Submit your post

Follow Us

वाह! इस डीएम ने अपने कमरे के एसी निकलवाकर बच्चों के वॉर्ड में लगवा दिए

5
शेयर्स

लोग जब सरकारी नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाते हैं तो अक्सर कहते हैं कि वो समाज के लिए कुछ करना चाहते हैं. जो लिया है उसे वापस करना चाहते हैं. कर पाते है या नहीं ये तो नहीं पता लेकिन कुछ ऐसे लोग ज़रूर हैं जो बिना कहे भी ऐसा करते रहते हैं. तमाम परेशानियों और दबाव के बाद जो जितना कर सकते हैं, करने की कोशिश ज़रूर करते हैं. ऐसा ही एक काम किया है मध्यप्रदेश के एक डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर ने. इनका नाम है स्वरोचिष सोमवंशी. फिलहाल मध्यप्रदेश के उमरिया में पोस्टेड हैं.

गर्मी ने सारे रिकॉर्ड तोड़ रखे हैं. रोजमर्रा के कामों के लिए लोग जिला कार्यालय पहुंचते हैं. ऐसे में उन्हें काफी परेशान होना पड़ता है. लाइन में लगते हैं. अब कलेक्टर साहब को लगा कि लोगों को गर्मी में क्यों रहने दिया जाए. जब उनके पास एसी की सुविधा है तो लोग गर्मी में क्यों मरें? पहले उन्होंने प्रशासन से एसी का प्रबंध करने को कहा. लेकिन जब वक़्त लगता दिखा तो उनसे रहा नहीं गया. अपने कमरे और मीटिंग हॉल का एसी निकालकर पोषण पुनर्वास केंद्र (NRC) में लगवा दिया. यहां पर शारीरिक रूप से कमजोर और पोषण की कमी से जूझ रहे नवजात बच्चों का इलाज किया जाता है. यहां भर्ती महिलाओं और बच्चों को इस फैसले से काफी राहत मिलने वाली है.

जब स्वरोचिष से पूछा गया कि ये फैसला क्या सोचकर लिया तो उन्होंने कहा-

ये हालात को देखते हुए लिया गया फैसला था. NRC बिल्डिंग के अंदर भी काफी गर्मी थी. ऐसे में बच्चों की परेशानी को देखते हुए हम पहले से ही एसी के इंतजाम में जुटे थे लेकिन इसे फौरन बिल्डिंग में लगाना था. ब्लॉक में कुल 4 NRC हैं और हमने चारों में एसी लगवा दिए हैं.

अक्सर अफसरशाही की हनक के किस्से सामने आया करते हैं. आम लोगों पर रौब जमाने के. खुद को इलीट क्लास साबित करने की कोशिश करने के. लोगों से अलग. कुछ खास. ऐसे में ऐसी ख़बरें सुकून देती हैं. नौकरशाही अपने आराम छोड़कर वो करना चाहती हैं जो उन्हें वाकई करना चाहिए. एक कदम आगे जाकर लोगों की मदद. अभी कुछ दिन पहले ऐसा ही कुछ काम जालौन के डीएम मन्नान अख्तर ने भी किया था. इस अधिकारी ने यूपी में सूखे का वो इलाज किया जो करोड़ों का पैकेज भी नहीं पाए. बुंदेलखंड में सूखे की समस्या से निबटने के लिए मन्नान अख्तर ने ज़िले के ज्यादातर चेक डैम मनरेगा के ज़रिए रिपेयर करवा लिए. इसके लिए सरकार की ओर से सम्मानित भी किया गया. देश को आगे ले जाने में स्वरोचिष जैसे और अधिकारियों की ज़रूरत है.


वीडियो:जालौन के डीएम डॉ. मन्नान अख्तर की कहानी, जिन्हें बुंदेलखंड में अपने काम के लिए अवॉर्ड मिला है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नेटफ्लिक्स पर आने वाली शाहरुख़ की 'बार्ड ऑफ़ ब्लड' में कश्मीर क्यूं खचेर रहा है पाकिस्तान?

पाकिस्तानी आर्मी के प्रवक्ता के बयान पर सोशल मीडिया कहने लगा 'पीछे तो देखो'.

केरल बाढ़ के हीरो आईएएस कन्नन गोपीनाथन ने कश्मीर मसले पर नौकरी छोड़ते हुए ये बातें कही हैं

नौकरी छोड़ दी. अब न कोई सेविंग्स है, न ही रहने को अपना ख़ुद का घर.

धरती पर क्राइम तो रोज़ होते हैं, लेकिन पहली बार अंतरिक्ष में हुए क्राइम की खबर आई है

अंतरिक्ष में रहते क्राइम करने की बात चौंकाती है.

अरुण जेटली नहीं रहे, यूएई से पीएम मोदी ने कुछ यूं किया याद

गौतम गंभीर ने जेटली को पिता तुल्य बताया.

रफाल के अलावा फ्रांस से और क्या-क्या लाने वाले हैं पीएम मोदी?

इस बड़े मुद्दे पर भारत की तगड़ी मदद करने वाला है फ्रांस.

चंद्रमा पर पहुंचने वाला है चंद्रयान-2, कैसे करेगा काम?

चंद्रयान के एक-एक दिन का हिसाब दे दिया है

विंग कमांडर अभिनंदन को पकड़ने वाला पाकिस्तानी सैनिक मारा गया!

पाकिस्तानी आर्मी की तस्वीर में अभिनंदन को पकड़े हुए दिखा था अहमद खान.

नकली दूध बेचा, पुलिस ने आतंकियों वाला NSA लगा दिया

सरकार ने तो पहले ही कह दिया था.

कांग्रेस और सपा छोड़कर भाजपा में आए नेताओं ने मोदी के बारे में क्या कहा?

वो भी कल लखनऊ में...

कश्मीर में बैन के बाद भी किसकी मेहरबानी से गिलानी इस्तेमाल कर रहे थे फोन-इंटरनेट?

बैन के चार दिन बाद तक गिलानी के पास इंटरनेट और फोन था. प्रशासन को इसकी भनक भी नहीं थी.