Submit your post

Follow Us

एक लड़की ने इंस्टाग्राम पर पूछा मर जाऊं, 69 फीसदी लोगों ने हां कहा, फिर क्या हुआ?

612
शेयर्स

इंस्टाग्राम. जहां लोग अपनी फोटो शेयर करते हैं. वीडियो शेयर करते हैं. एक दूसरे से चैट करते हैं. दूसरे की फोटो पर कमेंट करते हैं. लाइक करते हैं. इसी इंस्टाग्राम पर एक 16 साल की लड़की ने लोगों से पूछा कि क्या उसे जिंदगी खत्म कर लेनी चाहिए? 69 प्रतिशत लोगों ने हां कहा और लड़की ने आत्महत्या कर ली. 16 साल की लड़की ने पोल में 69 प्रतिशत लोगों के कहने पर तीसरी मंजिल से कूदकर जान दे दी.

घटना मलेशिया की है. पुलिस ने लड़की का नाम उजागर नहीं किया है. पुलिस ने बताया कि,

लड़की ने फोटो शेयरिंग ऐप पर पोस्ट लिखा था, : “Really Important, Help Me Choose D/L” यानी बहुत ही महत्वपूर्ण, डेथ (मौत) और लाइफ (जिंदगी) में से एक चुनने में मेरी मदद करें.

लड़की के नजदीकी दोस्त के अनुसार डी का मतलब डेथ और एल का मतलब लाइफ से है. ज्यादातर लोगों ने मौत के लिए हां कहा. इसके बाद लड़की ने आत्महत्या कर ली. सवाल उठ रहे हैं कि लड़की की मौत के लिए जिम्मेदार कौन है. क्या वह खुद अपनी जिंदगी खत्म करने के लिए जिम्मेदार है या वो 69 प्रतिशत लोग जिन्होंने उसे मौत चुनने के लिए वोट किया.

उत्तर-पश्चिमी राज्य पेनांग के वकील और सांसद रामकरपाल सिंह का कहना है कि जिन्होंने लड़की को मौत चुनने के लिए वोट किया वो दोषी हैं. जांच एजेंसियों को उस हालात का पता लगाना चाहिए कि आखिर लड़की ने ऐसा क्यों किया. क्या उन लोगों के प्रोत्साहन ने वास्तव में लड़की को अपनी जिंदगी खत्म करने के लिए फैसला लेने मजबूर किया. देश में आत्महत्या का प्रयास अपराध है. किसी को आत्महत्या के लिए उकसाने का प्रयास भी अपराध है.

मलेशिया के युवा और खेल मंत्री सैयद सद्दीक सैयद अब्दुल रहमान ने कहा कि,

इस घटना के बाद देश में मानसिक स्वास्थ्य के बारे में राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा की जरूरत है. मैं अपने युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति को लेकर चिंतित हूं. यह राष्ट्रीय मुद्दा है जिसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए.

इंस्टाग्राम के अधिकारी चिंग यी वोंग का कहना है-

हमारी संवेदनाएं लड़की के परिवार के साथ है. यह हमारी जिम्मेदारी है कि इंस्टाग्राम यूज करने वाले यूजर्स सुरक्षित महसूस करें. हम सभी से आग्रह करते हैं कि जब भी इंस्टाग्राम पर ऐसी कोई गतिविधि या व्यवहार देखें जिसमें किसी की जिंदगी को खतरा महसूस हो तो तुरंत इमरजेंसी टूल का इस्तेमाल करें.

फरवरी में इंस्टाग्राम ने घोषणा की थी कि वह सेंसटिव तस्वीरों को रोकने के लिए “sensitivity screens” यानी संवेदनशीलता स्क्रीन लॉन्च करेगा. 2017 में ब्रिटेन की एक 14 साल की किशोरी मौली रसेल ने आत्महत्या कर ली थी. उसके माता-पिता का मानना था कि अपनी जिंदगी खत्म करने से पहले उनकी बेटी ने आत्महत्या और खुद को नुकसान पहुंचाने वाली तस्वीरें देखी थीं.

सोशल मीडिया पर हमारे हजारों दोस्त होते हैं. इनमें से कितने लोगों को हम वाकई में जानते हैं. कितने लोग हैं जिन्हें हमारे दुखों से फर्क पड़ता है. जिनसे हम अपनी परेशानी साझा कर सकते हैं. सब कुछ जानते हुए भी हम में से अधिकांश लोग रियल जिंदगी में दोस्त बनाने की बजाय सोशल मीडिया पर फ्रेंडलिस्ट बनाने में लगे हुए हैं.


Video: आरसीबी गर्ल दीपिका घोष ने लेटर के ज़रिए बताया, लोगों ने कितना परेशान कर दिया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Malaysian Teen commits suicide after 69 percent choose death on Instagram poll

टॉप खबर

राजीव गांधी के हत्यारे ने संजय दत्त की मुश्किलें बढ़ा दी हैं

जेल में बंद पेरारिवलन ने संजय दत्त से जुड़ी बहुत सी जानकारी इकट्ठी की है.

कठुआ केस के छह दोषियों को क्या सज़ा मिली?

अदालत ने सात में से छह आरोपियों को दोषी माना था. मास्टरमाइंड सांजी राम का बेटा विशाल बरी हो गया.

कठुआ केस में फैसला आ गया है, एक बरी, छह दोषी करार

दोषियों में तीन पुलिसवाले भी शामिल हैं.

पांच साल की बच्ची से रेप किया और फिर ईंटों से कूंचकर मार डाला

उज्जैन में अलीगढ़ जैसा कांड, पड़ोसी ही निकला हत्यारा...

अफगानिस्तान किन गलतियों से श्रीलंका से जीता-जिताया मैच हार गया?

मलिंगा का तो जोड़ नहीं.

क्या चुनावी नतीजे आने के 10 दिनों के अंदर यूपी में 28 यादवों की हत्या हुई है?

28 नामों की एक लिस्ट वायरल हो रही है. लेकिन सच क्या है?

मायावती ने ऐसा क्या कह दिया कि फिलहाल गठबंधन को टूटा मान लेना चाहिए

प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने गठबंधन तोड़ने का सीधा ऐलान तो नहीं किया, लेकिन बहुत कुछ कह गयीं.

चुनाव नतीजे आए दस दिन हुए नहीं, मायावती ने गठबंधन पर सवाल उठा दिए

वो भी तब जब मायावती के पास जीरो से बढ़कर दस सांसद हो गए हैं

अरविंद केजरीवाल ने चुनाव में बंपर वोट खींचने वाला ऐलान कर दिया है

वो ऐसी स्कीम लेकर आए हैं कि दिल्ली-NCR की महिलाएं खुश हो गईं.

आखिर क्या सोचकर मोदी ने UP के इन नेताओं को कैबिनेट में जगह दी है?

इनमें कुछ से पिछली सरकार के दौरान बीच में ही मंत्रालय छीन लिया गया था.