हैं.

एक महीने से छात्र धरने पर हैं, किसी को परवाह नहीं

ये खबर हर स्टूडेंट को पढ़नी चाहिए.

बजट में सरकार ने अमीरों पर बंपर टैक्स लगाया

पेट्रोल-डीज़ल पर एक रुपया अतिरिक्त लेगी सरकार.

राहुल गांधी के पत्र की चार ख़ास बातें, तीसरी वाली में सारे देश की दिलचस्पी है

आज राहुल गांधी ने आखिरकार इस्तीफा दे ही दिया.

आकाश विजयवर्गीय पर मोदी बहुत नाराज़ हुए, उतना ही जितना साध्वी प्रज्ञा पर हुए थे!

"अफ़सोस! दिल से माफ़ नहीं कर पाएंगे."